मा से मोहब्बत

ही फ्रेंड्स,

मेरे नाम अंश है. मेरी उमर 24 साल है और देल्ही का रहना वाला हूँ. ये मेरी पहली कहानी है. ये कहानी मैने काफ़ी सोचने के बाद लिखी है क्यूकी ये मेरी ज़िंदगी की साची कहानी है जो मई किसी को बता नही सकता लेकिन यहा पर ज़रूर शेर करना चाहता हू.

अप लोगो के साथ आज मई अपनी ज़िंदगी की कहानी शेर कर रहा हूँ. कुछ कमी रह जाए तो मुझे माफ़ कर देना.

सबसे पहले मे अपने परिवार के बारे मे सबको बताता हूँ. मेरी फॅमिली मई मेरी छोटी बहन आयुषी, मम्मी शैलजा और पापा रमेश है. पापा की कोई जॉब नही है छोटा मोटा काम करते है और जो कमाते है उसकी दारू पी जाते है डेली.

मम्मी हाउस वाइफ है और घर मे ही कुछ कभी कभी छोटा मोटा काम कर लेती है पैसा कमाने के लिए. मम्मी ने ही हम दोनो भाई बेहन को पाल पॉस के बड़ा किया है. बेहन ब्स्क कॉलेज की पढ़ाई कर रही है और मई दूसरे सिटी मे जॉब करता हूँ.

अब सीधे कहानी पर आता हूँ जो की है मेरे और मम्मी के बीच. मम्मी की उमर देखने मे कम लगती है. उनकी स्लिम बॉडी है, फिगर 32-28-34 है. वो जड़तर सारी ही पहनती है और कभी कभी सूट और रात मई मॅक्सी.

वो देखने मई काफ़ी खूबसूरत है, रंग एक दम दूध की तरह गोरा. हाइट भी 5 फीट 6 इंच. उनको घर पर ही रहना पसंद है. जाड़ा लोगो से वो मिलती जुलती नही है. मम्मी को मैने कभी गंदी नज़र से नही देखा, आज तक नही. उनके लिए मेरा प्यार बस बढ़ता ही रहा.

ये कहानी एक साल पहले की है जब मे कॉलेज पास करने के बाद दूसरे सिटी मे जॉब करने लग गया था. पहली बार अपनी फॅमिली से अलग रह रहा था तो मुझे सबकी याद आ रही थी, सबसे जाड़ा मम्मी की.

मई रोज फोन पर बात करने ल्गा मम्मी से. ऑफीस मे होता तो उनके बारे मे सोचता रहता की कैसे हम दोनो भाई बहन के लिए इतनी महनत की है आर मुझे उनके लिए कुछ करना है. शाम को रूम मे जाते ही मम्मी को फोन लगा देता आर बात करने ल्गता.

धीरे धीरे मई मम्मी को काफ़ी मिस करने लगा और मई उनसे खुल कर अपनी फीलिंग्स शेर करने लगा. एक दिन मैने उनसे पहली बार कहा ई मिस योउ सो मच आंड ई लोवे उ आ लॉट. मम्मी भी ये सुन कर काफ़ी एमोशनल हो गयी और उन्होने भी रिप्लाइ मे ई लोवे योउ कहा. हम दोनो का प्यार मा बेटे वाला था अभी तक.

6 महीने बाद जब मुझे ऑफीस से छुट्टी मिली तब मई घर आया. मई घर पर गया तो सिर्फ़ मों ही घर पर थी. मों ने गाते खोला. उन्होने रेड कलर का सूट पहना हुआ था. मैने उन्हे नही बताया था की मई आज आने वाला हूँ.

वो मुझे देख कर बहुत खुश हुई और मुझे सीने से लगा लिया. हम दोनो काफ़ी देर तक ऐसे ही गले लगे रहे. मों का टच मुझे बहोट अछा लग रहा था. फिर हम दोनो अलग हुए मों ने मेरे माथे पर किस किया, मैने भी उनके गाल पर किस किया.

अगले दिन मैने मों से कहा माल घूमने चलते है. मों राज़ी हो गयी. उन्होने ग्रीन कलर का सूट पहना. हम बिके से दोनो माल चले गये. व्हा मैने मों से कहा मुझे आप को ढेर सारी शॉपिंग करनी है. पहले तो वो म्ना करने लगी लेकिन फिर मान गयी.

मैने उन्हे कई सूट और सारी सेलेक्ट करवाई. वो हर बार ट्राइयल रूम मे पहन कर मुझसे पूछती थी कैसी लग रही हू. मई उन्हे ख्ता बहोट खूबसूरत, तो वो मुस्कुरा देती.

फिर एक जगह अंडरगार्मेंट्स का सेक्षन आया, तो वो तोड़ा जाने मे हिचक रही थी, मैने कहा मों आपको शरमाने की क्या ज़रूरत है मे आपका बेटा हू. आप ले लीजिए तो वो मान गयी. वाहा एक सेल्स गर्ल ने ब्रा पनटी का सेट सेलेक्ट करवाया, मों उसको ट्राइ करने चली गयी.

मों के जाने के बाद यूयेसेस सेल्स गर्ल ने कहा की आपकी वाइफ पर ये ड्रेस भी काफ़ी सूट करेगी. वो एक वेस्टर्न ड्रेस थी. पहले तो मे चोंक गया की उसने मों को मेरी वाइफ बोला. फिर सोचा र्हने देता हूँ पता नही ये क्या स्कोहने लगेगी अगर इसको सच बता दिया तो. मैने वो ड्रेस भी सेलेक्ट कर ली मुझे भी वो अची लगी.

फिर हम दोनो माल मई कुछ खाने बैठ गये. मई यूयेसेस सेल्स गर्ल की वाइफ वाली बात के बाद सोच रहा था की मों को पापा कभी ऐसे घूमने नही लाए, मों भी काफ़ी खुश है. मों को भी इसका अधिकार है. फिर हम खाना खा कर घर चले गये. रात को मई मों के बारे मे सोचते सोचते ही सो गया पता नही चला.

अगली सुबह मई तोड़ा देर से उठा. मों ने नाश्ता तैयार किया हुआ था. उन्होने एक ब्लॅक सारी पहनी हुई थी. उसमे वो बहोट ही जाड़ा खूबस्ुरुत लग रही थी. मई उन्हे देखता ही रह गया. मों ने मुझे आवाज़ दी तब मई होश मई आया.

मैने उन्हे गले लगा कर गुड मॉर्निंग कहा और बोला आप बहोट खूबसूरत हो मों. उन्होने थॅंक्स बोल कर कहा ई नो और हास दिए हम दोनो ही. मैने मॅन ही मॅन अब सोच लिया था की मुझे अपनी मों को ही प्यार करूँगा और उन्हे सारी खुशियाँ ला कर दूँगा.

ऐसे ही बात चीत करते करते सारा दिन बीट गया. शाम को बेहन भी घर आ गयी तो मई उसके साथ बिज़ी हो गया.

रात को पापा घर आए, उन्होने दारू पी रखी थी. देर रात को वो मों से लड़ाई कर रहे थे उसकी आवाज़ मेरे रूम तक आ रही थी. मुझे बुरा लग रहा था लेकिन मैने यूयेसेस वक़्त कुछ नही बोला और कुछ देर बाद मई सो गया.

अगली सुबह क्या हुआ वो मई आपको अगले पार्ट मई बतौँगा. कैसे मैने मों को प्यार का इज़हार किया ये सब. आपको कहानी कैसी लगी मुझे ज़रूर मैल करें. ये कहानी मेरी ज़िंदगी की साची कहानी है.

यह कहानी भी पड़े  मा को चोदने के बाद बहें को चोदने की इच्छा

error: Content is protected !!