फ्रेंड की अबसेंसे में उसके बेटे से चूड़ने की कहानी

पिछली स्टोरी में आपने पढ़ा की नीता रोहित से रात भर चूड़ी. नीता बहुत खुश थी.

रोहित करीब 10 बजे तक सोया, और उठ कर नीचे आ गया. मैने उसको छाई बना कर दी. वो फिर फ्रेश हो कर आया. मैने उसको बोला की नहा ले. वो नहा कर आया और मैने खाना लगा दिया.

मिताली: ह्म बेटा, कैसी रही रात नीता के साथ?

रोहित: बहुत मस्त यार. बहुत मज़ा आया. यार मुझे नही पता था की इतने मज़े देगी वो. मस्त बॉडी थी. अंधेरे में छोड़ी, फिर भी मज़ा आया.

मिताली: तो ठीक है अंधेरे में ही छोड़ते रहो.

रोहित: ह्म ठीक है. बुत अगर उजाले में चुड़े तो और भी मस्त लगेगी.

मिताली: मेरा पता चल गया तो?

रोहित: चलो देखते है. वैसे अब मैं उसको खुद ही पत्ता लूँगा. मों तेरा कुछ नाम नही आएगा.

मिताली: अर्रे यार ये तो मैने सोचा भी नही.

रोहित: यार मज़ा तो बहुत दिया उसने. बुत एक बात बोलू, जितना तुम देती हो उतना कोई नही देता.

मिताली: सच में?

रोहित: तुम तो मेरी ड्रीम गर्ल हो. एक बात है तुमको जब भी देखता हू मज़ा बहुत आता है. घर की मों को वाइफ की तरह रख कर छोड़ने में मज़ा बहुत है.

मिताली: ह्म.

रोहित: मेरा मॅन करे तब मों को वाइफ बना सकता हू. ये सुविधा कही नही मिलती.

मिताली: ये तो है.

रोहित: किचन में होती हो तब पीछे से पकड़ कर बूब्स दबाने में जो मज़ा आता है. वो कही नही मिलेगा. दिन में भी जो किस देती हो, सच में मज़े देती हो.

मिताली: चलो खाना खा लो. अब ज़्यादा मस्का मत लगाओ.

रोहित: यार ये बात नही है. तुमको तो पता ही है. दिन में कितनी बार तेरे मज़े लेता हू.

मिताली: ये तो मानना पड़ेगा की तुम बहुत बड़े मों फकर हो. बड़ी रेस्पेक्ट करते हो, और फिर जितनी इज़्ज़त करते हो रात को सारी की सारी इज़्ज़त भी ले लेते हो.

हम दोनो हस्स पड़े. रात को नीता का फोन आ गया. वो बोली की बहुत हॅपी थी. बॉय को अगले वीक बुलाने का बोल रही थी. मैने उसको बोला की एक दो दिन में फिर आएगा. तो वो खुश हो गयी. रोहित को मैने बोल दिया की एक-दो दिन बाद फिर उसको बुलाते है.

रोहित: बुला लो. बुत उसको कोई प्लान बना कर छोड़नी है.

मिताली: क्या करोगे?

रोहित: तोड़ा सोचने दो.

मिताली: कोई बात नही. प्लान बने तो बता देना. वैसे वो तैयार हो जाएगी. एक काम करो, वो घर आए तो लाइन मारना उस पर. मुझे लगता है वो ईज़िली पट्ट जाएगी. अपने रूम में रखना.

रोहित: ह्म, बुत तुम कहा रहोगी?

मिताली: उसको बोल देना की मों मार्केट गयी है. उसको उपर बुला लेना. बाकी तो तुम सब जानते ही हो.

हम दोनो ने प्लान बना लिया. 2-3 दिन तो बेटे ने मुझे छोड़ा. सनडे को नीता को मैने रात को बुला लिया. जब नीता घर आई, तो मैं रूम में च्छूप गयी.

नीता घर आ गयी. उसने मुझे देखा तो मैं नही मिली. रोहित के रूम में गयी तो उसने नींद का नाटक करते हुए बोल दिया की “मों सिर दुख रहा है, सिर दबा दो”.

नीता चुप-छाप सिर दबाने लगी. रोहित ने आँख बंद किए हुए ही नीता के हाथ पकड़ कर बोला की “यहा से दब्ाओ”. फिर रोहित ने बोला-

रोहित: मैं नहा कर अवँगा, और तुम मेरे रूम में छाई ले आओ.

नीता रूम से बाहर गयी, और मुझे फोन किया तो मैने बोला-

मिताली: मैं अभी बाहर हू. तुम वेट करो. रोहित घर पर ही है.

रोहित नहा कर आया तो सिर्फ़ टोलिया लपेट कर बाहर आ गया. नीता रोहित को देखते ही स्माइल देने लगी. रोहित के नंगे बदन देख कर वो एग्ज़ाइटेड थी.

नीता: लो तुम चलो. छाई बन रही है.

रोहित उपर गया तो नीता भी पीछे-पीछे चली गयी. रोहित ने छाई पी ली. नीता रोहित को नंगे देख कर खुश थी.

नीता: तुम्हारा सिर दर्द हो रहा था ना? चलो दबा देती हू. थोड़ी देर में ठीक हो जाएगा.

नीता ने उसका सिर पकड़ लिया, और लिटा लिया. फिर दबाने लगी. उसने रोहित के सामने अपने बूब्स कर लिए, और फिर पल्लू भी हटा लिया.

रोहित: आ, अछा लग रहा है.

नीता: सब ठीक हो जाएगा. पूरी बॉडी दबा दूँगी. आराम आ जाएगा 10 मिनिट्स में.

रोहित उसके बूब्स देखने लगा और वो रोहित को देख रही थी. फिर वो स्माइल देने लगी. रोहित ने आँख बंद कर ली. नीता पैर दबाने लगी, और टोलिया साइड करने लगी. टोलिए के उपर से लंड को सहलाया. फिर टोलिया हटाने की कोशिश करने लगी.

थोड़ी देर में रोहित को नींद आने लगी, और नीता लंड को सहलाने लगी. फिर नीता ने लंड चूसना शुरू कर दिया. और तभी रोहित जाग गया.

रोहित: ऑश आंटी, ये क्या कर रही हो?

नीता: ऑश, कितना बड़ा है तुम्हारा. मुझे बहुत पसंद आया है.

रोहित: मों आ गयी तो?

नीता: ऑश तुम बहुत स्वीट हो. तुम दररो मत. तुम मेरे दोस्त हो.

ये बोल कर वो रोहित को किस करने लगी. रोहित ने तोड़ा माना किया, बुत उसने रोहित का हाथ बूब्स पर रख दिया.

नीता: इनको दब्ाओ यार, तेरे लिए ही है.

रोहित ने दबाया तो नीता खुश हो गयी. उसने झट से सारी उपर से उतार दी, और रोहित को बूब्स मूह में दे दिए. रोहित बूब्स चूसने लगा.

थोड़ी ही देर में नीता पूरी नंगी हो गयी. वो खड़ी हुई और गाते बंद कर दिया. रोहित का टोलिया हटा दिया. नीता लेट गयी, और रोहित उसको किस करने लगा.

मैं तब तक दूसरे रूम से सब देख रही थी. मुझे दोनो की चुदाई सॉफ दिख रही थी. नीता अब खुल कर अपने बूब चुस्वा रही थी. रोहित और नीता दोनो एक-दूसरे के गाल और लिप्स चूस रहे थे.

नीता: ऑश रोहित अपनी आंटी को आचे से मज़े दो. ऑश बहुत अछा चूस्टा है तू. आज से तू ही मेरा दोस्त है. मेरा हब्बी तो मेरी छूट लेता नही. तू ही मुझे वाइफ बना कर छोड़ेगा.

रोहित: ओह नीता आंटी, तुम कितनी मस्त हो. तुम नंगी हो कर और भी मस्त हो गयी हो. आपके बूब्स तो बहुत बड़े है. ऑश नीता, बहुत अची हो तुम.

नीता: तुम्हारी पर्सनल रंडी हू. मुझे जैसा मॅन करे वैसे ही छोड़ो. ऑश बहुत मस्त बूब्स चूस रहा है.

रोहित: मुझे भी मज़ा आ रहा है. निपल बहुत मस्त है. बूब की दरार मस्त है. कितने मस्त है बूब्स. नंगी हो कर तो बहुत मस्त लगती हो.

नीता: ऑश कितना अछा है तू. तेरा लंड भी अछा है. इसके लिए तो बहुत प्यासी हू. मुझे पिंक लंड अछा लगता है.

थोड़ी देर बाद रोहित ने नीता की टाँग उठा ली, और छूट छोड़नी शुरू कर दी. नीता की सेक्सी आवाज़ शुरू हो गयी.

नीता: ऑश यार बहुत मस्त छोड़ते हो. ऑश यार छोड़ो मुझे. मज़ा आ रहा है.

रोहित: ऑश मुझे भी आ रहा है. तेरे बूब्स बहुत हिल रहे है आंटी.

नीता: सीधी नीता और रंडी बोल मुझे. ओह.

रोहित: नीता आअहह, रंडी बनेगी मेरी?

नीता: बन गयी यार.

रोहित ने उसको सीधा किया, और शॉट मारने लगा. वो नीता को छोड़ते हुए किस भी कर रहा था. नीता उसका हॉंसला बढ़ा रही थी.

थोड़ी देर बाद नीता बोली-

नीता: घोड़ी बना लो.

नीता घोड़ी बनी तो नीता की गांद पर थप्पड़ मार कर रोहित ने छोड़नी शुरू कर दी. वो बहुत खुश थी. ज़ोर-ज़ोर से शॉट मार रहा था, तो नीता खूब हिल रही थी.

नीता: रोहित मेरे राजा, बहुत मस्त छोड़ रहा है. बहुत मज़ा आ रहा है. उई मा, बहुत मस्त छोड़ रहा है.

रोहित: नीता मेरी रंडी, गांद मस्त है तेरी. ऑश क्या रसीली छूट है. ऑश अची चुड रही है. मेरी रंडी बन गयी है तू.

नीता: अब तो रोज़ चूड़ने अवँगी. तूने तो मेरी बहुत बड़ी प्राब्लम सॉल्व कर दी.

रोहित उसकी पीठ पर हाथ फेर रहा था. कभी कंधा पकड़ लेता तो कभी बूब्स. वो बस ऑश आआहह कर रही थी. नीता झुकी हुई थी, और लंड छूट से अंदर-बाहर हो रहा था. उसके हिलते हुए बूब्स रोहित के हाथ में थे.

नीता: ऊहह रोहित बेटा, तू अपनी मों को बहुत मस्त छोड़ रहा है. तेरे बाप ने कभी नही छोड़ी मुझे ऐसे. तू अपनी मों की छूट छोड़ कर बहुत मज़े दे रहा है.

रोहित: ऑश मों, तू फिकर ना कर. तेरी छूट तो तेरा बेटा ही छोड़ेगा. पापा को क्या पता है की नीता जैसी माल को कैसे छोड़ते है. तू बस मेरी है आज से.

नीता: ऑश बेटा तेरी बात सुन कर मज़ा आ गया. आज से तेरी मों की चुदाई बेटा ही करेगा. ऑश चुड रही है तेरी मों, गुड बेटा.

रोहित: साली तू पापा के पास जाती ही क्यूँ है? चूड़ना हो तो बेटे के पास आया कर.

नीता: सॉरी बेटा, अब तेरे पापा की बजे तेरे पास ही अवँगी छूट छुड़वाने. तुझे ही मों छोड़नी है. श आ चुड रही हू यार. ऑश बेटे कम ओं यार. मदारचोड़, छोड़ अपनी रंडी मों को.

रोहित: बूब्स बहुत हिल रहे है तेरे रंडी.

नीता: पकड़ कर छोड़.

रोहित के दोनो हाथो में लड्डू थे. मतलब लंड नीता की छूट में और दोनो हाथो में नीता के गोरे-गोरे बूब्स पकड़े हुए थे. नीता उसके आयेज झुकी हुई थी. नीता की गोरी टाँग और गोरी गांद काफ़ी मस्त थी. रोहित उसकी गांद पर शॉट मारता और कभी गांद पर लंड रगड़ता.

मुझे लगा की रोहित मेरे साथ भी ऐसे ही करता है. आयेज मों नंगी झुकी हो और पीछे से बेटा छूट में लंड घुसेड कर दोनो बूब्स पकड़ कर छोड़े तो मज़ा बहुत आता है. नीता खूब चुदाई के मज़े ले रही थी. रोहित उसके बूब का पकड़ कर ज़ोर-ज़ोर से शॉट मार रहा था.

नीता: उउउई मा, चुड गयी यार. चुड गयी यार, ऑश रोहित चुड गयी मेरी छूट. आअहह छोड़ो यार. छोड़ो मेरी छूट, ऑश आआहह मज़ा आने वाला है. मेरी छूट चूड़ने वाली है.

रोहित: ऑश बेहन की लोदी, बहुत मज़ा आ रहा है. ऊहह आहह तेरी चूत चोद कर ही दूं लूँगा. चिकनी हो गयी छूट.

रोहित ज़ोर-ज़ोर से छोड़ रहा था. नीता की गांद फटत-फटत की आवाज़ करने लगी थी. नीता की सेक्सी आवाज़ से रोहित खूब ज़ोर से छोड़ने लगा. थोड़ी ही देर बाद नीता और रोहित झाड़ गये. नीता के झड़ने के बाद रोहित शॉट मारता रहा और फिर उसकी कमर और बूब्स छ्चोढ़ कर पीछे हट गया. उसकी गांद पर थप्पड़ मारा.

रोहित: चलो अब तो चुड गयी. खड़ी हो जाओ चलो.

नीता स्माइल देते हुए खड़ी हुई. उसके बूब्स खूब हिल रहे थे. नीता ने रोहित को किस किया.

नीता: ऑश रोहित बेटा, तू तो मस्त छोड़ता है. आहह तूने तो दिल खुश कर दिया. तेरे साथ बहुत मज़ा आया. ऑश तू बूब्स बहुत मस्त चूस्टा है.

रोहित: थॅंक्स नीता.

नीता: अब तो डेली मेरे उपर ही कूदना पड़ेगा मेरे घोड़े. तेरी मस्त बॉडी से मुझे बहुत मज़ा आया. अब तुझे जो भी बॉडी बनानी है वो मेरे साथ ही बनाएगा.

रोहित: ह्म ओक. तेरे बूब्स बहुत आचे है.

नीता: अब तो तेरे काम आएँगे. चलो तेरी मों आ गयी होगी.

नीता झट से सारी पहन कर तैयार हो गयी. रोहित ने लोवर त-शर्ट पहन ली. नीता जाने लगी तो फिरसे किस करने लगी.

मैं रूम से बाहर निकल कर नीचे आ गयी. थोड़ी देर बाद नीता स्माइल देती हुई नीचे आ गयी. वो मेरे पास आ कर क्या बोली, ये अगली स्टोरी में. स्टोरी अची लगी हो तो मितालिसिंघ609@गमाल.कॉम पर मेसेज भेज सकते हो.

यह कहानी भी पड़े  चूत का रास्पान और खुला हुआ आसमान


error: Content is protected !!