मा बेटे की लस्ट स्टोरी-9

फिर वो चुपचाप निधि के बेडरूम मे गयी जहाँ उन्होने देखा के कमरा पूरी तरहा से खराब हो चुका था. हम दोनो के कपड़े यहाँ वहाँ पड़े हुए थे. बेडशीट पर हुमारे छूट और लंड का पानी लगा हुआ था. निधि बेड पर नंगी सोई हुई थी. ये देखकर मम्मी जल्दी से नीचे आ गयी.

नीचे आने के बाद मम्मी फिर से काम मे लग गयी. मैने उन्हे फिर से हग किया और हम बातें करने लगे. मैं उनकी असेट्स को च्छेद रहा था जिसे वो एंजाय कर रही थी. उन्हे हर जगह किस कर रहा था. मम्मी के मूह से आहह आह वाली सिसकारियाँ निकल रही थी इसलिए मुझे आयेज बढ़ने मॅन हो रहा था.

मैने निघट्य की लेस को खोल दिया और झट से निघट्य नीचे ज़मीन पर गिर गयी. वो एकदम से शर्मा गयी. उनका खूबसूरत गोरा चिकना जिस्म मेरे सामने नंगा था.

मम्मी की नंगी गांद बहुत हॉट लग रही थी. मैने दोनो हाथों से उनके चुतताड़ो को पकड़ लिया और सहलाने लगा.

मम्मी: आहह आहह उउंम्म आहह क्या कर रहे हू आहह उउंम्म ऑश बेटाअ आहह बहुत मज़ा आ रहा है

मम्मी के चुतताड बहुत ही मादक थे. मैने उनकी पीठ पर होंठ रखे और चूमना शुरू कर दिया. वो अजीब अजीब आवाज़े निकल रही थी. मुझे और मज़ा आ रहा था. वो बिल्कुल किसी जवान लड़की की तरहा रोमॅन्स को एंजाय कर रही थी. शायद उन्होने कल निधि की आवाज़े सुनी थी इसलिए वो ट्राइ कर रही थी. मैने अपनी जीभ से उनकी पीठ को पूरी तरहा से चाटने लगा.

मम्मी: आहह क्या कर रहे हो बेटाअ आहह उम्म बहुत मज़ा आ रहा हाीइ आहह

नील: बहुत मज़ा आ रहा हाईईइ आहह

मम्मी: मेरी एक फॅंटेसी है… क्या तुम पूरी करोगे?

नील: हन

मम्मी: जब से तुमने मुझे छोड़ना शुरू किया है मुझे बहुत अलग अलग तरहा से छुड़वाने का दिल कर रहा है

नील: अक्चा

मम्मी: जैसे तुम मुझे अपनी जीभ से चाट लेते हो तो बहुत मज़ा आता है. एक फॅंटेसी है के तुम मेरे कपड़े उतार के मुझे बेड पर लिटा देते हो फिर मेरे उपर आकर मुझे हर जगह अपनी जीभ से चाट लेते हो. मैं एकदम पागल हो जाती हूँ. हर जगह मतलब हर जगह. तुम मुझे अपनी लार से नहला देते हो. मुझे बस ऐसा वाला प्यार चाहिए तुमसे…

मम्मी की फॅंटेसी सच मे बहुत इंट्रेस्टिंग थी. मैने ये कभी ट्राइ नही किया था तो मुझे भी मज़ा आ रहा था.

मैने उन्हे अपनी तरफ घुमाया. मम्मी अचानक से ये होने के कारण वो मेरी आँखों मे देखते हुए शर्मा रही थी. उनके अंदर की हवस आज बाहर आ चुकी थी.

नील: आइडिया बहुत अक्चा है. मैने ये कभी ट्राइ नही किया. पहली बार आप ने कुछ करने को कहा है, मुझे बहुत अक्चा लगा. पक्का करेंगे…

मम्मी बहुत खुश हो गयी और उन्होने मेरे होंठों को कुछ देर तक चूसने के बाद कहा

मम्मी: सच मे हम ये करेंगे?

नील: हन निधि को किसी दिन हॉस्पिटल जाने दो फिर आपको बेड पर लिटा कर प्यार करूँगा

मम्मी (शरमाते हुए): हयईए!

इतना बोल के मैने अपनी जीभ से उनके गले को चाटना शुरू किया. उन्होने सपोर्ट लेने के लिए पिच्चे किचन स्लॅब पर अपने दोनो हाथ रखे और खड़ी हुई. मैने उनकी गर्दन को दोनो हाथों से पकड़ लिया और अकचे से उनके गले को चाटने लगा. उन्होने अपनी आँखें बंद की और वो सिसकारियाँ लेने लगी. हम दोनो को बहुत मज़ा आ रहा था.

मम्मी का दूध जैसा गोरा जिस्म मेरे चाटने के बाद चमक रहा था. कुछ देर बाद मैने उनके चेहरे को हाथ मे पकड़ा तो उन्होने अपनी आँखें खोली और वो मुझे उम्मीद से देखने लगी जैसे वो तरस रही हो ऐसे प्यार करने के लिए.

मैने उनके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उन्हे धीरे धीरे चूसने लगा. 3 सेकेंड बाद वो भी मेरा साथ देने लगी. उनका जिस्म काँपने लगा और साँसे भी तेज हो चुकी थी. उन्होने झट से अपने दोनो पैरो को फैला दिया. मैं साँझ गया के उन्हे मुझसे चूड़ना है. मैने झट से अपनी शॉर्ट्स को नीचे किया और लंड बाहर निकाला जो पहले से ही ताना हुआ था.

फिर मैने मम्मी की निघट्य को उपर उठाया उन्होने अंदर कुछ पहना नही था. उनकी गोरी और टाइट छूट मेरे सामने थी. मैने उनकी जाँघो पर हाथ रखे और उन्हे सहलाने लगा. मम्मी ने आँखें बंद की और वो सिसकारियाँ लेने लगी. छूट से पानी निकालने लगा था.

मैने छूट के नाज़ुक होंठों को सहलाया तो पानी बहुत तेज़ी से बाहर आने लगा. मैने लंड को तोड़ा सा हिलाया और उसे छूट पर रखा और ज़ोर से धक्का देने ही वाला था के तभी निधि की आवाज़ आई. वो मम्मी और मुझे आवाज़ देते हुए नीचे आ रही थी. हम दोनो झट से अलग हुए और खुद को ठीक करने मे लग गये. मम्मी ने खुद के जिस्म पर लगी हुई मेरी लार को सॉफ किया और हम नॉर्मल होने का ट्राइ करने लगे.

निधि नीचे आते ही हम दोनो बाहर चले गये. मम्मी ने उसे चलते हुए देखा तो उसकी चाल बदल चुकी थी. पहले मम्मी को उसकी चिंता थी लेकिन अब उसे ऐसे देखकर उन्होने मुझे देखकर मुस्कुराने लगी जैसे मैने कोई अक्चा कम किया हो. मुझे ये काफ़ी वियर्ड लगा. अचानक से ये कैसा चेंज था?

मम्मी: क्या हुआ तुझे? तू ठीक तो है ना?

निधि: हन मुम्मा

मम्मी: और तुम ये ऐसे क्यू चल रही हो?

निधि (मुझे देखते हुए): हन वो कल हॉस्पिटल मे बहुत काम था तो यहाँ वहाँ जाना पड़ा इसलिए पैर दर्द कर रहे है

मम्मी साँझ गयी के निधि को चुदाई से कोई दिक्कत नही है इसलिए वो बहाना बना रही थी.

मम्मी: अक्चा ठीक है. तुम जाकर आराम करो तुम्हे कुछ भी चाहिए तो बता देना मैं लेकर अवँगी उपर

निधि: ओके मुम्मा

इतना बोल के वो अपने कमरे मे चली गयी.

मम्मी: निधि को तो कोई भी दिक्कत नही है इस चुदाई से

नील: कहा था ना मैने… मैं उसे पता लूँगा

मम्मी: इंप्रेस्सिव!

नील: लेकिन आप इतनी खुश क्यू है?

मम्मी: क्यू के निधि को उसकी पहली चुदाई इतनी दमदार मिली. मेरे वक़्त पर भी मुझे ऐसी चुदाई नही मिली थी जो ऐसा दर्द दे. मतलब दर्द था लेकिन वो इतना ज़्यादा नही था. इससे पता चला के कल रात तुमने उसे कैसे छोड़ा होगा.

नील: अक्चा

मम्मी: तुम अभी मुझे छोड़ रहे हो तो दर्द हो रहा है.

नील: आपको भी निधि वाला दर्द चाहिए?

मम्मी: धात्ट बदमाश…

इतना बोल के वो चली गयी.

उस दिन हम तीनो ने बैठ के साथ मे फिल्म देखी और बहुत एंजाय किया. निधि ने भी मेडिसिन्स ले ली ताकि वो जल्दी से ठीक हो सके. नेक्स्ट दे उसे फिर से हॉस्पिटल जाना था.

देखते ही देखते रात हो गयी. डिन्नर के बाद मम्मी ने कहा के मैं उनके साथ सो जाो तो मैने हन बोल दिया. निधि को भी आराम करना था.

रात को डिन्नर के बाद मैं और मम्मी उनके बेडरूम मे बिना कपड़ो के लेते हुए थे. मैं नीचे और वो मेरे उपर च्चत की तरफ फेस करके. मैं उन्हे सहला रहा था जिसे वो बहुत खुश लग रही थी.

मम्मी: तुम्हारे हाथ बार बार मेरे बूब्स को ही सहलाते है… बहुत पसंद है ना तुम्हे?

नील: हन ये बहुत खूबसूरत है

मम्मी: वैसे मेरे पास एक प्लान है

नील: कौनसा

मम्मी: देखो निधि कल से हॉस्पिटल चली जाएगी और तुम्हारे पापा तो यहाँ है ही नही. तो क्यू ना हम दोनो 2-3 दिन किसी रिज़ॉर्ट चले जाए? वहाँ हम साथ रहेंगे और बस प्यार करेंगे.

नील: आइडिया बहुत अक्चा है. वैसे भी यहाँ घर मे ये सब करने मे तोड़ा बोर होने लगा हूँ

मम्मी: इसलिए कह रही हूँ

नील: ठीक है 3 दिन बाद चलते है

मम्मी: हन. तुम बुकिंग कर लेना मैं निधि से बात करके कोई बहाना मार दूँगी

नील: ठीक है

मुझे बड़ी खुशी हो रही थी के मम्मी अपनी सेक्स लाइफ को लेकर सीरीयस हो गयी थी और अब वो उसे एंजाय करना चाहती थी. मुझे भी मज़ा आ रहा था उनके साथ रोमॅन्स करने मे. मैने सोच लिया था के रिज़ॉर्ट मे जाकर मुझे क्या करना है.
सब कुछ तय हो गया. मैने बुकिंग कर ली एक रिज़ॉर्ट मे जो मुंबई से बाहर था. मम्मी ने भी निधि को बताया के हम किसी रिलेटिव्स के घर जेया रहे है. निधि भी अब नॉर्मल हो चुकी थी इसलिए उसने हन बोल दिया ह्यूम जाने के लिए.

मैने तय किया था के रिज़ॉर्ट जाने तक मैं सेक्स नही करूँगा ताकि मुझे एक ब्रेक मिल सके. वैसे भी मम्मी और निधि को छोड़ छोड़ के मेरा लंड दर्द करने लगा था. इन 3 दीनो मे उसे भी आराम मिल गया.

अगले 3 दीनो तक मैं बड़ी मुश्किल से खुद को कंट्रोल कर रहा था क्यू के घर मे निधि और मम्मी दोनो ही मुझे सिड्यूस कर रहे थे. निधि आते जाते मुझे किस करती और मेरे लंड को च्छेद देती थी. मम्मी घर मे निधि के ना होने पर सेक्सी निघट्य पहनती थी जिसे देखकर मैं गरम हो जाता था. बड़ी मुश्किल से वो 3 दिन गुज़रे.

मैं और मम्मी अपना लगेज लेकर रिज़ॉर्ट जाने के लिए निकालने वेल थे. निधि घर पर ही रहने वाली थी तो उसने हम दोनो को हग किया. बेचारी उसे क्या पता था के हम किसी रिलेटिव्स के घर नही बलके एक रिज़ॉर्ट मे जेया रहे थे. जहाँ मैं मम्मी को जाम के छोड़ने वाला था.

घर से निकलते वक़्त हुँने तय किया था के इन्न 3 दीनो मे हम वो सब एंजाय करेंगे जो आज तक नही किया. मम्मी बहुत एग्ज़ाइटेड थी इस ट्रिप के लिए क्यू के वो आज कल एक नयी नयी जवान हुई लड़की की तरहा बिहेव करने लगी थी. उन्हे देखकर लग रहा था के वो बिल्कुल 18 साल की जवान वर्जिन लड़की है जो अपने ब्फ से छुड़वाने के लिए पागल हो चुकी है.

मम्मी ने पर्पल कलर की सारी डाली हुई थी जो ट्रॅन्स्परेंट थी. उसमे से उनका गोरा जिस्म सॉफ दिख रहा था. सारी के नीचे ब्लाउस के अंदर फूले हुए गुब्बारो जैसे बूब्स का साइज़ बहुत ही बड़ा लग रहा था.

उन्होने सारी अपनी नेवेल से नीचे पहनी थी इसलिए वो भी दिख रही थी. चेहरे पर हल्का सा मेकप करके वो बिल्कुल नयी नवेली दुल्हन की तरहा दिख रही थी. उनकी फिगर के कुवर्व्स सारी भी नही धक पा रही थी इतनी सेक्सी फिगर है उनकी. मैने वाइट शर्ट और ब्लू जीन्स डाली हुई थी.

हम दोनो गाड़ी मे बैठे और घर से निकल गये.

मम्मी: मैं बहुत एग्ज़ाइटेड हूँ इस ट्रिप को लेकर

नील: मैं भी…

मम्मी: एक बात काहु… तुम बहुत हॉट लग रहे हो

नील: मम्मी आप भी बहुत सेक्सी लग रही हो

मम्मी: थॅंक्स… वैसे तुमने रिज़ॉर्ट मे बुकिंग किस हिसाब से की है?

नील: मैने वहाँ हनिमून कपल के लिए रूम बुक किया है

मम्मी: हनिमून?

नील: हन… सिर्फ़ 3 दिन के लिए ही सही लेकिन ये हुमारा हनिमून ही है ना.

मम्मी: देखा जाए तो ये सही है

नील: आपको वहाँ पर मेरी बीवी होने की आक्टिंग करनी है

मम्मी: हा वो मैं कर लूँगी लेकिन क्या मैं तुम्हारी बीवी लग रही हूँ? ई’म टू ओल्ड बाबयी

नील: ऐसा कुछ नही है मुम्मा. आप बहुत यंग लगती हो. बस आपको एक काम करना है

मम्मी: कौनसा

नील: सबसे पहले तो आप अपना मंगलसूत्रा उतार दो

मम्मी: क्यू

नील: मंगलसूत्रा को देखता हू तो मेरा कॉन्फिडेन्स डाउन हो जाता है और मैं आयेज कुछ नही कर पता हूँ

मम्मी: अक्चा बाबा उतार देती हूँ

उन्होने मंगलसूत्रा उतार के गाड़ी मे ही रख दिया.

नील: थॅंक्स… और रिज़ॉर्ट मे जाने के बाद आपको अपना ड्रेसिंग चेंज करना है

मम्मी: मतलब? ठीक तो लग रही हूँ मैं

नील: ई मीन… आप मेरी बीवी हो और हम हनिमून पर आए है. एक जवान लड़की अपने हनिमून पर वेस्टर्न कपड़े पहनेगी ना

मम्मी: हन बुत मैं लेकर नही आई हूँ

नील: डॉन’त वरी मैं लेकर आया हूँ. आपके बाग मे मैं डाल दिए है

मम्मी (मुझे किस करते हुए): ओह मी बाबयी. चिंता मत करो यहाँ ऐसी आक्टिंग करूँगी के तुम खुद कन्फ्यूज़ हो जाओगे के मैं तुम तुम्हारी मम्मी हूँ या वाइफ

इस बात पर हम दोनो हासणे लगे.

मम्मी: अरे अरे एक बात तो रह गयी

नील: क्या

मम्मी: मैने कॉनडम्स नही लिए… अब??

नील: मैं आपको बिना कॉनडम्स के ही छोड़ना चाहता हूँ. और आज के बाद आपको छोड़ते वक़्त कभी भी कॉंडम नही लगौँगा

मम्मी (मुझे आँख मरते हुए): ठीक है जैसी तुम्हारी मर्ज़ी. वैसे भी बिना कॉंडम के छुड़वाने ज़्यादा मज़ा आता है. तुम्हारा लंड ज़्यादा फील होता है अंदर

नील: अक्चा जी.

हम ड्राइव करते हुए सिटी से बाहर हाइवे पर जेया चुके थे इसलिए कोई ट्रॅफिक नही था. तभी उन्होने मेरे करीब आकर मेरी जीन्स की ज़िप खोल दी.

नील: आप क्या कर रही हो?

मम्मी ने कोई जवाब नही दिया और लंड बाहर निकाला और उसे सहलाने लगी.

नील: अरे मम्मी बताओ ना क्या करने वाली हो

मम्मी ने लंड को थोड़ी देर हिलाया और उन्होने नीचे झुक के झट से उसे अपने मूह मे लिया. मेरी बॉडी मे ज़ोर से करेंट लगा. मैं उनकी हरकत को सॅटिस्फाइ नही कर पा रहा था. क्यू के अब तक मम्मी ने ऐसी कोई हरकत नही की थी. लेकिन अब ये देख कर लग रहा था के आयेज बहुत कुछ होने वाला है.

तो बे कंटिन्यूड…

यह कहानी भी पड़े  फिर कब आओगे राज चुदाई करने

error: Content is protected !!