पड़ोस मे रहने आई कमसिन भाभी की चुदाई

बात 14 महीने पहले की है। हमारा घर दिल्ली में है, लेकिन मैं नॉएडा में जॉब करता हूँ। यहाँ मेरा एक 3 कमरे का फ्लैट है, जहाँ मैं परिवार के साथ रहता था।
सबको मेरा सादर नमस्कार। मेरा नाम अमित है, उम्र 27 साल, लम्बाई 5’11”, वजन 70 किलो के लगभग होगा। मैं एक विवाहित व्यक्ति हूँ, दिल्ली का रहने वाला हूँ।
बड़े घर में अपनी बीवी के साथ मैंने 1 बेडरूम छोड़ कर बाक़ी घर किराए पर दे दिया है।

मेरे पापा रिटायर होने के बाद गाँव चले गए, उनके साथ ही मेरा छोटा भाई भी चला गया था। अब मैं और मेरी बीवी ही रह रहे थे।
एक परिवार किराए से रहने आया, जिसमें पति पत्नी और एक बच्चा थे।
पति राजीव करीब 32 साल, वजन 65 किलो, ऊँचाई 5 फिट 4 इंच सांवले रंग का व्यक्ति एचसीएल में काम करता था।

बच्चा पहली कक्षा में पढ़ता था और बीवी का नाम रश्मि, जिसकी उम्र 27 एकदम गोरा रंग पतली कमर उभरा हुआ 36 साइज़ का सीना, काले नागिन से लम्बे बाल जो उसके नितम्बों तक लहराते थे।
रश्मि हाउस-वाइफ थी।
हम-उम्र होने के कारण हम सब लोग आपस में जल्दी घुल-मिल गए।

उन्हीं दिनों मेरी बीवी ने मुझसे अपने मायके जाने की इच्छा जताई।
मैंने भी अगले दिन स्टेशन तक उसको छोड़ कर उसको विदा किया।

मेरे जॉब में मुझे शनिवार को छुट्टी मिलती है जबकि राजीव को रविवार को ही छुट्टी मिलती थी।
शनिवार को छुट्टी होने से मैं सारा दिन घर में रश्मि के साथ रहता था।
रश्मि काफी अच्छी स्वभाव थी… किसी को कुछ देखने नहीं देती। मेरा उसके साथ रिश्ता मित्रवत था।

एक दिन जब वो नहा रही थी तो जोर से चिल्लाने की आवाज सुनाई पड़ी।
घर में राजीव नहीं था तो मैंने बाथरूम के पास जाकर पूछा- क्या हुआ?
कुछ जवाब नहीं आया। 5 मिनट इंतज़ार किया फिर भी कुछ नहीं।

यह कहानी भी पड़े  शादी के 7 साल बाद भी कुँवारी

फिर मैंने लॉक तोड़ दिया और अन्दर घुस गया तो देखा रश्मि को गीज़र से इलेक्ट्रिक झटका लगा है और वो बेहोश हो कर नीचे पड़ी है।
उस वक़्त वो सिर्फ टॉवेल में थी और एक स्तन बाहर निकला हुआ था।

मैं घबरा गया और उसको उठा कर बेड पर लेटा कर कम्बल उढ़ा दिया। फिर डॉक्टर और राजीव को बुलाया। दो-तीन दिन में वो बिल्कुल ठीक हो गई।
क्यूंकि मैंने उसकी जान बचाई थी इसलिए राजीव और रश्मि मुझसे बहुत खुश थे।

लेकिन जब से मैंने उसका स्तन देखा था मेरी रातों की नींद उड़ गई थी।
मैं उसी के सपने देखने लगा और सोचने लगा कि कैसे उसके साथ सम्भोग करूँ।

अगले शनिवार मैं जब घर मैं था उस दिन वो सारा दिन नाइटी में थी और अन्दर में कुछ नहीं पहना था। मेरी नज़र बार-बार उसके मम्मों पर जा रही थी।
उसने यह बात नोटिस कर ली और बोली- यह सब ठीक नहीं है।

मैंने ‘सॉरी’ बोला और कहा- जब से तुम्हें बाथरूम में नंगा देखा है तभी से मुझसे कण्ट्रोल नहीं हो रहा है।
वो हड़बड़ा गई और उठ कर चली गई।

मैं समझ गया कि इसको चोदना आसान नहीं है।
फिर मैंने एक योजना बनाई और उससे पहले जैसा बर्ताव करने लगा।

कुछ दिन बाद वो भी फिर से मेरे साथ फ्री होकर मिलने लगी।
तभी राजीव को कंपनी से 15 दिन ट्रेनिंग के लिए बैंगलोर जाना पड़ा। मैं समझ गया के यही अच्छा मौका है..!

फिर मैंने मेरे एक केमिस्ट दोस्त से पूछ कर महिलाओं के लिए काम-उत्तेजक दवाई लाया और आइस-क्रीम में मिला कर उसको खिला दिया।
रात 10 बजने के बाद बच्चा भी सो गया और वो भी सोने के लिए बेडरूम में चली गई।
दवा ने अपना काम करना शुरू कर दिया.. तो वो सो नहीं पाई।

यह कहानी भी पड़े  मेरी और आंटी की सेक्स कहानी

फिर 11.30 को मैंने दरवाजा खटखटाया और उसको कहा- फ़िल्टर में पानी नहीं है.. क्या तुम किचन से मुझे पानी दे सकती हो?
तो वो रूम से बाहर आई और किचन में गई। मैं भी उसके पीछे किचन में गया।

जब वो झुक कर फ़िल्टर से पानी निकाल रही थी, तभी मैंने उसे पीछे से दबोच लिया। वो गुस्सा हो गई और पलट कर एक थप्पड़ लगा दिया। मैंने बुरा न मानते हुए उसको जोर से पकड़ा और होंठ पर चुम्बन करने लगा…!

उसने अपने सारे नाखून मेरे पीठ में गड़ा दिए। लेकिन मैंने उसको नहीं छोड़ा और चुम्बन करता गया। करीब 5 मिनट बाद उसने विरोध करना बंद कर दिया।
मैं समझ गया कि मुझे ग्रीन सिग्नल मिल गया है।
तभी मैं उसको गोद में उठाकर अपने रूम में ले गया और बेड पर उसे लेटा दिया।
फिर मैंने दरवाजा अन्दर से बंद कर दिया।

वो बहुत डर गई थी और बोली- मुझे छोड़ दो।
मैं बोला- डरो मत मैं तुम्हें कुछ नहीं करूँगा सिर्फ दो चुम्बन करूँगा।
वो चुप हो गई। मैं बेड पर बैठा, उसके हाथ को अपने हाथ में रखा और चुम्बन किया।
वो कुछ नहीं बोली।

फिर मैं उसकी साड़ी से खेलने लगा और धीरे-धीरे चूमते हुए ऊपर बढ़ने लगा, कंधे तक पहुँच गया…!
गले को चूमा, फिर से होंठ को चूमा, उसके पूरे चेहरे को चूमा और हेयर रिबन खोल दिया…
हेयर रिबन खोलने के बाद वो एक अप्सरा की तरह दिख रही थी। उसके बाल बहुत लम्बे और घने थे।

Pages: 1 2 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!