रीडर के साथ मिल कर की चूत गीली

हेलो दोस्तों, मेरा नाम रीना है, और मेरी उमर 20 है. मैं आमेडबॅड से हू. अगर कोई आमेडबॅड से है, और अगर लेज़्बीयन सेक्स में इंट्रेस्टेड हो, तो मैल या फीडबॅक ज़रूर देना. और पिछली स्टोरी पर कोई फीडबॅक ही नही मिला है, तो इस कहानी पर फीडबॅक ज़रूर देना.

इस कहानी में पढ़िए की कैसे मेरी एक स्टोरी रीडर ने मुझे फीडबॅक के लिए मेसेज किया, और फिर हमने सेक्स छत और बाद में मिल कर लेज़्बीयन सेक्स किया.

हेलो दोस्तों, मुझे तो आप जानते ही हो. बहुत सी फीमेल्स लेज़्बीयन की मुझे मेल्स आई, और हमने खूब सेक्स छत की है. पर अभी कुछ दीनो पहले जब मैने पिछली स्टोरी उपलोआड की, तब मुझे एक स्टोरी रीडर का मेसेज आया. उसने मेरी बहुत तारीफ की “युवर स्टोरी इस वेरी नाइस”, ” ई लोवे इट” ऑल तीस.

उसका नाम नीति था. उसकी उमर 19 थी और वो मुंबई की रहने वाली थी. मैने भी मेरे बारे में बताया. उसके घर में वो, उसका छ्होटा भाई, और उसके मम्मी-पापा रहते है. वो कॉलेज के फर्स्ट एअर में है, और उसका भाई 12त स्टॅंडर्ड में है. फिर हमारी बात चालू हुई.

मैने उसे कहा की हम गूगले छत पर बात करते है. तो फिर उसने गूगले छत पर मेसेज किया.

नीति: ही, हाउ अरे योउ?

मे: हेलो, ई आम फाइन. वॉट अबौट योउ?

नीति: ई आम गुड.

मे: ओक, क्या कर रही हो?

नीति: मैं मार्केट में हू अभी. और तुम क्या कर रही हो?

मे: मैं जॉब पर हू. वैसे किसके साथ हो बाहर तुम?

नीति: भाई के साथ हू. वैसे ई लोवे युवर स्टोरीस. बहुत सेक्सी स्टोरीस होती है तुम्हारी. वो आंटी ने तो तुम्हे रंडी की तरह छोड़ा है?

मे: हा, आंटी बहुत प्यासी थी सेक्स की, इसलिए मुझे इस तरह से चूमा और फिंगरिंग की थी. एक नंबर की छिनाल थी आंटी.

नीति: ह्म, कॅन योउ सेंड मे युवर पिक?

मे: ओक वेट.

फिर मैने मेरी पिक सेंड की, और पूछा: कैसी लगी मेरे पिक?

उसने बताया: बहुत मस्त फिगर है तुम्हारा तो. लड़कों का तो तुम्हे देख कर ही छ्छूट जाए. और लड़कियों की छूट में से पानी निकल जाए. फिर मैने थॅंक योउ बोला और पूछा-

मे: तुम्हारी भी पिक देखने मिल सकती है क्या?

नीति: हा बिल्कुल, वेट, करती हू सेंड.

मे: ओह मी गोद. बहुत मस्त लग रही हो. बूब्स भी बड़े-बड़े है. दूध है बूब्स में?

नीति: हा तोड़ा-तोड़ा है, और वैसे तुम्हारे भी बूब्स बहुत बड़े है. मेरे से भी ज़्यादा बड़े बूब्स है तुम्हारे. कों मालिश करता है ये रंडी के बूब्स की? वो आंटी करती है क्या?

मे: हा मदारचोड़ आंटी ने कुछ ज़्यादा ही मसल दिए है. किसी दिन कही मिल जाए तो निपल्स पर ही काट लूँगी रंडी के.

फिर हमारी थोड़ी और बात हुई. पर मैं काम में बिज़ी थी, तो मैने कहा की रात में बात करते है. उसने पूछा कब, तो मैने कहा 10 बजे के बाद.

उसने कहा: ओक, मैं फ्री होके मेसेज कर दूँगी. रात को मज़ा करेगे.

मैने हा कहा, और फिर मैने बातों-बातों में पूच लिया-

मे: वैसे कहा से हो?

उसने बताया: मुंबई से.

ये सुनते ही मुझे मज़ा आ गया. क्यूंकी मैं मुंबई आती-जाती रहती हू. मैने जब उसको बताया तो वो भी खुश हो गयी और बोली-

नीति: किसी दिन मिलेंगे फिर.

मैने कहा: ठीक है.

और फिर हमने एक-दूसरे को बाइ कहा और मैं अपने काम में बिज़ी हो गयी. मेरी पनटी गीली हो चुकी थी. बहुत दीनो से उंगली भी नही की थी इस रंडी छूट में. फिर जब मैं काम ख़तम करके घर पहुँची और फ्रेश हुई, तो फिर नीति का मेसेज आया हुआ था.

नीति: हेलो जानी. क्या कर रही हो?

मे: हेलो, बैठी हू. और तुम क्या कर रही हो?

नीति: लेती हू.

मे: किसके नीचे लेती हो? अपने भाई के नीचे?

नीति: नही-नही वो छ्होटा है.

मे: पर लंड तो बड़ा होगा ना. तुम्हे रंडी की तरह छोड़ेगा.

नीति: सच में? ट्राइ करूँगी कभी.

मे: वैसे तुमने क्या पहना है?

नीति: त-शर्ट और लोवर.

मे: पिक भेजो ना एक देखे तो ज़रा.

फिर नीति ने मुझे एक पिक भेजी. मस्त लग रही थी. फिर बाद में मैने भी मेरे पिक भेजी.

मे: तुम्हारे बूब्स की पिक दिखाओ ना.

नीति: तुम भी भेजो ना, इस बार तुम भेजो पिक.

मे: नही तुम भेजो, फिर मैं भेजती हू.

नीति: पक्का भेजोगी?

मे: हा भेजो जल्दी.

फिर नीति ने पिक भेजी. क्या बूब्स थे उसके. एक-दूं आम जैसे.

मे: मॅन कर रहा है की दबा-दबा के सारा रस्स निकाल डू तेरा. क्या बूब्स है तेरे. तेरा भाई मालिश करता है या ब्फ?

नीति: कोई नही करता. अब तुम्हारी बारी, सेंड करो.

मे: फिर मैने पिक भेजी.

नीति: वाउ! ई वाना लीक युवर बूब्स. सो हॉट, सच में रंडी जैसे बूब्स है. चूस-चूस के, थप्पड़ मार-मार के लाल कर दूँगी अगर मेरे पास आ जाए ये बूब्स तो.

मे: कैसे चूसेगी?

नीति: एक-दूं दबा के, निपल्स पे काट कर, थप्पड़ मार-मार कर. रंडी की तरह चूसूंगई. बहनचोड़ क्या बूब्स है. मज़ा आ गया.

मे: थॅंक योउ. तेरे निपल्स देख कर मॅन किया काट लू. बहुत मस्त बूब्स है नीति. योउ अरे सो हॉट.

नीति: तो काट लेना.

मे: हा बिल्कुल काट ख़ौँगी. दबा-दबा के चूसूंगई. मदारचोड़ मज़ा ही आ जाएगा. फिर हमने और भी पिक्स सेंड की.

नीति: हा, छूट गीली हो रही तुझे देख के.

मे: दिखा ना तेरी छूट. देखु कितनी गीली हुई है.

नीति: ले देख ले रंडी.

मे: आए-हाए, तेरी छूट क्या मस्त छूट है बालों वाली. चाट-चाट के सॉफ कर दूँगी. मेरे भी देख ले ले. मज़ा ही आ गया यार. मॅन कर रहा है चाट लू अभी. ई वाना लीक इट यार.

नीति: थॅंक योउ जानेमन. तू मुंबई आ जेया यार. बहुत मज़ा करेंगे.

मे: ओक नेक्स्ट वीक आने ही वाली हू कोई काम से. तब मिलेंगे, और फिर मैं तेरी चुचियों का सारा रस्स पी जौंगी.

इसके आयेज की कहानी के लिए मुझे फीडबॅक ज़रूर देना. अगर मुझे अछा रेस्पॉन्स मिला, तो ही नेक्स्ट पार्ट आएगा दोस्तों. इस स्टोरी का फीडबॅक आप क्राज़्ीबल्ल893@गमाल.कॉम इस ईद पर दे सकते है, और कोई लेज़्बीयन है आमेडबॅड में से, और सेक्स छत करना चाहती हो, तो ये ईद पर मैल कर सकती है. दोस्तों अगली कहानी के लिए फीडबॅक ज़रूर देना. बाइ.

यह कहानी भी पड़े  मेरे जीवन का पहला लेज़्बीयन सेक्स


error: Content is protected !!