लड़की को पहली चुदाई का अनुभव देने की कहानी

हेलो दोस्तों, मैं अब ज़्यादा टाइम पास ना करते हुए अपनी स्टोरी का नेक्स्ट पार्ट बताने जेया रहा हू. जिसने मेरी इस स्टोरी का पहला पार्ट नही पड़ा है, वो पहले फर्स्ट पार्ट पढ़ ले, जिससे स्टोरी आपको समझ आ जाएगी. स्वाती के लिप्स को चूस्टा ही रहा.

वो भी 5 मिनिट बाद साथ देने लगी. मेरा एक हाथ उसकी गांद पर गया. उसकी गांद मोटी थी. तो सॉफ्ट गांद को दबा रहा था. अब आयेज.

उसकी गांद दबाने में मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. बहुत मुलायम मक्खन जैसी उसकी गांद थी. उसके बाद मैने स्वाती के बूब्स पर अपना एक हाथ रखा, और धीरे से दबाने लगा.

होंठो से उसके मूह से उसकी ज़ुबान निकाल कर चाटने लगा. स्वाती भी थोड़ी गरम हो गयी थी. उसकी नाक से गरम हवा निकालने लगी. वो भी मेरी ज़ुबान चूसने में पूरा सहयोग कर रही थी. स्वाती के बूब्स को तोड़ा ज़ोर से दबाने लगा. उसकी सिसकी निकालने लगी.

स्वाती: आआहह, धीरे करो प्लीज़. आप बहुत ज़ोर से कर रहे हो. मुझे दुख रहा है.

मैं: बेबी, धीरे ही करूँगा.

फिर धीरे-धीरे उसके बूब्स दबाने लगा, और उसके बाद मैं उसके गालो को चाटने लगा. स्वाती के मलाई जैसे गाल, चाटने में बहुत मस्त लग रहे थे.

10 मिनिट ऐसे ही खड़े-खड़े उसके फेस को छाता, और उसने भी साथ दिया. उसके बाद मैं स्वाती को बेड पर ले गया, और बेड पर सुला दिया. मैं उसके उपर आ गया. उसकी आँखों में शरम और तोड़ा सा दर्र था. उसने शरम से अपनी आँखें बंद कर ली. मैने धीरे से उसके लिप्स के उपर अपने लिप्स रखे, और किस करने लगा. उसकी बॉडी में करेंट सा आ गया.

मैने उसके सिल्की बालों को खोल दिया, और उसके गले को किस करने लगा, और वो उउंम आहह करने लगी. फिर मैं धीरे से उसके टॉप को निकालने लगा. उसने अपनी आँखें खोली, और अपना हाथ मेरे हाथ पर रखा, और टॉप ना उतारने का इशारा किया. मैने उसको बोला की.

मैं: बेबी, क्या हुआ?

स्वाती: मुझे दर्र लग रहा है. प्लीज़ रहने दो ना.

मैं: मेरी जान, कुछ नही होगा. मैं हू ना.

स्वाती: प्लीज़ बेबी. जो भी करो आप धीरे-धीरे करना. और सोच समझ के करना. मैने आज तक किसी के साथ ऐसा-वैसा नही किया है.

मैं: आप तेनतीओं मत लो. आपको कुछ नही होगा. आज की मुलाकात यादगार होगी.

फिर मैने उसका हाथ हटाया, और उसका टॉप उतार दिया. अंदर उसने वाइट इन्नर पहनी थी. मैं इन्नर के उपर से उसके बूब्स को किस करने लगा. वो मचल उठी. धीरे-धीरे से उसको किस करने लगा.

मैने स्वाती का पूरा ध्यान रखा, जिससे उससे दर्द ना हो, और मैं उसको एक अछा सा प्यार दे साकु. उसके बूब्स को धीरे से दबाने लगा.

10 मिनिट ऐसे ही किस किया. और अब मैने अपनी भी शर्ट निकाल दी. मैं उपर से नंगा था. उसने मुझे देखा तो शरमाने लगी, और स्माइल देने लगी. अब मैने स्वाती की इन्नर भी निकाल दी. उसके सॉफ्ट और गोरे-गोरे बूब्स मेरे सामने थे. उसको ऐसे देखते हुए मुझे बहुत हॉर्नी फील हुआ. उसने शरम के कारण अपना फेस च्छूपा लिया.

अब मैने स्वाती के एक बूब्स को पकड़ा, और दूसरे को चूसने लगा. उसकी सिसकी निकालने लगी. धीरे-धीरे चूस रहा था. उसका निपल को तोड़ा-तोड़ा उपर तक, खींचने लगा. उसकी सिसकी निकल गयी.

स्वाती: आअहह आअहह उउउहह. प्लीज़ आराम से करना, ओक बेबी?

मैं: बेबी मैं आज आपको बहुत प्यार से प्यार करूँगा.

15 मिनिट दोनो बूब्स को चूसने के बाद, मैं उसकी नेवेल तक आया. स्वाती की सॉफ्ट नेवेल को मैं चाटने लगा. मैने अपनी ज़ुबान उसकी नाभि में डाल दी, और अंदर घूमने लगा. स्वाती मचल रही थी.

स्वाती: आअहह आअहह बेबी, क्या कर रहे हो आप?

मैं: आपको मज़ा आ रहा है या नही?

स्वाती: हा.

शरमाते हुए उसने अपना फेस अपनी टॉप से धक लिया. ऐसे ही 10 मिनिट मैने धीरे -हीरे उसकी नेवेल को छाता. उसके बाद मैने उससे कहा-

मैं: बेबी, अब आप भी मेरी चेस्ट को किस करो.

उसको शरम आने लगी.

उसने कहा: मुझे शरम आती है. मुझे ये सब करना नही आता है.

मैने उसको बोला: जैसे मैने किया, वैसे ही आपको करना है.

बहुत बोलने के बाद वो मानी. स्वाती ने अपने मुलायम लिप्स को मेरी चेस्ट के निपल पर रखा, और किस करने लगी, और उन्हे चूसने लगी. वो मेरे चेस्ट को किस करते हुए चाटने लगी. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. फिर वो किस करते हुए मेरे फेस पर आ गयी, और फेस को किस कर रही थी.

मैं: एस बेबी, ऐसे ही करती रहो.

स्वाती अपनी गुलाबी ज़ुबान से मेरे फेस को चाटने लगी, और मेरे होंठो को अपनी आँख बंद करके चूसने लगी. उसे बहुत मज़ा आ रहा था. मेरे बालों में हाथ घूमने लगी.

15 मिनिट तक उसने मेरे फेस किस और चाट कर गीला कर दिया. उसके बाद मैने स्वाती को बेड पर उल्टा लिटा दिया. अब मैं उसकी बॅक चाटने लगा. और वो सिसकी लेने लगी.

स्वाती:.उम्म्म आहह.

मैने उसकी बॅक को चाट-चाट के गीला कर दिया. हम दोनो उपर से न्यूड थे. अब मैं उसकी ब्लॅक जीन्स, को उतारने लगा. उसने अपना फेस फिरसे टॉप से धक लिया.

धीरे-धीरे उसकी जीन्स उतरने लगी. जीन्स उतारने के बाद वो सिर्फ़ एक वाइट पनटी में थी. मेरा लंड पूरा कड़क हो गया. 7 इंच का लंड मेरी पंत में दर्द करने लगा.

अब मैं उसकी पनटी के पास गया और उपर से ही छूट को किस किया. फिरसे मैने अपनी ज़ुबान छूट पर रखी, और चाटने लगा. स्वाती ने अपना हाथ बेडशीट से पकड़ लिया, और ज़ोर से उसने सिसकी ली.

स्वाती: आहह.

उसकी सिसकियाँ सुन के मुझे और जोश आ गया. मैने जल्दी से अब उसकी पनटी निकाल दी, जो पहले से गीली हो चुकी थी. पनटी उतारने के बाद देखा तो उसकी छूट पर बाल थे. मैं उसकी बालों वाली छूट देख कर उसको चाटने लगा.

धीरे-धीरे अपनी ज़ुबान से स्वाती बेबी, की चूत को चाटने लगा. उसको भी मज़ा आ रहा था. उसने मेरा सिर पकड़ लिया, और छूट से डोर करने लगी. उसकी छूट में छींटिया चल रही थी, ऐसा उसको फील हुआ.

जब मैने अपनी ज़ुबान छूट में डाली और घूमने लगा, तो वो ज़ोर-ज़ोर से सिसकियाँ लेने लगी.

स्वाती: आहह, ऐसा मत करो प्लीज़. मुझे कुछ हो रहा है.

मैं: बेबी, आपको मज़ा आ रहा होगा.

स्वाती: कुछ समझ नही आ रहा मुझे क्या हो रहा है.

मैं: जो हो रहा है उसे होने दो. आप बस आँख बंद करके मेरे प्यार को फील करो.

उसने फिर अपनी आँख बंद कर ली, और मज़े लेने लगी. मैने 10 मिनिट छूट को अंदर तक छाता. उसके बाद उसकी छूट से पानी निकालने लगा. उसने मेरा सिर छूट में दबा दिया. मुझे मज़ा आया. स्वाती ने अपना छूट का रस्स मेरे मूह में छ्चोढ़ दिया.

अब वो लंबी-लंबी साँसे लेने लगी. उसकी छूट पूरी चाट-चाट कर और उसके पानी से गीली हो गयी थी. 5 मिनिट उसने रेस्ट किया.

फिर मैने कहा: बेबी अब आपकी बारी है मेरे लंड का पानी निकालने की.

उसने कहा: मैं कैसे कर सकती हू?

मैने कहा: मैं जैसे बोलता हू, वैसे करती जाओ.

उसने शरमाते हुए हा बोला.

फिर मैने स्वाती को कहा: अब तुम मेरी पंत उतरो.

उसको शरम आ रही थी.

मैने कहा: आप फिकर मत करो. मैं हू ना आपके साथ.

फिर वो मेरी पंत को उतारने लगी. अब मैं जॉकी में था. मेरे जॉकी में लंड तन्ना हुआ था. लंड को देख कर उसकी आँख फटत गयी. स्वाती को तोड़ा दर्र महसूस हुआ.

मैने कहा: बेबी ये आपको आज बहुत प्यार करेगा. इसलिए आप पहले इसे प्यार दो.

अब मैने कहा: बेबी आप दररो मत. अब आप मेरे जॉकी को उतारो.

उसने अपने हाथो से धीरे-धीरे जॉकी को उतरा. उतरते ही मेरा 7 इंच का नाग उसके सामने खड़ा हो गया. स्वाती मेरे लंड को देखने लगी.

मैने उसे कहा: तुमने कभी लंड देखा है?

उसने ना में सिर हिलाया.

मैने कहा: कोई बात नही, आज आप जी भर के इसे देखो, और प्यार करो.

उसने कहा: मैं कैसे करूँगी?

मैं: अब आप इसको अपने मूह में लो.

उसने कहा: बहुत गंदा लगेगा.

मैने कहा: कुछ गंदा नही है. पहले लगता है. आप धीरे-धीरे चूसना लॉलिपोप की तरह.

स्वाती का हाथ मैने अपने लंड पर रखा. उसने धीरे से लंड पकड़ लिया. उसका मुलायम हाथ और मेरा गरम लंड बहुत ही सेक्सी फीलिंग दे रहा था. मैं उसके हाथ में लंड पकड़ा कर, हिलने लगा. वो भी ऐसे ही हिलने लगी. फिर मैने उसका मूह पकड़ा और लंड के पास लाया.

मैने कहा: बेबी अब मूह खोलो.

मैने अपना मोटा लंड उसके मूह में दे दिया. स्वाती के मूह में आधा लंड गया.

मैने कहा: धीरे-धीरे मूह उपर-नीचे करके चूसो. उसने वैसा ही किया.

स्वाती मेरा 7 इंच का लंड आधा मूह में लेके चूसने लगी. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. लंड चूस्टे टाइम उसने शरम से अपनी आँखें बंद कर ली थी.

मैने कहा: बेबी लंड को पूरा लो.

उसने कोशिश की और कहा: नही जेया रहा है.

मैने कहा: तोड़ा और लेने की कोशिश करो.

फिर 6 इंच लंड मूह में ले पाई वो, और धीरे-धीरे चूसने लगी. उसके मुलायम होंठ और ज़ुबान से लंड में अलग सी एनर्जी आने लगी, और लंड कड़क हो रहा था. मैने अपनी आँखें बंद करके सिसकियाँ लेते हुए कहा-

मैं: आहह, मार दिया तेरी अदा ने. उउंम्म…

स्वाती ने अपनी आँखें बंद ही रखी. मैं अब उसके बाल पकड़ के लंड उसके मूह में देने लगा. मेरा 7 इंच का लंड उसके गले तक जेया रहा था. उसकी आँखों से आँसू आने लगे. मैं नही रुका, और लंड को मूह में अंदर-बाहर करने लगा.

उसने अपनी आँखें बंद ही रखी. फिर 5 मिनिट बाद मैने लंड मूह से बाहर निकाला. तब उसकी साँस में साँस आई. वो साँसे लेने लगी, और बोली-

स्वाती: आप बहुत बुरे हो. आपने ज़ोर से किया.

मैं: मेरे जान. क्या करू तुम हो ही इतनी सेक्सी. मेरा मॅन नही रुका.

फिर मैने कहा: बेबी आओ मेरे पास, और सीधी लेट जाओ.

मैं खड़ा हुआ और लंड लेके छूट के पास गया.

मैने कहा: बेबी अब असली सेक्स शुरू करे?

उसने कहा: आप बहुत दर्द दोगे. मुझे पता है, आप मेरी नही सुनते हो.

मैने उसे किस किया और कहा: बेबी मेरे लिए तोड़ा सा दर्द से लेना. फिर दर्द के बाद ही तो आपको मज़ा आएगा. प्यार में तोड़ा दर्द . लेना चाहिए.

उसने कहा कुछ नही और चुप ही रही. फिर मैने उसकी छूट को वापस 5 मिनिट तक छाता और गीला करने लगा. अब मैने अपना मोटा लंड उसकी छूट पर रखा. मैने उसकी दोनो टाँगो को . के पकड़ा, और डोर किया. एक हाथ से लंड पकड़ के छूट के . पर रखा, और धीरे से . दिया. तो लंड . गया. . से . किया, लेकिन नही गया.

स्वाती ने अपनी आँखें बंद ही रखी. मैने 4 से 5 बार . किया अंदर नही गया. फिर मैने एक . ज़ोर से दिया, तो मेरा 3 इंच लंड उसकी छूट . हुए, अंदर गया. उसकी . चीख निकल गयी.

अब मैने अपना मोटा लंड उसकी छूट पर रखा. मैने उसकी दोनो टाँगो को कस्स के पकड़ा और डोर किया.

एक हाथ से लंड पकड़ के छूट के छेड़ पर रखा, और धीरे से धक्का दिया. तो लंड फिसल गया. वापस से ट्राइ किया नही गया.

स्वाती ने अपनी आँखें बंद ही रखी. मैने 4 से 5 बार ट्राइ किया अंदर नही गया. फिर मैने एक धक्का ज़ोर से दिया, तो मेरा 3 इंच लंड उसकी छूट फाड़ते हुए, अंदर गया. उसकी ज़ोरदार चीख निकल गयी.

स्वाती: आह मम्मी! प्लीज़ निकालो इससे. बहुत दर्द हो रहा है.

स्वाती को बहुत दर्द हुआ. छूट से ब्लड निकालने लगा. वो रोने लगी. मैने उसके होंठो को अपने होंठो से दबा लिया, और चूसने लगा.

उसकी कमर को भी कस्स के पकड़ लिया. लंड छूट के अंदर ही रखा.

मैने उससे कहा: बेबी कुछ नही होगा. आप बस तोड़ा से लो. अब आयेज दर्द नही होगा.

वो कुछ नही बोली. बस दर्द को पी गयी. मैने उसकी इन्नर को उसके मूह में डाल दिया, जिससे वो और ना चिल्लाए. फिर 10 मिनिट उसको खूब किस किया, जिससे उसका दर्द कम हुआ.

5 मिनिट बाद मैने उसके बूब्स को किस करते हुए ही लंड को तोड़ा और धक्का दिया, जिससे लंड 2 इंच अंदर गया. उसको फिरसे दर्द का झटका लगा. मैने फिर 5 मिनिट बाद एक और धक्का दिया, और मेरा पूरा लंड उसकी छूट में समा गया. उसकी छूट ने लंड को पकड़ लिया. बहुत टाइट छूट थी स्वाती की.

उसके आँखों से आँसू निकल ही रहे थे. मैं तोड़ा रुका. 10 मीं तक उसके आँसू बंद हुए और वो नॉर्मल हुई. तब मैं धीरे-धीरे से लंड को अंदर बाहर करने लगा. 3 इंच ही बाहर निकलता और बाकी का अंदर रहने देता.

अगले 15 मिनिट तक ऐसे ही धीरे-धीरे छोड़ा. जिससे उसको दर्द नही हुआ, और वो पूरी नॉर्मल हो गयी. छूट के खून से लंड लाल हो गया था. ये स्वाती को नही पता था. मैने उसके मूह से कपड़ा हटाया. फिर वो बोली-

स्वाती: प्लीज़, अब धीरे-धीरे ही करना आप. आपका वो बहुत मोटा है. मुझे दर्र लग रहा है.

मैं: आपका फर्स्ट टाइम है, इसलिए दर्द हुआ, अब नही होगा. अब मैं आपको बहुत प्यार से करूँगा.

उसके बाद मैने अपनी स्पीड नॉर्मल ही रखी, जिससे स्वाती को दर्द ना हो. मैं उसे धीरे-धीरे ही छोड़ रहा था. मेरा अब पूरा लंड अंदर-बाहर जेया रहा था. धीरे-धीरे ही छोड़ने में मज़ा आ रहा था. वो मेरे लंड को अपने पर तक फील कर रही थी. मैने उससे कहा-

मैं: बेबी, अब आपको दर्द तो नही हो रहा ना?

स्वाती: नही बेबी.

मैं: मेरा लंड छूट में जेया रहा है, तो कैसा फील हो रहा है?

स्वाती: अछा फील कर रही हू. आपका वो बहुत अंदर तक जेया रहा है.

मैने अब लंड की थोड़ी स्पीड बड़ाई, और लंड छूट के अंदर-बाहर करने लगा. उसे तोड़ा दर्द हुआ. मैने इग्नोर किया और छोड़ता रहा. 15 मिनिट छोड़ने के बाद उसने मेरी बॅक को कस्स के पकड़ लिया, और वो झाड़ गयी.

वो अब मुझे किस करने लगी. मैं भी उसका साथ देने लगा, और नीचे से धक्के देने लगा. उसे अब मज़ा आ रहा था. लंड के धक्के अब तेज़ कर दिए. और किस करने से मैने उसका मूह दबा दिया. जिससे उसकी आवाज़ डब गयी.

स्वाती की बालों वाली छूट ने लंड गीला कर दिया. छूट अब खुल गयी थी. 10 मिनिट ऐसे ही तेज़ छोड़ने के बाद मेरा भी होने वाला था. तो मैने स्पीड तेज़ की. स्वाती के पैरों को अपने कंडे पर रखा, और ज़ोर-ज़ोर से धक्के देने लगा.

स्वाती: आह, मैं मॅर जौंगी.

उसकी सिसकियों ने मेरी स्पीड और बढ़ा दी. 5 मिनिट तक ऐसे ही ज़ोरदार चुदाई के बाद मैने लंड छूट से बाहर निकाला, और उसके मूह के पास ले गया.

मैने कहा: बेबी मूह खोलो, और लंड को मूह में लेके चूसो.

स्वाती ने अपना मूह खोला, और मैने लंड उसके मूह में दे दिया. उसके बाल पकड़ के लंड अंदर-बाहर करने लगा. मेरा पानी निकालने वाला था.

स्वाती भी मेरा लंड आचे से चूस रही थी. मेरा अब निकालने वाला था, तो मैने उसके बाल पकड़ के उसके मूह को लंड में दबा दिया. स्वाती ने अपनी आँखें बंद रखी, और मेरा वीर्या उसके मूह में निकल गया.

स्वाती के मूह में लंड गले तक था. इसलिए मेरा पानी गले से हो कर पेट तक चला गया. मैने 5 मिनिट तक लंड उसके मूह में ही रखा. उसके बाद मैने लंड निकाला, और दोनो ने साँसे ली.

तोड़ा पानी उसके होंठो पर था.

तो मैने कहा: बेबी इससे भी चाट लो.

उसने वो भी सॉफ कर दिया. उसके बाद मैं उसे पकड़ के बेड पर ही लेट गये.

स्वाती मुझे किस करने लगी. मैने उससे कहा-

मई: सच-सच बताओ. कैसा लगा आज मेरा प्यार?

स्वाती: बेबी, पहले बहुत ज़्यादा दर्र लगा था आपके इसको देख कर. फिर बाद में मज़ा आया.

मैं: ई लोवे योउ मेरे जान.

स्वाती: ई लोवे योउ टू.

तो दोस्तों कैसे लगी मेरी ये न्यू स्टोरी. आपको अगले पार्ट में बतौँगा की कैसे मैने स्वाती की सील बंद गांद मारी. आप लोग मुझे बस अपना प्यार देते रहना. ये कोई फेक स्टोरी नही है. ये पूरी स्टोरी रियल है.

और किसी को मेरे साथ एंजाय और स्वाती जैसा प्यार चाहिए, तो मुझे मैल ज़रूर करना. आपको रियल और सेक्यूर एंजाय मिलेगा.

मेरे मैल ईद गम0288580@गमाल.कॉम है. आप मुझे अपना फीडबॅक ज़रूर दे.

थॅंक्स ड्के.

यह कहानी भी पड़े  बहन बनी दोस्त का बर्थ-डे गिफ्ट


error: Content is protected !!