पडोसी की लड़की को गन्ने के खेत में चोदा

नमस्कार दोस्तों कैसे हो आप लोग | आशा करता हूँ की ठीक ही होगे | तो चलिए दोस्तों मैं अपने जीवन की एकदम सच्ची कहानी आप लोगो को बताने जा रहा हूँ | मेरा नाम अनुज मिश्र है | मैं लखीमपुर खीरी उत्तर प्रदेश का रहने वाला हूँ | मैं अभी 12में पढता हूँ | मेरा परिवार एक छोटा परिवार है मेरे घर में मेरे मम्मी-पापा और एक छोटा भाई है | पापा मेरे खेती करते है और मम्मी हाउसवाइफ है | छोटा भाई अभी 5 साल का है तथा 1 क्लास में पढता है | चलिए मैं अपनी इस परिचय कहानी को आगे ज्यादा न बढ़ा कर सीधा आप लोगो को कहानी की ओर ले चलता हूँ |

दोस्तों ये बात उस समय की है जब मेरे पापा ने मेरा एड्मीसन शहर के स्कूल में करवा दिया था | क्योकि मेरी पढाई गावं के स्कूल में पूरी हो गयी थी | मैं स्कूलवेन से अपने गावं से शहरअपने स्कूल के लिए आया करता था | स्कूल वेन हमारे घर सुबह 6 बजे जल्दी ही आ जाया करती थी | हम सभी जल्दी उठकर स्कूल के लिए तैयार होते थे | हम लोग स्कूल जाते समय वैन में खूब मस्ती किआ करते थे | लगभग 8-9 महीने हो गये फिर हमारे गावं में बाढ़ आ गयी थी| औरशहर से गावं आने वाले रास्ते भी बंद हो गये थे| बाढ़का पानी बहुत था और रास्तो पर बह रहा था | क्योकि भाइयो मेरा गावं नदी के किनारे बसा था |

लगभग 1 महीने तक बाढ़ का पानी रास्तो पर भरा रहा और हम लोग अपने स्कूल को नही जा पाए | हमरे एनुअल एग्जाम भी होने वाले थे| और बाढ़ अभी तक नही ख़त्म हुई थी | धीरे-धीरे हमारे एनुअल एग्जाम आ गये और बाढ़ का पानी इतना था की पूँछो न | कोई भी रास्ता शहर जाने को नही था| और फिर हमरे एनुअल एक्साम हो गये और हमारा वह साल खराब हो गया | दोस्तों मैं उस दिन अपने कमरे में बहुत रोया था | मैंने 3 दिन तक खाना नही खाया था |फिर मैंरे पापा ने हमारी पढाई करने के लिए शहर में एक अच्छा सा मकान खरीद लिया | औरअब हम सभी वहीँ रहने लगे | और इस बार मेरे पापा ने मेरा एडमिशन शहर के सबसे अच्छे स्कूल में करवा दिया था | और वह स्कूल मेरे घर के एक दम करीब था |

यह कहानी भी पड़े  पड़ोसन लड़की की चुदाई

और मैं अपने स्कूल पेदल ही जाता था | दोस्तों वह स्कूल उस शहर के टॉप स्कूलों में से एक था |जिसमे मेरे पापा ने मेरा एडमिशन करवाया था | मैं अपने स्कूल जाने लगा | धीरे-धीरे मेरे दोस्त भी मन गये | अब हम अपने स्कूल में खूब मस्ती करते थे | औरछुट्टी के बाद हम मैथ की कोचिंग करते थे और फिर हम सब अपने-अपने घर को जाते थे | धीरे-धीरे अपने मोहल्ले में भी जान पहचान हो गयी थी | मैं छुट्टी के बाद अपने मोहल्ले के दोस्तों के साथ खेला करता था | और खूब मस्ती करता था | और सन्डे को मैं कभी-कभी अपने स्कूल चला जाया करता था अपने हॉस्टल के दोस्तों के साथ खेलने या तो फिर मोहल्ले के दोस्तों के साथ प्लाई बोर्ड की फील्ड में क्रिकेट खेलने चला जाया करता था | दोस्तों गावं से शहर में आके जिन्दगी एक दम मस्ती से कट रही थी | हम कभी-कभी अपने गावं भी जाया करते था टहलने के लिए | और शाम को पापा के साथ चले आया करते थे |

दोस्तों एक दिन स्कूल में छुट्टी थी और मैं अपने मोहल्ले में दोस्तों के साथ क्रिसी-विभाग की फील्ड में बैठा था बैठा था | और इधर-उधर की बाते कर रहे थे | लगभग सब लोग अपनी-अपनी गर्लफ्रेंड के बारे बाते कर रहे | जो हमारे दोस्त थे सालोसब ने 2-3 लडकिया सेट कर रख्खी थी | वहां सिर्फ मैं ही था जिसके पास गर्लफ्रेंड नही थी | मैं अपने दोस्तों की बाते सुन-सुन कर अबमेरा भी मन कर रहा था किमेरी भी एक गर्लफ्रेंड हो | मैं भी उसे डेट पर ले जाऊ घूमू-तह्लूँ ऐश करू | एक दिन मेरा दोस्त मेरे पास आया और बोला की भाई मुझे तेरी और तेरी गाडी की जरुरत है | मैंनेपूंछा की भाई आखिर जाना कहाँ है | उसने मुझे पूरी बात बताई |

यह कहानी भी पड़े  पड़ोसन देसी गर्ल को अन्तर्वासना सेक्स स्टोरी पढ़वाई

दराअसल वह एक लड़की को चोदने के लिए ले जाना चाहता था | और उसे एक साथी और गाडी की जरुरत थी | मैंने कहा की ठीक है हम थोड़ी देर मै हम निकलते है | दोस्तों हम शहर से बाहर जंगल में राजा का महल बना था अब वहां कोई भी नही ज्यादा नही जाता | हम लोग अपनी गाडी से वहीँ गये | जब हम लोग वहां पहुंचे तो मेरे दोस्त ने उस लडकीको साइड में ले जाके चोदने के लिए चला गया और मैं वहीँ अपनी गाडी के पास खड़ा होकर सिगरेट पिने लगा | वे लोग जब चुदाई कर रहे थे | तब उन लोगो के मुह से आह आह ओह्ह ओह्ह ओह्ह ओह्ह ओह्ह ओंह उन्ह उह उह उह हां उन्ह उन्ह उन्ह अहह ओह्ह इह्ह इह इह्ह ओह्ह ओह्ह ओह्ह उह्ह उह्ह उह्ह आह आह की जोर-जोर से सिस्कारिया आ रही थी | दोस्तों मेरा भी मन चोदने को कर रहा था | लेकिन अफशोस मेरे पास कोई माल नही था | उन दोनों की आवाजे सुनकर मेरा भी लंड खड़ा हो गया वो मैं अपने आप को रोक न सका और साइड में आके मुठ मार दिया | इस तरह से मैंने भी अपनी गर्मी वहीँ निकाल दी |

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!