व्हातसपप से बेडरूम तक-2

ही फ्रेंड्स. इसके फर्स्ट पार्ट को ढेर सारा प्यार देने के लिए थॅंक्स. तो चलिए अगला पार्ट शुरू करते हैं, अगर आप नये हैं तो इसका 1स्ट्रीट पार्ट पहले पढ़ना.

आज मैं सुबह जल्दी उठ गया क्यूंकी सुबह मुझे ऐसा ड्रीम आया की मों ने हा करदी हैं, और मुझे सेक्स के लिए रात को बुलाया हैं. और मेरा लंड भी टाइट हो चुका था, और मेरी आँख खुल गयी थी.

वो बोलते हैं ना की सुबह का सपना सच होता हैं, तो इसकी वजह से मैं बहुत एग्ज़ाइटेड था. मैं तो धारा को छोड़ने के जुगाड़ मे था. पर कलकी मों की वीडियो, वो शवर वाली फोटो, वो सेक्स छत और मों की उनसटीसफी सेक्स लाइफ उन सबने मेरा दिमाग़ हिला डाला था.

मेने मों बेटे की स्टोरीस पढ़ी हुई हैं, सेक्स वीडियोस भी देखी हुई थी. इसलिए मेरे अंदर मों को लेकर सेक्स की भावनाए उभरने के बाद मुझे ज़्यादा गिल्ट सा फील नही हो रहा था.

बार बार में खुदको समझा रहा था, की अगर मेरी जगह सच मे और कोई लड़का होता तो वो मों को बक्ष देता क्या? मैने अपने आप से वादा किया. की अगर मों आज रात को माना कर देगी तो फिर में कभी उन्हे इसके लिए ऐसे अप्रोच नही करूँगा.

फिर मैने सोचा की अगर मों सच मे एस कहती हैं तो क्या ? तो फिर मैने मान बना लेना हैं उन्हे सॅटिस्फाइ करने का.

वो किसी और से चुड़े इससे अछा की घर की औरत घर में ही चुड़े. तो फिर सवाल आता हैं की उन्हे कैसे छोड़ू.? अगर डाइरेक्ट उनको बोल दूँगा की में आपका बेटा ही हूँ, तो फिर वो कभी नही देगी.

फिर आइडिया आया की किसी और को अनिल बनाकर मों के पास भेजूँगा और उनकी वीडियो रेकॉर्डिंग कर लूँगा. वो दोनो को फोरप्ले करने दूँगा और जब वो मों को छोड़ने के लिए बेड पे लेटाएगा. तो उसके अंदर डालने से पहले में उनको रंगे हाथ पकड़ लूँगा और अनिल को वाहा से भगा दूँगा.

फिर मों को गिल्टी फील कार्ओौनगा और उनको इसका रीज़न पूछुगा. तब वो आब्वियस्ली बोलेगी की तेरे पापा मुझे सॅटिस्फाइ नही कर पाते, हम औरतो की भी ज़रूरते होती हैं ब्लाह..ब्लाह..

तब में उनसे अग्री करूँगा और उनको ऑफर दूँगा की में उन्हे सॅटिस्फाइ कर सकता हूँ. जिससे घर की इज़्ज़त घर में ही लूटे और उनको पकड़ के किस्सिंग करूँगा.

यहा पे मॅग्ज़िमम चान्स हैं की सेक्स की प्यासी मों जो सामने नंगी होगी वो अपोज़ नही करेगी. और अगर बाइ चान्स वो मुझे सेक्स के लिए अग्री नही करती तो फिर उन्हे दूसरे अनिल और उनकी फोरप्ले वाली वीडियो दिखके ब्लॅकमेल करूँगा और उन्हे छोड़ूँगा.

मतलब की दोनो ही सूरत मे मों की अपने बेटे से चुदाई पक्की हैं.

ये ही सब मेरे दिमाग़ में चल रहा था, और लंड फुल्ली टाइट हो चुका था, और पानी निकालने की कगार पे था.

में सीधा ही बातरूम में गया और मों के नाम की मूठ मरने लगा. मों का रात वाला फोटो देखा तो व्हातसपप से डेलीट हो गया था,

मैने रात को मूठ मरने की जल्दबाज़ी में उसे सवे ही नही किया था. और मों ने 7 मिनिट के पहले ही उसे डेलेट फॉर ऑल कर दिया.

अब मैने डिसाइड किया की मों को छोड़ू या ना छोड़ू पर नहाते वक़्त उनपे मूठ ज़रूर मारूँगा और वो भी उनकी कल वाली वीडियो पे. मैने गहरी साँसे लेते हुए अपने खड़े लंड को शांत किया और बाहर आ गया.

मैने मों का मोबाइल देखने के लिए प्लान बनाया. मुझे देखना था की कल वाली वीडियो मों ने पापा को भेजी थी या किसी और को. और उस वीडियो को मुझे अपने मोबाइल मे लेना था.

मों हमेशा अपना मोबाइल पॅटर्न लॉक और फिंगर लॉक पे रखती थी.

मैने दिमाग़ लगाया और मों की मोबाइल से उनकी सिम कार्ड को निकलके उल्टा लगा दिया. जिससे नेटवर्क नही आए और मोबाइल को वापस रख दिया.

मे: (ड्रामा करते हुए) मों, तुम्हारे मोबाइल में नेटवर्क आ रहा हैं क्या?

मों: मेरे मे तो हैं, अभी मेरी फ्रेंड का व्हातसपप पे गुड मॉर्निंग का मेसेज आया था.(और अपना मोबाइल चेक किया)

मों: अरे,मेरे मे भी नही हैं.

मे: (अपने मोबाइल में कुछ करते हुए) लो मेरा तो आ गया, अंदर से सेट्टिंग मे जाके नेटवर्क रेफ्रेश किया तो हो गया.

(मों ने भी ट्राइ किया, पर उनका नही आया).

मों: मेरा तो अभी भी नही आ रहा हैं बेटा.

मे: मुझे दो मम्मी, में और एक दो सेट्टिंग चेंज करके देखता हूँ. आप जल्दी से छाई बना दो प्लीज़. (मों के चेहरे से ऐसा लगा, जैसे वो मोबाइल देना नही चाहती, पर उसकी मजबूरी थी इसलिए दे दिया.)

मों: सेट्टिंग के अलावा, और किसी चीज़ में मत जाना, तू कुछ ना कुछ खराब कर देगा.

मे: ठीक हैं मम्मी, अगर विश्वास नही रहता तो खुद से ही कार्लो.(तोड़ा रठाते हुए)
मों: अरे ऐसा नही हैं, बस जल्दी कर दें, मेरी ऑनलाइन सीरियल आनेवाली हैं.

मैने सबसे पहले तो वो वीडियो देखी, थोड़ी लंबी लगी, इसलिए पूरी देख नही पाया. और जब व्हातसपप पे देखा तो कलकी हमारी छत थी वाहा पे, और उसके नीचे पापा की छत.

उसे ओपन किया तो मैने देखा की मों ने वो वीडियो पापा को ही भेजी थी,(ये देखकर मेरी जान मे जान आई, की मों की चुदाई मे कोई दूसरा कॉंपिटेशन नही हैं) मेरे दिल को एक तरफ से सुकून मिला.

और दोनो की सेक्स छत थी, जिसमे मों ने ओपन्ली चुदाई, लंड, मूह मे लेना जैसे वर्ड्स इस्तेमाल किए थे. बहुत लंबी छत थी, और टाइम कम था.

तो फिर मैने सोचा की इसमे में अपना फाइ फिंगरप्रिंट डाल डू, जिससे में जब चाहे इसे ओपन कर साकु. तो में जैसे ही वो ओपन किया, तो उसने पॅटर्न लॉक माँगा. अब में क्या करू…? सोचा की रिस्क हैं तो इश्क़ हैं.

मैने फोन को मम्मी के सामने ऐसा पकड़ा की जिससे मुझे स्क्रीन दिख ना पाए. और मों को कहा की ग़लती से लॉक हो गया, एक बार पॅटर्न मार दो.

उसने मुझे घूरते हुए पॅटर्न लगाया. जैसे ही मों ने पॅटर्न डाल के उंगली उठाई, मैने फाटक से फोन वापस खींच लिया, जिससे उन्हे फिंगर लॉक वाला पेज ना दिखाई दे.

मैने फिर वाहा अलग से बैठकर फटाफट अपनी फिंगर उसमे आड की, और सिमकार्ड निकालकर वापस सही लगा दिया, और मम्मी को वापस दे दिया.

मों: थॅंक योउ, बेटा.

मे: इसमे थॅंक्स केसा मों. आप इतना सब हमारे लिए करती है, तो बेटे का भी फ़र्ज़ हैं की वो अपनी मा की हेल्प करे, हर तरीके से. (लास्ट वर्ड्स में अलग से दबके बोला, मा को कुछ अजीब लगा. फिर वापस वो अपने काम में बिज़ी हो गयी.)

उस दिन मैने कॉलेज बंक लगाड़ी और दोफर में फिर जब मों नहाने के लिए गई. तब मों का फोन लेकर अपनी फिंगर से उसे अनलॉक किया और फिर उसमे से मों की वो वीडियो और सेक्सी वाली फोटोस को मेरे फोन मे ट्रान्स्फर करके उसे हाइड कर दिया.

जब मैने कल वाली मों और पापा की छत को पढ़ना शुरू किया, तब पता चला की मों और पापा उस टाइम फोन पे सेक्स छत कर रहे थे और मों की उस वक़्त चूड़ने की इचा हो रखी थी, और पापा ने बीच सेक्स छत में रिप्लाइ नही किया था.

शायद सो गये होंगे और उसी वजह से गर्म हुई रखी मों कल मुझसे खुलके सेक्स के बारे मे बात कर रही थी. (और शायद अपनी छूट मे फिंगरिंग भी. ;)) इसके आयेज भी बहुत बार मों ने सेक्स छत करी थी.

मैने देखा की मों को मूह मे लेना और गांद मरवाना पसंद हैं, पर पापा उसे हर्बार माना कर देते थे. उस छत में बहुत से चट्स डेलीटेड भी दिखा रहे थे.

फिर जब मेने अपने रूम में जाकर वो सारी सेक्सी फोटोस और वीडियो देखी. पर मूज़े किसी मे मों के नंगे बूब्स या उनकी छूट के दर्शन नही हुए.

कल की वीडियो मे भी बस मों कपड़ो के उपर से ही अंदर सहलाती थी, उससे ज़्यादा नही था. मुझे लगा की मों नँगीवली सब चीज़े पापा को भेज के डेलीट कर देती होंगी, और पापा उसे देख कर.

अब तो एक ही आशा थी, की मों मुझे एक चान्स दे दे खुद को छोंदणे का. और फिर मों के उस फोटो-वीडियो कलेक्षन पर मजने जाम के मूठ मारी.

उस रत को मेरे लिए टाइम जैसे कट ही नही रहा था. मुझे लगा की चुदसी मों मुझे छोड़ने का चान्स ज़रूर देसी. और मैं अपना प्लान लगाके उन्हे अलग अलग तरीके से छोड़ूँगा.

कभी बातरूम मैं, कभी सोफे पे, तो जब पापा अपने रूम मे होंगे तब मों को किचन में छोड़ूँगा.


मों की गांद मरवाने की अधूरी इचा भी पूरी करूँगा. और डेली सुबह अपने रूम मे बुलाकर अपने लंड से मा को ब्रश कार्ओौनगा, और अपना गाढ़ा पानी रोज पिलौँगा.

मैं यही सब सच रहा था की 11 बाज गये और जब मों ऑनलाइन थी तब उनको मेसेज किया.

मे:हेलो, माँ. तो कब अओ आपकी सेवा करने…?

मों: मैने सोच लिया हैं.

मे: क्या…?

मों:मुझे तुम से कुछ नही करवाना हैं?

मे: अरे, कल तो आप रेडी लग रही थी, एआब अचानक क्या हुआ…?

मों: हा, पर आज मे होश मे हूँ. और तुम मेरे बेटे की आगे के भी तो हो.

मे: तो क्या हुआ माँ, आप भी तो मेरी मों के आगे की हो, फिर भी मैं आपको छोड़ने के लिए रेडी हूँ ना.

मों: वो तेरी ज़रूरत हैं, इसलिए.

मे: ज़रूरत तो आपको भी हैं, और मुझ से ज़्यादा.

मों: क्या मतलब.. .?

मे: कल की आपकी छत से इतना अंदाज़ा तो लगा सकता हूँ की कल शायद आप अपने हब्बी से सेक्स छत कर रही होगी. और उन्होने आपको भाव नही दिया होगा, इसलिए कल आप पॉज़िटिव थी.

पर आज नही…तो आपको लंड की ज़रूरत तो सच में है., क्यूंकी आपके पति लगता नही की इश्स आगे में आपको आचे से छोड़ पाते होंगे.

मों: शूट उप (गुस्से मे). वो मेरे पति हैं, मुझे आचे से छोड़े या नही ये हमारा मामला हैं, तुझे इससे क्या..?

मे: मुझे तो बस आपको छोड़ना हैं, कुछ भी कर के. और अगर आपने मुझसे या किसी और से ना चुड़वते हुए यूही गरम तवे पे लोटती रही. तो कही ऐसा ना हो की एक दिन तुम्हारा बेटा ही तुमको छोड़ देगा.

(मैने सोचा की मों को अपने बेटे का ऑप्षन देता हूँ. जिससे वो मेरे बारे मे भी सोचे,पर दाव उल्टा पद गया.)

मों: बकवास बाँध कर, मेरा बेटा वैसा नही है, तेरे जैसा. वो दिल से रेस्पेक्ट करता हैं मेरी.

मे: एक बार चान्स देकर देखो, फिर वो अपने लंड से भी तुम्हारी रेस्पेक्ट करेगा.

मों: मूह बाँध रख अपना..

मे: प्लीज़ माँ, छोड़ने दो ना एक बार, एक चान्स तो देकर देखो. (मैं बहुत रिक्वेस्ट करने लगा).

मों: ठीक हैं. दिया तुझे एक चान्स, पर ये बता तू इस चान्स को पाने के लिए क्या कर सकता हैं.

मे: मतलब…?

मों: तू धारा की छूट के लिए, मुझे छोड़ने के लिए रेडी हो गया था. तो अब बता, तू मेरी छूट को मरने के लिए किस हद तक जेया सकता हैं? और किसको छोड़ेगा…?

मे: आप बताओ.

मों: तू एक काम कर. तू बोलता रहता हैं ना की मैं तेरे मों के जैसी हूँ. तो फिर तू पहले अपनी मों को छोड़ के दिखा.

मे: ये क्या बात हैं…?

मों: अगर मेरा बेटा मुझे छोड़ सकता हैं..तो क्या तेरी मों को उनका अपना बेटा नही छोड़ सकता…?

मे: नही…ये मुझसे नही होगा.

मों: क्यूँ…फट गई. दूसरो की मों को छोड़ने के लिए मारे जेया रहा हैं. अब खुद की मों की बारी आई तो टाइ टाइ फिसस.

बेटा, तू कहता था की मेरा बेटा मुझे छोड़ देगा. तो खुदकी मों को छोड़ने के लिए ढेर सारी हिम्मत और ढेर सारा रिस्क लेना पड़ता हैं.

मे: कोई, दूसरा काम बताओ.

मों: नही. अब बातें ख़तम और काम शुरू. अगर तू सच मे मेरी छूट का दीवाना हैं तो. अपनी मों को छोड़ते हुए वीडियो बना ले, उसे स्कूल मे मुझे दिखजा.

मैं कन्फर्म करूँगी की वो सच मे तेरी मों हैं. और सही हुआ तो उसी दिन मैं अपनी छूट मे तेरा लंड खुशी खुशी लूँगी.

मे: प्ल्ज़ माँ, कुछ और काम बताओ…

मों: नही, बस यही मेरी शर्त हैं. और अब में तेरा नो. ब्लॉक मे डाल रही हूँ, जब तू अपने मों को छोड़ती हुई वीडियो बनले तो तुझे पता हैं की मैं कहा मिलूंगी. (और मों ने मेरा नो. ब्लॉक कर दिया.)

अब मों को मैं कैसे बतौ की, जिसे वो मुझे छोड़ने को बोल रही हैं, वो वाली औरत वो खुद हैं. मुझे लगा की अब मों की छूट मिलने से रही पर मों के दिए हुए चॅलेंज ने मुझे मों को छोड़ने की इचा और तेज़ हो गयी.

अब मुझे कुछ अलग ही जुगाड़ लगाकत मों को छोड़ना था. मैं देसीकाहानी की सारी मों और बेत वाली स्टोरीस पाठ डाली, इसी उम्मीद मैं की कही कोई आइडिया मिल जाए.

इन स्टोरीस मैं मों को अलग अलग तरीक़ो से छोड़ने के आइडिया थे, पर मों को बिस्तर तक जो लेकर आए वैसा कोई आइडिया मुझे नही मिला.

जब भी चान्स मिलता, मैं मों का मोबाइल लेकर उनकी एर पापा की सेक्स छत पढ़ता, की काश ऐसा कोई क्लू मिल जाए, जिसे मैं मों की ले साकु.

वो कहते हैं की उपर वेल के घर देर हैं, अंधेर नही. एक दिन मैने देखा की मों ने पापा को एक सेक्स क्लिप सेंड की हुई हैं, जिसमे लड़का लड़की के आँखो पे पट्टी (ब्लाइंडफोल्ड) बँधकर उसे छोड़ता हैं.

ये देखकर मेरे दिमाग़ मे एक प्लान सा बन रहा, और मुझे मों को छोड़ने का गोलडेन चान्स दिख रहा था.

क्या था ये प्लान, जानिए अगले पार्ट में. इस पार्ट को भी लीके कीजिएगा, जल्दी ही अगला पार्ट आएगा, जिसमे पता चलेगा की आख़िर मैं कौन कौँसे जुगाड़ करता हूँ मों की छूट मारने को.

यह कहानी भी पड़े  मा बनी असलम अंकल की कुत्तिया

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!