फोटोशूट के चक्कर में बीवी के चूड़ने की कहानी

ही गेज़, आज एक न्यू स्टोरी के साथ हाज़िर हुआ हू. इसमे आपको बतौँगा कैसे एक बुड्ढे फोटोग्राफर ने मेरी जवान बीवी को छोड़ा.

मेरी बीवी का नामे फरहा है. फरहा का रंग एक-दूं सफेद है. फरहा की आगे 32 साल है. उसका फिगर 36-24-36 है.

मैं और मेरी बीवी फरहा एक किराए के मकान में रहते है. उपर वाले पोर्षन में हम रहते है, और नीचे हमारा मकान मलिक. मकान मलिक का नामे उद्धी है. उद्धी साब की आगे 55 साल है. रंग एक-दूं काला, और जिस्म काफ़ी मोटा है.

उद्धी साब ने नीचे एक कमरे में अपना फोटो स्टूडियो बनाया हुआ है, जिसमे वो काफ़ी लोगों की पिक्चर्स बनाते है.

मेरी बीवी फरहा को आक्टिंग का काफ़ी शौंक है. लेकिन घर पर माहौल ना होने की वजह से उसको कभी आक्टिंग का मौका नही मिला.

हमे उस घर पर रहते हुए 6 मंत हो चुके थे. मेरे ऑफीस जाने के बाद फरहा कभी-कभी उद्धी साब के स्टूडियो में भी चली जाती थी. एक दिन जब फरहा उद्धी साब के स्टूडियो में गयी, तो उद्धी साब ने फरहा को बोला-

उद्धी साब: फरहा मेरे पास एक प्रॉजेक्ट है? क्या तुम उस पर काम करोगी?

फरहा: किस तरह का प्रॉजेक्ट है आपके पास?

उद्धी साब: एक अरब कंट्री का मॅगज़ीन है, उसे अपने फ्रंट पेज के लिए किसी न्यू लड़की की फोटोस चाहिए.

फरहा: किस तरह की पिक्चर्स चाहिए उनको?

उद्धी साब: बस जीन्स और टॉप में स्कार्फ ले कर.

फरहा: आप को पता है मैने कभी घर में जीन्स और टॉप नही पहनी और मेरे पति कभी मुझको इसकी पर्मिशन नही देंगे.

उद्धी साब: कुछ नही होगा. उसको पता ही नही चलेगा.

फरहा: कैसे नही पता चलेगा? जब मॅगज़ीन पर लगेगी तो सब को पता चलेगा.

उद्धी साब: वो मॅगज़ीन अरब कंट्री का है. और सिर्फ़ उस कंट्री में छपता है. इसलिए तुम टेन्षन ना लो. इधर किसी को पता ही नही चलेगा.

फरहा: आपकी बात सही है. लेकिन मुझको खुद बड़ी शरम आती है इस तरह की ड्रेस पहनने में. मैं नही कर सकती.

उद्धी साब: देखो ये नॉर्मल सी बात है. तुमने जीन्स और टॉप ही तो पहँनी है. अपनी शरम उतरोगी तो आयेज काम मिलेगा.

फरहा: ठीक है, लेकिन ये बात किसी को पता नही चले.

उद्धी साब: तुम टेन्षन ना लो, किसी को नही पता चलेगा. बस तुम कल 9 बजे सुबा आ जाना.

फरहा: ठीक है.

अगले दिन मेरे ऑफीस जाने के बाद फरहा नीचे उद्धी साब के स्टूडियो में चली गयी.

उद्धी साब ने फरहा को एक ब्लॅक लेगैंग्स, उसके साथ एक ब्लॅक टॉप, और एक ब्लॅक स्कार्फ दिया के इसको पहनो. फरहा, उद्धी साब के कमरे से चेंज कर के आई तो फरहा को काफ़ी शर्मा रही थी.

लेगैंग्स काफ़ी टाइट थी, और टॉप भी काफ़ी टाइट था, जिसकी वजह से फरहा के बूब्स की शेप सॉफ नज़र आ रही थे. स्कार्फ काफ़ी चोट्टा था, जो सिर्फ़ सर के बालों को कवर कर रहा था. उद्धी साब ने एक लड़की भी बुलाई हुई थी.

उद्धी साब उस लड़की से बोले: चलो इन मेडम का मेक उप कर दो जल्दी से.

20 मिनिट्स में उस लड़की ने फरहा का मेकप कर दिया, तो उद्धी साब ने उस लड़की को भेज दिया. और अब स्टूडियो में फरहा और उद्धी साब ही थे. उद्धी साब ने अपना कॅमरा निकाला, और फरहा की काफ़ी पिक्चर्स ली.

मुख़्टालीफ़ एंजल से फरहा की पिक्चर्स ली. कुछ ऐसे स्टेप्स भी थे, जिनमे फरहा को काफ़ी शरम भी आई. लेकिन उसने कुछ नही बोला. 1 घंटे तक पिक्चर्स लेने के बाद उद्धी साब ने फरहा को बोला-

उद्धी साब: बस काफ़ी पिक्चर्स ले ली है. अब उनकी सेट्टिंग करके उस मॅगज़ीन को भेज दूँगा.

फरहा: आप सारी पिक्चर्स भेजोगे?

उद्धी साब: हा, सारी भेज दूँगा. जो उनको सही लगेगी, वो सेलेक्ट कर लेंगे.

उद्धी साब की बात सुन कर फरहा कपड़े चेंज करने जाने लगी, तो उद्धी साब बोले-

उद्धी साब: कोई ज़रूरत नही ड्रेस चेंज करने की. ये अब तुम्हारा हुआ.

फरहा: अछा! लेकिन में इस तरह की ड्रेसस पहनती नही.

उद्धी साब: ना पहनो, लेकिन रख तो लो.

उद्धी साब की बात सुन कर फरहा ने अपने कपड़े उठाए, और उपर चली गयी. एक हफ्ते बाद मॉर्निंग में उद्धी साब ने फरहा को बुलाया और उसको अपने मोबाइल में पिक्चर्स दिखाई. वीक्ली मॅगज़ीन के फ्रंट पेज पर फरहा की 5 पिक्चर्स लगी हुई थी, और साथ कॅपशन था “हॉट आंड बोल्ड लेडी”.

फरहा ने जब अपनी पिक्चर्स देखी और उन पर लिखा कॅपशन पढ़ा, तो वो शर्मा गयी. 3 दिन के बाद उद्धी साब ने फरहा को बुलाया और उसके बोला-

उद्धी साब: हॉट आंड बोल्ड लेडी की डिमॅंड बढ़ गयी है अब.

फरहा: कैसे?

उद्धी साब: अब वो मॅगज़ीन वाले हॉट आंड बोल्ड लेडी की कुछ हॉट ड्रेसस में पिक्चर्स माँग रहे है.

फरहा: क्या मतलब, किस तरह के ड्रेसस में?

उद्धी साब: शॉर्ट स्कर्ट, और साथ शॉर्ट टॉप में.

फरहा: मैं इस तरह की ड्रेसस में कभी पिक्चर्स नही दूँगी.

उद्धी साब: देखो पहले भी तो पिक्चर्स दी थी, किसी को पता चला?

फरहा: लेकिन पिछली पिक्चर्स में मेरा जिस्म नज़र नही आ रहा था. इसमे मारा सारा जिस्म नज़र आएगा.

उद्धी साब: तुम्हारी डिमॅंड बढ़ रही है. तोड़ा सा जिस्म देखा डोगी तो कुछ नही होगा.

फरहा: लेकिन ये सब मुझे ठीक नही लग रहा.

उद्धी साब: कुछ नही होगा, बस हम दोनो में बात रहेगी. तुम कल सुबा 9 बजे आ जाना.

उद्धी साब की बात सुन कर फरहा उपर चली गयी. अगले दिन 9 बजे फरहा नीचे उद्धी साब के स्टूडियो में चली गयी.

स्टूडियो में उद्धी साब ने टीन कपड़ों के सेट रखे हुए थे. एक शॉर्ट लेगैंग्स और शॉर्ट टॉप था, दूसरा मिनी स्कर्ट और साथ टॉप था, और तीसरा सिर्फ़ ब्रा और पनटी थी.

फरहा ये सब देख कर बोली: मैं अब ये सब पहनुँगी?

उद्धी साब: हा, इसलिए मैने आज मेक उप वाली लड़की भी नही बुलाई. बात हम दोनो में रहेगी. जाओ जल्दी से ड्रेस चेंज करके आओ.

फरहा सारी ड्रेसस लेकर उद्धी साब के रूम में चली गयी, और शॉर्ट लेगैंग्स और टॉप पहन कर बाहर आई. वो काफ़ी हॉट लग रही थी. शॉर्ट लेगैंग्स फरहा की आधी टाँगो तक आ रही थी, और टॉप भी काफ़ी शॉर्ट था, जो सिर्फ़ बूब्स को ही कवर कर रहा था. फरहा को उस ड्रेस में देख कर उद्धी साब की आँखें खुल गयी, और उद्धी साब का लंड खड़ा हो गया.

उद्धी साब ने फरहा को एक स्कार्फ दिया, और काफ़ी पोज़ में फरहा की पिक्चर्स ली. उद्धी साब जान कर पोज़ बनाने के चक्कर में कभी फरहा की गांद और कभी फरहा के बूब्स टच कर रहे थे.

जब उद्धी साब फरहा को टच करते, तो फरहा के जिस्म में करेंट लग जाता.

फिर उद्धी साब ने फरहा का स्कार्फ उतार दिया, और फरहा के बाल खोल दिए. फरहा अब और भी हॉट लग रही थी. उद्धी साब ने 30 मिनिट्स तक फरहा का फोटोशूट किया और बोले-

उद्धी साब: जाओ अब ड्रेस चेंज कर आओ.

फरहा: आज के लेए इतना काफ़ी है. बाकी बाद में कर लेंगे.

उद्धी साब फरहा की बात सुन कर हासणे लगे और बोले: चलो फिर ऐसा करो, जाओ छाई बना कर मेरे रूम में आ जाओ. उधर छाई पीते है.

फरहा किचन में चली गयी, और छाई बना कर जब उद्धी साब के रूम में पहुँची, तो उद्धी साब अपनी ल्क्ड पर फरहा की पिक्चर्स को एडिट कर रहे थे. फरहा उद्धी साब के साथ बैठ गयी. उसने अभी तक वही शॉर्ट लेगैंग्स और टॉप पहना हुआ था.

उद्धी साब और फरहा दोनो छाई पी रहे थे, और साथ में उद्धी साब फरहा की पिक्चर्स एडिट कर रहे थे. छाई पी कर उद्धी साब ने एक हाथ फरहा की टाँगो पर रख दिया. फरहा को एक झटका लगा. लेकिन उसने कोई रेस्पॉन्स नही दिया.

फिर उद्धी साब आहिस्ता-आहिस्ता अपना मोटा हाथ फरहा की टाँगो पर फेरने लगे. फरहा को बड़ा अजीब लग रहा था. लेकिन वो चुप करके बैठी हुई थी. 2 मिनिट्स के बाद उद्धी साब ने फरहा की तरफ देखा, तो उद्धी साब और फरहा दोनो की आँखें आपस में मिली. उद्धी साब अपना मूह फरहा के मूह के करीब ले गये.

फरहा ने अपनी आँखें बंद कर ली. फिर उद्धी साब और फरहा दोनो के होंठ आपस में मिले, और दोनो ने एक-दूसरे को किस करना स्टार्ट कर दिया. 1 मिनिट तक किस करने के बाद उद्धी साब ने किस तोड़ी, और फरहा को उठा कर बेड पर बिता दिया.

उद्धी साब ने अपने सारे कपड़े उतार दिए. उनके जिस्म पर काफ़ी बाल थे. और उनका 10 इंच लंबा काला लोड्‍ा खड़ा था. उद्धी साब को कपड़े उतारता देख कर फरहा ने भी अपने कपड़े उतार दिए. फरहा के टाइट बूब्स एक-दूं से आज़ाद हो गये. जिनको देख कर उद्धी साब की आँखें चमक गयी.

उद्धी साब अपने लंड को पकड़ कर फरहा के पास गये, और उसको फिरसे किस करने लगे.

फरहा बेड पर लेट चुकी थी, और उद्धी साब उस पर चढ़ गये. फरहा उद्धी साब के पहाड़ जैसे जिस्म के नीचे च्छूप गयी थी. उद्धी साब फरहा को किस कर रहे थे, और अपने हाथो से फरहा के बूब्स मसल रहे थे.

2 मिनिट्स तक किस करने के बाद, उद्धी साब तोड़ा नीच हुए. अब उद्धी साब का मूह फरहा के बूब्स के पास था. उद्धी साब ने फरहा के लेफ्ट बूब को अपने मूह में ले लिया, और चूसने लगे.

फरहा की सिसकारियाँ बढ़ रही थी, और उद्धी साब फरहा के लेफ्ट बूब को चूस रहे थे, और रिघ्त बूब को अपने हाथ से दबा रहे थे. फिर उद्धी साब ने फरहा के रिघ्त बूब को चूसना स्टार्ट कर दिया.

फरहा के दोनो बूब्स उद्धी साब की थूक से गीले हो चुके थे, और चमक रहे थे.

5 मिनिट्स तक बूब्स चूसने के बाद उद्धी साब उठे, और तोड़ा सा नीचे हुए. फिर फरहा की पनटी को पकड़ कर उतार दिया, जो आब तक गीली हो चुकी थी. फरहा की टाइट छूट उद्धी साब के सामने थी.

उद्धी साब ने अपना हाथ फरहा की छूट पर रखा, और उसको सहलाने लगे. फरहा की आँखें बंद थी, और वो मज़े से अपने होंठो को दबा रही थी.

उद्धी साब ने अपना मूह नीचे किया, और फरहा की छूट पर अपना मूह रख कर उसको चाटने लगे.

फरहा को बड़ा अजीब लग रहा था, लेकिन उसको मज़ा भी खूब आ रहा था. उसने अपनी दोनो टाँगो को गोल कर लिया था, और उद्धी साब के सिर को पकड़ रखा था. 5 मिनिट तक छूट चाटने के बाद उद्धी साब उठे, और फरहा का हाथ पकड़ कर उसको खड़ा किया. फरहा बेड पर बैठ चुकी थी. उद्धी साब ने अपना काला लोड्‍ा फरहा के मूह के पास लेकर गये, और चूसने को बोला.

लेकिन फरहा ने माना कर दिया, और बोली: नही, मैं नही करती इस तरह के गंदे काम.

उद्धी साब हासणे लगे, और फिर साइड में से टेल की बॉटल लेकर आए, और अपने काले लोड पर टेल लगाने लगे.

उद्धी साब का काला लोड्‍ा टेल लगने से चमकने लगा था. उसने फरहा को घोड़ी बनाया, और खुद उसके पीछे खड़े हो गये. फरहा की टाइट गांद उद्धी साब के सामने थे.

उद्धी साब ने अपना लोड्‍ा फरहा की छूट पर सेट किया, और हल्का सा धक्का मारा, जिससे उद्धी साब का चिकना लोड्‍ा फरहा की छूट में चला गया.

फरहा के मूह से एक चीख निकली, क्यूंकी उसकी छूट टाइट थी, और उद्धी साब का लोड्‍ा काफ़ी मोटा था. उद्धी साब ने फरहा को पीछे से पकड़ा और एक ज़ोर का झटका मारा, जिससे उद्धी साब का पोदा लोड्‍ा फरहा की छूट में चला गया.

फरहा मछली की तरह तदपि, और ज़ोर की चीख मारी. लेकिन उद्धी साब ने उसको ज़ोर से पकड़ा हुआ था. इसलिए वो हिल ना सकी. अब आहिस्ता-आहिस्ता उद्धी साब अपना जिस्म आयेज-प्ेअचे करने लगे. लेकिन फरहा को काफ़ी दर्द हो रहा था, और वो आवाज़े निकाल रही थी.

आब आहिस्ता-आहिस्ता उद्धी साब के धक्के तेज़ हो रहे थे, और फरहा की चीखें सिसकियों में बदल रही थी. उद्धी साब अब पूरी रफ़्तार से फरहा को छोड़ रहे थे, और जोश में आ कर फरहा की गांद पर थप्पड़ भी मार रहे थे. अब पुर कमरे में ठप ठप और आ आ की आवाज़े आ रही थी.

25 मिनिट्स तक छोड़ने के बाद उद्धी साब ने ज़ोर का झटका मारा, और अपना लंड बाहर निकाला, जिसमे से एक धार के साथ पानी निकला, जो सारा का सारा फरहा की गांद पर गिर गया.

फिर उद्धी साब बेड पर लेट गये, और फरहा भी उनके साथ लेट गयी. 5 मिनिट्स तक ऐसे ही लेटने के बाद उद्धी साब ने फरहा को अपने सीने से चिपका लिया, और फरहा के गाल चूमने लगे.

तो बे कंटिन्यूड…

आपको मेरी स्टोरी कैसी लगी, मुझको एमाइल लाज़मी करना.

यह कहानी भी पड़े  चुदाई के षड्यंत्र के पूरे सच की सेक्सी कथा


error: Content is protected !!