मामी ने चोदना सिखाया

हेलो फ्रेंड्स, मैं अमित आया हू एक और मजेदार कहानी के साथ.

ये कहानी मेरी और मेरी सग़ी मामी की चुदाई की है. इस कहानी में आपको पता चलेगा कैसे मेरी मामी ने मुझे सेक्स के असीम आनंद का ेशसास करवाया.

ज़्यादा बकवास नही करते सीधे कहानी पर आते है.

ये वयका 1 साल पहले का है जब मैं. 12त क्लास मे था, मई 18 साल का था, उस टाइम विंटर वाकेशन चल रहा था तो मेरी मामी ने मुझे अपने पास बुला लिया.

में वैसे तो बहुत कम घर से दूर जाता हूँ लेकिन मामी ने फोर्स किया तो मुझे जाना पड़ा. मैने उशे दिन अपने ननिहाल के यहा की बस पकड़ी और शाम को ननिहाल पहुच गया

मेरे नाना नानी अब इस दुनिया में नही है. मेरे मामा मामी और उनके 3 बाकछे रहते. मामा जी दूसरे स्टेट में काम करते तो महीने में 2 3 बार ही आ पाते थे

मेरी मामी का नाम नीलम है उनकी आगे 32 साल है और उनके 3 बाकछे है. 12 साल का बेटा आर्यन 9 साल की बेटी दीक्षा और सबसे छोटा 7 साल का दीपक. 3 बाकछे होने के बाद भी वो क़यामत लगती है. उनका रंग तोड़ा सा सावला है लेकिन उनकी गांद और बूब्स उनकी सुंदरता बदते. सुडोल गडरिला बदन किसी पोर्नस्तर जैसा.

में अपने मामा के घर पहुच गया मुझे देख के मामी और मेरे कज़िन बहुत खुस गये मामा अभी दूसरे स्टेट में थे.

फिर हम सबने देर सारी बात की बात करते करते कब 8 बाज गये पता ही नही चला फिर मामी खाना ब्नाने चली गयी और में कज़िन के साथ टीवी देखने लगा.

थोड़ी देर बाद हम सबने खाना खाया और सोने चले गये. मेरे मामा के घर में 2 रूम और 1किचन था. में आर्यन और दीपक अलग रूम में सोने गया और मामी डीक्सा अलग रूम में.

मेरी लगभग 12 ब्जे के आस पास नींद खुली में पानी पीने किचन जाने लगा तो तभी मेरे को कुछ आवाज़े सुनाई दी जो की किचन से आ रही. मैने देखा की मामी खीरे को अपनी छूट के अंदर बाहर कर रही थी. में ये देख के हेरन हो गया में अपने बिस्तेर पर आके सो गया.

अगली सुबह में जल्दी उठ गया और एक्षसेरज़िसे करने लगा.

मैने देखा घर पर मेरे और मामी के साइवा कोई नही तो मैने मामी से पूछा-

मे :- आर्यन, दीक्षा , दीपक दिखाई नही दे रहे?

मामी :- उनकी स्कूल ने विंटर वाकेशन ट्रिप प्लान की है 3 दिन की तो वो स्कूल के साथ ट्रिप पर गये है.

मे :- अक्चा मुझे तो ब्टाया ही नही.

मामी :- हन श्यद भूल गये होंगे.

अक्चा एक्षसेरज़िसे हो जाए तो टेबल पर नास्टा पड़ा है कर लेना में नहा के आती मामी ने कहा.

मैने कहा ठीक है मामी जी.

मैने एक्षसेरज़िसे ख़तम करके नास्टा करने बैठ गया. में नास्टा कर रहा था तभी मामी नहा के बाहर आती.

उन्होने बादामी रंग की मॅक्सी पहन रखी थी और अपने बलों में रब्बर बाँध रही थी. लेकिन रब्बर चिटक कर नीचे पद गया जैसे ही वो रब्बर उठाने नीचे झुकी मेरी निगाहे उनके दूध पर टिक गयी. उन्होने ब्रा नही पहन रखी थी जिससे उनके दूध लटकते दिख रहे थे.

ये देख के मे गरम हो गया. मामी अपने रूम में गयी और सलवार सूट पहन के आई और मेरे पास बैठ गयी. मई नास्टा कर चुका था और सोफे पर बैठ के टीवी देख रहा था. मामी भी मेरे साथ टीवी देखने लगी.

फिर में हिम्मत करके मामी से बोला-

मे :- मामी आप से एक बात पूछनी है..

मामी :- हा पूछो?

मे :- मुझे रोज मम्मी पापा के कमरे से अजीब सी आवाज़े आती.

ये सुनके मामी का चेहरा फटा का फटा रह गया.

मामी :- फिर??

मे :- कभी कभी तो मम्मी की रोने की आवाज़े भी आती जब में जाके पूछता तो वो बोलते की पापा प्यार कर रहे है. मेरी साँझ मे ये नही आया भला प्यार करते तब कों रोता.

मामी ( तोड़ा मुस्कुराते हुए) :- तुम्हारी जब शादी हो जाएगी तब तुम्हे पता चल जाएगा इसका.

मे :- ठीक मामी.

वैसे आप कल किचन में क्या कर रहे थे?

ये सुनकर मामी तोड़ा झेप गयी.

मामी :- में किचन मे कुछ भी तो नही..

मे :- आज भी मम्मी जैसे ही आवाज़े निकल रहे थे आपको कों प्यार कर रहा था..?

मामी :- मुझे प्यार करने वेल अभी कहा है यहा.

ये बोलके मामी चुप हो गयी और थोड़ी साद हो गयी. उनकी आँखो से अंशु आने लगे थे.

मैने उनकी आँखों से अंशु पूछ के बोला आप साद नही हो में ही ना में आपसे प्यार करूँगा-

मामी :- अक्चा मुन्ना..?

(मामी मुझे मुन्ना बुलाती थी)

मे:- हा मामी जी.

मामी :- लेकिन तेरी उमर अभी बहुत छोटी है.

मे :- नही नही मे कोसिस तो करूँगा आपको खुस करने की.

मामी तोड़ा मुकुराइ और बोली चल ठीक है फिर आज तू मुझे खुस करेगा तो तू जो बोलेगा वो दूँगी तुझे.

मे :- ठीक है मामी जी.

मामी :- तुझे पहले सीखना पड़ेगा पहले.

मामी ने टीवी पर ब्लू फिल्म चला दी और मुझे ब्ताने लगी ऐसे ऐसे करना. में ये देख के गरम होने लगा. में भी ब्लू फिल्म देख के मामी को किस करने लगा कभी होठों पर कभी गालों पर कभी गार्डेन पर.

मामी :- अरे तोड़ा धीरज तो रख पहले अकचे से देखले.

में कहा मामी की सुनने वाला था में लगातार मामी को किस कर रहा था.

ये सब से मामी भी गरम हो गयी उन्होने मेरे सारे कपड़े निकल दिए और मुझे सोफे पर लेता दिया. अब वो मेरे नंगे बदन को छत रही
जैसे भूखी सेरणी अपने सीकर को नोच खाती.

लगभग 10 मिन्स की चूमा छाती के बाद उन्होने मेरे लंड को अपने मूह मे ले लिया और चूसने लगा. अब मेरा लंड टन के खड़ा हो चुका था उनकी गुफा में घुसने को.

मामी :- तेरा लंड तो तेरे पापा के लंड से भी बड़ा है.

मुझे ये सुनकर अजीब लगा की मेरी मामी मेरे पापा से भी छुड़वा चुकी है.

मे :- आप पापा के साथ सेक्स कर चुके हो??

मामी :- हन तेरे पापा जब भी आते मुझे छोड़ के जाते है.

फिर मैने बात पलते हुए पूछा-

पापा ज़्यादा मज़े देते या फिर मामा जी?

मामी :- तेरे पापा, तेरे मामा का लंड ज़्यादा बड़ा नही है.

फिर मामी ने भी एक एक करके अपने सारे कपड़े खोल दिए. वो मेरे सामने एक दूं नंगी थी मेरा मॅन था अभी अपना लंड छूट में घुसा डू. लेकिन मामी ने छूट को मूह से चाटने को बोला.

में भी लापाद लापाद करके उनकी छूट को चाटने लगा थोड़ी देर में उनकी छूट ने पानी छोड़ दिया. मामी ने मुझे अपने उपर लेटया और मेरे होठों को अपने होठों से लगा के किस करने लगी.

लगभग 5 मिनिट्स की किस्सिंग के बाद-

मामी :- चलो बेडरूम में चलते.

दोनो एक दूं नंगे हॉल से बेडरूम में चले गये. मामी ने अपनी अलमारी से एक गोली मुझे दी.

मे :- ये क्या है मामी जी?

मामी :- ये वियाग्रा है पहली बार करते है तो थोड़ी देर में निकल जाता एस ख़ाके करोगे तो काफ़ी देर टीके र्होगे.

मैने झट से गोली खाली. मामी मेरे बदन को चूम रही थी और में उनके नंगे बदन पर हाथ सहला रहा था थोड़ी देर बाद हम दोनो बिस्तेर पर आ गये. मामी मेरे आयेज चिट लेट गयी और मुझे अपने उपर आने को लगा.

फिर मामी ने अपने पेर फेला लिए.

मामी :- अपने लंड के सूपड़े को धीरे धीरे मेरी छूट पर रागडो.

मैने भी ऐसा ही किया.

मामी :- अब एक झटके के साथ अंदर डाल दो..

मैने झटका मारा तो मेरा लंड सीधा अंदर छूट में समा गया उनकी छूट दिल्ली हो चुकी थी जिससे मेरा लंड एक बारी में अंदर घुड़ गया. फिर मैं एशे ही लंड को अंदर बाहर करने लगा.

मामी :– उुउऊहह आअहह उउईई ुआअहह.. ज़ोर से छोड़ूऊ आहह..

मैं भी धक्को की स्पीड तेज़ करने लगा..

मामी :- आअहह मजाआ एयेए राअ उुआहह ओररर जोर्र्र सीई आहह..

मैने भी अपने स्पीड बड़ा दी और ज़ोर ज़ोर से छोड़ने लगा.

मामी :- उूुुुउउइई माआ मज्जाअ आआ राअ आहह…

लगभग 15 मिन्स को चुदाई के बाद में झाड़ गया और हम अलग हो गये.

मामी :- बहुत मज़ा आया.

मे :- सूची?

मामी :- तूने तो अपने बाप से भी ज़्यादा मज़ा दिया.

में ये सुनकर अंदर से खुस हो रहा था.

फिर अगले 3 दिन तक हुँने घमासान चुदाई की किचन बेडरूम वॉशरूम हॉल हर जगह हम चुदाई करते. हम घर में नंगे ही घूमते जब मॅन करता चुदाई कार्यकर्म शुरू हो जाता.

3 दिन बाद मेरे कज़िन भी घर आ गये थे. अब हुमारा दायरा सीमित हो गया हम सिर्फ़ रात को ही सेक्स कर पाते थे. आहे ही 5 और रात हुँने चुदाई की फिर में अपने गाओं आ गया.

यह कहानी भी पड़े  kamukta भाजी वाला के साथ सेक्स किया

error: Content is protected !!