मामा ने बनाया भांजी को चोदने का प्लान

सबसे पहले सॉरी इस पार्ट को लाते पोस्ट करने के लिए. आक्च्युयली और 2 स्टोरीस को लिखने में, और रीडर्स के मेल्स, छत, इंस्था ड्म सब के रिप्लाइ में इतना वक़्त ही नही मिल पाता. लेकिन सभी रीडर्स जो मुझसे कॉंटॅक्ट करते है हेल्प के लिए, गाइडेन्स और सजेशन्स के लिए की वो कैसे रिलेशन्स में किसी के साथ ईज़िली सेक्स कर सकते है.

सो सब को सबर के साथ सुन कर, उनकी सिचुयेशन को समझते हुए उन्हे सॅटिस्फाइयिंग आन्सर देना पड़ता है. इसलिए इस वाली स्टोरी का पार्ट इतना लाते से आ रहा है. कोई बात नही जी, देर आए दुरुस्त आए. चलिए अब देर ना करते हुए स्टोरी को कंटिन्यू करते है.

उस नाइट मैने दी को कुछ किए बिना ही घर आ गया. फिर रात को सोते वक़्त मुझे नींद नही आ रही थी. मेरे दिमाग़ में अब कायरा को छोड़ने की धुन सवार हो गयी. अगर फॉरिन रिटर्न मों की खुली छूट मार कर इतना मज़ा आता है. तो फिर फॉरिन में ही पैदा हुई, वही पाली बड़ी नौजवान बेटी को छोड़ने में कितना मज़ा आएगा?

6 हज़ार वाली रशियन की खुली छूट से भी ज़्यादा मज़ा आएगा उसे छोड़ने में. और मैं सोचने लगा की क्या जुगाड़ लगाया जाए उसके लिए. उसके लिए मेरे पास सबसे बड़ा हथियार जो था, वो था कायरा की डाइयरी. वो अपने सब थॉट्स उसमे लिखती थी, जिसकी वजह से मुझे उसे छोड़ने की स्ट्रॅटजी बनाने में आसानी रहेगी. अब बस इंतेज़ार था, तो मेरे शेर्ड फोल्डर में उसकी डाइयरी की फाइल आने का. मैने नाइट को देखा, तो डाइयरी की फाइल नही आई थी.

मैं सुबह जल्दी उठ गया, और शेर्ड फोल्डर ओपन किया तो उसमे मी डाइयरी-1 करके फाइल थी. मैं उसे फटाफट ओपन करके पढ़ने लगा, उसमे कायरा ने लिखा था:-

डाइयरी: ई मिस्ड योउ मी डाइयरी. तुम्हारे बिना मेरा बुरा हाल था. थॅंक्स तो अंकल (मामा) की तुम मेरे पास वापस आ गयी. अब मैं तुम्हे कभी नही खोने दूँगी. और अभी जो कुछ दिन से मेरी लाइफ में हुआ, मैं तुम्हे बताना चाहती हू.

उस नाइट मों को ऐसे पापा से अनसॅटिस्फाइड हो कर जाते देख मुझे अछा नही लगा. मेरे बस में होता तो मैं मों को ज़रूर सॅटिस्फाइ करती. उस टाइम मों को उस हालत में देख कर मैं अपने आप को रोक नही पाई, और मों को किस कर दिया. फिर उन्होने मुझे थप्पड़ मारा.

ये आपने अछा नही किया मों. आपको पता नही की आपकी बेटी आपसे कितना प्यार करती है. अगर आप उस नाइट मेरे प्यार को समझते हुए मुझे किस बॅक करती, तो उस नाइट मैं आपको पूरा सॅटिस्फाइ करती. जिस छूट को पापा ने आधा छोड़ा था, उसका मैं आचे से पानी निकालती.

मैने इंटरनेट पे सब पढ़ा है, और मैने ये सीखा है की दो गर्ल्स आपस में लोवे कैसे करती है. एक लड़की दूसरी औरत को बेड में सॅटिस्फाइड कैसे करती है. और ये सब मैं आपको हॅपी करने के लिए सीख रही हू. ई लोवे योउ सो मच मों. आपको पाने के लिए मैं कुछ भी कर सकती हू.

और दूसरे दिन अंकल ने मुझे और मेरी फ्रेंड को अछा एंजाय करवाया. पर बाद में पता नही वो क्यूँ वियर्ड बिहेव कर रहे थे. उन्होने मुझे मों को कुछ बताने से माना किया. फिर मेरा फोन ले लिया, और मुझे दूसरा सेकेंड हॅंड मोबाइल दिया.

लेकिन मैने एक बात नोटीस करी है, की पापा के जाने के बाद मों हॅपी सी लग रही है. मुझे लगा था की बिना पापा के लंड के मों उदास हो जाएगी. पर ये तो उल्टा हो रहा है. तो इसका मतलब की क्या पापा के जाने के बाद मों किसी और से?

नही-नही, मों ऐसा नही कर सकती. वो पापा को चीट नही कर सकती. पर हालात ऐसे है की ये हो भी सकता है. मुझे मों पे नज़र रखनी पड़ेगी. क्यूंकी अगर ऐसा है की मों किसी और का लंड अपनी छूट में ले रही है, तो फिर मेरी छूट का मों की छूट से मिलने का रास्ता ईज़ी हो जाएगा. अब मुझे बस इसे वारीफी करना है.

कुछ दीनो से पापा के जाने के बाद अंकल का भी घर पे आना-जाना बढ़ गया है. शायद अपनी अकेली दी को हेल्प करवाने के लिए. वॉटेवर, पर उनका यू मों के साथ टाइम स्पेंड करना अछा नही लगता. ई विश के वो घर पे रहे, और मुझे मों के साथ टाइम स्पेंड करने दे.

अछा मी डाइयरी, नाइट बहुत हो चुकी है. कल बात करेंगे, गुड नाइट.

कायरा की डाइयरी पढ़ कर मेरा दिमाग़ तो चकरा गया, की इस लड़की की सोच तो देखो. फॉरिन में रह कर ये कितनी बड़ी सोच रखती है. और अपनी मों को छोड़ना चाहती है. और मुझे साइड में करके मेरी दी को अकेली एंजाय करना चाहती है. अब तो इस लड़की को पक्का छोड़ना है.

फिर 2 दिन छ्चोढ़ कर मैं शाम को दी के घर गया. अब मुझे कायरा को छोड़ने की तलब होने लगी थी. ये 2 दिन मैं दी के साथ व्हातसपप पे सेक्स छत करता था, और दी को भी मेरे बड़े लंड से चूड़ने में मज़ा आता था. उसको भी पता था की जब तक उसका हब्बी बाहर था, उसे मेरा लंड लेने की पूरी फ्रीडम थी. और मैं दी को तोड़ा तडपा के छोड़ना चाहता था.

उस टाइम कायरा टीवी पे कुछ देख रही थी, और दी अंदर किचन में थी. मैं कायरा को हेलो बोल कर किचन में गया, क्यूंकी मुझे पता था की कायरा मुझे ज़रूर देखेगी. मैने किचन में जेया कर दी को पीछे से उनकी कमर को पहले पकड़ा, और फिर आयेज हाथ ले जाते हुए उन्हे हग किया.

फिर उनके बूब्स को भी हल्का सा टच किया. ये सब कायरा बाहर से देख रही थी, और मैं भी यही चाहता था. क्यूंकी मेरा अगला मूव इसके बसे पे ही था. फिर दी ने मुझे हटाया, क्यूंकी कायरा बाहर थी, वरना दी आज फिरसे किचन में चुड जाती. दी से कुछ बात करके मैं कायरा के सामने आ कर सोफे पे बैठा.

कायरा: आपको नही लगता की आप को मों को ऐसे हग नही करना चाहिए?

मे: हेलो, वो तुम्हारी मों बाद में है, पहले मेरी सिस्टर है. और मैं उनसे हमेशा ऐसे ही टाइट हग करता हू. तुम फॉरिन में रह कर भी इतनी पिछड़ी थिंकिंग रखती हो?

कायरा: अर्रे ऐसी बात नही है.

मे: तो फिर कैसी बात है? तुम तो ऐसे बिहेव कर रही हो की वो तुम्हारी मों नही, तुम्हारी वाइफ या गफ़ हो, और मेरा उन्हे ऐसे टच करना तुम्हे अछा ना लगा हो. ऐसे रिलेशन्षिप में कोई दी को लीके करता तो समझ सकता हू.

कायरा: तो क्या किसी को लीके करने के लिए उसका गफ़ या वाइफ होना ज़रूरी है क्या?

मे: इंडिया में तो ज़रूरी है. अब फॉरिन का पता नही (और मैं हासणे लगा). वाहा पे तो जाने कों-कों किस-किस को लीके करता है, मों बेटे को, बेटा मों को, देवर अपनी भाभी को, (कायरा की और देखते हुए) बेटी अपनी मों को लीके करती है, (और दी की और प्यासी नज़रो से देखते हुए) और ईवन भाई अपनी बेहन को, भले ही उसकी शादी ही क्यूँ ना हो जाए (ये लास्ट लाइन मैने धीरे से बोली, पर उतनी आवाज़ में की कायरा उसे सुन ले).

कायरा: ह्म.

मे: और मैने तो सुना है की वाहा पे तो खुल के एंजाय भी करते है (अब मैं कायरा को ओपन्ली वो लोग चुदाई करते है ऐसा तो नही बोल सकता ना). और तुम अपनी मों को लीके करती हो तो ये कोई नयी बात नही. क्यूंकी तुम्हारी मों है ही चीज़ ऐसी. (मैं ये दी को देखते हुए बोल रहा था, की कायरा मुझे नोटीस करे) एक दूं मस्त लड़की, ऑल्वेज़ स्माइलिंग, सब का ख़याल रखती है, सब को प्यारी लगती है, काम, अंडरस्टॅंडिंग.

मे: बचपन से ही वो हर चीज़ में मेरी फेवोवरिट है. पढ़ाई में भी अची, घर का काम, कुकिंग, ड्रॉयिंग, डॅन्सिंग, सिंगिंग सब में वो अची थी. मैं हमेशा से ही उसको आडमाइर करता हू.

कायरा: और लुक वाइज़?

मे: लुक वाइज़ बोलू तो उसने अपना फिगर कितने आचे से मेनटेन किया है. इस आगे में भी वो कॉलेज गर्ल लगती है. किसी आंगल से वो एक लड़की की मों नही लगती. उसके लंबे बाल, उसका ड्रेसिंग स्टाइल, उसका हेर स्टाइल सब एक-दूं पर्फेक्ट है. बोले तो पर्फेक्ट हाउस वाइफ.

कायरा को भी अपनी मों की तारीफ सुन कर मज़ा आ रहा था.

कायरा: और अंकल, और क्या नोटीस किया है अपने मों में?

मे: तुझे क्यूँ जानना है ये सब? क्या तू उसे इतना लीके करती है क्या (ये सुन कर कायरा ने अपना सिर शरमाते हुए झुका दिया)?

मैने उसकी ठुड्डी पकड़ कर उसका फेस उपर किया. (मॅन तो किया की इन रसीले होंठो को अपने होंठो में भर लू, पर वो दिन आज नही था).

मे: देख शर्मा मत, जब तू भी अपनी मों को लीके करती है, तो फिर मैं भी तुझसे अपना सीक्रेट शेर करना चाहता हू की ई ऑल्सो लीके हेर.

ये सुन कर कायरा थोड़ी शॉक हो गयी ( या शॉक दिखने का नाटक करने लगी). मैं अब कायरा को तोड़ा अपने साथ ओपन करना चाहता था, इसलिए मैं उसकी मों की तारीफ उस तरह से करने लगा, की वो मेरा इरादा समझ जाए.

मे: सच बतौ तो तूने पूछा था ना लुक वाइज़ तेरी मों कैसे है? तो सुन (दी की और उन्हे छोड़ने की नज़र से देखते हुए). सबसे उपर से शुरू करे तो उसके बालों की खुश्बू पागल कर देती है. उसकी आँखें इतनी नशीली है की बिना पिए ही सब को उसका नशा हो जाता है. उसके होंठ इतने मुलायम और गुलाबी है, की एक बार जो उनका टेस्ट कर ले, ज़िंदगी भर और कुछ नही माँगेगा.

मे: पतली गर्दन और उसके नीचे उसके सीने का उभार. उसके बूब्स अभी भी इतने गोल और टाइट है की उन्हे मसालने से कोई अपने आप को रोक नही सकता. उसके निपल्स को मूह में लेकर पीने का क्या मज़ा आएगा. अगर सारी के उपर से ही इतने मस्त दिखते है, तो बिना किसी कपड़े के कैसे लगेंगे? मैं तो सिर्फ़ इमॅजिन ही कर सकता हू.

मे: उसके नीचे उसकी पतली कमर, आज भी किसी लड़की को टक्कर दे सकती है. उसको दोनो हाथो में पकड़ के उसे उठाने का जी कर रहा है. उसकी नीचे उसकी भारी हुई थाइस, आ, क्या कमाल है. और असली कमाल की चीज़ तो उनके बीच में.

जान-बूझ कर मैने इस सेंटेन्स को आधा छ्चोढते हुए कायरा की और देखा. तो उसका मूह खुला का खुला रह गया था. शायद उसने मेरे मूह से अपनी मों की इस तरह की तारीफ की आशा नही की थी. पर मुझे डाइयरी के ज़रिए कायरा का लेवेल पता था, और मुझे जल्द से जल्द कायरा को उसकी मों की तरह अपने आयेज घोड़ी बनाना था. क्यूंकी जीजू का काम अगर जल्दी ख़तम हो जाता, तो वो कभी भी वापस आ सकते थे.

और एक बार अनु दी की तरह मैने कायरा की टेस्ट ड्राइव कर ली, तो फिर कोई चिंता नही. और उसके लिए मुझे कछुए की तरह स्लो आंड स्टेडी विन्स थे रेस नही, फास्टर आंड रिस्क टेकर फक्स थे गुड फेस वाला बनाना था. सो, कायरा के साथ मैं खुद ही अब ओपन होने लगा.

मे: अर्रे बेटा, मैं कुछ ज़्यादा तो नही बोल गया (मासूम सा बनते हुए, जैसे मुझे कुछ पता ही नही की मैने क्या बोला).

कायरा: आपको पता है ना की आप अपनी दीदी को डिस्क्राइब कर रहे थे, जो मेरी मों भी है?

मे: वो बेटा, मुझे तो कुछ याद ही नही की मैने कों से वर्ड्स उसे किए थे. अगर तुम्हे कुछ बुरा लगा हो सुन के तो सॉरी. पर जो भी वर्ड्स निकले होंगे, उनसे तुम भी अग्री करोगी. ये मुझे यकीन है.

कायरा: ह्म.

मे: तुझे तेरी मों कैसी लगती है ( कायरा तोड़ा शर्मा गयी, पर मुझे उसकी शरम तुड़वणी थी)? अर्रे बता भी दे अपनी फीलिंग्स. देख मुझे पता है की तू भी उसे लीके करती है. पर तेरी लाइकिंग किस तरीके की है, और तू कहा तक जाना चाहती है, अगर ये मुझे बताएगी, तो शायद मैं तेरी हेल्प कर पौ. और लगे हाथ तू मेरी भी कुछ हेल्प कर देना.

कायरा (तोड़ा सा मॅन ही मॅन मुस्कते हुए): अंकल आप बताओ, की आप किस हद तक जाना चाहते हो?

मे: मैं? देख बेटा, तूने अपनी मों को कुछ साल पहले से ही देखा होगा. और शायद तब से वो थोड़ी ही चेंज हुई होगी बॉडी वाइज़. पर मैने तो उसे बचपन से अपनी आँखों के सामने बड़ा होते हुए देखा है. उसकी पूरा बॉडी, उसका फिगर चेंज होते हुए देखा है. उसको काली से फूल बनते हुए देखा है (उसके बूब्स की तरफ देखते हुए). तेरे इस साइज़ से उसके इस साइज़ तक चेंज होते हुए देखा है.

मे: तो अगर कुछ सालों में तू उसे इतना लीके करती है, तो तू अपनी लिमिट को सोच. फिर मेरी लिमिट का अंदाज़ा लगा की मैं तेरी मों के साथ किस हद तक जेया सकता हू.

उतने में सामने अनु दी किचन से बाहर निकल रही थी, और मैने कायरा को ये सोचता हुआ देख वही छ्चोढ़ दिया. क्यूंकी मुझे लगा की कायरा यू शायद फेस तो फेस ओपन ना हो, पर ओं छत ज़रूर ओपन होगी. क्यूंकी जो चीज़ अक्सर हम बोल नही सकते, वो वर्ड्स/फीलिंग्स हम आसानी से टाइप करके बता सकते है.

सो गाइस, ये स्टोरी आपको कैसी लगी आप कॉमेंट्स में ज़रूर बताईएएगा. आप हमसे गमाल/घ्छत (लज़्यलीहास@गमाल.कॉम) पे कनेक्ट कर सकते है. नेक्स्ट पार्ट, जल्द ही उपलोआड होगा और रसीले मसाले के साथ.

यह कहानी भी पड़े  एक सेक्स की उमिद वित हॉट कज़िन सिस्टर


error: Content is protected !!