पड़ोसन रेखा आंटी का बुर चोद दिया

pados ki aunty ki chudaiहाई दोस्तों मेरा नाम सफी हे और मैं पटना से हूँ. मैं आज आप को अपनी एक रियल स्टोरी बताने के लिए आया हु. ये कहानी मेरी और मेरी एक पड़ोसन चाची की हे. ये मेरी पहली कहानी हे और मुझे पूरा भरोसा हे की उसको पढ़ के आप का लंड जरुर खड़ा होगा! जब भी मैं चाची और उनकी बेटियों के बारे में सोचता हु तो मेरा खड़ा हो जाता हे. चाची का नाम रेखा हे. चाचा जी सरकारी जॉब करते हे और वो पटना से बहार पोस्टिंग पाए हुए हे. और वो हर महीने में एक बार ही घर पर आते हे. चाचा की उम्र 45 साल की हे. और चाची 42 साल की गोरी, लम्बी और सेक्सी दिखती हे.

चाची के बूब्स 36 के, कमर 32 की और गांड करीब 38 की होगी. उसकी बड़ी बेटी कविता जो 26 साल के हे और छोटी बेटी सविता 22 साल की हे. चाची की बेटियाँ गणित में कमजोर थी और मैं उनसे छोटा होने के बावजूद भी उन्हें पढ़ाने के लिए उन्के घर पर जाता था. वो दोनों ही लड़कियां पढने में काफी कमजोर थी. मैं खूब महनत कर रहा था उन्के पीछे. उस वक्त हम लोगो के बिच में ऐसा वैसा कुछ भी नहीं हुआ था.

एक दिन रेखा आंटी की छोटी बेटी सविता ने मुझे आवाज दी. और अपने घर पर बुलाया गणित के कुछ डाउट पूछने के लिए. मैं फ्री था तो चला गया और क्या देखा की रेखा आंटी सिर्फ ब्लाउज पहन के चावल साफ़ कर रही थी. बहुत गर्मी थी उस वक्त और शायद उसी वजह से आंटी ऐसे नंगी सी घूम रही थी अपने घर के अन्दर. घर में उस वक्त सविता और देखा आंटी दो ही लोग थे. मैंने सविता की मेथ्स की प्रॉब्लम को सोल्व की. और तभी सविता को उसकी दोस्त का फोन आया और वो चली गई. मैं वही बैठा था और बार बार आंटी की चुचियों को देख रहा था. मेरे लंड में आग लग गई थी. मैंने उस वक्त हाल्फ पेंट पहनी हुई थी तो मेरा ताना हुआ लंड आंटी ने भी देखा.

यह कहानी भी पड़े  नशे के कारण आंटी चुद गई

आंटी समझ गई और उसने अपनी चुचियों को पल्लू से छिपा लिया. और फिर वो मेरे साथ सविता और कविता की पढ़ाई के बारे में बातें करने लगी. मेरा ध्यान बार बार आंटी की चूत वाली जगह के ऊपर ही जा रहा था और आंटी को भी वो पता था.

आंटी ने मूड बदलने के लिए कहा. बहुत दिनों से कोई मूवी नहीं देखी हे. एक काम करो सीडी के बॉक्स में से कोई अच्छी सीडी निकालो देखते हे. सब से ऊपर जो बिना कवर की सीडी थी उसे मैंने लगा दी. और मैंने जैसे ही प्ले की तो मैं एकदम से घबरा गया. वो कोई हिंदी फिल्म की सीडी नहीं थी बल्कि ब्ल्यू फील्म की थी. उसके अन्दर एक जवान लड़का आंटी को कुतिया बना के उसे चोद रहा था वो सिन चालू हो गया था. मैंने डर के सीडी प्लेयर को बंद किया लेकिन रेखा आंटी ने वापस आ के उसे चालू कर दिया. वो बोली लगी रहने दो मुझे देखनी हे. मैं समझ गया की मेरे लंड का उभार देख के ये आंटी चुदासी हुई हे और अब वो मेरा लंड ले के ही मानेगी! मैंने अपने हाथ को उसके बदन के ऊपर फिराया तो उसकी सांस तेज हो गई. वो आह्ह्ह आह कर रही थी. और मैंने उसके एक हाथ को ले के अपना लंड उसे थमा दिया. वो लंड को दबा के उसकी चौड़ाई का जायजा ले रही थी. मैंने एक ऊँगली को उसकी नीपल और चूची के ऊपर फेरी तो वो एकदम से मस्ती में आ गई. वो सिस्कारियां भर रही थी और मैं एन्जॉय कर रहा था!

अब मेरी हिम्मत बढ़ी और मैं उन्के ऊपर आ गया. और मैंने उनकी किस लेना चालू कर दिया. उन्के गुलाबी सेक्सी होंठो ने मेरे लंड में अजीब सी अकड पैदा कर थी. अब मैं उनकी चूची को किसी चोकोलेट के तरह चूसने लगा था. और वो मेरा साथ पूरी तरह से दे रही थी. मैं अब धीरे धीरे उन्हें नंगा करना लगा और उनकी पेटीकोट और साडी उतार दी. रेखा आंटी ने पेंटी नहीं पहनी थी. जैसे ही मैंने उन्के कपडे उतारे तो मेरी नजर उन्के बड़े से बुर पर पड़ी. वो हलकी हलकी झांट, आह मुझे मदहोश कर रही थी. मैं उस वक्त अपने आप को रोक नहीं पाया और उसे चूसने में टूट पड़ा. वो अह्ह्ह अह्ह्ह चुसो अह्ह्ह की सिस्कारियां भरने लगी. फिर उन्होंने मुझसे कहा अब बर्दास्त नहीं होता हे अब डाल दो. तो मैं उन्के ऊपर आ गया और उन्के मुह में अपना लंड दे दिया. और मैंने कहा, चुसो इसे मेरी जान!

यह कहानी भी पड़े  पड़ोस की आंटी प्यास बुझाई

वो मेरी पहली चुदाई थी इसलिए ना जाने क्यूँ मेरा लंड मुरझा सा गया था. और वो उसे चूसने लगी बिलकुल किसी लोलीपोप के जैसे. मैं आह्ह्ह अह्ह्ह करने लगा था और उन्के मुहं को चोदने लगा.

अब मुझे भी बर्दास्त नहीं हुआ तो मैं अब उन्के ऊपर आ गया. और उनकी चूत की पप्पी ले के अपना लंड उसके ऊपर रगड़ा. वो आह्ह की सिसकारी भरने लगी. वो पूरा छटपटा रही थी. फिर उन्होंने रिक्वेस्ट की फिर मैंने उनकी टाँगे चौड़ी की और अपना 7 इंच का लंड का सुपाडा उन्के बुर के ऊपर रखा. उनकी बुर पहले से ही ही गीली हो गई थी. और मैंने एक जोर का धक्का मारा. तो मेरा लंड आधा अन्दर चाल गया और वो चिल्ला पड़ी. वो एक महीने से चुदी नहीं थी. अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह की आवाजें निकाल के वो लंड को भोग रही थी.

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!