पड़ोसन आंटी और उनकी 18 साल की ननद

Padosan aunty or jawan nanad ki chudai बात उस समय की है जब मैं ग्रॅजुयेशन पार्ट-1 मे था. हमारे घर के सामने वाला घर खाली था और उसमे 2 मंत्स पहले ही नये किरायेदार आए थे सिंधी फॅमिली थी. उनके घर मे 4 मेंबर थे हज़्बेंड वाइफ 10 साल का लड़का और अंकल की 1 बहन जो 18 साल की थी.

आंटी के बारे मे आप लोगो को बता दूं वो 30-32 साल की भरे सरीर की और बहुत गोरी थी. उनका साइज़ 38-28-42 , हाइट 5 फीट 5 इंच. उनकी चुचियाँ क्या मस्त थी और चूतड़ , जब वो चलती तो कयामत लगती थी. दिल करता था कि उनकी गांद की दरारो मे लंड को 24 घंटे डाला ही रहू.

और उनकी नंद वो तो सेक्स बॉम्ब थी.. उसका नाम एसा था जो 17 साल की मस्त जवान कुड़ी. जिसको देख कर भगवान का भी लंड खड़ा हो जाए फिर तो मैं आम इंसान हूँ. उसकी साइज़ 34-24-40 थी.

कुछ 1 महीने मे ही हमारे घर के साथ उनका रीलेशन अछा हो गया था काफ़ी आना जाना लगता रहता था आंटी का .तो एक दिन की बात है मम्मी को लेग्स पे दर्द हो रहा था और मे ऑफीस मे था वो बगल वाली आंटी हमारे घर आई तो देखा कि मम्मी को बोहोत पेन हो रहा है तो उन्होने मम्मी को इयोडीक्स से मालिश किया थोड़ा देरी के लिए मम्मी को रिलीफ मिला और आंटी भी वही बैठी हुई थी ……..

मेरा भी उस दिन कोई ज़्यादा काम नही था और मैने भी जल्दी घर चला गया था तो आंटी बोली कि मम्मी को लेग मे पेन हो रही है तो मैने मम्मी को कहा लाओ मे मालिश कर देता हूँ और मैने मालिश कर दी और थोड़ा देरी में मम्मी को रिलीफ मिल गया तो आंटी ने कहा वाह अर्णब क्या मालिश करते हो इतना जल्दी आराम मिल गया.तो मम्मी बोली अर्णब हम लोग के फॅमिली मे फेमस है मालिश के लिए इसका हाथ मे जादू है तब आंटी ने कहा चलो कभी मेरे को पेन हुआ तो आप ही मालिश कर देना तो मैने हां मे हां मिला दिया.

यह कहानी भी पड़े  दिवाली के अवसर पर घर में हुई सामूहिक चुदाई

आप लोगो को आंटी के बारे मे बताना तो भूल ही गया हू लेडी क्या लेडी है उनको कोई देखे तो कोई नही बोल सकता कि उनकी एज 32 से उपर है क्या फिगर को मेनटेन कर के रखा है उनका फिगर है 38-28-42 माशा अल्लाह, देखते ही लंड खड़ा हो जाता है. कई बार तो मैने उनकी नाम का मूठ मारता हूँ. फिर कुछ दिन ऐसे ही चल रहा था कि एक दिन घर के सब मेंबर देल्ही गये हुए थे शादी मे तो मम्मी उन्हे ही मेरा ध्यान रखने को कह गयी थी आंड मम्मी लोग 15 दिन के लिए गये थे तो सुबह आंटी ही चाइ लाके देती और रात को मॅग्ज़िमम बार वाहा पे खाना खा लिया करता , एक दिन मैं ऑफीस नही गया मेरी तबीयत थोड़ी खराब थी 11 बजे आंटी और बोली क्या हुआ तुमको आज ऑफीस नही गये तो मैने कहा कि नही अच्छा फील नही हो रहा है तो आंटी ने भी कहा मेरे भी शरीर पेन हो रहा है तो मैने आंटी से कहा आप पेन किल्लर ले लो तो आंटी ने कहा लिया पर रिलीफ नही मिल रही है कल रात से पेन हो रहा है

तभी अचानक से आंटी बोली में तो भूल ही गयी थी कि तू तो इतना अच्छा मालिश करता है मैं बेकार मे पेन मे मर रही हूँ. मैं भी यही चाहता था, फिर मैने कहा ठीक है मैं कर देता हूँ फिर मैने पूछा आंटी पेन कहा हो रहा है तो आंटी बोली पूरी बॉडी मे और आंटी उस टाइम सारी पहन रखी थी तो मैने कहा मेरे घर पे करू या आप के, तभी आंटी ने कहा तुम्हारे घर पे मैने कहा ठीक है आप चेंज कर आओ.

यह कहानी भी पड़े  दो लंडो का स्वाद अपनी ही चुत मे

फिर आंटी अपने घर गयी और नाइटी पहन के आ गयी में तो बरमूडा मे था और टी-शर्ट पहन रखी थी मैने नीचे चटाई बिछाई और आंटी को कहा लेट जाओ फिर मैने तेल की बॉटल निकाली पाओ से स्टार्ट हो गया उनकी नाइटी को घुटनो तक कर दिया क्या लेग था उनका देखते ही मेरा लंड एक दम टाइट हो गया जैसे पेंट से भर निकल जाए तभी मैने आंटी से कहा आप पेटिकोट खोल दो नही तो तैल लग जाएगा और आंटी ने नाइटी उठा कर पेटिकोट खोल दिया, उनकी गोरी और चिकनी जांघे मेरे सामने थी.

फिर मैं मालिश करते करते उनके जाँघो तक पहुँच गया तब वो सिसकारी भरने लगी तो मैने पूछा क्या हुआ आंटी ने कुछ नही कहा फिर मैने आंटी की नाइटी को ब्रा तक उठा दिया, वो कुछ भी नही बोली. नीचे उन्होने ब्लॅक कर की पॅंटी पहनी हुई थी और उनकी पॅंटी भी गीली हो चुकी थी और मेरा हाल तो बहाल हो गया था जब में पेट की मालिश कर रहा था तब कई बार उनकी पॅंटी के अंदर भी हाथ डाल दिया तब वो और सिसकारी भरने लगी.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!