नदी किनारे चूत पुकारे

हाय फ्रेंड्स मेरा नाम चंदन है ये कहानी तब की है जब 20 साल का था, मे का महीना मैं हमेशा गाओं जाता था उस बार जब गाओं गया तो घर पे कोई नही था सिर्फ़ दादा दादी घर पे थे और कोई नही था मुझे बोर लग रहा था गर्मी बहुत था. हिन्दी सेक्स स्टोरीस

हमारे गाओं मे एक नदी है जिसमे हमेशा पानी भरा हुआ रहता था वाहा एक बड़ा सा पेड़ था जिसके वजह से उस जगा बैठने मे मज़ा आता था.

मैने 12 बजे वाहा जाने का प्लॅन बनाया वाहा जाके बैठा था की एक औरत वाहा आई जिसका उमर कुछ 40 के बीच मे होगी उसने शायद पेटिकोट नही पहना और ब्लाउस बिल्कुल नही पहना था उनका बूब्स साफ पता चलता और वो जब चलरहिति बूब्स हिल रहेते वो कुछ बर्तन लेके आई थीसाफ करने के लिए.

वो मुझे देख के थोड़ा हसके पूछी कौन हो तुम और किसके घर आए हो मैने कहा मैं बद्री मेरा दादा जी है और मेरा नाम चंदन है तो वो बोले अछा और बर्तन नदी के कीनारे रख दिया और थोड़ा आगे जाके मेरे तरफ पीठ करके साड़ी उठाली मैं उनकी गॅंड देखके पागल हो गया और मेरा लंड खड़ा हो गया पिशाब करने लगी उसका गॅंड मेरे तरफ था उनका एक दम चिकना गॅंड था.

मैं तो गर्मी के कारण चड्डी नही पहनतता और मेरा खड़ा हुआ लंड पता चलता वो औरत पिशाब करके अपने बर्तन माँजने लगी वो अपने साड़ी घुटने के उपर कर के बैठी थी और उनका चुत मुझे थोड़ा थोड़ा दिखाई दे रहा था उनके चुत मे बहुत बाल थे और वो जब बर्तन साफ कर रही थी तो उनके बूब्स हिल रहे थे और वो थोड़ा थोड़ा मुझसे बात भी कर रही थी इस बीच मे उनके बर्तन साफ करना ख़तम हो गया और वो नहाने लगी मैने कहा आप अभी बाथ करेगी क्या.

यह कहानी भी पड़े  एक्टिवा वाली लड़की की मदद के बाद चूत चुदाई

तो वो बोली हाँ तो मैने कहा ठीक है मैं चलता हूँ तो वो बोली कोई बात नही तुम बैठे रहो और वो नहाने लगी वो ऐसी नहा रही थी की मुझे मज़ा आ रहा था पहेले वो अपना साड़ी घुटने से थोड़ा उपर कर ली और झुक के अपनी टांगे को एक कपड़े से रगड़ रही थी तो उनका साड़ी का पल्लो नीचे गिर गया और बूब्स दिखने लगा.

वो वैसेही कर रही थी फिर वो पानी के अंदर जाके एक डुबकी लगा के निकल आई जब वो बाहर निकली तो मेरा दिमाग़ का टेंपरेचर 100 से पार हो गया उनका सारा बदन गीली साड़ी से चिपक के था उनके बूब्स और चूत का शेप साफ पता चलता था फिर उन्होने कहा कल इसी वक़्त आना हम यहा बात करेंगे मैने कहा ठीक मेरा खड़ा हुआ लंड तो वो देख लिया था फिर जब वो जा रही थी उनकी गॅंड देख के तो और भी दीवाना हो गया और जब चली गयी वाहा बैठके मैं मूठ मारके घर चला आया.

अगले दिन जब 12 बजे तो मैं झट से चला गया मैं वाहा पहुचा तो कोई नही था थोड़ी देर इंतजार करने के बाद आंटी आई वैसेही साड़ी मे और बर्तन लेके वो देख के मुझे थोड़ा स्माइल देके कहा क्या मेरा इंतेजर कर रहे हो मैने कहा नही वैसे घर मे बहुत गरमी है इसलिए बैठा हूँ तो आंटी बोली अछा ठीक है और वो अपने बर्तन साफ करने लगी और आज उन्होने अपनी साड़ी ऐसे उठाया था की उनकी चुत मुझे साफ दिखाई दे रहा था एक दम बाल से भारी पूरा मेरा तो लंड खड़ा हो रहा था उन्होने भी नोटीस किया था.

यह कहानी भी पड़े  जहाज में मिली हसीन चूत को मुम्बई में चोदा

फिर आंटी नहाने चली गयी वो नहा रही थी और मैं घूर रहा था तो आंटी अचानक बोली चंदन एक काम कर आजा मिलके नहाते हैं तो मैने कहा आंटी कोई आ जाएँगा तो बुरा सोचेगा तो आंटी बोली इस वक़्त कोई नही आता मैने सोचा की अगर जाता हूँ तो थोड़े और पास से दर्शन हो जाएँगा और हाथ मार ने का मौका मिलजाएगा फिर मैने एक टॉवेल पहन के चला गया और टॉवेल मे मेरा खड़ा हुआ लंड पता चलता था फिर मैं पानी के अंदर गया जब अंदर गया तो आंटी ने एक डुबकी मारके बाहर आई उनके साड़ी का पल्लू गिर गया था उनके बूब्स मेरे सामने थे.

आंटी बोली क्या देख रहा है कभी देखा नही है क्या ये बोल के वो मेरे पास आई मैं सिर्फ़ बूब्स को घूर रहा था अचानक आंटी ने मेरा टॉवेल खींच के बाहर फेंक दिया मैं कुछ सोचने से पहेले उन्हो ने एक डुबकी मारी और डुबकी मारने के बाद मुझे महेसुस हुआ की कोई पानी के अंदर मेरा लंड चूस रहा है मैं कुछ सोच नही पा रहा हाथ लगाया तो पता चला की वही आंटी पानी के अंदर मेरा चूस रही हैं 2 मिनट के अंदर वो बाहर आई बोली तेरा लंड तो बहुत बड़ा है और टेस्टी है.

Pages: 1 2

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!