पति ने पत्नी को रंडी बना कर उससे बदला लिया

अब कहानी पर आती हूं,‌मेरी सहेली की जुबानी।

मेरा नाम काजल है। मैं 24 साल की हूं। मेरी शादी को 6 महीने हुए हैं। मेरा फिगर भी 34-32-36 का है, और दिखने में बहुत ही सुंदर हूं। मेरे पति का नाम राजेश है। उनकी फैमिली पैसे वाली है, तो ज्यादा काम नहीं करते हैं। दिन भर यहां-वहां घूमते रहते हैं।

हमारी शादी की पहली ही रात को मेरे पति राजेश ने मुझे बहुत ही गंदी तरह चोदा और मेरी हालत बुरी कर दी थी। सुहागरात के बाद राजेश रोज रात को मेरी चुदाई करते है। उनका लंड छोटा ही है, पर चुदाई बहुत देर तक करते हैं। अब मुझे उनकी चुदाई से कोई परेशानी नहीं थी।

पर एक दिन मुझे पता चल गया मेरे पति ड्रग्स लेते थे। दिन भर अपने दोस्तों के साथ नशे करते थे। मैंने राजेश को ड्रग्स छोड़ने के लिए बहुत समझाया पर राजेश माना नहीं। मैंने राजेश के साथ सेक्स करना बंद कर दिया, पर राजेश के ऊपर कोई असर नहीं हुआ।

फिर मैंने हार कर राजेश के घरवालों को सब बता दिया, कि राजेश ड्रग्स लेता था। तो राजेश के घरवाले राजेश को एक नशा निवारण केंद्र पर छोड़ कर आ गए। और मुझे बोले यह बात किसी को मत बताना हमारी बहुत बदनामी होगी। बहुत समय राजेश को गए हुए हो गए। तो एक दिन हम सब परिवार वाले राजेश को मिलने गए।

राजेश सब से बहुत प्यार से मिला, पर मुझे बहुत गुस्से से देख रहा था। राजेश के साथ मैं भी मिली तो राजेश ने मौका देख कर मेरी एक चूची जोर से खींच दी। मुझे बहुत दर्द हुआ पर राजेश ऐसा करके बहुत खुश दिख रहा था। 2 महीने के बाद राजेश को परिवार वाले घर ले आए।

राजेश अब घर मे ही रहने लगा, और फोन पर लगा रहता। अब राजेश घर आ गया था तो राजेश को देख कर मेरी चूत भी पानी छोड़ने लगी थी। पर राजेश तो रोज रात को मेरे आने से पहले ही सो जाता था। तो मुझे चूत मे उंगली डाल कर चूत को शांत करना पड़ता। एक रात मुझ से रहा नहीं गया और मैंने राजेश को चुदाई के लिए बोला।

तो राजेश मुझे बहुत प्यार से बोला: कल तेरी चुदाई भी होगी और तुझे सरप्राइज भी दूंगा मैं।

मैं अंदर से खुश हो गई कि क्या सरप्राइज देगा राजेश, और सोचते-सोचते सो गई। अगले दिन मैं उठी। मैंने अपनी चूत की अच्छे से सफाई की। फिर नहा कर घर के काम में लग गई।

शाम को सब घरवाले एक प्रोग्राम को जाने के लिए तैयार होने लगे। पर राजेश ने प्रोग्राम मे जाने से मना कर दिया तो मुझे भी रुकना पड़ा। सब प्रोग्राम मे चले गए, और सुबह आने का बोल गए। मैंने रात का खाना बनाया। फिर मैंने ओर राजेश ने खाना खाया। खाना खा कर मैंने राजेश को बोला-

मैं: आपने रात को सरप्राइज देने को बोला था।

तो राजेश मुझे बोला: काम खत्म कर लो, फिर कमरे में तुम्हारा सरप्राइज रखा है।

मैंने जल्दी से काम खत्म किया। राजेश बाहर ही बैठा हुआ था। मैं कमरे में गई। बैड पर एक पैकेट रखा हुआ था। मैंने पैकेट खोल कर देखा तो उसमे एक लाल रंग की जालीदार नाईटी थी। तभी राजेश भी अंदर आ गया और मुझे बोलने लगा-

राजेश: बस जो है यही पहन।

मैं बाथरूम मे चली गई। पहले नहाई। फिर मैंने देखा नाइटी के साथ ब्रा पेंटी तो थी नहीं। मुझे शर्म भी आने लगी। फिर सोचा मेरा पति और मैं ही तो है घर पर। मैंने नाइटी पहन ली। नाइटी बहुत छोटी सी थी। मेरी गांड भी बहुत मुश्किल से ढक रही थी।

मैं फिर बाहर आ गई। राजेश मुझे खा जाने वाली नजरों से देखने लगा, और मेरे पास आया और मेरे होठों पर अपने होंठ रख कर चूमने लगा। फिर एक हाथ से मेरी नंगी चूत को सहलाने लगा। मैं भी राजेश का साथ देने लगी। कुछ देर बाद राजेश मेरे से अलग हो गया। फिर बैड से एक कपड़ा उठा कर लाया और मेरी आंखों पर बांधने लगा।

मैंने पूछा: यह क्या कर रहे हो?

तो राजेश बोला: अभी तो सरप्राइज और है।

फिर अच्छे से कपड़ा मेरी आंखों पर बांध दिया। फिर मुझे एक-दूसरे कमरे में ले गया और मुझे बोला-

राजेश: तेरी आंख का कपड़ा नहीं खुलना चाहिए।

मुझे बैड पर बैठा दिया, और मैं बैठ गई। कुछ देर बाद मुझे लगा राजेश आ गया था ( था कोई ओर)। राजेश ने मुझे बैड से फिर से उठा दिया, और फिर से मेरे होंठ पर अपने होंठ रख कर चूमने लगा। मैं तो कब से चुदाई का ही इंतजार कर रही थी, तो मैं भी राजेश का साथ देने लगी।

फिर राजेश ने मेरी नाइटी को भी निकाल दिया। मैं बिल्कुल नंगी हो गई। राजेश मेरे पूरे बदन को चूमने लगा बहुत ही बुरी तरह से। फिर मुझे उठा कर बैड पर फेंक दिया और मेरे उपर आ गया। मेरे बूब्स को चूमने और मसलने लगा। फिर मेरी चूत पर आ कर मेरी चूत को चाटने लगा।

तब मुझे कुछ शक हुआ यह राजेश को आज क्या हो गया था? राजेश ने तो आज तक मेरी चूत को कभी चूमा भी नहीं था, तो आज यह क्या कर रहा था? पर आंखों में पट्टी होने से मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था। मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया तो वो पूरा पानी पी गया।

मैं कुछ नहीं समझ पा रही थी। इससे पहले कुछ समझती, उसने लंड को मेरे मुंह पर घुमाना शुरु कर दिया। फिर जैसे ही मेरा मुंह खुला, उसने लंड मेरे मुंह मे डाल दिया। मुझे ना चाहते हुए भी लंड को मुंह मे लेकर चूसना पड़ा। काफी देर बाद उसने लंड मेरे मुंह से बाहर निकाला ओर मेरे बूब्स पर रगड़ते हुए चूत तक ले गया।

अब उसने चूत पर लंड लगाया और धीरे-धीरे लंड मेरी चूत मे उतार दिया। जब लंड अंदर गया तो मुझे ऐहसास हुआ यह राजेश नहीं हो सकता था। उसका लंड तो छोटा था, और यह जो लंड मेरी चूत में गया था, यह बहुत बड़ा था। मेरी बच्चेदानी तक जा रहा था। मैंने पहले सोचा अभी आंखों का कपड़ा खोल कर देख लूं। फिर सोचा बहुत दिन बाद चुदाई का मजा मिल रहा था, कयूं ना ले लूं।

उसने मेरी चूत को चोदना शुरु कर दिया। उसके हर धक्के से मेरे मुंह से सिसकारियां निकलने लगी। उसके दोनों हाथ मेरे बूब्स को दबा रहे थे, ओर लंड चूत को दर्द दे रहा था। उसने कुछ देर बाद मेरी दोनो टांगो को उपर कर दिया, और चुदाई जारी रखी। मैं दर्द के साथ पूरा मजा ले रही थी।

फिर उसने मुझे घोड़ी बना दिया और पीछे से मेरी चूत मे लंड डाल दिया, और मुझे बालों से पकड़ कर चोदने लगा। उसके हर धक्के से मेरा पूरा बदन हिलने लगा। बीच-बीच में वो मेरी गांड पर थप्पड़ भी मार देता, जिससे मुझे बहुत दर्द होता और मेरे मुंह से आह निकल जाती।

कुछ देर बाद उसने अपने लंड का पानी मेरी गांड के ऊपर ही निकाल दिया, और थक कर मेरे पास ही लेट गया। मैंने भी अपनी आंखों से कपड़ा हटा दिया और जो शक था वो यकीन में आ गया। यह राजेश नहीं कोई और था। राजेश बैड के साथ रखी कुर्सी पर नंगा बैठा हुआ लंड हिला रहा था।

मैं एक दम से उठ गई तो राजेश मुझे बोला: साली चुप चाप लेटी रह।

फिर राजेश ने मुझे मेरी ओर उसकी चुदाई की फोटो अपने फोन से दिखाने लगा। मैं सब देख कर हैरान हो गई। राजेश फिर उठा और एक जोर का थप्पड़ मेरे मुंह पर रसीद करते हुए बोला-

राजेश: साली, घर वालों को मेरे बारे में बताया था। अब उसकी सजा तू भुगतेगी।

मेरा मुंह लाल हो गया और मुझे बोलने लगा-

राजेश: अब से तू ऐसे ही हम सब की रंड़ी बन कर रहेगी। अब से तू एक रंड़ी है, मेरी बीवी नहीं।

कैसी लगी आपको कहानी जरूर बताना। आगे की कहानी अगले भाग में।

यह कहानी भी पड़े  भाई को बॉयफ्रेंड बनाने और उससे चुदने की कहानी


error: Content is protected !!