ऑफिस टूर पर काफ़ी मजा आया चुत चुदवा कर

ऑफिस टूर पर काफ़ी मजा आया चुत चुदवा कर

(Office Tour Par Kafi Maja Aaya Chut Chudwa Kar)

Office Tour Par Kafi Maja Aaya Chut Chudwa Karहैलो, अन्तर्वासना के सभी पाठकों को नमस्ते.. मेरा नाम पूजा है लेकिन घर में सभी मुझे नैना भी कहते हैं, मेरी उम्र 28 साल है, मेरी फिगर 32-27-34 की है व मेरी हाईट 5 फ़ीट है।

वैसे मेरा प्यार सचिन नाम के लड़के से काफी दिनों से है, लगभग 10 सालों से और आज भी है। अभी मैं सरकारी नौकरी कर रही हूँ। मैं दिसम्बर 2013 में मेरे साथ जो हुआ.. उसके बारे में बता रही हूँ।

उस वक्त मैं एक प्राइवेट इंस्टिट्यूट में नौकरी कर रही थी। मैं आपको बताते चलूँ कि मैं अपने बॉयफ्रेंड से बहुत प्यार करती थी और हर 3 से 4 महीने में वो मुझसे मिलने आता था।

मैं ऑफिस के कामों से दूसरी ब्रांच में फ़ोन करती रहती थी.. तो एक नितिन नाम का लड़का फ़ोन उठाता था। उस वक्त उससे ऑफिस के बारे में ही बातें होती थीं।
काफी दिनों तक बात होने से हम दोनों एक-दूसरे को जानने लगे। नितिन मुझे लाइक करने लगा था, वो मेरे मोबाइल पर भी मैसेज और कॉल करने लगा और फ़ोन पर ही हमारे बीच हंसी-मजाक होने लगा।

एक बार नितिन मुझसे मिलने मेरे ऑफिस भी आया.. तब वो मेरी उससे पहली मुलाकात थी। फिर ऐसे ही उससे बातचीत कुछ दिनों तक चलती रही।

इसके बाद ऑफिस में न्यू ईयर पर नैनीताल टूर का प्लान बना.. जिसमें दोनों ब्रांच के सभी लोगों को जाना था, लेकिन इस टूर में सभी लोग नहीं गए थे।

उस दिन 30 दिसम्बर को दोनों ब्रांच से 3 कारों से लगभग 11 लोग निकले, जिसमें मुझ समेत 2 लड़कियां ही थीं। मैं और नेहा मैडम सभी लोग शाम को 6 बजे कार से निकले।
कार में पीछे वाली सीट पर नितिन मेरे बगल में बैठा था। रास्ते में हम दोनों ने खूब बातें कीं.. फिर रात को ढाबे पर खाना खा कर चल दिए।

यह कहानी भी पड़े  पैसों के लिए वर्जिन लड़की के ज़लील होने की कहानी

क़ार में अन्दर की लाइट बन्द होने के कारण अँधेरा था, इस समय नितिन अपने पैर से मेरे पैर को टच कर रहा था, मैं बार बार अपने पैर को हटा रही थी.. पर वो नहीं मान रहा था।
मैं कुछ बोल भी नहीं पा रही थी.. क्योंकि सर आगे बैठे थे।

नितिन फिर और आगे बढ़ने लगा, उसने मेरी जांघों पर हाथ रख दिया, मैं उसका हाथ हटाने लगी.. पर वो नहीं माना।

धीरे धीरे उसने मेरी जींस की ज़िप खोल दी और पेंटी के ऊपर से मेरी चुत को टच करने लगा। थोड़ी देर बाद मैंने उसका हाथ हटा दिया।
कार में इतना ही हुआ था।

फिर हम सब 2 बजे रात को नैनीताल पहुँच गए। होटल में सर ने मेरे और नेहा मैम के रूम अलग-अलग बुक किए थे और बाकी सभी लोगों को एक रूम में दो-दो लोग के हिसाब से व्यवस्था की गई थी। मैं अपने रूम की चाभी लेकर रूम में गई और थकान होने के कारण जल्द ही सो गई।

सुबह 9 बजे नितिन ने दरवाजा पीटा, वो बोला- मैम उठो.. अभी गर्म पानी आ रहा है, फ्रेश हो जाओ।

मैं उठी.. दरवाजा खोल कर बाथरूम में पानी चैक करने लगी कि तभी पीछे से नितिन भी आ गया और उसने मुझे पकड़ लिया।
मैं हड़बड़ा कर बोली- यह क्या कर रहे हो.. जाओ इधर से!

पर वो नहीं माना.. और मुझे किस करने लगा, मैं उससे किसी तरह छूट कर बाहर आकर बोली- जाओ.. नहीं तो सर आ जाएंगे।
फिर वो चला गया।

यह कहानी भी पड़े  ऑफिस की लड़की से जिस्मानी रिश्ता सही या गलत-1

कुछ देर बाद हम सब फ्रेश होकर घूमने निकले.. नितिन भी साथ में था। हम सभी ने साथ-साथ बोटिंग भी की.. और बातें भी हुईं।
वो बोला- मैम रात को आपके रूम में आऊंगा।
मैं बोली- किस लिए?
वो बोला- कुछ बात करनी है।
मैं बोली- क्या बात करनी है.. यहीं बोलो!
वो बोला- नहीं.. रात को ही बताऊंगा।
मैं बोली- ओके।

नितिन की हरकतों से मुझे अपनी चुत में कुछ कुछ महसूस होने लगा था, इसलिए रात को डिनर करके मैं अपने रूम में आकर होटल के फोन से ब्वॉयफ्रेंड से बात करने लगी.. तभी मेरे मोबाइल पर नितिन का मैसज आया ‘मैम दरवाजा खोलो.. आ रहा हूँ।’

मैं फोन कट करके दरवाजा खोल कर लेट गई, नितिन आया और दरवाजा बंद करके मेरे बाजू में लेट गया।
हम दोनों में थोड़ी देर बातें हुईं.. फिर उसने मुझे अपने पास खींच लिया।
मैं बोली- क्या कर रहे हो.. बात करने आए हो.. तो बात करो!
वो बोला- प्लीज़ मैम समझा करो!

यह बोल कर वो मुझे लिप किस करने लगा। मैंने थोड़ी देर तक मना किया, फिर मैं भी उस किस करने लगी।

थोड़ी देर बाद वो मेरा टॉप निकालने लगा.. तो मैं उसे मना करने लगी।
वो बोला- तुम ऐसे नहीं मानोगी!

फिर मुझे अपने ऊपर लेकर मेरे दोनों हाथ जबरन ऊपर करके मेरा टॉप निकाल दिया। टॉप उतरते ही मैं केवल ब्रा में हो गई। फिर वो ब्रा के ऊपर से ही मेरी चूचियों को दबाने लगा.. तो मैं भी गर्म होने लगी।

Pages: 1 2



error: Content is protected !!