मेरे पड़ोस की पर्दानशीं लड़की ने मुझ पर भरोसा किया

वादे के मुताबिक वो दस मिनट में ही पहुँच गई, वैसी ही ढकी मुंदी थी जैसे हमेशा दिखती थी।
खुद से ही पास आई और बाइक पे बैठते हुए बोली- लोहिया पार्क चलो।
मैंने आदेश का पालन किया और थोड़ी देर बाद हम लोहिया पार्क के एक कोने में घास पर बैठे थे।
‘मैं कुछ कहूँ, उससे पहले एक वादा करो कि कभी मेरे इश्क़ में मुब्तिला नहीं होगे। समझो कि मैं चाँद हूँ जो इत्तेफ़ाक़ से कुछ वक़्त के लिए तुम्हारे साथ हूँ पर तुम हासिल करने के बारे में सोचोगे भी नहीं!’
‘मैंने पहले ही कहा था कि मैं अपनी लिमिट जानता हूँ और इस बात के बावजूद कि तुम मेरे साथ इस पार्क में प्रेमिका की तरह बैठी हो मैं इस खुशफहमी में मुब्तिला नहीं कि तुम मेरे इश्क़ में पगला गई हो। बल्कि समझ रहा हूँ कि शायद तुम्हें कुछ काम है, शायद तुम्हें कुछ वक़्त के लिए ऐसे पुरुष साथी की ज़रुरत है जिससे तुम अपने मन की वे बातें शेयर कर सको जो अपनी सहेलियों से या कर नहीं पाती या करने से संतुष्टि नहीं महसूस करती।’
‘यही तुम्हारे सवाल का जवाब है कि तुम्हें लेकर मैं सोचती थी कि तुम एक मैच्योर शख्स की तरह मुझे समझोगे, न कि मेरी नज़दीकी हासिल होते ही जवां लौंडों की तरह पगला जाओगे।’
‘ठीक है, अब कहो।’
‘मेरी एक बड़ी बहन है जो शादीशुदा है, दुबई में रहती है। शायद मुझसे भी ज्यादा खूबसूरत। वो मुझसे बड़ी है, मैंने बचपन से ही उन्हें देखा समझा… जब छोटी सी थीं तभी से पढाई के साथ घर की ज़िम्मेदारी लाद ली और पर्देदारी ऐसी कि खुले में जा भी न सकें, खुल के हंस बोल भी न सकें। हमेशा पाबंदियों में जीना, लड़कों के साथ घूमना फिरना तो दूर, बात तक करना दूभर…
अम्मी अब्बू दोनों ही पुराने ख़यालात के हैं, उन्हें लगता है कि हमारा किसी लड़के से बोलना भी हमारी बदनामी का सबब बन जायेगा।
मैंने नहीं देखा कि कभी उन्होंने ज़िन्दगी अपने तरीके, अपने अंदाज़ में जी हो… हमेशा सबकी उम्मीदों को पूरा करते जवान हुईं और फिर शादी और उसके बाद वही सब अपने शौहर के लिए। वही पर्देदारी, वही पाबंदियाँ, वही एकरसता से भरी बोरिंग ज़िन्दगी।
मैं भी वही ज़िन्दगी जी रही हूँ और मेरा अंजाम भी वही होना है लेकिन मैं तो पुराने ज़माने की नहीं। अपने साथ की लड़कियों को देखती हूँ जिनमें कई मेरे मजहब ही हैं लेकिन उन पर तो ये पाबंदियाँ नहीं। वे पढ़ती हैं, खेलती हैं, पार्कों, माल में मौजमस्ती करती हैं, थिएटर में फिल्म देखती हैं, लड़कों के साथ भी घूमती हैं और उनकी शादी भी हुई तो अपने शौहर के साथ भी वही ज़िंदगी। कहीं कोई रोक टोक नहीं। कहीं किसी की बदनामी नहीं हुई जा रही, किसी के खानदान पर आंच नहीं आई जा रही।
यह सब देख कर खटकता है, किसी कमी का एहसास होता है, मन में बगावत पैदा होती है। आज जो मैंने तुम्हें आज़माने के लिए ‘शो’ दिखाया वो मेरी आज़माइश भी थी, अपनी बगावत को आज़माने की, अपनी जुर्रत को देखने की कि क्या कुछ वक़्त के लिए सही पर मैं उन बेड़ियों को तोड़ सकती हूँ जो मेरे पैरों में वालदैन ने डाल रखी हैं, मज़हब और रिवाज़ों ने डाल रखी हैं।’
‘चलो, हम दोनों आज़माइश में कामयाब रहे… अब?’
‘मुझे मेरा अंजाम पता है। वही एक जैसी बोरिंग, एकरसता से भरी ज़िन्दगी जीते आई हूँ और बी एस सी करते ही मेरी शादी करने का प्लान है यानि शौहर के घर जाकर इसी सिलसिले को कंटिन्यू करना है। दिन भर घर के काम, ससुराल वालों की उम्मीदें पूरी करो, रात में शौहर की भूख मिटाओ, फिर बच्चे पैदा करो, उन्हें बड़ा करने में खुद को खपा दो। बस।
पर इस सबके बीच मैं कुछ दिन अपने लिए जीना चाहती हूँ। वो सब करना चाहती हूँ जो बाकी लड़कियाँ करती हैं। खुद को आज़ाद महसूस करना चाहती हूँ- वालदैन से, रिवाज़ों से, मज़हब से।
कुछ दिन के लिए मैं वो ज़िन्दगी जीना चाहती हूँ जो मैं अपने बुढ़ापे तक याद रखूँ!’
‘कैसे?’
‘घर के लोग गाँव गए हैं। वहाँ मामू रहते हैं जिनके आखिरी बेटे की शादी है इसलिए इतने दिन रुकने का प्रोग्राम बना। मेरे बाकी रिश्तेदार यहीं लखनऊ में रहते हैं इसलिए इस शादी के बाद कोई ऐसा मौका नहीं बनने वाला कि मुझे यूँ आज़ाद होने का मौका मिले।
सब लोग संडे रात तक आएंगे… यानि हमारे पास पूरे सात दिन हैं और इन सात दिनों में मैं जी लेना चाहती हूँ। पिछले तीन महीने से मुझे पता था कि ऐसी नौबत आने वाली है और मैं कोई ऐसा ही साथी चाहती थी जो ये वक़्त मेरे साथ मेरे तरीके से तो गुज़ारे मगर आगे मेरे लिए प्रॉब्लम न बने क्योंकि मैं इश्क़ नहीं कर सकती और न सेक्स।
मेरा कौमार्य मेरे शौहर की अमानत है और अपनी ज़िन्दगी जीते हुए भी मैं इतनी ईमानदारी तो ज़रूर निभाऊंगी कि मुझे उस इंसान के सामने शर्मिंदा न होना पड़े जिसके साथ मुझे पूरी ज़िन्दगी गुज़ारनी है।
मुझे तुममे यह उम्मीद नज़र आती थी कि जो मैं चाहती हूँ शायद तुम उसमे काम आ सको और देखो मेरी उम्मीद गलत नहीं साबित हुई।’
‘मतलब यह कि ये सात दिन तुम उन आज़ाद लड़कियों की ज़िन्दगी जीना चाहती हो जिन्हें अपने आसपास देखती आई हो!’
‘हाँ।’
‘पर वे सिर्फ पार्कों, मॉल में ही नहीं जाती, लड़कों के साथ बाइक पे बैठ के टहलती, फिल्में ही नहीं देखती बल्कि निजी पलों में फिज़िकल भी होती हैं, न सिर्फ हगिंग, किसिंग बल्कि सहवास भी!’
‘हम भी वो सब करेंगे, सिर्फ एक चीज़ इंटरकोर्स को छोड़ कर। पर प्लीज, तुम कोई अटैचमेंट नहीं पालना वर्ना हम दोनों को ही तकलीफ होगी।’
‘नहीं, मैंने दिमाग में बिठा लिया है कि यह एक स्क्रिप्टेड शो है और चौबीस घंटे हमारे आगे पीछे कैमरे चल रहे हैं और हम बस एक्टिंग कर रहे हैं। खुश?’
‘खुश!’ उसके चेहरे पर इस घड़ी बच्चों जैसी ख़ुशी दिखाई दी जिसे उसका मनपसंद खिलौना मिल गया हो।
वो खुश थी तो मैं खुश था, इस हकीकत को समझने के बावजूद कि जैसा वह सोच रही थी वैसा नहीं होने वाला था।
कोई जोड़ा जो इतने क्लोज़ आये कि उनमें फिज़िकल एक्टिविटीज भी हों और वो भावनात्मक रूप से अटैच न हो, ऐसा मेरे जैसे मैच्योर, तजुर्बेकार शख्स के लिए तो किसी हद तक संभव भी था जिसके नीचे से पहले भी कई लड़कियाँ गुज़र चुकी हों लेकिन उसके जैसी कम उम्र की, नई नई जवान हुई लड़की के लिए नामुमकिन था- पर उसे ऐसा जाता कर मैं अपना काम नहीं बिगड़ना चाहता था।
हाँ, उसे इस बात का अहसास ज़रूर था कि फिज़िकल होने वाले कमज़ोर पलों में वह बहक सकती थी इसीलिए उसने मेरे जैसे ज्यादा उम्र के और तजुर्बेकार शख्स को इस अनुभव के लिए चुना था जो ऐसी किसी हालत में न सिर्फ खुद को सम्भाल सके बल्कि उसे भी बहकने से रोक सके।
यहाँ मैं ज़रूर उसकी अपेक्षाओं पर पूरा उतरने के लिए तैयार था।
‘तो चलो शुरू करते हैं- नए रोमांच की पहली घड़ी… मेरे लिए!’
मैं उसकी शक्ल देखने लगा।
‘एक मर्द का पहला स्पर्श!’ कहते हुए उसकी आवाज़ में अजीब सी उत्तेजना थी।
‘क्यों? पहले किसी को स्पर्श नहीं किया क्या?’
‘अरे वो स्पर्श अलग था… यहाँ बात और है।’
मैंने उसके हाथ थाम लिए और भरी भरी कलाइयाँ सहलाने लगा।
उसने इस पहले सेक्सुअल स्पर्श को अनुभव करने के लिए आँखें बंद कर ली थीं।
उसकी सिहरन मैं अपनी हथेलियों में महसूस कर सकता था।
मैंने कलाइयों को सहलाते हुए अपने हाथ उसकी मखमली बाहों से गुज़ारते हुए उसके गोरे गोरे गालों तक ले आया।
वह काँप सी गई।
मैं अपना चेहरा उसके चेहरे के पास ले आया कि मेरी साँसें उसके चेहरे से टकराने लगीं।
मैंने अपने होंठ उसके माथे से टिका दिए…
उसके जिस्म में एक लहर सी फिर गुज़र गई।
हालाँकि एक तरह से ये एक्टिंग थी, नकलीपन था मगर फिर भी वो अपना मज़ा ले रही थी और मैं अपना मज़ा ले रहा था।
फिर उसने मुझे परे धकेल दिया।
‘अजीब सा लग रहा था… बेचैनी सी पैदा हो रही थी। पूरे जिस्म में सनसनाहट सी होने लगी थी।’ उसने कुछ झेंपे झेंपे अंदाज़ में कहा।
‘अच्छा या बुरा?’ मैंने शरारत भरे स्वर में कहा।
‘चलो फन चलते हैं। मुझे कुछ शॉपिंग करनी है।’ मेरी बात काट कर उसने अपनी बात कही।
कुछ कहने के बजाय मैं उठ खड़ा हुआ।
फन मॉल सड़क के उस ओर ही था…
हम वहाँ आ गए जहाँ घंटे भर की छंटाई के बाद उसने एक जीन्स और एक टी-शर्ट ली।
इसके बाद उसने सहारा गंज चलने को कहा और हम वहाँ से रुखसत हो गए।
वही से वाया बटलर रोड, अशोक मार्ग होते सहारा गंज ले आया।
यहाँ भी उसने घंटे भर की मगज़मारी के बाद बिग बाजार और पैंटालून से एक एक जीन्स और टॉप खरीदा।
तब तक कुछ भूख भी लग आई थी तो हमने वहीं ऊपर रेस्टॉरेंट से पिज़्ज़ा खाये और इसके बाद उसकी मर्ज़ी के मुताबिक मैं उसे बड़े इमामबाड़े ले आया जहाँ काफी देर इधर उधर घूमते, बकैती करते वक़्त गुज़ारा और फिर सामान, चप्पल देखने वाले को पकड़ा कर बाउली और भुलभुलइयाँ की तरफ चले आये।
वहाँ कई कम रोशनी वाले कोनों में ऐसे जोड़े दिखे जो लिपटे चिपटे चूमाचाटी में मस्त थे और जिन्हे देख कर उसकी आरजुएँ भी सर उठाने लगीं थीं।
अतएव वह मुझे एक दर में खींच लाई।
‘देखो, मैं नहीं चाहती कि मैं सबकुछ अपने मुंह से कहूं। मैं चाहती हूँ कि तुम खुद से समझो कि मेरी उम्र की लड़की की क्या इच्छाएँ होती हैं। तुम्हें जो लगे करो… मेरी सिर्फ एक शर्त है कि मेरी वर्जिनिटी नहीं डिस्ट्रॉय होनी चाहिए वर्ना पूरी उम्र पछताऊँगी कि मैंने ऐसा कदम क्यों उठाया। इसके सिवा तुम्हें सबकुछ करने की इज़ाज़त है।’
उसने मेरी आँखों में देखते हुए कहा।
अब अंधे को क्या चाहिये… दो आँखें ही न!
मैंने खड़े खड़े उसे पीछे की दीवार से सटाते हुए अपनी बाँहों में बाहर लिया।
वह काँप सी गई।
ज़ाहिर है कि किसी मर्द के इतने पास आने का उसके लिए यह पहला मौका था।
मैं उसकी आँखें में झांकते हुए अपना चेहरा उसके चेहरे के इतनी पास ले आया कि हमारी साँसें एक दूसरे से टकराने लगीं।
‘इस बार मत धकेलना, चाहे जितनी भी बेचैनी हो।’
उसने कोई जवाब नहीं दिया, बस मेरी आँखों में देखती रही।
मैंने अपने होंठ उसके होंठो के इतने पास ले आया कि वह उनकी गर्मी महसूस कर सके।
कुछ देर वह उनकी गर्मी बर्दाश्त करती मेरी आँखों में देखती रही। मैं उसकी भारी हो गईं साँसें अपने होंठों पर महसूस करता रहा, फिर जब लगा कि उसके होंठ अपने पहले बोसे के लिए तैयार हो चुके थे तो मैंने उसके होंठों से अपने होंठ जोड़ दिए।
उन्होंने वाकयी गर्मजोशी से मेरे होंठों का स्वागत किया, एक गहरी थरथराहट उसके जिस्म से गुज़री थी जिसे बखूबी मैंने जिस्म पर महसूस किया था और जैसे किसी नशे के अतिरेक से उसकी आँखें मुँद गईं थीं।
मैं उसके निचले होंठ को चूसने लगा और कुछ देर की झिझक, शर्म और हिचकिचाहट के बाद उसने भी मेरे ऊपरी होंठ को चूसना शुरू किया।
जब मैंने उसके ऊपरी होंठ पर अपनी पकड़ बनाई तो उसने मेरे निचले होंठ पर पकड़ बना ली और होंठों के इस ज़बरदस्त मर्दन के बीच ही मैंने उसके होंठों को चीरते हुए अपनी ज़ुबान उसके मुंह में घुसा दी।
उसने उसका भी बहिष्कार न किया और उसे चूसने लगी, कुछ देर बाद उसने अपने जीभ मेरे मुंह में दी जिसे मैं चूसने लगा।
इस बीच मेरे दोनों हाथ लगातार उसके दोनों मखमली नितम्बों को सधे हुए हाथों से दबाते सहलाते रहे थे।
हालाँकि यह सिलसिला ज्यादा लम्बा न चल पाया क्योंकि कुछ पर्यटक उधर आ निकले थे तो हम अलग हो गए और वह आँखें चुराती अपनी अस्त व्यस्त हो चुकी साँसों को दुरुस्त करने लगी।
‘चलो अब यहाँ से चलते हैं।’ उसने अपने नक़ाब को दुरुस्त करते हुए कहा और चेहरे को वापस कवर कर लिया।
हम वहाँ से बाहर निकल आये… इमामबाड़ा छोड़ कर हम बुद्धा पार्क पहुंचे और वहीं बोटिंग करते हुए बतियाने लगे।
‘दादा जी पूछेंगे नहीं कि आज इतनी देर क्यों हो गई?’
‘कहाँ देर हो गई? तीन चार बजे तक ही तो वापसी होती है। मैंने कह भी दिया है कि मेरे पेपर होने वाले हैं तो मैं हफ्ते भर थोड़ी एक्स्ट्रा पढ़ाई करुँगी जिसके चलते मैं 6-7 बजे तक वापस आऊँगी।
तुम भी हफ्ते भर की छुट्टी ले लो, अब अगले सोमवार ही जाना। तब तक मुझे वह दुनिया दिखाओ जो मुझे किसी और तरीके से नहीं दिखनी थी।’
‘ओ के मैडम!’
वहाँ हम पांच बजे तक रुके जिसके बाद मैंने उसे आईटी पर छोड़ दिया जहाँ से वो टैम्पो पकड़ के चली गई।
मैं अपने ऑफिस पहुँच गया।
ज़बरदस्ती 8 बजे तक रुका और मैनेजर से हफ्ते भर की छुट्टी की गुहार लगाई, जिसके एवज में कई ताने तो मिले पर छुट्टी भी मिल गई और 9 बजे तक मैं वापस घर पहुँच कर ऊपर अपने पोर्शन में बंद हो गया।
दस बजे गौसिया के पास पहुँचने का वादा था।
तब तक वह भी अपने सब काम निपटा कर ऊपर अपने पोर्शन में लॉक्ड हो चुकी होनी थी।
और ठीक वक़्त पर मैं अँधेरे का फायदा उठाते हुए उसके पास पहुँच गया।
ऐसा लगता था जैसे वह भी इन हालात का फायदा उठाने के लिए खुद को मानसिक रूप से पूरी तरह तैयार कर चुकी थी, यह उसके कपड़ों से ज़ाहिर हो रहा था, उसने साटन की एक स्पैगेटी पहन रखी था जिसके ऊपरी सिरे से दोनो बूब्स को आधा देखा जा सकता था और नीचे जहाँ तक उसकी लम्बाई थी, सिर्फ पैंटी पहन रखी थी जिससे उसकी मखमली भरी भरी टाँगें पूरी तरह अनावृत थीं।
‘यह कब लिया?’
‘पहले कभी लिया था। बंद कमरे में कभी कभार पहन कर अपनी वर्चुअल आज़ादी को एन्जॉय कर लेती थी! बैठो यहाँ।’
‘नीचे से किसी के आने का तो कोई चांस नहीं?’ मैं बेड पर उसके पास ही बैठते हुए बोला।
‘नीचे जीने पर ही दरवाज़ा लॉक है। वैसे भी दोनों दादा दादी घुटनों के दर्द के शिकार हैं… ऊपर पिछले दो साल में तो नहीं चढ़े।’
‘हम्म… तो अब क्या करने का इरादा है?’
‘मैंने कभी कभार नेट पे ‘उसे’ देखा है या फिर बच्चों के… मुझे दिखाओ कैसा होता है?’ कहते हुए उसने ऐसे होंठों पर ज़ुबान फेरी थी जैसे अंदर तक मुँह सूख गया हो।
मैंने देर नहीं लगाई… अपनी लोअर पहुँचों में पहुंचा दी और एकदम से अंडरवियर नीचे कर दी।
अभी यहाँ आने से पहले ही, ऐसे ही किसी संभावित क्षण की अपेक्षा में मैंने छोटे भाई की शेविंग कर डाली थी पर अभी चूँकि माहौल बना भी नहीं था इसलिए सुप्त अवस्था में ही था।
‘यह…?!? यह तो बहुत छोटा है।’ वह हैरानी से उसे नज़दीक से देखने लगी- और इतना बेजान सा क्यों है?’
‘अरे आम हालत में सैनिक ऐसे ही रहता है। जब जंग लड़ने की नौबत आती है तभी तो मूड में आता है।’
उसकी निगाहों की तपिश ने छोटू को सचेत कर दिया और उसमें जान आने लगी, लिंग की त्वचा में पड़ी झुर्रियाँ फैलने लगीं और वह सीधा होने लगा, फिर देखते देखते पूरी तरह तन कर सैल्यूट करने लगा।
वह उसकी हर हरकत को गौर से देखने लगी।
‘हर चीज़ तीन स्वरूप में होती है- लार्ज, मीडियम और स्माल… यह क्या हैसियत रखता है?’
‘अलग अलग कन्टिनेंट्स में मर्दों के अलग अलग साइज़ होते हैं। इंटरनेशनल परिपेक्ष्य में देखोगी तो यह स्माल है और एशियाई रीज़न में देखोगी तो मीडियम।’
‘मतलब मेरे शौहर का इससे बड़ा हो सकता है।’
‘हाँ क्यों नहीं। इससे बड़ा भी और मोटा भी।’
‘तो वह उसमें अंदर घुसता कैसे है? मैंने कई बार शीशे में अपनी वेजाइना का छेद देखने की कोशिश की जो दिखता तक नहीं और उसमेंइतना भी आखिर कैसे घुसेगा। इससे बड़ा तो बाद की बात है।’
‘अब वर्जिनिटी का मसला न होता तो घुसा के बता देता।’
‘वर्जिनिटी का मसला न होता तो मैं यह सवाल क्यों पूछती बाबू! एक छोटे से छेद में जब ऐसी मोटी चीज़ घुसती होगी तो बेइंतहा दर्द होता होगा न?’
‘यह कुदरत का नियम है कि जब छोटी जगह में बड़ी चीज़ जगह बनाएगी तो खिंचाव दर्द पैदा ही करेगा लेकिन यह छेद ऐसी फ्लेक्सिब्लिटी रखते हैं कि एक बार में ही उस बड़ी चीज़ के लायक जगह बना लेते हैं। हाँ एण्टर करने के वक़्त दर्द ज़रूर होगा, इसे कम किया जा सकता है लेकिन बचा नहीं जा सकता।’
‘यह बार बार ठुनक क्यों रहा है?’
‘यह भी बच्चा है, मचल रहा है, अपनी जोड़ीदार की डिमांड कर रहा है। इसे छोड़ो, मैं समझा लूँगा।
तुमने देख लिया– अब मुझे देखने दो।’
‘क्या?’
‘अपना यह मक्खन मलाई जिस्म।’
‘खुद ही देख लो।’
मतलब साफ़ था कि खुद करो जो करना हो।
मैंने लोअर फर्श पे छोड़ा और पैर समेत कर पूरी तरह बैड पे आ गया, उसे भी बीच में कर लिया और उसके दोनों हाथ पकड़ कर ऊपर उठा दिए।
बगलों में रेशमी से बाल थे और वे किसी डिओ से महक रहीं थी।
मैंने बाकायदा उन्हें सूंघते हुए चूमा और उसके जिस्म में पैदा हुई थरथराहट को अपने होंठों पर महसूस किया।
फिर थोड़ा पीछे हट कर उसकी स्पैगेटी को किनारों से पकड़ कर ऊपर उठाते हुए सर से बाहर निकाल दिया।
उभरे हुए निप्पल पहले से पता दे रहे थे कि अंदर ब्रा नहीं थी और अब वे आवरण रहित, अपने पूरे सौंदर्य के साथ, पूरे आकार में मेरे सामने बेपर्दा थे।
दो बेहद खूबसूरत, गुदाज दूध से गोरे बेदाग़ मम्मे जिनके केंद्र में दो इंच का हल्का गुलाबी भूरा हिस्सा उन छोटी छोटी चोटियों को सुरक्षित किये था जो मेरी नज़रों की आंच से उभर रही थीं… तन रही थीं।
अंदाजतन वे 34 साइज़ के थे और वज़न के कारण नीचे गिर से रहे थे।
उसके गालों पर शर्म की गहरी लालिमा फैली हुई थी और उसने आँखें भींच ली थीं।
मैंने उसे कन्धों से थामते हुए लिटा लिया।
फिर अपने होंठों का एक स्पर्श उसके एक स्तन की तनी हुई चोटी पे दिया।
उसके जिस्म में फिर कंपकंपी पैदा हुई और उसने ‘सी’ करते हुए होंठ भींच लिए।
वैसा ही स्पर्श मैंने दूसरी चोटी पे दिया।
उसने हाथों की मुट्ठियों में चादर दबोच ली और पैरों की एड़ियां गद्दे में धंसा दीं।
मैं उसे चूमते हुए नीचे हुआ और उसके सपाट पेट के बीच हल्के उभरे और गहरे नाभि के गड्ढे पे रुका, जहाँ मैंने जीभ की नोक से हल्का सा स्पर्श दिया और उत्तेजना से वह कमान सी तन गई, पेट ऊपर उठ गया।
मैंने सीधे होते उसकी पैंटी में उँगलियाँ फसाईं और उसे नीचे करते एड़ियों से बाहर निकाल दिया।
उसने फिर भी मुझे नहीं रोका, बस वैसे ही आँखे बंद किये धीरे धीरे हांफती रहीं।
उदर की ढलान पर घने काले रेशमी बालों का बड़ा सा झुरमुट उस गुदाज़ मखमली योनि को ढके हुए था जो बंद कंडीशन में बस ऐसी लग रही थी जैसे पावरोटी पर एक चीरा लगा कर उसे बंद कर दिया गया हो।
अपनी सहूलियत के हिसाब से मैंने उसके घुटने मोड़ कर दोनों जांघों को यूँ फैला दिया कि वो बंद पड़ी गहरे रंग की लकीर खुल गई।
वह बस ख़ामोशी से होंठ भींचे थरथराती रही।
मैंने उस ज्वालामुखी के दहाने को दोनों अंगूठे लगाकर फैलाया।
एकदम सुर्ख सा अंदरूनी भाग मेरे सामने नुमाया हो गया।

यह कहानी भी पड़े  दो कामुक सहेलियाँ की चुदाई 2

मैंने उसके घुटने मोड़ कर दोनों जांघों को फैलाया कि वो बंद पड़ी गहरे रंग की लकीर खुल गई, एकदम सुर्ख सा अंदरूनी भाग मेरे सामने आ गया।

छोटा सा सुर्ख रंग का भगांकुर… छोटी छोटी सी गहरे रंग की कलिकाएँ, नीचे हल्के गुलाबी रंग का वह भाग जो अभी अक्षत था, अछूता था, अनयूज़्ड था।
जहाँ योनिमार्ग इतना संकरा और आपस में ऐसे सटा हुआ था कि वहाँ गौर से देखने पर ही पता चलता था कि कोई छेद भी है, जो इस बात का सबूत था कि उसमें अभी लिंग तो क्या सींक भी न गई होगी।
लेकिन योनि असली नकली नहीं जानती… उसके लिए इतना काफी था कि कोई मर्द उसे उकसा रहा था, उत्तेजित कर रहा था और वो कामरस छोड़ रही थी।
उसके उस लगभग अदृश्य से छिद्र से निकलता पानी नीचे बहता उसके गुदाद्वार को गीला करते नीचे चादर तक पहुँच रहा था।
मैं अपने घुटनों को पेट से लगाए झुक कर एकदम उसके पास पहुँच गया और उस खुशबू को फेफड़ों में भरने लगा जो रस से जारी हो रही थी…
कुछ कुछ खरबूज जैसी गंध थी जो मेरे तनमन में न सिर्फ रोमांच भर रही थी बल्कि मेरे लिंग को इस कदर कड़ा होने पर मजबूर कर रही थी कि लग रहा था जैसे फट ही पड़ेगा।
मैंने वहाँ पर, जहाँ उसका भगांकुर उत्तेजित अवस्था में उभरा हुआ था- अपने होंठ टिका दिये।
वह एक बार फिर ज़ोर से कांपी…
और मैंने उसके कूल्हों में उंगलियाँ धंसाते हुए अपनी जीभ नीचे छेद की तरफ से लगाकर ऊपर क्लिटरिस हुड तक ज़ोर से खींचता चला गया।
उसकी ज़ोर की सिसकारी छूट गई…
वह इतनी जोर से तड़पी कि मुझे पीछे ठेल कर अपनी टांगें समेट लीं और बिस्तर की चादर को ताक़त से खींच कर अपने जिस्म को छुपा लिया और चेहरा नीचे करके हाँफने लगी।
मैं भी पास ही बैठा अपनी साँसें दुरुस्त करने लगा।
‘गुदगुदी हो रही थी… मेरी बर्दाश्त से बाहर हो रहा था।’ उसने भारी साँसों के साथ कहा।
‘ओके- रिलैक्स! छोड़ो, हम दूसरी बात करते हैं, ये बाल कभी बनाती नहीं क्या?’
‘कभी रेज़र, ब्लेड या हेयर रिमूवर नहीं यूज़ किया। बस कैंची से कुतर कर छोटे कर लेती हूँ।’
‘अगर चाहती हो कि इस गोरे मक्खन जैसे बदन के साथ ये हिस्सा मैच करता रहे तो इन दोनों में से कोई चीज़ यूज़ न करना क्योंकि दोनों ही से आसपास की त्वचा काली पड़ जाती है, बल्कि वैक्सिंग से बाल निकलवाना। स्किन ऐसी ही बनी रहेगी।’
‘यहाँ कौन करता हैं ‘वहाँ’ की वैक्सिंग। बगलों की कराती हूँ… एक बार ऐसी ही पार्लर वाली से पूछा था तो हंसने लगी थी कि अभी हम इतने एडवांस नहीं हुए। हेयर रिमूवर से काम चलाइए।’
‘चलो अभी कैंची से काम चलाओ, बाद में अपने हबी से वैक्सिंग कराना। कल कैंची से कुतर कर छोटे कर लेना।’
‘ठीक है, अब तुम जाओ। आज के लिए इतना डोज़ काफी है और हाँ अपना मोबाइल छोड़े जाओ। सोने से पहले मैं छत पे जाकर तुम्हारी दीवार पे रख दूंगी, तुम सुबह उठते ही उठा लेना।’
‘मेरा मोबाइल क्यों?’
‘क्योंकि मैं नहीं चाहती कि कभी कोई पोर्नोग्राफिक वेब हिस्ट्री मेरी आईपी के साथ अटैच पाई जाए।’
‘ओके… पर पोर्न साइट्स पता हैं। ‘
‘नहीं- वह भी बता के जाओ।’
मैंने उसे DESIBEES और इन्डियन पोर्न विडियो साइट बताई और चोरों की तरह वहाँ से रुखसत होकर अपने कमरे में आ गया।
पर मेरी जो हालत थी उसमें नींद आ पाना मुमकिन नहीं था।
एक ही विकल्प था कि मैं हाथ के घर्षण से वीर्यपात करूँ और चुपचाप सो जाऊं… मैंने ऐसा ही किया।
अगले दिन मंगल था… मैं सुबह फोन उठा लाया था।
उसने व्हाट्सप्प पे मैसेज कर दिया था कि रात देर से सोई थी इसलिए दिन की शुरुआत ग्यारह बजे होगी।
मैं उसकी हालत समझ सकता था।
सुबह नाश्ता पानी करके मैं फोन पर टाईमपास करने लगा।
और ठीक ग्यारह बजे मुक़र्रर मुकाम पर पहुँच गया जो कि आज आर्यकन्या स्कूल की तरफ था जहाँ से मैं उसके मुताबिक बाइक चलाते रेजीडेन्सी ले आया।
बाइक साइड में स्टैंड पे जमा करके हम अंदर आ गए।
घुसते ही जो बाईं तरफ खंडहर थे वहाँ पहुँच कर जैसे ही हम थोड़ी आड़ में हुए, उसने जिस्म पे मढ़ा नक़ाब और स्कार्फ़ उतार कर अपने पर्स में ठूंस लिया।
उसके तन पे उन्ही कपड़ों में से एक जीन्स और टी-शर्ट थी जो उसने कल खरीदे थे।
बाल भी उसने इसी काया के अनुरूप पोनी टेल की सूरत में बांध रखे थे और अपने वास्तविक रूप से बिल्कुल अलग लग रही थी।
गले में स्टोल डाल रखा था जो चेहरे को कवर करने के काम आना था शायद, फ़िलहाल तो चाँद सा नूरानी चेहरा आवरण रहित था।
‘मारव्लस!’ मैं प्रशंसात्मक स्वर में बोला- ग़ज़ब लग रही हो! सेक्सी दिख रही हो! जैसी बहनजी टाइप बनी रहती हो उसके एकदम उलट!’
वह फरमाइशी ढंग से हंसी।
मैंने उसे बाँहों में दबोच लिया, उसने छटपटा कर निकलने की कोशिश की लेकिन सफलता तभी मिली जब उधर कोई और आ गया।
वहाँ से हटकर हम उधर कब्रिस्तान की तरफ निकल आये जहाँ झाड़ियों में आलरेडी कई जोड़े घुसे हुए थे।
एक झुरमुट हमें भी खाली मिल गया तो हम भी उसी में ‘फिट’ हो गए।
वहाँ इस बात की आसानी थी कि मैं उसे न सिर्फ बाँहों में दबोच सकता था बल्कि अपने हाथ उसके बूब्स की मालिश मर्दन में लगा सकता था।
न सिर्फ ऊपर से बल्कि उसकी टी-शर्ट के अंदर डाल कर ब्रा को ऊपर की तरफ धकेल कर दोनों कबूतरों को नीचे खींच लिया था और हौले हौले उन स्पंजी मम्मों क सहला दबा रहा था।
जैसी उम्मीद थी उसने रोकने की कोशिश की थी लेकिन जल्द ही इस मर्दन और रगड़न का मज़ा मिलते ही उसने हथियार डाल दिए थे।
और अब वस्तुस्थिति यह थी कि वह अधलेटी सी मेरी गोद में थी और मैं दोनों हाथों से उसके मम्मों का मर्दन कर रहा था।
‘तो कल कैसी गुज़री?’ मैंने अपने होंठ उसके कान के पास रखते हुए पूछा।
‘बहुत बुरी गुज़री। सब कुछ अच्छा लेकिन अजीब सा लग रहा था।
जो कहानी पढ़ी, जो वीडियो देखी… सबने एक अजीब सा नशा पैदा दिया, पूरा जिस्म सनसना रहा था, दिमाग पर अजीब सा नशा सवार था…
बार बार अपने वेजाइना पे हाथ लगने को जी रहा था जो चिंगारियां छोड़ रही थी। वह बस बह रही थी।
पूरे जिस्म में अजीब सी ऐंठन और बेचैनी हो रही थी। ऐसा लग रहा था जैसे कही किसी मुकाम पे पहुँचना है, जैसे इस सबका कोई अंत होना है…
लेकिन क्या, कुछ समझ में नहीं आ रहा था।’ उसने लहराती कपकपाती आवाज़ में कहा।
‘जो अभी महसूस हो रहा है।’
‘सेम… ऐसा ही, बस अच्छा लग रहा है। दिमाग पर मस्ती, नशा हावी हो रहा है। पूरे जिस्म में एक मादक सी सनसनाहट फैल रही है। दिल कर रहा है बस करते रहो।
ऐसा लगता है जैसे कुछ मेरे जिस्म में कैद है जो निकलना चाहता है। जैसे कोई लावा हो जो बार बार किनारों से टकराता हो और किनारों को तोड़ कर बाहर निकल जाना चाहता हो पर अजीब सी बेबसी महसूस हो रही है कि निकल नहीं पा रहा।’
‘आज रात हम उस लावे को बाहर निकालेंगे।’
‘कल जब सब ख़त्म करके सोने की कोशिश की तो इस बेचैनी ने सोने नहीं दिया। बची खुची रात ऐसे ही थोड़ा सोते जागते गुज़री।’
मैं उसके जिस्म को अपनी गर्म हथेलियों की हरारत बख्शता रहा और इधर उधर की बातें होती रहीं।
काफी देर वहाँ पड़े रहने के बाद वहाँ से हट के थोड़ा वक़्त अंग्रेज़ों पे चली गोलियों के निशानों की गवाही देते खंडहरों में गुज़ारा और फिर भूख लग आई तो वहाँ से निकल के अमीनाबाद जाकर नहरी कुल्चा खाया।
इसके बाद वहाँ से एकदम उलट जनेश्वर मिश्र पार्क चले आये जहाँ अगले दो घंटे रहे।
इस बीच वह अपने बचपन से लेकर जवानी तक की बातें बताती रही।
वहाँ से निकल कर थोड़ी राइडिंग पत्रकारपुरम में की, उसके बाद थोड़ा वक़्त अम्बेडकर पार्क में गुज़ारा और उसी तरफ से पेपर मिल
कॉलोनी की तरफ से होते हुए वापसी की… जहाँ एक जगह मौका देख कर उसने फिर नक़ाब और स्कार्फ़ से खुद को मढ़ लिया।
इस बार उसे फ्लाईओवर के इस सिरे पे उतार कर मैं आगे बढ़ गया।
वह वहाँ से रिक्शा से चली गई और मैं गोल घूम कर थोड़ी देर बाद घर पहुँचा जहाँ अगले 3 घंटे खाने पीने, वाक करने में गुज़ारे।
थोड़ी हाय हेलो उस दूसरी लड़की से की जिसका ज़िक्र मैंने किया था और फिर दस बजे आज के एपिसोड के लिए तैयार हो गया।
आज फिर वो एक सेक्सी से नाइटवीयर में थी। उसके चेहरे पे छाई दृढ़ता को देख कर लगता था कि वह उस अंत को जानने के लिए तैयार थी।
मेरी तो यही शर्त थी कि चाहे गुदगुदी हो या कुछ और… वह मुझे रोकेगी नहीं।
‘बस इतना ध्यान रखना मेरी वर्जिनिटी बनी रहे।’ उसने गुज़ारिश की।
‘वादा करता हूँ कि तुम्हे पछताना नहीं पड़ेगा। अब आगे तुम सब मुझ पे छोड़ दो।’
उसने आँखों से सहमति जताई।
मैं उसे हाथ से पकड़ते हुए बिस्तर पे ले आया और उसके इतने पास आ गया कि मेरी गर्म सांसें उसके चेहरे से टकराने लगीं।
उसकी आँखों में झांकते हुए मैंने उसके होंठों से अपने होंठ टिका दिए और उन्हें चुभलाने लगा… उसने सिर्फ पैंटी और सैंडो बनियान पहन रखा था जिससे उसके बदन की पूरी गर्माहट मैं अपने जिस्म पर महसूस कर सकता था।
मैंने उसकी बनियान को ऊपर सरकाते और अपने हाथ उसकी पैंटी में घुसाते हुए उसके नरम गुदाज चूतड़ों को अपनी मुट्ठी में भींच लिया।
इस सख्त स्पर्श पर उसके बदन में एक लहर सी दौड़ गई।
उसने भी अपनी बाहें उठा कर मेरे गले में पिरो दीं और एक प्रगाढ़ चुम्बन में सहयोग करने लगी।
यह तो ज़ाहिर था कि थोड़ी ही देर में उसके दिमाग पर नशा हावी होने लगा और बदन से चिंगारियाँ छूटने लगीं।
उसने खुद से मुझसे अलग होते हुए मेरे बदन से मेरी टीशर्ट निकाल फेंकी और मैंने अपनी लोअर खुद अलग करके डाल दी और उतनी ही तेज़ी से उसकी बनियान और पैंटी भी उतार दी।
अब हम मादर ज़ात नंगे थे।
इस नग्नता का एहसास उसके गुलनार होते गालों और झुकी हुई पलकों से ज़ाहिर हो रहा था.. मैं तो खैर बेशर्म था ही।
मैंने उसे फिर से दबोच लिया।
दो नग्न शरीरों का आपसी स्पर्श और घर्षण दिमागी अख्तियार को बेहद कमज़ोर कर देता है- यह मेरे लिए पुराना मगर उसके लिए एकदम नया अनुभव था।
मैं उसके गुलाबी नरम होंठों से जैसे शहद को खींच निकालने की कोशिश करने लगा और इस बीच उसके शरीर पर फिरते मेरे हाथ कभी उसके नितम्बों, कभी मम्मों और कभी योनि के किनारों से घर्षण करने लगे।
मैंने यह भी महसूस किया कि वह भी बेअख्तियार अंदाज़ में मेरे लिंग को अपने हाथों में ले लेकर मसल देती थी, सहला देती थी।
बिस्तर की चादर अस्त-व्यस्त होने लगी।
मैंने उसके होंठों से खुद को हटाते हुए उसके चेहरे, गर्दन और कन्धों पर होंठ रगड़ने शुरू किये और वह खुद ही सुविधाजनक अंदाज़ में चित लेट गई और मैं अपना भार अपने घुटनों पर देते हुए उसके ऊपर आ गया।
मैं अपने होंठ उसके कन्धों से उतारते हुए उसके बाये वक्ष पर ले आया और वहाँ आकर रुक जहाँ एक छोटी सी पिंकिश भूरी चोटी उत्तेजना से तनी हुई थी।
उस पर एक हल्का चुम्बन अंकित करते हुए मैंने अपनी जीभ निकाली और उसे ज़ुबान की नोक से छेड़ने लगा।
वह ‘सी-सी’ करती अकड़ने लगी, उसके बदन की थरथराहट मैं महसूस कर सकता था।
उसने होंठ अंदर करके भींच लिए थे और अपनी एक हथेली से बिस्तर की चादर रगड़ रही थी तो दूसरी मुट्ठी में चादर को दबोच लिया था।
कुछ देर उससे किलोलें करने के बाद मैंने उसे होंठों के बीच दबोच लिया और हल्के हल्के दांतों का स्पर्श भी देते हुए चुभलाने लगा।
मेरा बायां हाथ तो सहारे के लिए गद्दे पे था लेकिन दाएं हाथ से मैं उसकी दूसरी चोटी को चुटकी में लेकर मसलने लगा।
उसकी साँसें भारी हो गईं और मुंह से दबी दबी सिसकारियाँ आज़ाद होने लगीं।
उसने अपने दोनों हाथों से अब मेरा सर थाम लिया था और सहलाने लगी थी।
थोड़ी देर बाद मैंने बाईं साइड की नोक छोड़ी तो दायीं साइड की नोक को मुंह में ले लिया और बाईं ओर की गीली हो चुकी चोटी को अपने बाएं हाथ से मसलने लगा।
बस ऐसा लग रहा था जैसे शहद भरी फूली हुई किशमिश हो जिसे चूसते चूसते चबा डालने की सख्त इच्छा हो रही थी।
जब उन किश्मिशों से जी भर गया तो उन्हें छोड़ कर नीचे सरक चला।
उसने मेरे सर से अपने हाथ हटा लिए और तकिया के कोने पकड़ लिए।
नीचे उसके सपाट गोरे पेट पर गहरा सा नाभि का गढ्ढा कम आकर्षक नहीं था… मैं जीभ की नोक से उसे छेड़ने लगा।
फिर उसके शरीर में ऐसी लहर दौड़ी जैसे उसे गुदगुदी हो रही हो लेकिन उसने मुझे धकेला नहीं।
नाभि को गीला करके मैं वहाँ उतर आया जो मेरी क्या हर मर्द की मंज़िल थी। आज, कल की तरह बाल नहीं थे, बल्कि उन्हें बड़ी नफासत से कुतर दिया गया था और अब उनके बीच की त्वचा भी स्पष्ट हो रही थी।
मैंने एक प्यार और भरोसे से भरा चुम्बन वहाँ अंकित करके खुद को उसके घुटनों से नीचे ले आया। उसके पैरों को घुटनों से मोड़ कर उन्हें अंतिम हद तक फैला दिया जिससे उसकी अनछुई, कुंवारी योनि अपने पूरे आकार में मेरे सामने खुल सके।
वह अपनी प्रकृति के अनुसार गर्म होकर रस छोड़ने लगी थी जो उसकी योनि से उतर कर उसके गुदाद्वार को गीला कर रहा था और वैसी ही ख़रबूज़े जैसी महक आ रही थी।
मैं उस खुशबू को अपने फेफड़ों में भरते हुए एकदम करीब से उसकी योनि की बनावट को देखने लगा।
ऊपर जहाँ भगांकुर था, एक हुड की तरह निकले मांस से सुरक्षित था और किनारे को भगोष्ठ ढके हुए थे जो भले अभी छोटे थे मगर अपना काम बखूबी कर रहे थे।
मैंने उन गन्दुमी पर्दों को अपनी उँगलियों से खोला तो अंदर के सुर्ख और गुलाबी भाग के दर्शन हुए।
मैं जीभ की नोक से उसके भगांकुर को छूने लगा।
उसके शरीर में लहरें पड़ने लगीं और भिंचे हुए होंठों से मस्ती और उत्तेजना में डूबी आहें छूटने लगीं।
मैंने अपना ध्यान पूरी तरह वहीं केन्द्रित कर लिया था और अपनी उंगलियों से उसके चूतड़ों को मसलने, दबाने लगा था।
बार बार के स्पर्श के बाद मैंने बाक़ायदा वहाँ अपना मुंह चिपका दिया।
उसके रस से मेरे होंठों के आसपास का हिस्सा और नाक गीले हो गए।
अब न सिर्फ मैंने अपनी जीभ की नोक से उसके लगभग बंद पड़े छेद को धंसाने लगा अपितु उसकी क्लिटोरिस को भी होंठों में दबा दबा कर खींचने लगा।
उसकी आवाज़ें तेज़ होने लगीं, उसके जिस्म में मादक लहरें उठ रही थीं और वह बार बार एकदम कमान की भांति तन जाती थी, बार बार मुट्ठियों में चादर दबोचती, छोड़ती और एकदम मेरे सर को पकड़ कर दबा देती।
मुझे उसकी तेज़ सिसकारियों से डर लग रहा था, जो कमरे की हदों को तोड़ कर बाहर तक जा रही थीं।
हालाँकि वह तब भी उतनी ही तेज़ थीं कि कोई ऊपर से उतर कर नीचे आ जाता या नीचे से दादा दादी जीने चढ़ के ऊपर दरवाज़े तक आ जाते तभी सुन पाते और यह लगभग नामुमकिन था।
फिर मैंने अपनी इंडेक्स फिंगर उस बंद पड़े छेद में उतार दी।
आम हालत में शायद यह उंगली भी उसे किसी लिंग जैसा दर्द देती लेकिन जो कामोत्तेजना से उसकी हालत हुई पड़ी थी… उसमें वह कामरस से ऐसी सराबोर और लचीली हो चुकी थी कि उसने उंगली का ज़रा भी प्रतिकार न किया।
उंगली को अंदर धंसते अनुभव करते वह चिहुंकी थी मगर यह वक़्त अनअपेक्षित प्रतिक्रिया देने के लिए अनुकूल नहीं था अतएव बस ज़ोर की ‘सी’ करके रह गई।
भले आपके शरीर को चौबीस घंटे आपका दिमाग नियंत्रित करता हो लेकिन ऐसे निजी पलों में दो विपरीतलिंगी शरीरों के आपसी घर्षण के वक़्त आपके यौनांग आपके दिमाग को नियंत्रित करते हैं- यह एक कड़वी हकीकत है और उसकी इस वक़्त यही हालत थी।
मैं उंगली सिर्फ उतनी गहराई तक ले गया था कि उसकी झिल्ली को कोई क्षति न पहुंचे और उसकी सीमा जान कर मैं उतनी गहराई में ही उंगली अंदर बाहर करने लगा।
साथ ही अपने होंठ और जीभ से उसकी कलिकाओं और भगांकुर को चुभला रहा था खींच रहा था।
उसकी साँसों में जैसे गुर्राहटें सी आ गईं थीं… चेहरा एकदम लाल पड़ गया था और नशे से आँखें भी अजीब सी हो गई थीं।
वह मेरे सर के बालों को नोच डालने पर उतारू हो गई थी।
‘प…प्लीज… अब बस करो, क-कुछ निकल जाएगा… प्लीज!’ उसने भारी साँसों के बीच लड़खड़ाती हुई आवाज़ में कहा।
मैं एकदम से उछल के बिस्तर से नीचे आ गया और उसे चूतड़ों से पकड़ के एकदम किनारे ले आया और गद्दे की कगार पर उसके चूतड़ टिकाते हुए खुद फर्श पर उकड़ू बैठ गया और उसके पेट को एक हाथ से पकड़ कर फिर वैसे ही मुंह और उंगली को उनकी जगह पहुंचा दिया।
‘जो निकले निकाल दो… रोको मत, वर्ना रात भर फिर सो नहीं पाओगी।’ बीच में मैंने मुंह उठाते हुए कहा और फिर वहीं टिक गया।
उसके बदन की अकड़न बढ़ने लगी।
फिर उसके योनिद्वार से ऊपर छोटे से हुड से ढके मूत्रद्वार से एक तेज़ धार निकल पड़ी। कुछ तो मेरे मुंह में गई और कुछ मेरी गर्दन और सीने से होती नीचे फर्श पर…
उसके मुंह से एक तेज़ आह निकली थी और वह बुरी तरह अकड़ने लगी थी।
साथ ही उसके योनिद्वार से भी रस निकल पड़ा था जिसे मैंने अपनी उंगली पे अनुभव किया। इसके बावजूद भी मैंने खुद को उससे अलग नहीं किया बल्कि जो कर रहा था वैसे ही करता रहा।
यह उसका पहला पानी था जो इस तरह मूत्र के साथ निकल पड़ा था।
मूत्र निकलना कोई बड़ी बात नहीं, ऐसे समय अगर यूरीन ब्लेडर भरा हो तो स्खलन के समय जब योनि की मांसपेशियाँ फैलती सिकुड़ती हैं तो वे मूत्र को भी नियंत्रित नहीं कर पाती।
मैं वैसे ही जीभ से उसे चाटते हुए उंगली से अंदर बाहर करता रहा और वह रुक रुक कर न सिर्फ पेशाब करती रही बल्कि स्खलित भी होती रही।
जो मूत्र मेरे मुख में जा रहा था वह मैं ऐसे ही निकाले दे रहा था कि बिस्तर पे न जाए और जो गर्दन सीने पे जा रहा था वो तो नीचे जा ही रहा था लेकिन जो स्खलन का रस बह रहा था वह ज़रूर चादर को भिगा रहा था।
जी भर के स्खलित होने के बाद वह सनसनाते हुए मस्तिष्क के साथ ऐसे बेजान सी पड़ गई जैसे बेहोश हो गई हो।
मैंने उसे पैरों से थाम कर पूरी तरह बिस्तर पर कर दिया और खुद को वहीं पड़े उसके स्टोल से साफ़ करने लगा।
मेरा मुंह भी थक गया था तो मैं भी उसके बगल में पड़ गया और अपनी साँसें दुरुस्त करने लगा।

यह कहानी भी पड़े  अपने बॉस से सेक्स सम्बन्ध बनाई

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!