मोना भाभी को देवर ने चोदा

हैल्लो दोस्तों, यह एक बहुत गर्म औरत को चोदने की रियल कहानी है. वो मेरे फ्रेंड की भाभी है, उनका नाम मोना है और वो कुछ दिनों के लिए मेरे फ्रेंड के घर अकेली ही आई थी, क्योंकि मेरे फ्रेंड की वाईफ की डिलेवरी होने वाली थी. उन दिनों हम लोग पास में ही रहते थे. मेरा फ्रेंड और उसकी वाईफ दोनों सर्विस करते थे. में और मेरी वाईफ मोना से जल्द ही पास हो गये थे. हम लोग उन्हें मोना भाभी कहते थे.

मोना भाभी का नाम जितना सेक्सी है, वो उतनी ही सेक्सी दिखने में है. में उनकी चुदाई के बारे में सोचा करता था. मोना भाभी के 2 बच्चे थे, लेकिन उनका फिगर बहुत ही सेक्सी था, वो अपने फिगर को काफ़ी मैनटेन किए हुए थी. मोना भाभी का बूब्स तो बस देखने लायक था, उनका फिगर साईज काफ़ी मस्त और राउंड शेप में था. मैंने एक दो बार उनके ब्लाउज के ऊपर से उनके बूब्स की गोलाईयों को देखा था तो में बहुत मस्त हो गया था. उनकी आँखें और लिप्स और गाल भी बहुत सेक्सी थे, उनके लिप्स बहुत मुलायम थे, उनके कूल्हें भी जानलेवा थे, उनका वेस्ट बिल्कुल कुंवारी लड़कियों जैसा था और जब मोना भाभी चलती थी तो तब उनके बूब्स उछलते थे और हिप्स इधर उधर हिलते थे. अब में तो बस देखा ही रहता था.

फिर ऐसा हुआ कि मेरी वाईफ बच्चो के साथ अपने पेरेंट्स के घर 2-3 दिन के लिए चली गयी और उसी समय मेरे फ्रेंड की वाईफ नर्सिंग होम में एड्मिट हो गयी थी. डॉक्टर ने कहा था कि 1 हफ्ते पहले से ही एड्मिट करना होगा, इसलिए मोना भाभी शाम को नर्सिंग होम जाती थी, में भी कभी-कभी जाता था. फिर एक दिन मोना भाभी खाना बनाकर मेरे फ्रेंड को ऑफिस भेजकर बाथ लेकर तैयार हो रही थी. उस दिन में ऑफिस नहीं गया था. मैंने छुट्टी ली हुई थी और मोना भाभी को यह बात मालूम थी. फिर जब मेरा फ्रेंड ऑफिस चला गया तो तब मोना भाभी ने करीब 10 बजे मेरे दरवाजे को लॉक किया.

यह कहानी भी पड़े  मौसेरी बहन सविता की चुदाई

मैंने दरवाजा खोला. तब वो बोली कि उनके बाथरूम में पानी नहीं आ रहा है इसलिए वो मेरे बाथरूम में बाथ लेंगी. फिर मैंने उनको अंदर बुला लिया. अब वो अपने कपड़े मेरे बेड पर ही छोड़कर बाथरूम में चली गयी थी. फिर मैंने देखा कि उनके कपड़े मेरे बेड पर ही है और वो बाथरूम में है, लेकिन मैंने कुछ नहीं कहा. अब मेरे मन में तरह-तरह की बातें आने लगी थी. अब में उत्तेजित भी हो गया था, एक तो वो मेरे बाथरूम में नहा रही थी और दूसरी की उनके सारे कपड़े मेरे बेड पर ही थे. फिर करीब 15 मिनट के बाद वो बाथरूम के अंदर से ही बोली कि सुनिए ना मेरे कपड़े आपके रूम में ही बेड पर छूट गये है, प्लीज दे दीजिए ना, पहले मेरा टावल दे दीजिए ना.

फिर में उसके टावल को लेकर बाथरूम के दरवाजे पर आ गया तो उसने बाथरूम का दरवाजा खोलकर टावल ले लिया और दरवाजा बिना बंद किए ही अपना बदन साफ़ करने लगी थी. फिर थोड़ी देर के बाद वो बाथरूम के बाहर आ गयी. अब में उनको देखकर बहुत उत्तेजित हो गया था. तब वो बोली कि ऐसे क्यों देख रहे हो मेरे देवर जी? वो बहुत नॉटी लग रही थी. अब वो टावल को अपने बदन के ऊपर के पार्ट को कवर किए थी, उनका बूब्स टावल से झाँक रहा था, उनका बूब्स आधा ही कवर था और उनकी सेक्सी जांघे तो पूरी दिख रही थी, वो उस समय बहुत सेक्सी लग रही थी.

यह कहानी भी पड़े  दीदी को चोदने का मूड बन गया

अब वो अपने बालों को अपने एक हाथ से ठीक करने में लगी थी. फिर वो बोली कि मेरे देवर जी इधर आइए ना. अब में तो बस यही चाह रहा था. फिर में उनके पास आ गया, उनकी आँखें और लिप्स काफ़ी नॉटी दिख रहे थे. फिर वो बोली कि अपनी भाभी को सिर्फ़ यूँ ही देखते रहोंगे क्या? थोड़ी मेरी पीठ सहला दो ना.

अब में पीछे से उनकी पीठ को सहलाने लगा था. अब मोना भाभी हलके से मौन करने लगी थी. तब मैंने पूछा कि क्या हुआ मोना भाभी? तो तब वो बोली कि तुम्हारे हाथ लगाने से बहुत उत्तेजना हो रही है और करो ना, यूँ ही करते रहो, ठीक से करो. अब में उनकी पीठ पर चारों तरफ अपना हाथ फैरने लगा था और अब में टावल को उनकी पीठ पर नीचे खिसकाकर अपना हाथ फैरने लगा था और वो मुझे वैसे ही करने को कह रही थी.

अब में टावल में अपना एक हाथ घुसाने लगा था और अपने मनमाने ढंग से अपना हाथ उनकी पीठ पर फैरने लगा था. अब में समझ गया था कि वो जानबूझकर अपने कपड़े बाथरूम के बाहर छोड़ गयी थी. अब में समझ गया था कि वो जानबूझकर ऐसा कर रही है. अब में भी काफ़ी आगे बढ़ गया था और उनसे कहा कि मोना भाभी तुम बेड पर लेट जाओ, में तुम्हारे पूरे बदन पर मसाज कर देता हूँ.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2 3