लोन्ली मामी के भानजे से चुदने की कहानी

देश-वासियों देसीकाहानी पे ये मेरी पहली स्टोरी है. ई होप आपको स्टोरी पसंद आए. ज़्यादा देर ना करते हुए स्टोरी पे आता हू. मेरा नाम शुभम है, और उमर 25 है. मैं बिहार का रहने वाला हू.

ये कहानी मेरी और मेरी मामी की है. उनकी उमर 30 है. मैं अपने मामा के यहा हमेशा जाता रहता था. क्यूंकी मैने पढ़ाई वही से की है. जब मैं एग्ज़ॅम देने मामा की यहा गया, तो मैने अपनी मामी को देखा. मेरे तो होश उडद गयी उनको देख कर.

वैसे तो पहले भी मैने मामी को देखा था. पर इस बार 3 साल बाद मामा की यहा गया था. वो पहले इतनी अची नही लगती थी. पर इस बार जब मैं गया, तो मैं उन्हे देखता ही रह गया.

वो किसी बॉम्ब से कम नही लग रही थी. उनके बूब्स बहुत बड़े थे. उनका फिगर तो क्या ही कहना. वो किसी 25 या 26 साल की लड़की लग रही थी. जबकि वो 1 बच्चे की मा थी.

मैं गया, सब से मिला. 3-4 दिन ऐसे ही निकल गये. एक दिन मेरा पेपर नही था, तो मैं घर पे ही था. मैने देखा मामा और मामी लड़ रहे थे. मैने कुछ बोला नही. फिर जब मामा अपनी दुकान चले गये, तो मैने मामी से बात की.

मैं: क्या हुआ मामी?

वो बोली: तेरे मामा ऐसे ही बिना बात के लड़ाई करते रहते है.

और वो रोने लगी. मैने मामी को शांत किया, और हमारी अची दोस्ती हो गयी. दिन बीतते गये, और हमारी दोस्ती और अची हो गयी. मैं मामी से फ्रॅंक हो गया था.

हम दोनो कैसी भी बात शेर कर लेते थे. मैं मामी को कभी-कभी किस भी कर लेता था. हम अब साथ में घूमने जाने लगे. एक दिन घूम कर आने के बाद वो मेरे सामने कपड़े चेंज करने लगी.

वो सिर्फ़ ब्रा और पेटिकोट में थी. मेरा तो लंड खड़ा हो गया, और ये मामी ने देख लिया. फिर मामी ने मुझसे पूछा-

मामी: तेरी कोई गर्लफ्रेंड है?

तो मैने ना में जवाब दिया. फिर वो हासणे लगी और बोली-

मामी: तुझे कैसी लड़की पसंद है?

मैने बोला: मुझे आप पसंद हो.

तो वो चुप हो गयी. मेरी तो फॅट गयी की वो गुस्सा हो गयी. इसलिए मैं वाहा से चला गया.

2 दिन बाद मामी मेरे पास आई और बोली-

मामी: शुभम तेरे मामा हमेशा लड़ते रहते है. वो मुझसे प्यार नही करते है.

मैने इस मौके का फ़ायदा उठाया.

मैने मामी से बोला: कोई नही मामी, मैं आप से प्यार करता हू.


और मैने उन्हे प्रपोज़ कर दिया. वो चुप हो गयी, और कुछ बोली तक नही. फिर वो वाहा से चली गयी. अगले दिन मामा के दुकान जाते ही मैं मामी के रूम में गया. वो बेड पे लेट कर टीवी देख रही थी.

मैं भी उनकी बगल में लेट गया, और उनसे बातें करने लगा. हम दोनो पहले से ही फ्रॅंक थे, तो सेक्स की भी बातें करने लगे.

मैं बोला: मामी मैं आप से प्यार करता हू. मैं आपके साथ रहना चाहता हू.

और मैने उन्हे पकड़ लिया. पहले तो वो खुद को चुधने लगी. पर मैने उन्हे कस्स के पकड़ लिया था. मैं उनको किस करने लगा, और वो शांत हो गयी.

फिर वो कहने लगी: किसी को पता चलेगा तो बहुत बदनामी होगी.

मैने उन्हे विश्वास दिलाया की हम दोनो की अलावा कोई नही जानता और किस करने लगा. अब वो मेरा साथ देने लगी. 5 मिनिट किस करने के बाद मैने उनकी निघट्य की अंदर हाथ डाल दिया. उनके बूब्स बड़े और टाइट हो गये.

मुझसे रहा नही जेया रहा था, और मैने उनकी निघट्य उतार दी. वो अब सिर्फ़ मेरे सामने ब्रा और पनटी में थी. मैं तो देख के पागल हो गया, और उनके दोनो बूब्स ब्रा की उपर से दबाने लगा.

वो सिसकियाँ ले रही थी. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. मैने उनकी ब्रा खोल दी, और बूब्स को मूह में भर लिया. एक हाथ से मैं बूब को मसल रहा था.

फिर किस करते-करते मैं उनकी पूरी बॉडी को चाटने लगा. वो मछली की तरह मचल रही थी. ये देख के मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. फिर मैं नीचे आया. उनकी पनटी गीली हो गयी थी.

बहुत ही मनमोहक खुश्बू आ रही थी. मुझसे रहा नही गया, और मैने उनकी पनटी उतार दी. मेरे सामने मामी की गुलाबी छूट थी हल्के बालों के साथ. मैं उनकी छूट चाटनी शुरू की. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

वो उछाल रही थी, और मुझे और मज़ा आ रहा था. फिर मामी मेरे सर को दोनो टाँगो से छूट में दबा रही थी. मैं उनकी छूट को तब तक चाट-ता रहा, जब तक की मामी का पानी नही निकल गया. छूट चाटने में एक अलग ही मज़ा है.

अब मेरी बारी थी लंड चुसवाने की. मैने मामी को बोला लंड चूसने को, और वो माना करने लगी. पर थोड़ी रिक्वेस्ट करने पे मान गयी. थोड़ी देर चूसने की बाद उनसे रहा नही गया. वो मुझे लंड अंदर डालने को बोलने लगी.

मेरा लंड किसी लोहे की तरह सकत हो गया था. मैने मामी की दोनो टांगे अपने कंधो पे रखी, और एक ही झटके में मेरा पूरा लंड मामी की छूट को चीरता हुआ अंदर चला गया. वो चीख उठी, पर मैं उनका मूह हाथ से बंद करके छोड़ने लगा.

फिर थोड़ी देर बाद वो भी उछाल के मेरा साथ देने लगी. उनकी सिसकियाँ भरने की आवाज़े निकालने लगी. वो मेरी पीठ पे नाख़ून दबाने लगी. मुझसे वो कह रही थी-

मामी: 10 साल हो गये शादी को, आज तक तेरे मामा ने ऐसे नही छोड़ा. तेरा इतना बड़ा और मोटा कैसे है? तू किसी लड़की की साथ करेगा तो वो मॅर ही जाएगी.

उस पुर दिन मैने मामी को 5 बार छोड़ा. वो बहुत खुश थी मुझसे चूड़ने की बाद. फिर मैने अगले दिन भी मामी की चुदाई की. मुझे चुदाई करने में बहुत मज़ा आने लगा था. क्यूंकी मामी की चेहरे पे एक अलग ही रौनक दिख रही थी मुझे.

मैं लगभग अगले 10 दिन वाहा रहा. जब भी मौका मिलता मैं उनकी चुदाई करता. मैं भी खुश था की मुझे छूट मिल गयी थी. उसके बाद अब जब मुझे मौका मिलता है, मामा की घर जाने का, मैं कोई मौका नही छ्चोढता हू. क्यूंकी वाहा मामी की छूट मिलती है.

मैने उनकी खूब चुदाई की, और उन्हे प्रेग्नेंट किया. वो अब मेरे बच्चे की मा भी है. ये मेरी पहली स्टोरी है. आपको मेरी स्टोरी कैसे लगी, मैल करके बताना.

अब मैं देल्ही में रहता हू. देल्ही न्क्र की कोई भी लड़की, आंटी, भाभी, हाउसवाइफ, मेरे से बात करना चाहती है तो मुझे मैल करे. फुल्ली कॉन्फिडेन्षियल फुल्ली सॅटिस्फाइड 100% रहेगा. टीमेपस्स नोट अलोड.

यह कहानी भी पड़े  एक मा के अपने पति के भाई के साथ रोमॅन्स की कहानी


error: Content is protected !!