देसी लड़कियो के साथ सामूहिक चुदाई

हेलो फ्रेंड्स वेलकम बॅक तो अनदर पार्ट. पिछली पार्ट में आप ने पढ़ा की कैसे हमारे रासलीला को बीच में भंग कर ने के लिए किसीने घंटी बजाई तो मैने दरवाज़ा खोला तो देखा की अजय था. में शॉक हो के उसे देख रहा था की वो अंदर घुसने लगा.

फिर में थोड़े हॉस में आके उसे पूछा अरे तू यहाँ? तो उसने कहा की वो इधर से गुजर रहा था तो रिया और रानी की गद्दी देखी तो चला आया. फिर वो सब के बारे में पूछने लगा तो मैने कहा सब बेडरूम में बैठे हुए है. और हम बेडरूम की और बढ़ने लगे. में उँची आवाज़ में बात कर रहा था ताकि लड़कियों को अजायज् में आ जाए की अजय आया हुआ है.

बेडरूम में घुस ते ही रिया ने उसे पूछा अरे तू यहाँ कैसे. और उसके पास आकर उसे सोफे पे बैठा दिया. रानी टीया और अर्पिता बेड पे ही बैठे हुए थे और में दूसरी साइड सोफे पे बैठ गया. रानी रिया और टीया बिल्कुल पसीने से लटपट थे और बेडशीट बिल्कुल ही बिखरा हुआ था.

यह सब देख कर अजय को तोड़ा डाउट हुआ.

अजय: कर्मा तो बिल्कुल ठंडा है पर तुम तीनो एसए पसीने से लटपट क्यूँ हो?रिया: अरे वो बिजली चली गयी थी अभी अभी आई है.

अजय: में बाहर से आइया अननोन मुझे इतना पसीना नहीं जितना की तुझे है. और यह बेड इतना बिखरा हुआ क्यूँ है?

रिया: अरे वो शादी की डिस्कशन कर रहे थे तो सब लोग बेड पे ही बैठे हुए थे. फिर भी अजय को बात हजम नहीं हुई. और वो इधर उधर की सबल करने लगा की कितने बजे आई हो, खाना खाया है की नहीं एट्सेटरा एट्सेटरा पर वो पूरे कमरे को स्कॅन कर रहा था.

फिर उसकी नज़र पड़ी मेरी स्टडी टेबल पे जहाँ पे रानी ने अपना फोन रखा था. ह्यूम भी नहीं पता था की वहाँ पे फोन क्या कर रहा था. जब अजय की नज़र पड़ी वहाँ पे तो रानी जल्दी से उठ के अपना फोन लाने चली गयी. अजय ने उसे फोन माँगा तो वो माना करने लगी. फिर अजय को और डाउट होने लगा.

क्यूँ की अजय के साथ यह लोग सब कुछ कर चुके थे जैसे की मेरे साथ किया था उसे और भी सक़ होने लगा. फिर अजय ने मुझे और रिया को बाहर बुलाया. तो हम तीनो बाहर आ गये और मैने टीया को भी बुला लिया. बाहर आके हॉल में रिया और टीया एक साइड सोफे पे बैठ गयी आयर में अजय सिंगल सीट सोफा पे.

अजय: क्या चल रा था सच सच बताना?

रिया: बोल तो रही हूँ की शादी की डिस्कशन चल रही है. फिर मैने और टीया ने एक दुसे को देखे तो टीया ने मुझे सर हिलाके बता देना का इशारा किया. फिर जब अजय ने मेरी तरफ देखा तो मैने डिसाइड किया की बता ही देता हूँ. वी से भी कुछ दीनो में तो होने ही वाला है.

मे: जो तू सोच रहा है वेसा ही है. पर मेरी पूरी बात सुन गुस्सा नहीं होना. अजय वहाँ से उठ के बालकोनी की और चलने लगा तो हम सब भी उसके पीछे पीछे आने लगे.

मे: अजय बात तो सुन मेरी. मैने रिया को टच भी नहीं किया है. नहीं करूँगा. जब तक तेरी मर्ज़ी ना हो कभी भी नहीं होगा. यह सब लोग टीया की और मेरी चुदाई देख रहे थे. इसके बाद तेरी और रिया की चुदाई देखने का प्लान है इन लोगो का.

अजय: क्या? यह सब क्या चल रहा है. अजय ऐसा दिखा रहा था जैसे की मुझे कुछ पता ना हो.

मे: भाई सुन मुझे सब पता है. उस दिन के बारे में जब यह छर्रों तुझे चूज़ करने के लिए बोले थे. मुझे भी बोले थे यह लोग.

अजय: (शॉक में) क्या बोल रहा है तू.

मे: भाई सुन मुझे पता है तुझे अर्पिता के मुममे पसंद है. और टीया को तू. तो ज़्यादा नाटक मत कर अब मॅन भी जा. और फिर टीया को मैने इशारा किया.

टीया: भाई मॅन भी जाओ ना. शादी तो होने ही वाली है. उसके बाद तो करने ही वेल थे तो अभी सिर्फ़ प्रॅक्टीस.

अजय: कितने तर्की हो सारे के सारे.

रिया: हन तुझे तो जैसे पता ही नहीं सेक्स के बारे में.

मे: अछा ठीक है चलो अब अंदर चलते हैं.

अजय: लेकिन रानी वो फोन क्यूँ छुपा रही थी? रेकॉर्ड कर रही थी क्या?

रिया: ह्यूम भी नहीं पता. एक काम करते हैं अंदर चल के उनको ऐसा दिखाते हैं की तुझे पता चला गया है और तू गुस्से में है. सब ने हन भारी और हम बेडरूम की और बढ़ने लगे. और अंदर जाते ही

अजय: यह क्या रणदीपना चला रहा है तुम लोगों का. अर्पिता तेरी तो शादी भी हो चुकी है. फिर भी यह सब कर रही है शरम नहीं आ रही तुझे?

अर्पिता: अछा जब हुमारे मुममे देख रहे थे तो तुम्हे शरम नहीं आई. यह तो उल्टा हो गया जो हुँने सोचा था. तो मैने तुर्रंत सब को शांत करने का लिए बहुत ज़ोर्से चीलाया तो सब शांत हो गये. तो मैने कहा: अब सब ठीक है रिया और रानी तुम लोग अजय के साथ लग जाओ और अर्पिता और टीया तो मेरे पास आ जाओ.

रानी: नहीं यह क्या बोल रहे हो. में और टीया आप के साथ रिया दी और अर्पिता दीदी आप के साथ.

मे: अगर किसिको कोई दिकाट नहीं तो मुझे भी कोई दिकाट नहीं है.

तो सब ने एक दूसरे को देखा और हन भर दिया.

फिर में रानी का हाथ एक हाथ से पकड़ा और टीया का हाथ एक हाथ से पकड़ा और बेड की और चल दिया ऐसा लग रहा था जैसे कोई रंडी खाना से रंडियन चुन के ला रहा हो. उधर अजय और वो दोनो भी सोफे पे जाके बैठ गये. मैने फिर दोनो को बेड पे बिता दिया और अपना पंद निकल ने लगा. तो टीया ने मुझे रोक लिया.

टीया: एक मीं रूको. रिया दीदी मेरे पास एक आइडिया है.

रिया: क्या?

टीया: क्यूँ ना इन दोनो को साथ में नंगा करें? जैसे हुँने इनको पर्फॉर्मेन्स दिया था यह भी ह्यूम देंगे.

रिया: सही आइडिया है याअर.

मे: क्या सही आइडिया है. ऐसा कुछ नहीं होने वाला. अजय तू कुछ बोल ना.

रिया ज़ोर ज़ोर से हासणे लगी. में शॉक में था. फिर अजय ने रिया का हाथ पकड़ के वापस सोफे पे बिता दिया.

मे: क्या हुआ?

अजय: एक मीं में इसे बात करता हूँ. और वो लोग वापस लिविंग रूम में चले गये. और हम सब एक दूसरे को देख रहे थे. फिर अर्पिता ने बोला: तुझे क्या दिकाट है. वेसए भी तो नंगे होने वेल हो तो अभी क्यूँ नहीं?

मे: अरे अजीब लग रहा है मुझे. बचपन से जनता हूँ में उसे उसके अजायने एक साथ नंगा होना अजीब लगेगा.

अर्पिता: कहीं तुझे यह तो दर नहीं की उसका लंड तोड़ा बड़ा है तुझसे?

मे: उस बात की मुझे कोई टेन्षन नहीं.

टीया: उनका बड़ा है पर पंनी तो आप निकलोगे सबका मुझे पता है.

रानी: हन भाई क्या दिकाट है. एक बार कार्लो हमारे खातिर. आप जो बोल रहे हो सब तो हो रहा है. एक बार हम लड़कियों के खातिर कार्लो.

मे: तुम लोग अजायज् नहीं रहे हो. दो लड़के कभी भी इतना कंफर्टबल नहीं हो सकते. वो अंजन होता तो बात अलग थी पर वो मेरा बचपन का दोस्त है.

टीया: तुम दोनो का एक सा ही अजयन है. इसमे दिकाट क्या है? अछा एक काम करना तुम दोनो एक दूसरे को पीठ कर के नंगे हो जाना.

मे: तुम अजायझह नहीं रही हो.

टीया: सुनो सीधा सीधा बोल रही हूँ कार्लो नहीं तो वो बलि बात बतादूँगा सबको.

मे: तुम पागल हो क्या?

रानी और अर्पिता: कौन सी बात?

मे: कुछ नहीं. इतने में रिया और अजय वापस आए रूम में.

रिया: अजय राज़ी है.

मे: क्या?

टीया: लगता है बताना ही पड़ेगा.

रिया: क्या?

मे: कुछ नहीं में भी राज़ी हूँ.

अब आयेज की कहानी अगली पार्ट में. तब तक के लिए हिलाते रहिए और स्वस्त रहिए.

यह कहानी भी पड़े  बीबियों की अदला बदली करके चुदाई की

error: Content is protected !!