सरसों के खेत में अपनी बुआ की लड़की की चोदा

हाय फ्रेंड्स, आप लोगो का में स्वागत है।मैं रोज ही इसकी सेक्सी स्टोरीज पढ़ता हूँ और आनन्द लेता हूँ।आप लोगो को भी यहाँ की सेक्सी और रसीली स्टोरीज पढने को बोलूंगा।आज फर्स्ट टाइम आप लोगो को अपनी कामुक स्टोरी सुना रहा हूँ।कई दिन से मैं लिखने की सोच रहा था।अगर मेरे से कोई गलती हो तो माफ़ कर देना।

मेरा नाम राहुल मलिक है और मैं हरियाने से हूँ। मैं एक किसान हूँ और अपनी फैमिली के साथ किसानी का काम करता हूँ। फ्रेंड्स मैं बहोत जवान और सेक्सी मर्द हूँ। लंड तो हमेशा ही खड़ा रहता है। मेरे को नई नई कमसिन कमसिन फूल जैसी जवान लौंडिया चोदना बहोत पसंद है। मेरी 4 गर्लफ्रेंड है और इसके अलावा रंडियों को पैसे देकर भी चोद लेता हूँ। मेरी बुआ की लड़की रूपारानी बहुत सेक्सी और जवान लड़की है। अभी 18 साल की कच्छी कली है। उसे मैं चोद चूका हूँ। अब तो अक्सर चुदाई का मजा मिल जाता है। मुझे तो अब सब जगह रुपारानी ही नजर आती है।

1 साल पहले की घटना आपको बता रहा हूँ। मेरी बुआ अपनी लड़की रूपारानी के साथ मेरे घर आई हूँ थी। मेरा घर नया नया बना हुआ था और उसी का गृह प्रवेश का कार्यक्रम था। रूपा पीले सलवार कमीज में सरसों के फूल जैसी सुंदर दिख रही थी। उसे देखने ही मेरा लौड़ा दुहाई देने लगा और दिल हजारो सपने देखने लगा। जब मैंने बार मैंने रुपारानी को चोदा था को कितना खून बहा था उसकी छोटी सी चुद्दी थी। सी सी सी पूरा वक्त कर रही थी और चुदवा रही थी। वो सब यादे आज फिर से रंगीन और ताज़ी हो गयी जब बुआ के साथ रुपारानी को देखा। क्या मस्त दिख रही थी वो। मेरी नजर उसके दूध पर गयी। 32 इंच के छोटे छोटे दूध थे। जादा बड़े नही थे पर रुपारानी की फेस कटिंग बहुत सेक्सी थी। उसकी आँखे बड़ी चमकदार थी और मुझे तो उसकी आँखों में डूबना बहुत भाता था।

यह कहानी भी पड़े  दोस्त ने अपनी सेक्सी बहन चुदवाइ

“बुआ जी चरण स्पर्श!!” मैंने कहा और सामने खड़ी बुआ के चरण छुए

“कैसा है राहुल बेटे!!” वो बोली

कुछ देर बुआ से हाल चाल हुआ। मैंने रुपारानीको उपर चलने को कहा। वो चली गयी। मैं भी उसके पीछे पीछे छत पर चला गया और उसे एक कोने में पकड़ लिया और हाथ मरोड़ पर ओंठो पर ओंठ लगा दिया और किस पर किस करने लगा। कुछ देर मिलन हुआ तो लंड खड़ा हो गया।

“क्या भाई !! कही भी शुरू हो जाते है। मैं तुम्हारी फुफेरी बहन हूँ” रुपारानी बोली

“मैं बहुत बड़ा बहनचोद हूँ” मैंने कहा और उसे दीवाल से चिपका दिया और 2 मिनट उसके होंठो को पीया और चुम्बन ले लिया। लंड फिर से खड़ा, अब मैं क्या करूं।

“कैसी है तू रूपा???” मैंने पूछा

“अच्छी हूँ। कुछ लड़के मुझसे दोस्तों करना चाहते है। मुझे गर्लफ्रेंड बनाना चाहते है कॉलेज में” रुपारानी बोली

सुनते ही मेरा पारा चढ़ गया। “माँ कसम!! पेट फाड़ दूंगा उसका जो तुझे अपनी माल बनाएगा। रूपा!! तू सिर्फ मेरी है। हम दोनों के बीच में कोई आया तो समझो वो मर गया!!” मैं गुस्साकर बोला।

ये बात सुनकर रूपा डर गयी और चुप हो गयी।

“जान!! तेरी चूत की बड़ी याद सता रही है। बता कब देगी!!” मैंने रूपा के 32″ के दूध को कमीज पर से दबाते हुए पूछा। वो “..अहहह्ह्ह्हह स्सीईईईइ..अअअअअ..आहा .हा हा हा”करने लगी। फ्रेंड्स रूपा के दूध के निपल उभरे हुए उसकी पीली रंग की कमीज से दिख रहे थे। मैंने उपर से उसका निपल पकड़ लिया और दबाने लगा। वो “भाई अई अईई.ओह्ह्ह आह्ह्ह” करने लगी। मैं कुछ देर उसकी निपल्स को ऊँगली से उपर से पकड़कर मसलता रहा। वो बोल भी न सकी।

यह कहानी भी पड़े  अनाड़ी लंड चूत का नशा

“बता रूपा कब देगी चूत मेरा लंड बेक़रार है!!” मैंने कहा और अपनी जींस को खोल दिया। लंड को निकर से बाहर किया और रुपारानी की कमीज उठा दी और चूत में सलवार के उपर से लंड से रगड़ने लगा। रूपा कुछ बोल न सकी और सु सु करने लगी।कुछ देर तक उसकी चूत में उपर से ही लंड को रगड़ रगड़ कर उसे गर्म करता रहा। कुछ देर बाद वो चुदने को तैयार हो गयी।

“बता देगी चूत???” मैंने फिर पूछा

“पर कहाँ पर???” वो बोली

“चल सरसों के खेत में चलते है” मैंने कहा

घर में अपनी माँ से मैंने बोल दिया की रूपा को सरसों के खेत दिखा दूँ और मेड मेड चलकर उसे अपने बड़े से खेत में ले लगा। धुप निकली हुई और और दोस्तों आप सभी जानते है की सर्दी के मौसम के धुप कितनी अच्छी लगती है। चारो तरह सरसों के पीले पीले फूल खिले थे जिससे जब कुछ दिलकश पेंटिंग की तरह दिख रहा था। बड़ा सुंदर नाजारा था। आगे कुछ जमीन खाली थी उसी में मैंने घास पर रूपारानी को लेकर बैठ गया और फिर से उसे बाहों में पकड़ लिया और दोनों लव करने लगे।

“राहुल मेरी याद आई की नही। कैसी और लड़की को तो नही पटाये हो??” रूपा बोली

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3