पति और पड़ोसी के साथ थ्रीसम सेक्स की

मैने प्रतीक के साथ लिप्स किस किया और मैं उसके नीचे गुटनो पर बैठ गयी. मैने अनुज की और देख कर प्रतीक की पंत की ज़िप खोली और उसके अंडरवेर में हाथ डाल कर लंड बाहर निकाला. प्रतीक का लंड अनुज से तोड़ा बड़ा है, तो मैने उसको और जलाने के लिए प्रतीक के लंड पर किस किया, और मस्त लंड है ऐसा इशारा किया. अनुज तोड़ा नर्वस हो गया. प्रतीक भी मेरा रंडी-पाना देख कर मुस्कुरा रहा था.

प्रतीक: यार अनुज तेरी वाइफ बहुत मस्त है. कल रात से मेरे लंड की दीवानी हो गयी है. पूरी रात तबाद-तोड़ चुदाई की. गांद भी मस्त है. अपनी गांद मटका-मटका कर लंड लेती है.

अनुज: सही है. वो तो मैं देख ही रहा हू. उसको मेरे से ज़्यादा तेरा लंड पसंद आ गया है.

वैसे सेजल भी कम नही है. कल रात उसने भी मेरे लंड को आचे से चखा है. बोल रही थी तुम बहुत हार्ड चुदाई करते हो, तो उसको मज़ा नही आता. मेरे लंड से उसको बहुत मज़ा मिल रहा है. और मुझे तो सेजल की चुदाई करने बहुत मज़ा आया. वो भी बहुत चुड़क्कड़ है. मेरा लंड तो कल ऐसे चूसा है, की क्या बतौ यार. मज़ा ही आ गया.

अनुज और प्रतीक एक-दूसरे की बीवियों की बात करके जला रहे थे. अनुज की बात सुन कर मैने भी प्रतीक का लंड मूह में ले लिया और कभी लंड ही ना देखा हो ऐसे चूसने लगी. प्रतीक ने मेरे बाल पकड़ लिए और मेरे मूह की चुदाई करने लगा. मैने कुछ सेकेंड्स के लिए पूरा लंड मूह में रख कर निकाला. जब लंड बाहर निकला, तो थूक की बहुत बड़ी तार बनी और डोर जेया कर टूटी. फिर मैने प्रतीक की आँखों में देखा और मुस्कुराइ.

अनुज मेरा ऐसा रंडी-पाना देख कर खड़ा हुआ, और मेरे पास खड़ा हो कर मेरे बाल पकड़ कर मेरा मूह छोड़ने लगा. उसने एक बार तो पूरा लंड गले में रख दिया, और मूह पर फोर्स किया. मेरी आँखों से आँसू निकल गये, और उसने मेरी गांद पार 2-3 थप्पड़ मारे.

मेरी गांद पूरी लाल हो गयी. मैं समझ गयी की अनुज अब मेरे पर गुस्सा निकाल रहे थे. थोड़ी देर मेरे मूह की चुदाई के बाद लंड बाहर निकाला, और मुझे बेड पर लिटा दिया और पैर खड़े करके लंड छूट में पेल दिया.

अनुज: देख साली आज तुझे बताता हू मेरे लंड में भी कितनी ताक़त है.

वो लगातार मुझे छोड़ते रहे. मैने जब अनुज की और देखा तो वो मुझे गुस्से से देख रहे थे, और मेरी छूट फाड़ने पर तुले थे. मैं भी आ आ कर रही थी. सच काहु तो पति को जला कर चूड़ने में बहुत मज़ा आ रहा था. और वो दिन जो अनुज ने मेरी चुदाई की ऐसी उन्होने कभी नही की थी. मेरा पूरा शरीर तोड़ दिया था.

अब प्रतीक भी मेरे पास आए, और मुझे लीप किस करने लगे. अनुज का जोश बढ़ने के लिए मैने भी प्रतीक के लिप्स को चूसना शुरू कर दिया. प्रतीक एक हाथ से मेरे बूब्स दबा रहे थे, और एक से गर्दन सहला रहे थे. मैं तो चरम सुख की सीमा पर जाके झाड़ गयी. पर आज वो दोनो मर्द मेरी हालत खराब करने वाले थे. थोड़ी देर बाद अनुज ने लंड बाहर निकाला.

अनुज: प्रतीक अब तुम इस साली की चुदाई करो. आज इसकी सारी गर्मी निकाल देते है. छूट का भोंसड़ा बना डालो. तब तक छोड़ो जब तक उसकी छूट फटत नही जाती.

अनुज की बात सुन कर प्रतीक खुश हो गया, और होगा क्यूँ नही. मेरा पति जो उसको ऐसा करने बोल रहा था. मैं समझ गयी थी की प्रतीक ने अनुज को अपने बस में कर लिया था. दोनो के बीच कुछ तो चल रहा था. मैं भी सर्प्राइज़ थी की मेरा पति किसी के सामने इतना खुल नही सकता था. और मेरा इतना रंडी-पाना वो से रहा था. अब प्रतीक ने मेरी छूट में लंड पेल दिया. मुझे दर्द हो रहा था क्यूंकी मैं इतनी जल्द फिरसे चूड़ने को रेडी नही थी.

थोड़ी देर की चुदाई के बाद मेरी छूट गीली हो गयी और मैं मज़े से आ आ मोहक आवाज़े निकाल रही थी. प्रतीक ने मुझे खड़ा किया, और मुझे उसके लंड पर बिता दिया. मैं 10 मिनिट उसके लंड पर उछाल-उछाल कर चुड रही थी.

काव्या: आहह आह मज़ा आ रहा है. ऐसे ही छोड़ते रहो दोनो. आज मैं आप दोनो की रंडी हू. अनुज थॅंक योउ सो मच. थ्रीसम में बहुत मज़ा आ रहा है. अब से आप दोनो मुझे एक साथ छोड़ते रहना. आप दोनो की कुटिया बन कर चुड़ूँगी.

मुझे सच में इतना मज़ा आ रहा था. क्या बतौ दोस्तों. मेरी बात सुन कर अनुज का लंड फिरसे हरकत में आ गया. उन्होने सीधा लंड मेरे मूह में डाल दिया. अब मैं नीचे से मेरे पड़ोसी प्रतीक के लंड से चुड रही थी, और मूह में मेरे पति अनुज का लोड्‍ा चूस रही थी.

जब अनुज का लंड आचे से टाइट हो गया तब वो मेरे पीछे आ गये और मेरी गांद को उपर कर दिया. प्रतीक ने भी अपनी टांगे सही कर दी और अनुज को मेरी गांद मारने को जगह दी. अब अनुज ने मेरी गांद पर लंड सेट किया और एक ज़ोर से धक्का मारा. आधा लंड गांद में चला गया. मेरी चीख निकल गयी. एक साथ छूट और गांद में तनाव खिच गया. ये एक्सपीरियेन्स मैं आप से कैसे शेर करू? ऐसा मीठा दर्द उठा, की मैं तो उसके एहसास में झाड़ गयी.

अनुज ने थोड़ी देर ऐसे ही गांद मारने के बाद पूरा लंड गांद में उतार दिया. नीचे से मैं प्रतीक के मोटे लंड से चुड रही थी, और पीछे अनुज मेरी गांद को फाड़ने पर तुला था. ऐसे ही लगातार 1.5 घंटा मेरी छूट और गांद मारी. कभी सोलो आते तो कभी दोनो साथ में चुदाई करते.

दोनो ने सेक्स का टॅबलेट खा लिया था, और मेरी छूट और गांद का बुरा हाल कर दिया था. मुझे तो वो दोनो आचे से साँस भी नही लेने दे रहे थे. लास्ट में मैं घुटनो पर बैठ गयी, और एक रंडी की तरह बारी-बारी दोनो के लंड चूस रही थी. फिर मैने दोनो का स्पर्म पिया. मैं बातरूम गयी और फ्रेश हो कर दोनो के बीच में नंगी सो गयी.

अनुज: काव्या आज तो तूने कमाल कर दिया. मेरे साथ-साथ प्रतीक को भी खुश कर दिया. बहुत गर्मी है तुझमे.

प्रतीक: हा यार काव्या जैसी बीवी होना सब की किस्मत में नही है. काव्या के साथ जो मज़ा आया आज तक किसी में नही आया.

अनुज: सेजल भी तो मस्त है यार. उसकी गांद देख कर तो मेरे से अब कंट्रोल नही हो रहा. मैं तो बहुत टाइम से उसको छोड़ने के सपने देख रहा था.

प्रतीक ( हेस्ट हुए): अब सारे सपने पुर हो गये ना, किसी दिन उसको भी काव्या की तरह छोड़ेंगे. ये दोनो इतनी चुड़क्कड़ है मुझे तो अभी पता चला.

काव्या: ऐसा तगड़ा लंड मिल जाए तो कोई भी औरत चुड़क्कड़ बन जाएगी. वैसे तो हम दोनो को पूरी बिल्डिंग लाइन मार्टी है. मार्केट जाते है तो भी हमे घूरते रहते है. और वैसे भी आप दोनो की किस्मत अची है जो हम दोनो ये सब करने दे रही है. तुम दोनो को कुछ नया भी मिल रहा है और सारी बात हम चारो के बीच में है.

अनुज: ये सही कहा यार. अब हमे सेक्यूर सेक्स मिल रहा है. मैं सोच रहा हू कोई और भी ऐसे दोस्त मिल जाए तो मज़ा आ जाए. अपने को हमेशा नयी-नयी छूट मिलेगी. और इनको भी मज़ा मिलता रहेगा.

काव्या: अनुज ये कुछ ज़्यादा नही हो जाएगा? ( प्रतीक के गाल पर किस करते हुए) ऐसा भरोसे वाला और प्यारा दोस्त कहा मिलेगा ( मैने अनुज को दिखाते हुए प्रतीक को किस किया)?

अनुज: ढूंढ़ेंगे तो और भी मिल जाएँगे. ग्रूप जितना बड़ा होगा उतने पार्ट्नर्स चेंज करने को मिलेंगे.

प्रतीक: बात तो सही है. ऐसा हो गया तो हम सब की सेक्स लाइफ सेट है.

काव्या: अर्रे आप दोनो को हम दोनो कम पद रही है की और नयी-नयी भाभियाँ चाहिए? ( मैने प्रतीक को चिढ़ते हुए अनुज को हग कर दिया) जाओ आप यहा से सेजल के पास. अब मैं आपके साथ कुछ नही करूँगी. ( मैने साद फेस बना दिया, क्यूंकी मुझे प्रतीक को चिढ़ाना था)

प्रतीक: अर्रे ऐसा नही है डार्लिंग. आप दोनो तो बहुत मस्त हो. हम दोनो लकी है जो हमे आप दोनो जैसी ओपन माइंडेड बीवियाँ मिली है.

काव्या: ठीक है, अब हो गयी सुहग्रात. अब जाओ आप सेजल के पास. कल आप दोनो को अपनी ड्यूटी पर भी जाना है.

प्रतीक ने अपने कपड़े पहने, मुझे जाते-जाते अनुज के सामने लिप्स किस किया, और मिस योउ कहा. मैने भी रिप्लाइ में मिस योउ टू कहा. फिर जब प्रतीक अपने घर चला गया, अनुज ने मेरी तरफ देखा. मैं पूरी नंगी थी. मुझे प्रतीक के सामने अब ऐसे रहना कंफर्टबल हो गया था.

अनुज: क्या बात है आज अपने नये पति के साथ बहुत रोमॅन्स किया है. पुराने को भूल तो नही जाओगी ( अनुज मुझे चिढ़ा रहे थे)?

काव्या: क्या आप भी. वो तो मैं आपको जला रही थी. आपकी बहुत इचा थी ना मुझे कोई गैर मर्द आपके सामने छोड़े. तो आज देखो आपकी ये इक्चा भी पूरी हो गयी ( मैने अनुज के गले में मेरी दोनो बाहें डाली). अब तो खुश हो ना आप? आपकी खुशी के लिए कुछ भी करूँगी.

अनुज: सॅकी यार आज तो प्रतीक ने जो तेरी चुदाई की, देख कर मज़ा आ गया. काव्या अगर तुम रेडी हो तो मैने बहुत कुछ सोचा है.

फिर अनुज ने मुझे पूरा प्लान बताया. मैं तो सुन कर इतनी एग्ज़ाइटेड हो गयी, की फिरसे मेरी छूट में खुजली होने लगी. अनुज का लंड भी टाइट हो गया. फिर हमने एक रौंद और चुदाई की और फिर सो गये. नेक्स्ट दे मैं सेजल से दोपहर को मिलने गयी.

सेजल: अभी टाइम मिला मेरी जान को. प्रतीक तो बड़े खुश लग रहे थे. क्या जादू कर दिया?उसका चेहरा ही खिल गया था.

काव्या: ये तेरा मोबाइल पकड़, सब रेकॉर्डिंग है.

मैने और सेजल ने साथ में बैठ कर रेकॉर्डिंग देखी. मैं पहली बार मेरी चुदाई देख रही थी. देख कर मैं और सेजल बहुत हॉर्नी हो गये, और हमने एक-दूसरे को किस करना स्टार्ट कर दिया. सेजल के पीरियड्स थे तो और कुछ हुआ नही.

ऐसे ही मेरी और 5 रात चुदाई हुई. रोज़ रात मैं सेक्सी लुक में तैयार होती. वो दोनो तो मुझे देख कर पागल बन जाते थे. मुझे अब कपल सेक्स से ग्रूप सेक्स पसंद आने लगा. दोनो में इतना दूं था, की मेरी छूट को सूजा देते थे, और मेरी गांद का च्छेद भी बड़ा हो गया था. मेरी गांद थोड़ी और उभर गयी थी.

नेक्स्ट पार्ट में आपको आने वाले और ट्विस्ट के बारे में पता चलेगा. कहानी थोड़ी लंबी चलने वाली है. और भी काई लोग हमे जाय्न करेंगे. वो सब आपको धीरे-धीरे पता चलेगा. आपको स्टोरी अची लगी हो तो प्लीज़ कॉमेंट करे. और अपने दोस्तों से शेर करे. आप आपका फीडबॅक [email protected] पर मैल करे.

यह कहानी भी पड़े  सहेली और मुझे उसके भाई ने चोदा


error: Content is protected !!