लड़की ने लड़के से अपनी गांद मरवाई

मेरा नाम इरम शहज़ाद है. मैं 32 साल की हू. मेरे बूब्स का साइज़ 38″ है. मेरी कमर 36″ और मेरी गांद 42″ साइज़ की है. ये स्टोरी मेरी रियल स्टोर है. इसको पूरा पढ़िएगा प्लीज़. मैं कॉलेज में थी, जब मेरी फ्ब पे एक लड़के से फ्रेंडशिप हुई थी.

आहिस्ता-आहिस्ता हम काफ़ी क्लोज़ हो गये थे. 8 मंत के रिलेशन्षिप के बाद हम पहली बार मिले थे. मैने कॉलेज से बंक मार के स्टॉप पे उसकी वेट की. थोड़ी देर बाद वो मुझे लेने आया. वो बहुत ज़्यादा खूबसूरत और हॅंडसम था. उसकी हाइट लंबी थी. और वो मस्क्युलर था.

वो आया, और मुझे पिक किया. पहले हम एक पार्क में बैठे बातें करते रहे. उसके बाद वो मुझे लंच के लिए एक होटेल ले गया. हम वाहा एक फॅमिली कॅबिन में बैठ गये. हमने ओडर दिया, और कॅबिन बंद करके बातें करने लगे.

फिर उसने मुझे किस किया. मुझे अछा लगा था, तो मैं चुप रही. उसके बाद वो रुका कुछ सेकेंड्स, और फिर किस स्टार्ट कर दी. मुझे मज़ा आ रहा था. मेरा पहला ब्फ था तो मैं उसको खुश करना चाहती थी. फिर नॉक हुआ, और वेटर हमारा ऑर्डर ले आया. हमने जल्दी से तोड़ा सा खाया, और फिर किस करने लग गये.

उसके हाथ मेरे बूब्स पे थे, और वो दबा रहा था ज़ोर-ज़ोर से. तब मेरे बूब्स 32″ साइज़ के थे. उसने एक हाथ से अपनी ज़िप खोली, और अपना लंड बाहर निकाला.

फिर उसने मेरा हाथ पकड़ के अपने लंड पे रखा, तो मैं एक दूं रुक गयी. मैने नीचे देखा, तो वो उसका लंड था जो काफ़ी मोटा था और तकरीबन 7 इंच का था. वो मेरे लिए काफ़ी बड़ा था.

मैने उसको पकड़ लिया, और उसने किस स्टार्ट कर दी. कुछ सेकेंड्स के बाद वो रुक गया. मेरे हाथ में उसका लंड था, और मुझे उसको देख कर मूह में पानी आ रहा था. मेरा दिल कर रहा था, की जल्दी से उसको मूह में डाल लू. पर मैं ये खुद नही करना चाहती थी.

तभी उसने मेरा सर पकड़ा, और अपने लंड की तरफ झुकाया. अब मैने उसको मूह में लिया.

इरम: उम्म आ, ये काफ़ी हेल्ती है (और मैं उसको ज़ोर से सक करने लगी).

शहज़ाद: तुम्हे अछा लग रहा है जान?

इरम: हा बहुत, उउउंम्म उउउंम्म.

शहज़ाद: आहह आहह तुम बहुत सॉफ्ट हो, तुम्हारे बूब्स भी, और तुम बहुत प्यारी हो.

उसके बाद मैं रुक गयी. उसने अपना लंड अपनी पंत में डाला, और ज़िप बंद कर ली. टाइम काफ़ी हो गया था, तो मैने उसको बोला-

इरम: चले?

शहज़ाद: हा चलते है, वेटर ना आ जाए.

हम खड़े हुए. उसने मुझे किस किया, और पीछे से मेरी गांद को दबाया. मुझे बहुत अछा लगा. फिर मैने अपने कपड़े सेट किए, और हम बाहर निकल गये. बाहर जेया कर बिल देने के बाद उसने मुझे घर के पास स्टॉप पे उतार दिया.

घर जाने के बाद भी उसका लंड मेरी आँखों के सामने था, और मैं उसके हाथ अपने बूब्स और गांद पे फील कर रही थी. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था सोच के. मैं उसके साथ सेक्स करना चाहती थी, पर मैं नही कर सकती थी शादी से पहले.

क्यूंकी सेक्स करने से सील टूट जाती है, और बाद में पता नही था वो मुझसे शादी करता भी या नही. ये सोच के मैं काफ़ी अपसेट भी था. उस रात उससे बात हुई तो उसको मैने अपनी फीलिंग्स बताई. मैने उसको बताया की मुझे उससे कितना प्यार था. पर मैं शादी तक कुछ नही कर सकती.

उसने मुझे तसल्ली दिलवाई, और वादा किया की वो मुझसे शादी करेगा, पर 2 साल का वेट करना होगा. मैं तैयार हो गयी थी वेट के लिए. पर हम दोनो अंदर-अंदर से करीब आना चाहते थे. फिर उसके दिमाग़ में आइडिया आया. उसने मुझे वीडियोस भेजी.

उनके अंदर लड़की अपनी गांद के अंदर लंड डलवती है, और बहुत एंजाय करती है. उसके बाद मेरा भी मॅन करने लगा, की मैं अपनी गांद मार्व्ौ. पर मैं फिर भी कन्फ्यूज़ थी. हमारी बात होती रही काफ़ी दिन, और उसने मुझे बताया-

शहज़ाद: इससे तुम्हारी पुसी में कुछ नही होगा. ना उसमे स्पर्म जाएगा, ना सील टूटेगी, और हम दोनो का भी हो जाएगा.

मैं मान गयी: ठीक है.

पर मुझे उसका लंड सोच के दर्र लग रहा था. इतना मोटा और लंबा मैं कैसे सहूंगी?

मैने उसको बोला: ओक, पर तुम पहले आहिस्ता-आहिस्ता करना. मुझे अछा लगा तो मैं बोलूँगी करो, वरना तुम निकाल लेना.

वो बोला: ओक.

मेरे घर में मेरे पापा एक फॅक्टरी के अंदर मॅनेजर थे, मुम्मा स्कूल टीचर, भाई स्कूल जाता था, और बड़ी सिस जॉब पे. तो घर कोई नही होता था. एक दिन मैने कॉलेज से छुट्टी की, और घर रहा. जब सारे चले गये, तो मैने शहज़ाद को बुला लिया. वो 30 मिनिट में आ गया.

डोर नॉक हुआ, और मैने ओपन किया. सामने शहज़ाद था. वो अंदर आया, और मैने डोर लॉक किया. वो अंदर आते साथ मुझे किस करने लग गया. मैं भी करने लग गयी. साथ में वो मेरी गांद दबाने लगा. इस तरह करते-करते हम अंदर टीवी लाउंज में चले गये, और सोफे के पास जेया कर रुक गये.

शहज़ाद: हमारे पास कितना टाइम है?

इरम: 1 बजे तक टाइम है. अभी 9 बजे है.

शहज़ाद: बहुत टाइम है फिर तो.

मैं बहुत एग्ज़ाइटेड और खुश थी, और उसको भी खुश करना चाहती थी. मैने उसको सोफे पे बिताया, और उसके सामने कपड़े उतारने लगी. जब मैं सारी नंगी हो गयी, तो वो बोला-

शहज़ाद: तुम तो बहुत ज़्यादा कमाल की हो इरम, वाउ!

वो बहुत हैरान था और खुश था. उसके बाद मैने नीचे बैठ के उसकी पंत खोली, और उसका लंड निकाला. लंड फुल टाइट रोड की तरह था, और मोटा लंबा था. मैं जल्दी से उसको मूह में लेकर चाटने लगी. मैं उसको आचे से चाट रही थी.

शहज़ाद: आअहह आहह आहह लगता है तुम्हे चाटना बहुत पसंद है आ आ ( मेरा सर पकड़ के चटवा रहा था)

इरम: हा, ये बहुत अछा है. मुझे सक करना पसंद है उउंम्म उउउंम उउउँ

शहज़ाद: आअहह आअहह तुम इस लम्हे को यादगार बनाना चाहोगी?

इरम: हा क्यूँ नही.

मैने अपना मोबाइल लिया और एक हाथ से वीडियो और पिक्स बनाने लगी, और साथ-साथ चाटने लगी. थोड़ी देर बाद शहज़ाद बोला-

शहज़ाद (मेरा सर पकड़ के अपनी तरफ किया): बस करो जान.

मैं रुक गयी. लंड मेरी थूक से भरा हुआ था. उसके बाद मैने टिश्यू से अपने मूह से थूक सॉफ किया. उसके बाद उसने मुझे सोफे पे बिताया, और खुद खड़े हो कर अपने सारे कपड़े उतार दिए. वो हेल्ती मस्क्युलर था, जैसे उसका लंड था.

उसके बाद उसने मुझे डॉगी बनाया, और मेरी गांद को दोनो हाथो से खोला, और मेरी गांद को देखने लगा. मुझे उसका फेस अपनी गांद के पास फील हो रहा था. उसके बाद उसने मेरे होल पे अपनी ज़ुबान फेरी. तब मेरे जिस्म से जैसे कोई करेंट निकला जो मुझे बहुत अछा लगा. फिर मैने उसको बोला-

इरम: और करो शहज़ाद.

उसके बाद उसने ज़ोर-ज़ोर से मेरी गांद के होल पे ज़ुबान फेरी. 5 मिनिट करने के बाद वो खड़ा हो गया. कुछ सेकेंड्स के बाद मुझे उसका लंड अपने होल पे फील हुआ. उसने होल के उपर अपना लंड रखा, और आहिस्ता-आहिस्ता पुश करने लगा. शहज़ाद ज़ोर लगा रहा था. मुझे ये फील हुआ, पर तोड़ा सा अंदर गया, सिर्फ़ उसके लंड की टोपी.

इरम: कितना गया अंदर?

शहज़ाद: टॉप गया है अंदर.

इरम: मुझे देखना है.

शहज़ाद ने मोबाइल से 3-4 पिक्स बनाई, जिसमे से एक में हम दोनो साथ आ रहे थे, फेस साथ. उसका लंड मेरी गांद के अंदर स्टिक हुआ था. बस तोड़ा सा स्टिक हुआ, बाकी बाहर था, और कुछ क्लोसुप पिक्स थी.

इरम: ये कितना अछा लग रहा है. अब पूरा डालो ना प्लीज़, पर स्लोली.

शहज़ाद: टाइट है काफ़ी

इरम: एक मिनिट बाहर निकालो.

शहज़ाद: क्यूँ क्या हुआ जान? सॉरी मैं स्लोली करूँगा.

इरम: नही शहज़ाद, वैसे बोला. निकालो एक मिनिट.

उसने लंड बाहर निकाला. मैं उठी और जेया कर दूसरे रूम से आयिल लेकर आई, और आयिल शहज़ाद को दिया.

इरम: ये लगाओ अपने भी, और मेरे भी.

और मैं खुद वापस पोज़िशन में चली गयी. फिर शहज़ाद ने आयिल लगाया अची तरह और लंड मेरे होल पे रख के पुश किया. तो लंड तकरीबन 2 इंच मेरे अंदर चला गया.

इरम: आअहह.

उसने और ढाका दिया, और सारा मेरे अंदर चला गया.

इरम: ऊओ मा आहह शहज़ाद चला गया अंदर आराम से? प्लीज़ आहह.

वो आहिस्ता-आहिस्ता अंदर-बाहर करने लगा. शहज़ाद टोपे तक बाहर लता, और फिर अंदर आहिस्ता से.

इरम: आअहह, बहुत अछा लग रहा है शहज़ाद आहह आ. कितना मोटा है लंड आपका आअहह आअहह.

शहज़ाद: कोई बात नही जान. तुम्हारी गांद भी अब मोटी हो जाएगी.

इरम: हा कर दो मोटी अपने लंड से शहज़ाद आह आ. बहुत मज़ा आ रहा है. आपको कैसा फील हो रहा है मेरे अंदर जेया कर?

शहज़ाद: बहात अछा जान. कमाल की गांद है.

वो आहिस्ता-आहिस्ता अंदर-बाहर करने लगा और साथ ही आयेज हो कर मेरे बूब्स दबाने लगा. बूब्स दबाने की वजह से मुझे और गर्मी चढ़ गयी.

इरम: शहज़ाद स्पीड तेज़ करो. बहुत मज़ा आ रहा है, आ आहह आअहह, मेरी गांद आहह.

उसने फुल तेज़ स्पीड कर दी, और ज़ोर-ज़ोर से छोड़ने लगा. वो पूरा टोपे तक बाहर लेकर आता, और फिर एक-दूं से अंदर

डाल देता. 10 मिनिट इसी तरह की स्पीड के बाद शहज़ाद स्लो हो गया, और फिर रुक गया. 2 मिनिट हम रुके रहे, और फिर लंड बाहर निकाला.

इरम: क्या हुआ शहज़ाद?

शहज़ाद: मेरा निकल गया है. ब्रेक लेते है.

इरम: हा ओक.

मैं खड़ी हो गयी. फिर मैने अपनी गांद पे हाथ लगाया, तो गीली हुई पड़ी थी थूक और आयिल से, और मेरा होल नरम हो चुका था. होल खुला हुआ था, और मैं आराम से अपनी फिंगर अंदर तक डाल सकती थी. उसके बाद मैने शहज़ाद को बिताया, और खुद उसके लिए पानी लेने गयी.

वो पीछे से मेरी गांद को हिलते देखने लगा जब मैं चली. मैने उसको पानी पिलाया.

इरम: शहज़ाद मुझे एंजाय कर रहे हो आप?

शहज़ाद: हा बहुत ज़्यादा. बहुत मस्त गांद है तुम्हारी. तुम बताओ तुम्हे मेरा लंड कैसा लगा?

इरम: बहुत अछा लगा, जैसे मेरी खाली गांद को किसी ने भर दिया हो किसी चीज़ से.

फिर मैने शहज़ाद के लंड को टिश्यू से सॉफ किया, और चाटना स्टार्ट किया, ताकि वो फिर रेडी हो जाए. 5 मिनिट बाद उसका लंड टाइट हो गया. फिर मैं उसको लंड से पकड़ के अपने रूम में ले गयी. मैं ड्रेसिंग टेबल के सामने जेया कर डॉगी बन गयी, और अपनी गांद को आचे से बेंड किया, और दोनो हाथो से ओपन कर दी.

शहज़ाद ने अपना लंड होल पे रखा, और अंदर घुसा दिया. इस दफ़ा आराम से सारा लंड अंदर चला गया मेरी गांद में.

इरम: आअहह आअहह आअहह.

मेरी कमर से पकड़ के शहज़ाद ज़ोर से छोड़ने लगा. घपा-घाप की आवाज़ आने लग गयी. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. मैं ज़ोर-ज़ोर चिल्ला रही थी.

इरम: शहज़ाद और ज़ोर से आहह आअहह, और छोड़ो मुझे आहह, ऊऊ मा मेरी गांद.

शहज़ाद: अब बोल मोटी गांद वाली? तेरी तो मैं गांद फाड़ुँगा, और रंडी बनौँगा अपनी.

इरम: जो बनाना है बना लो. शहज़ाद मेरी गांद फाड़ दो. आहह, बहुत मज़ा आ रहा है.

40 मिनिट इसी तरह चूड़ने के बाद उसने अपना सारा पानी मेरी गांद में छ्चोढ़ दिया, और लंड बाहर निकाल लिया. मैं वापस मूडी और नीचे बैठ के उसका लंड छाता, और आचे से सॉफ किया. अची तरह चाटने के बाद मैं खड़ी हुई.

इरम: बेब मेरी गांद कैसी लगी? अब इसकी आदत डाल लो. मुझे रोज़ गांद मर्वानी है तुमसे. इसको छोड़-छोड़ के मोटी कर दो. मैं अब तुम्हारी हू.

और फिर हमने किस की. उसके बाद हम वॉशरूम में जाके नहाए, बाहर आ कर कपड़े पहने, और पिक्स बनाई साथ. टाइम 12:30 हो गये थे.

शहज़ाद: अछा जान, अब मैं चलता हू.

इरम: ओक बेब. और थॅंक्स. ई आम सो लकी की मैं तुम्हारी गफ़ हू. मैं तुम्हे कभी नाराज़ नही करूँगी.

उसके बाद हमने किस की, और वो चले गये.

हेलो गाइस, आपको मेरी स्टोरी कैसी लगी? ये स्टोरी आयेज भी बहुत ज़्यादा है, और बहुत इंट्रेस्टिंग. कैसे मैं शहज़ाद से गांद मरवती रही, और कैसे उसने मुझे किसी और से चुडवाया और उसकी बहुत सी विशस पूरी की. ताकि वो मुझसे शादी करे, और कैसे हम शादी के बाद अब तक साथ रहे है.

ये सब जानने के लिए मुझे एमाइल करे ताकि मैं आपको अपनी सारी स्टोरी बतौ. ये मेरी रियल स्टोरी है. पिक्स भी अवेलबल है.

यह कहानी भी पड़े  बडी बहन और उनकी प्रेमी


error: Content is protected !!