मा को चोदने के बाद बहें को चोदने की इच्छा

मम्मी की रिक्वेस्ट पर मैने अपना बॉक्सर उतार दिया. मेरा लंड उच्छल के उनके सामने आ गया और उसे देखकर उनका मूह खुला हो गया.

मम्मी: अब तक मेरा सिर्फ़ रोमॅन्स करने का मूड था लेकिन इसे देखकर लग रहा है अब मुझे छुड़वाना ही पड़ेगा

उन्होने लंड को पकड़ के हिलना शुरू किया और मैं सिसकारियाँ लेने लगा. कुछ देर बाद मैं पूल के साइड मे बैठ गया. मम्मी मेरे पास आई और उन्होने मेरे पैरो को खोल दिया और वो मेरे बॉल्स को चूसने लगी.

झट से मेरे मूह से सिसकारी निकल गयी. वो बॉल्स को बहुत ही मज़े से चूसने लगी थी. बीच बीच मे वो लंड को हिलती और उसे चूम रही थी. मम्मी ने मेरी कांवासना को चरम पर पहुँचा दिया था.

नील: मम्मी आप मेरा लंड चूस्ते हुए बहुत हॉट लगती हो प्लीज़ इसे चूसो ना

मम्मी: हॅट बदमाश!!

और उन्होने अपने बालो को अकचे से बाँध लिया फिर वो प्रॉपर ब्लोवजोब देने के लिए तैयार हो गयी. उन्हे देखकर ऐसा लग रहा था जैसे उन्होने कोई ब्लोवजोब देने का कोर्स किया था. वो इतनी कामुक लग रही थी.

उन्होने लंड को कुछ देर तक यहाँ वहाँ किस किया और अचानक से उसे अपने मूह मे ले लिया. एक सेकेंड के लिए मेरी धड़कन ही रुक गयी और मैं ज़ोर से मुम्मय्यी बोल के चिल्लाया. उफ़फ्फ़ वो फीलिंग मैं आपको बता नही सकता. मैं खुद को बहुत लकी समझता हूँ ब्कोज़ मैं अपनी मा और बहें दोनो की कांवासना को शांत कर रहा था.

मम्मी मेरी आँखों मे देखते हुए लंड चूस रही थी. जब हम एक दूसरे की आँखों मे देख रहे थे तो उनकी आँखों मे अजीब सी आग नज़र आती थी जो मैने कभी नही देखी. ब्लोवजोब देते हुए उन्हे देखना मेरे लिए सबसे स्पेशल मोमेंट था. उस वक़्त वो दुनिया की सबसे खूबसूरत औरत दिख रही थी.

एक हाथ से वो मेरे लंड को हिलाते हुए उसे उत्तेजित करते हुए लंड चूस रही थी. वो पूरी तरहा से लंड को अपने मूह मे भर लेती और फिर बाहर निकलती. ये दृश्या बार बार देखकर मेरे अंदर की आग बहुत जोरो से भड़क रही थी. उनके नाज़ुक से होंठों मे मेरा दमदार लंड था और वो उसे मज़े लेते हुए चूस रही थी. लंड के प्रेकुं को वो बड़े ही मस्ती से चाट रही थी.

कुछ देर बाद हम अलग हुए और मैं ज़ोर ज़ोर से हाफ़ रहा था. मैं इतने जोश मे था के उन्हे खा जाने का मॅन कर रहा था. मैं सबसे ज़्यादा जोश मे तभी होता हूँ जब अपनी बहें या मम्मी के साथ रोमॅन्स करता हूँ और जोश इतना स्ट्रॉंग होता है के उसे कंट्रोल करना बहुत मुश्किल होता है.

नील: ट्रस्ट मे आप बहुत हॉट लग रही थी

मम्मी: थॅंक्स बुत मुझसे भी ज़्यादा हॉट तो तुम्हारा लंड है जो मुझे बार बार उसे चूसने पर मजबूर कर देता है

उनकी बात सुनकर मैं काफ़ी जोश मे आ गया और मैने वहाँ मम्मी को लिटा दिया और खुद उनके उपर आ गया.

मम्मी: आहह प्लीज़ मुझे छोड़ बेटा तुमने ये आग लगाई है अब इसे शांत करना तुम्हारी ज़िम्मेदारी है… फुक्कक मे हार्ड बाबययी

वो अपने बेटे चूड़ने के लिए तड़प रही थी. मैं इतना जोश मे था के मेरी बॉडी काप रही थी. मेरा लंड उनकी छूट मे जाएगा तभी मुझे रहट मिलने वाली थी.

पूल मे नहाने की वजह से हम दोनो गीले हो चुके थे. मैं उनके उपर आ चुका था और उन्होने अपने दोनो पैरो को फैलते हुए मुझे इशारा किया. मैं साँझ गया और झट से उनके पैरो के बीच मे आया.

मेरा लंड उनकी छूट के उपर रब हो रहा था जिसे वो बहुत गरम हो रही थी. अपने बेटे का लंबा लंड लेने के लिए वो काफ़ी बेचैन हो रही थी.

सूरज की रोशनी मे उनका गोरा बदन चमक रहा था जिससे वो दुनिया की सबसे खूबसूरत औरत नज़र आ रही थी. हम दोनो एक दूसरे की आँखों मे खो चुके थे. उस वक़्त वो एक जलपरी लग रही थी जो मेरे सामने बिना कपड़ो के लेती हुई थी.

हम दोनो उस पल मा बेटा ना होकर एक मर्द और औरत बन चुके थे जिन्हे बस एक दूसरे से प्यार ही करना था. मेरी नज़रे उनके जिस्म के उपर थी. उनके बड़े और सुंदर बूब्स मुझे अपनी तरफ आकर्षित कर रहे थे. वो काफ़ी बड़े थे. मैने अपने हाथ आयेज बढ़ते हुए उन्हे अपने हाथों मे पकड़ लिया लेकिन वो मेरे एक हाथ मे समा नही पा रहे थे. तब मुझे एहसास हुआ के मेरी मम्मी कितनी मादक औरत है. उनके जिस्म का हर हिस्सा कितना खूबसूरत है.

नील (उनके बूब्स को दबाते हुए): मम्मी आपको ऐसे देखकर मुझे पापा से जलन हो रही है

मेरी बात सुनकर मम्मी शर्मा गयी

मम्मी: साँझ सकती हूँ तुम्हारी फीलिंग्स को… जवानी मे वो मुझे बहुत छोड़ते थे. बिल्कुल तुम्हारी तरहा वो मेरे दीवाने हुआ करते थे.

नील: लेकिन मैं आपको उनसे भी ज़्यादा छोड़ना चाहता हूँ

मम्मी: तुम उनसे काई ज़्यादा बेहतर हो तभी मैं तुमसे छुड़वाने के लिए राज़ी हुई हूँ. मैं भी तुम्हारा लंड लेने के लिए पागल रहती हूँ. हर रात तुम्हे याद करके अपनी छूट मे उंगली करती हूँ

उनकी बात सुनकर लग रहा था के वो सच मे मुझसे कितना चूड़ना चाहती है. उनकी बातें सुनकर मैं काफ़ी जोश मे आ गया और उनके पेट को चूमने और चाटने लगा. मम्मी सिसकारियाँ लेते हुए मुझसे बात करने लगी.

मम्मी: बस यही चाहती हूँ के मेरे दिन का एंड तुमसे चूड़ते होता रहे

इतना सुनते ही मैने उनके होंठों को चूसना शुरू कर दिया. वो भी मेरा साथ देते हुए किस करने लगी. हम दोनो काफ़ी वाइल्ड तरीके से एक दूसरे के होंठ चूस रहे थे. मेरा लंड उनकी छूट को रब करते हुए च्छेद रहा था जिसका ये असर था. उनकी साँसे तेज हो चुकी थी. शायद वो अपना होश खो बैठी थी और उनके दिमाग़ पर हवस ने काबू कर लिया था.

मैं उनकी गर्दन पर पागलो की तरहा चूमने लगा और वो मेरा नाम लेते हुए चिल्ला रही थी. ये बहुत वाइल्ड किस्म का प्यार था. उन्हे अपने बेटे मे एक जवान लड़का मिल गया था जो उनकी आग को शांत कर सके. और मुझे वो औरत मिल गयी जिसे मैं दिन रात बेड पर प्यार करना चाहता था.

मैने उनके बूब्स को मूह मे लेकर चूसना शुरू कर दिया. उनके बूब्स बहुत बड़े थे इसलिए काफ़ी मुश्किल था उन्हे पूरा मूह मे लेना. मम्मी मुझे सहलाते हुए उकसा रही थी.

उन्होने अपने पैरो से मेरी कमर को जाकड़ लिया था जिससे पता चल रहा था के वो कितनी डॉमैनेटिंग किस्म की औरत है. ह्यूम डिस्टर्ब करने वाला कोई नही था इसलिए हुमारा ये पागलपन आयेज चलता जेया रहा था.

मैं उनके प्यार मे डूब चुका था और उन्हे हर जगह अपने नाख़ून चुभाने लगा. मैं ये बताने की कोशिश कर रहा था के आज के बाद वो मेरे अलावा किसी और से नही चुडवाएगी. वो भी उस बात का समर्थन करते हुए मेरी पीठ पर अपने नाख़ून चुभाने लगी.

मम्मी की छूट से कमरस की नदियाँ बह रही थी और मैं भी बहुत वाइल्ड हो रहा था इसलिए मैने अपने लंड उनकी छूट पर रखा और उसे अंदर डालने के लिए तैयार करने लगा. मम्मी ने मेरे बालो को सहलाते हुए इशारा कर दिया के वो लंड लेने के लिए तैयार थी.

मैने उन्हे तोड़ा और सताने के लिए छूट के होंठों पर लंड को रब करने लगा. उन्होने मेरे कान को होंठों मे पकड़ा और चूसने लगी. फिर उन्होने दोनो हाथों से मेरी कमर को पकड़ लिया और अपनी तरफ खीचने लगी.

मैने भी उन्हे छोड़ने का मॅन बना लिया और ज़ोर से धक्का मारा. मम्मी इससे पहले भी मुझसे छुड़वा चुकी थी इसलिए झट से लंड उनकी छूट के अंदर चला गया और ज़ोर से मेरा नाम लेकर चिल्लाई. उनकी छूट काफ़ी गरम हो चुकी थी. धीरे धीरे मैने धक्के लगाने शुरू कर दिए. कुछ देर बाद मैने उनकी गर्दन को पकड़ लिया और उनके होंठों पर हमला बोल दिया.

मैं बुरी तरहा से उनके होंठ चूसने लगा. उन्होने भी मुझे सिड्यूस करने की कोई कमी नही छ्चोड़ी. मम्मी ने नीचे से कमर उठाते हुए लंड को अपने अंदर लेने की कोशिश करने लगी. हम दोनो एक रिदम मे चुदाई कर रहे थे जिसका अलग ही मज़ा आ रहा था.

एक दूसरे की आँखों मे देखते हुए हम खो गये थे. मैं उन्हे हर जगह चूम रहा था. वो भी मेरा साथ देते हुए मुझे जोश दिला रही थी. मैं पूरी तरहा से लंड को बाहर निकल के फिर से अंदर डाल रहा था जिससे मम्मी उसे ज़्यादा फील कर रही थी. उनके होंठ इतने खूबसूरत लग रहे थे के मेरा मॅन कर रहा था एक बार मैं उनके होंठों को छोड़ साकु.

यकीन नही हो रहा था वो उस आगे मे भी इतनी हॉट कैसे लग सकती थी. एक 24 साल का उनका अपना बेटा उन्हे पागलो की तरहा छोड़ रहा था.

कुछ देर बाद मैने धक्को से स्पीड बढ़ा दी जिससे मम्मी ज़ोर ज़ोर से चिल्लाने लगी. उनकी आवाज़ सुनकर मेरा जोश और बढ़ने लगा. मैं उन्हे काफ़ी ब्रूटली छोड़ने लगा. हम दोनो पसीने से भीगने लगे थे. इतनी तेज लंड से चूड़ने की वजह से उन्होने मेरी गर्दन को ज़ोर से बीते करना शुरू किया जिससे मुझे दर्द होने लगा.

उस वक़्त मैं साँझ गया था के वो झड़ने के बहुत करीब है इसलिए मैने और तेज़ी से उन्हे छोड़ना शुरू किया. कुछ देर बाद वो झाड़ गयी और ज़ोर ज़ोर से साँसे लेने लगी. मैं अभी भी आक्टिव था और उन्हे ज़ोर ज़ोर से छोड़ रहा था. उन्होने मुझे छोड़ते हुए देखा और कहा

मम्मी: आहह एसस्स एस्स आहह बेटा ऐसे ही छोड़ो आहह उम्म्म तुम बहुत अकचे आए छोड़ते हो आहह यअहह बाबययी एआहह एआहह यअहह फुक्ककक मे हर्दरर्र बाबययी आहह उम्म्म डार्लिंगगग ई लोवे ौउूउ आहह

उनकी बातें सुनकर मुझे बहुत मज़ा आने लगा था. तभी उन्होने कहा

मम्मी: नील मैं तुम्हारा कम पीना चाहती हूँ… बहुत मॅन कर रहा है

उन्होने मेरे मॅन की बात सुन ली थी. मैं झट से खाद हुआ और उनके पास गया. उन्होने लंड पकड़ के मूह मे लेकर चूसना शुरू किया. मैं ऑलरेडी पीक पर था इसलिए मैने डाइरेक्ट्ली धक्के लगाने शुरू कर दिए और मैं उनका मूह छोड़ने लगा.

देखते ही देखते मेरा आधे से भी ज़्यादा लंड उनके गले मे उतार चुका था. उन्हे इस तरहा देखकर मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. अपनी मा को इस तरहा प्यार करना हर बेटे का सपना होता है. मैने उनकी गर्दन को पकड़ा और ज़ोर ज़ोर से छोड़ने लगा.

कुछ देर बाद मेरे लंड से जोरदार पिचकारी निकली जिसने मम्मी का पूरा मूह भर दिया. मेरे लंड से निकले कम को वो अकचे से पी गयी जिसे देखकर मैं बहुत खुश था.

मम्मी: तुम्हे नही पता जवान लड़के का कम पीने का अलग ही मज़ा आता है. 30+ उमर के इंसान के कम मे वो मज़ा नही रहता

नील: मैं आप के साथ यही करना चाहता था. आपको छोड़ते वक़्त यही सोच रहा था के एक बार फिर से मुझे आपका मूह छोड़ना है. मेरा लंड आप के मूह मे होता है तब आप बहुत हॉट लगती हो

मम्मी: और मैं तुम्हारा लंड चुस्ती हूँ तब तुम्हारे एक्सप्रेशन्स बहुत ही मजेदार होते है. वो देखने मे बहुत मज़ा आता है.

फिर हम दोनो नीचे चले गये और शवर लेकर अपने अपने काम मे लग गये.

देखते ही देखते शाम हो गयी और निधि ने मुझे कॉल किया के मुझे उसे लेने जाना है. मैं रेडी हो गया और एक बार किचन मे गया. मम्मी वहाँ अपने काम मे थी. मेरी नज़र उनकी गांद पर पड़ी जो काफ़ी हॉट लग रही थी. उनकी गांद वर्जिन थी और वो छोड़ना मेरा सपना था. मैने झट से जाकर उन्हे पिच्चे से हग किया.

मम्मी: अरे तोड़ा आराम से… यही हूँ मैं.

नील: क्या करू आपको देखता हूँ तो मुझसे रहा नही जाता

मम्मी: ह्म ये प्यार आज कल बहुत बाहर निकल रहा है

नील: ये तो काफ़ी साल तक अंदर था इसलिए अब ऐसे ही बाहर निकलेगा

मैने उनके खुले बालो को साइड मे किया और उनकी गर्दन पर चूमने लगा. मम्मी की सिसकारी निकल गयी.

मम्मी: आहह वो सब तो ठीक है लेकिन तुम्हारा ये वाइल्डनेस मुझे बहुत परेशन क्रटा है. तुम्हे झेलने मे बहुत कुछ सहना पड़ता है मुझे

नील: अभी तो बहुत कुछ सहना है आपको. बस कुछ दीनो मे आपको दिन रात प्यार करूँगा

मम्मी: हे भगवान… रात मे भी?? मेरी ज़िंदगी मे एक नींद ही है जिसमे मुझे सुकून मिलता है और तुम वो भी छ्चीनने वेल हो

मैने उनके दोनो बूब्स को पकड़ लिया जिससे वो थोड़ी गरम होने लगी. मैं उन्हे हल्के हल्के से मसालने लगा.

नील: अक्चा मतलब चुड़वते हुए सुकून नही मिलता आपको?

मम्मी (आँखें बंद करके): मिलता है ना… इतने सालो तक वही तो नही मिला इसलिए तुम्हारे साथ ये सब कर रही हूँ. और तुम ऐसे हो के तुम्हे ये सब हर वक़्त चाहिए होता है. जब मौका मिले टूट पड़ते हो मुझपर

नील: आपके जैसी कामदेवी घर मे हो तो कोई जवान लड़का शांत कैसे बैठे?

मम्मी: अक्चा जी. ठीक है तुम्हे जो जो करना है मेरे साथ कर लेना. मैं नही रोकूंगी लेकिन निधि और तुम्हारे पापा घर मे होंगे तब तुम ये सब नही करोगे

नील: ओक

मैने उनकी गांद पर हाथ घुमाया और मम्मी अचानक सिहर उठी.

मम्मी: आहह तुम्हे ये सब भी पसंद है?

नील: मतलब?

मम्मी: मतलब पिच्चे करना भी?

नील: हन… मैने आपके लगभग सारे च्छेद छोड़ चुका हूँ. लेकिन जो सबसे ज़्यादा सेक्सी है उसे नही छोड़ा

मम्मी: बप्रे! लगता है अब मुझे काफ़ी सहना पड़ेगा

नील: आप चिंता मत करो मैं सब अकचे से कर लूँगा

मम्मी: हन हन मुझे पता है कैसे कर लोगे. तुम्हारा हर काम तेज़ी से होता है. पता नही मेरी क्या हालत कर दोगे

उनकी बात से मैं हासणे लगा. मैने उन्हे अपनी तरफ घुमाया और उनके होंठों को चूसने लगा. कुछ देर बाद उन्होने भी साथ दिया. 3 मीं तक किस्सिंग करने के बाद हम अलग हुए.

नील: निधि को लेने जेया रहा हूँ

मम्मी: ठीक है… और हन तुम उसे पाटने वेल हो ना?

नील: हन

मम्मी: मेरे साथ काफ़ी वाइल्ड होते हो वो ठीक है. मेरी बेटी के साथ मत करना. वो बहुत नाज़ुक सी है. अपनी लिमिट क्रॉस मत करना वरना देख लेना.

नील: हन बाबा. मेरी बहें है वो और उसे कैसे प्यार करना है ये मुझे पता है

मम्मी: देखा तुम ऐसी बातें करते हो इसलिए मुझे तुमपर कभी भरोसा नही होता चुदाई के मामले मे

नील (हेस्ट हुए): अरे डॉन’त वरी… आराम आराम से करूँगा

इतना बोल कर मैं निधि को लेने निकल गया.

फाइनली मम्मी से पर्मिशन मिल गयी निधि को छोड़ने की. लेकिन उन्हे क्या पता के हम ये सब काफ़ी पहले कर चुके है. अब तो सिर्फ़ नाटक करना है.

दोस्तो आपको ये पार्ट कैसा लगा मुझे मैल करके ज़रूर बताना.

तो बे कंटिन्यूड…

यह कहानी भी पड़े  अम्मी की फुदी मेी 2 लोडा

error: Content is protected !!