सेक्स वीडियो बना कर बॉस को गुलाम बनाने की कहानी

ही फ्रेंड्स, मेरा नाम प्रीत है, और मैं एक मंक में काम करती हू. मेरी उमर 27 साल है, और किसी भी दिल को भा जाए, ऐसा मेरा फिगर है. मेरा रंग गोरा है, और बॉडी फिट है. 36-26-36 का पर्फेक्ट फिगर है मेरा. मैं गंगानगर, राजस्थान से हू, लेकिन जॉब देल्ही में करती हू. चलिए अब इंट्रो बहुत हो गया, तो मैं कहानी शुरू करती हू.

2 साल पहले मैने देल्ही में जॉब जाय्न की थी. 6 महीने कुत्ते की तरह काम करने के बाद फाइनली मैं अपने बॉस से प्रमोशन एक्सपेक्ट कर रही थी. लेकिन प्रमोशन मुझे नही किसी दूसरी लड़की को मिला.

जब मैने इसका रीज़न जानने की कोशिश की तो मुझे मेरी फ्रेंड ने बताया की दूसरी लड़की बॉस को पर्सनली भी खुश करती थी. बॉस ने उसके साथ सेक्स किया, और फिर उसको प्रमोशन दिया. लेकिन मुझे मेरी मेहनत के बेसिस पर प्रमोशन हासिल करनी थी.

इसलिए मैने अपना काम जारी रखा. 3 महीने बाद फिरसे जब प्रमोशन हुआ, तो इस बार भी मेरा नाम लिस्ट में नही था. ये देख कर मुझे बहुत गुस्सा आया, और मैं सीधे बॉस से बात करने चली गयी.

मैं: सिर इस बार मुझे प्रमोशन मिलना चाहिए था. लेकिन मेरा नाम फिरसे लिस्ट में नही है.

बॉस: आपको और मेहनत करने की ज़रूरत है.

मैं बहुत गुस्से में थी, तो मैने सीधे-सीधे बोल दिया: मेहनत कहा करनी पड़ेगी. ऑफीस में या बेडरूम में सिर?

ये सुन कर वो बेशरम की तरह हस्सा और बोला-

बॉस: अर्रे तुम तो सब जानती हो. तो अब तक तो प्रमोशन करवा लेना चाहिए था तुम्हे. अर्रे तुम्हे तो कब से प्रमोशन देना चाहता हू मैं. तुम हा तो बोलो.

ये सुन कर मैं ऑफीस से बाहर आ गयी. मैं बहुत गुस्से में थी. अगले दिन मैं ऑफीस नही गयी, और घर पे बैठ कर इस प्राब्लम का सल्यूशन ढूँढने लगी. मुझे अपने बॉस को सबक सीखना था कैसे भी करके. फिर मेरे दिमाग़ में एक आइडिया आया, जिससे मेरा काम बन सकता था.

अगले दिन मैं ऑफीस जाते ही सीधा बॉस के कॅबिन में गयी, और बोली-

मैं: ठीक है सिर, मैं तैयार हू. लेकिन प्रमोशन के बाद सॅलरी डबल होनी चाहिए.

बॉस: बिल्कुल. बताओ फिर कब और कहा.

मैं: 2 दिन बाद मेरे घर पर. शाम को 9 बजे.

बॉस: ठीक है, मैं पहुँच जौंगा.

उस दिन ऑफीस से घर आने के बाद मैने अपने एक फ्रेंड को फोन किया जो कॅमरास का काम करता था, और उसको घर बुलवाया. फिर मैने उसको घर में जगह-जगह कॅमरास इनस्टॉल करने को बोल. अब बस मेरे बॉस के आने की बारी थी. ऐसा नही था की मैं पहले चूड़ी नही थी, लेकिन इस तरह किसी की प्रोग्रेस को रोकना मुझे सही नही लगता.

फिर वो दिन आ गया जब मैने बॉस को घर पर बुलाया था. 9 बजे ठीक मेरे घर के सामने आके गाड़ी रुकी. मैने उस दिन ब्लॅक निघट्य पहनी थी, और नीचे ब्लॅक ब्रा और पनटी पहनी थी. मैं इतनी सेक्सी लग रही थी, की कोई भी मारे मुझे देख कर पागल हो जाए.

फिर बॉस ने बेल बजाई, और मैने दरवाज़ा खोला. और जैसा की मैने आपको बताया की वो मुझे देख कर पागल हो गया. उसने आते ही मुझे अपनी बाहों में भर लिया, और किस करने लगा. मैं भी उसका साथ देने लगी. 5 मिनिट तक वो मुझे कुत्तों की तरह चूस्टा रहा. फिर मैने उसको रोका और बोला-

मैं: सिर, इतनी जल्दी भी क्या है? पहले ड्रिंक लेते है. फिर आराम से करेंगे.

फिर मैने उसको सोफा पर बिताया, और एक-एक ड्रिंक बनाई. ड्रिंक पीते वक़्त वो मेरे जिस्म को ही उपर से नीचे घूरे जेया रहा था. सारे कॅमरास रेकॉर्डिंग पर थे, और इस बात की उसको ज़रा भी भनक नही थी. जैसे ही ड्रिंक ख़तम हुई, उसने मुझे उठाया, और बेड पर ले गया.

फिर वो अपने कपड़े उतारने लगा. मैने भी अपनी निघट्य उतार दी. अब वो सिर्फ़ अंडरवेर में था, और मैं ब्रा और पनटी में. वो मेरे सेक्सी जिस्म को देख कर मेरा उपर कूद पड़ा, और मुझे किस करने लगा. मैं भी उसका साथ दे रही थी. कुछ देर होंठ चूस कर वो नीचे गया, और मेरी गर्दन और क्लीवेज को चूमने चाटने लग गया.

मैने अपनी ब्रा खोल दी, और वो मेरे गोल-गोल बूब्स को चूसने का मज़ा लेने लग गया. मैं भी अब गरम हो रही थी, और मैं उसका सर अपने बूब्स में दबाने लग गयी. कुछ देर निपल्स चूसने के बार वो नीचे आया, और मेरी कमर और नाभि चाटने लगा.

फिर उसने मेरी पनटी उतरी, और मेरी छूट को कुत्ते की तरह चाटने लगा. मैने उसके सर के गिर्द अपनी टांगे लपेट ली, और उसका मूह अपनी छूट में दबाने लगी. मैं बार-बार ज़ोर से उसका मूह छूट में दबा देती, जिससे उसकी साँसे रुक जाती. लेकिन इससे उसको मज़ा आ रहा था.

कुछ देर छूट चुसवाने के बाद अब मेरी छूट लंड माँग रही थी. फिर मैने उसको नीचे लिटाया, और उसका अंडरवेर उतार कर लंड बाहर निकाल लिया. मैने उसको एक रंडी की तरह देखा, और उसका लंड मूह में लेके चूसने लग गयी.

मेरे लंड को मूह में लेते ही उसने अपनी आँखें बंद कर ली. वो मज़े से सातवे आसमान पर था. फिर मैने उसके लंड को ज़ोर-ज़ोर से चूसना शुरू कर दिया. वो आहह आ कर रहा था, और उसका लंड बिल्कुल सख़्त हो चुका था.

फिर मैं उसके लंड के उपर आई, और उसको छूट पर सेट करके अपनी छूट में ले लिया. लंड छूट में जाते ही हम दोनो की आ निकल गयी. अब मैं उसके लंड पर धीरे-धीरे उपर-नीचे होने लगी.

उसने मेरे चूतड़ कस्स के पकड़ लिए, और मेरी गांद को सपोर्ट करने लगा. धीरे-धीरे मैने अपनी स्पीड बधाई, और उसकी छाती पर हाथ रख कर ज़ोर-ज़ोर से उछालने लग गयी. बॉस ने मेरे बूब्स पकड़ लिए, और छोड़ते हुए मेरे बूब्स मसालने लग गया.

20 मिनिट की चुदाई के बाद उसका पानी निकालने वाला हो गया. मैं जल्दी से उसके लंड से उतरी, और लंड हिला कर उसका पानी निकाल दिया. छूट छोड़ने के थोड़ी देर बाद उसने मुझे कहा-

बॉस: बस अब एक बार गांद भी मरवा लो.

मैने मुस्कुराते हुए कहा: बॉस आज नही. आज मैं तक गयी हू. कल गांद मार लेना.

मैं मॅन में सोच रही थी की “गांद तो सेयेल अब मैं तेरी मारूँगी”. फिर उसने कपड़े पहने और चला गया.

अगले दिन मैने उसको ऑफीस जाते ही पूरी सेक्स वीडियो पेन ड्राइव में डाल कर दिखाई. वीडियो देख कर उसकी गांद फटत गयी. फिर मैने अपनी डिमॅंड्स रखी. उसको मेरी सारी डिमॅंड्स पूरी करनी पड़ी, और अब वो मेरा गुलाम बनके रहता है.

दोस्तों कहानी का मज़ा आया हो तो लीके और कॉमेंट ज़रूर करो.

यह कहानी भी पड़े  मेडम की चुदाई की मेरे अपार्टमेंट पर


error: Content is protected !!