सौतेली मा से नफ़रत से प्यार तक-2

दिन बा दिन हवस बढ़ती गयी. लंड अब मूठ से नही मानता था, छोड़ लेना चाहता था उसे, पर कैसे?

मैने एक दिन उससे बात की-

मैं – एक बात बोलू, ये घर पर आप सारी में क्यू रहती हो?

सोनाली – मतलब, सारे ना पहनु तो क्या पहनु?

मैं – मेरा मतलब ये की अनकंफर्टबल नही लगता दिन भर सारी पहनना घर पर भी?

सोनाली – मुझे नही लगता, आदत है मेरी.

मैं – अपने कभी दूसरी चेज़े नही पहनी ना इसलिए पता ही नही कंफर्ट क्या होता है.

सोनाली – सारी से ज़्यादा कंफर्टबल सलवार होती है, कभी कभी पहनती हू.

मैं – अरे आपने कभी सोचा है लड़किया शॉर्ट्स क्यू पहनती है?

सोनाली – नही पर है, वो जवान लड़किया का फॅशन है.

मैं – अकेला फासिओं नही है, कंफर्टबल होता है इसलिए.

सोनाली – ऐसा है क्या?

मैं – अरे उसमे क्या है पहन के देख लो, शॉर्ट के साथ टॉप, और भी बहुत कुछ होता है.

सोनाली – पर मेरे पास है नही, लेना पड़ेगा.

मैं – हन ट्राइ करना.

फिर हमारी बात ख़तम हुई.

कुछ दीनो के बाद मैं एक दिन रूम से निकला तो मैने देखा वो शॉर्ट और टॉप में रूम से बाहर निकली. उसने बोला रोहन बताओ ये ही कह रहे थे ना तुम?

मैं बोला वाउ और उठ के उसके पास गया और शॉर्ट्स अड्जस्ट करने लगा और बोला, तोड़ा उपर पहनो.. और इस बहाने उसकी झानहो को टच करा. क्या आनंद था!

उसकी टॉप भी अड्जस्ट करा और हल्का से मुममे टच किया. अब बोला – पर्फेक्ट, ऐसी लग रही हो की 18 साल की हॉट लड़की हो. वो शर्मा गयी और बोली चलो अब बदल लेती हू. मैने कहा नही ऐसे ही सही है.

फिर वो ऐसी ही रही दिन भर. मैं उसको दिन भर घूरता रहा. फिर वो वही पहँनी लगी. मैने उसको और भी लपडे दिलाए. हम काफ़ी क्लोज़ हो गये.

एक दिन हम बाहर जेया रहे थे उसको कुछ समान लेना था. तो वो बोली मैं कपड़े बदल के आती हू. मैने कहा नही आज शॉर्ट्स में बाहर चलते है मज़ा आएगा.

मैने उसको थोड़ी देर में माना लिया. फिर हम बाहर निकले कार से. जब हम दुकान पहुचे तो सब हमे देख रहे थे. हम बिल्कुल ऐसे लग रहे थे जेसे नयी नयी शादी हुई हो.

शॉप में एंटर करा तो सब हमे देख रहे थे. मैं उसको तोड़ा दूर की शॉप मे लाया था जिससे कोई पहचान ना सके हमे.

दुकान पर भैया बोले आप दोनो का कपल बहुत प्यारा है. हमारे पास कपल के लिए कुछ नया आइटम है, दिखौ आपको?

सोनाली शॉक हो गयी और मेरी तरफ देखा. मैने उसे चुप रहने का इशारा किया और स्माइल दी.

फिर मैने दुकान वेल भैया से बोला, आज मेरी बेबी को कुछ पार्टी ड्रेस लेनी है. सोनाली ने फिर से मेरी तरफ देखा और मैने फिर स्माइल दी. अब उसको भी मज़ा आ रहा था.

हम दोनो ने हॉट ड्रेसस देखी फिर वो चेंज करके आई. मैं बोला वा कितनी हॉट लग रही मेरी बेबी. पूरे दिन भर फ्लर्ट करने के बाद उसको नॉर्मल लगने लगा. और हुँने बहुत हॉट हॉट ड्रेसस ली उसके लिए.

फिर घर आ गये हम, खाना खाया. फिर वो बोली आज बहुत मज़ा आया, किसी दिन फिर करेंगे ऐसे ही मज़े. मुझे तो यकीन ही नही हुए की वो मुझे तुम्हारी बीवी संज रहे थे. मैं बोला हन तो लगती भी तो हो.

वो बोली रोहन पर में त्म्हरी मा हू याद रखना. मैने बोला मा तो पापा के सामने ना, वरना आप सिर्फ़ सोनाली हो. याद है ना हुँने डील की थी? वो बोली हन पर..

मैने कहा पर वेयर कुछ नही, वेसए भी मज़ा नही आया क्या? वो बोली मज़ा तो आया बहुत.

फिर हम सो गये, हम दिन बा दिन क्लोज़ आते जेया रहे थे. बहुत घूमने जाते, गाल पर किस कर लेता, पूरी बॉडी टच करता. उसे नॉर्मल लगने लगा.

एक दिन मैने सोचा अब सही समय है छोड़ा जाए. तो एक दिन हम ऐसे ही घूम रहे थे. मैने कहा उससे आज हम ड्रिंक करते है. उसने माना किया पर मैने माना लिया.

फिर हमने ड्रिंक की और काफ़ी पीने के बाद वो नशे में आ गयी. मैं उसको घर ले आया और रूम पर लिटा कर वही बेत कर उससे बाते करने लगा.

काफ़ी बाते होने के बाद मैने उससे बोला तुम्हे ड्रेस अनकंफर्टबल लग रही हो तो उतार दो. वो बोली नही ठीक है. मैने कहा अगर तुम्हे दिक्कत हो तो उतार दो मैं चला जाता हू. वो फिर बोली नही ठीक है.

फिर काफ़ी देर बाते हुए, हम हॉट हॉट बाते करने लगे. मैने उसकी कमर पर हाथ रखा और पास आ गया और उसके बाजू में लेट गया. फिर उसके उपर पर रखा और उसके सिर पर हाथ रखा और पास लेट गया.

वो चुप हो गयी और सिर्फ़ मुझे घूर रही. और फिर मैं कुछ करने ही वाला था की वो पलट गयी उस तरफ. मुझे उसकी पीठ सॉफ सॉफ दिख रही थी.

मैने हाथ रख दिया और उसकी चैन खोलने लगा. उसकी चैन नीचे तक कर दी और उसकी पूरी ड्रेस उतार गयी. और फिर ड्रेस नीचे खिच दी एक झटके में.

वो मेरी तरफ मूडी और मुझे दूर करने लगी. मैने कहा कुछ नही सोनाली, अनकंफर्टबल लग रहा होगा, ड्रेस उतार दो फिर सो जाना. उसने कुछ नही कहा.

मैने उसकी ड्रेस पूरी उतार दी और उसके पास फिर लेट गया. अब वो सिर्फ़ ब्रा आंड पॅंटीस में थी. मैने भी धीरे से पानी उतार दी और शर्ट भी उतार दी.

अंधेरे की वजह से उसे ज़्यादा समाज नही आया और में वही लेता रहा. वो एकद्ूम गरम थी और मैं भी एक दम गरम था. शरीर हमारा टच हो रहा था.

मैने उसको अपनी तरफ मोड़ा. वो नशे में थी लेकिन बोल रही थी तुम यहा क्यू लेट रहे हो? अपने कमरे में जाओ..

मैं चुप रहा और उसके पास खिसक गया. वो फिर वो ही बात बोली. मैं बोला तुम सो जाओ मैं भी सो जौंगा. फिर उसको सुलने के बहाने उसके शरीर पर हाथ फेरा, जँहो पर हाथ, हर जगह.

फिर मैं उसके इतने पास आ गया की उसके लीप मेरे लीप आमने सामने थे. बस फिर मैने उसको किस कर लिया. उसने मुझे धक्का देने की कॉसिश की पर मैने उसे जाम के पकड़ लिया और बस किस करता रहा.

थोड़ी देर बाद वो नरम पद गयी और किस करने लगी मुझे. फिर मैं जल्दी से उसके उपर चाड के उसके पूरे शरीर को चूमा. और उसके मुम्मो को आज़ाद करके उन्हे चूसने लगा. ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा. वो आआआः आआआः करने लगी.

मैने फिर उसकी पनटी को नीचे कर दिया और एक हाथ उसकी छूट पर रख के उंगली अंदर डाल के हिलने लगा. वो मदहोश हो गयी और अपने नाखूनओ से मुझे दबाने लगी.

मैने अपना लंड निकल के उसके मूह पर रख दिया. वो मूह साइड करने लगी पर मैने उसको मूह के पकड़ के अंदर डाल दिया और बोला चूसो. वो धीरे धीरे चूसने लगी. हवस ऐसी की वो चुस्ती ही रही.

मैं उसको मुम्मो को बहुत जोरो से दबाए जेया रहा था. हम बहुत गरम हो चुके थे. लंड मूह से निकल के मैने उसकी छूट पर रख दिया और अंदर डाल दिया. वो चिल्ला उठी हाआईई आआआहा इम्‍म्ममम उम्म्म…

पर घर में कोई नही था. मैने ज़ोर ज़ोर से अंदर बाहर किया फिर मैं रुका ही नही. ज़ोर ज़ोर से छोड़ने लगा और वो चिल्ल्लाए जेया रही थी आअहह य्ाआहम्माहह म्‍म्म्ममममह… धीरे करो.

मैं तेज़ तेज़ लगा था. काफ़ी देर छोड़ने के बाद मैने उसे अपने उपर लिटा लिया और कोबाय बना के छोड़ा. वो नशे में थी आँखे बंद चालू कर रही थी और ह्म्‍म्म्म.. य्ाआअ ह्म… कर रही थी.

फिर काफ़ी देर छोड़ने के बाद में उसे घोड़ी बना दिया और लंड उसकी गांद में डालके छोड़ने लगा. वो इतनी ज़ोर के चिल्लई आअहह… नूऊओ… बाहर निकालो…

मैने उसका मूह पकड़ा और छोड़ते रहा. काफ़ी देर छोड़ने के बाद मैने उसको हाथो में उठाया और बाहर सोफे पर ले गया. और फिर सोफे पर लिटा के छोड़ा.

काफ़ी देर वाहा छोड़ने के बाद मैं झड़ने वाला था. मैने उसको घुटनो पर बैठाया और लंड उसके मूह में करके मूठ निकल दिया. उसका मूह पूरा मूठ से भर गया.

मैने उसका मूह बंद करके उसको पूरा मूठ पीला दिया. फिर हम इतने तक गये की सोफे पर ही दोनो सो गये. वो मेरे उपर ही सो गयी. हम दोनो नंगे ही सो गये.

अगले दिन क्या हुआ ये अगली कहानी में पढ़ाइए, आपका रोहन.

यह कहानी भी पड़े  सिनिमा हॉल मे सग़ी बेहन को चोदा

error: Content is protected !!