हलाला के लिए नए शौहर के साथ हमबिस्तर होना पड़ा

हेलो दोस्तों मैं शायरा बानो आप सभी का बहुत बहुत स्वागत करती हूँ। मैं पिछले कई सालो से इसकी नियमित पाठिका रही हूँ और ऐसी कोई रात नही जाती जब मैं इसकी सेक्सी स्टोरीज नही पढ़ती हूँ। आज मैं आपको अपनी कहानी सूना रही थी। आशा है की ये आपको बहुत पसंद आएगी।

मैं बरेली की रहने वाली हूँ। मैं बहुत गोरी, जवान और सुंदर औरत हूँ। 24 साल की एक जवान, आकर्षक नवयौवना हूँ। मेरी शादी हो चुकी है और मेरे पति बहुत अच्छे है, वो मुझसे बहुत प्यार करते है। हम लोगो की सेक्स लाइफ भी बहुत अच्छी है, मेरे पति रोज रात में मेरी चूत मारते है। मेरा जिस्म बहुत ही छरहरा और सेक्सी है। मेरे ओठ, मम्मे, मेरे रेशमी काले बाल, मेरी छरहरी कमर और चूत सब कुछ बहुत मस्त है। मुझे सेक्स करना बहुत पसंद है और रात में नियमित रूप से चूत में मोटा लंड खाना बहुत पसंद है। मेरे बच्चे अभी नही हुए है। मैं अभी कुछ साल सेक्स और चुदाई का मजा लेना चाहती थी इस वजह से अभी बच्चे नही कर रही हूँ। शादी ने पहले मेरे कई बॉयफ्रेंड थे जो मेरी कसके चूत बजाते थे। मुझे 16 साल की उम्र से ही चुदाई की बुरी लत लग गई थी।

जैसे ही मैं जवान हुई अपने बॉयफ्रेंड्स के साथ चुदवाने लगी। दोस्तों अब शादी के बाद तो एक रात भी मेरा लंड के बिना काम नही चलता है। मेरी सेक्स की इक्षा तो खत्म होने का नाम ही नही लेती है। अपने पति के साथ मैं रोज रात में सम्भोग करती हूँ पर मेरे जिस्म की भूख तो शांत ही नही होती है। आज मैं आपको अपनी स्टोरी सुना रही हूँ।

दोस्तों ये बात पिछले साल की है। मेरी माँ की तबियत बहुत खराब थी। मेरे पति जमाल अपने काम पर गये थे। मैंने घर में ताला लगा लिया और चाबी बगल वाली आंटी को दे दी और अपनी माँ के घर चली गयी। रात में जब मेरे पति घर आये तो मुझे ना पाकर बहुत नाराज हो गये। उन्होंने मुझे फोन किया और हमारी बहस शुरू हो गयी। मैं उनको बताने लगी की माँ की तबियत बहुत खराब थी इसलिए मुझे बिना पूछे आना पड़ा। फिर मेरे पति ने मुझे गुस्से में आकर तलाक तलाक तलाक 3 बार बोल दिया। मैं रोने लगी पर अब मेरा तलाक हो गया था। बाद में मेरे पति बहुत पछताये। अब दुबारा मुझसे शादी करने ले लिए मेरा हलालाहोना जरूरी था। अब मुझे किसी दूसरे मर्द से शादी करनी थी फिर वो मुझे कुछ राते कसके चोदेगा। फिर वो 3 बार तलाक तलाक तलाक बोलेगा। उसके बाद मैं अपने पति जमाल से फिर से शादी कर सकती हूँ।

यह कहानी भी पड़े  राजकोट मे मिली एक हसीन भाभी की चुदाई

दोस्तों मेरे पति जमाल ने किसी आदमी को ढूढने लगे जो मुझसे निकाह कर सके। कुछ लड़के हलाला करने को तैयार थे पर 2 से 3 लाख मांग रहे थे। एक तो वो मुझे कसके चोदेंगे और उपर से पैसा मांग रहे थे। मेरा पूरा घर इस बात से बहुत परेशान था। एक दिन मेरे पति का ख़ास दोस्त वासिम घर आया और उसने मेरे पति को परेशान देखा।

“अरे क्या हुआ जमाल मियाँ?? और भाभी जान कहाँ है??” वसीम ने पूछा

मेरे पति ने अपने दोस्त को सारी बात बतायी की किस तरह गुस्सा होकर उन्होंने मुझे 3 बार तलाक तलाक तलाक बोल दिया। मेरे पति रोने लगे। वो बहुत परेशान थे।

“वसीम! भाई आज मैं लोगो से हलाला के लिए पूछने गया था। वो इसके लिए २ से 3 लाख तक मांग रहे है। अब बोलो मैं इतने पैसे कहाँ से लाऊं???” मेरे पति बोले और फूट फूट कर रोने लगे।

“भाई मैं तुम्हारी बीबी के साथ हलाला करूँगा। कोई पैसे नही” वसीम बोला

मेरे पति बहुत खुश हो गये। आखिर 3 दिन बाद वो पाक घडी आ गयी। काजी ने मेरा और वसीम का निकाह करा दिया। दोस्तों हलाला में औरत की शादी किसी दूसरे मर्द से कर दी जाती है। फिर वो नया मर्द औरत के साथ जिस्मानी सम्बन्ध बनाता है और उसे कुछ रांते टांग उठाकर पेलता है। हलाला होने के लिए औरत का उसके नये शौहर से जिस्मानी रिश्ता होना जरूरी है। इसके बिना दूसरा निकाह पूरा नही होता। उसके बाद वो नया शौहर कुछ दिन बाद औरत को तलाक दे देता है। अब वो औरत अपने पहले शौहर से निकाह कर सकती है। ये पूरी रस्म हलाला की होती है। वसीम के साथ मेरा निकाह हो गया था। अब मैं उसकी बीबी बन गयी थी। मुझे उसके साथ कुछ राते गुजारनी थी और कसके चुदवाना था। मेरे पति जमाल खुश थे की मुझे उसका दोस्त की कसके चोदेगा। वरना किसी दूसरे मर्द से मैं निकाह करती तो पता नही वो कैसे मेरी चूत मारता। इसलिए मेरे पति बहुत खुश थे।

यह कहानी भी पड़े  चाची की मस्त गांड और चुत चुदाई

रात में मैं जमाल के पास आ गयी थी। आज हमारी सुहागरात थी। हम दोनों काफी शरमा रहे थे। वसीम मुझे भाभी जान कहकर बुला रहा था। फिर धीरे धीरे हम किस करने लगे। मैं लाल रंग का सलवार कुरता पहन रखा था। धीरे धीरे वासिम मुझसे प्यार करने लगा। वो दोनों लेट गये और वसीम मेरे होठ चूसने लगा।

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!