लड़की की ठुकाई दो लंडों से

ध्रुव झड़ने के बाद कैमरा को सेट करने लगा। अब अल्तमाश ने मुझे सोफे पर साइड पर सर रखने को कहा, और मैं घोड़ी बन गई। अब वह मेरी गांड के छेद में उंगली डालने लगा। मुझे दर्द हुआ। फिर उसने ल्यूब गिराया और उंगली करने लगा। कुछ 2 मिनट में मेरी गांड खुल गई।

अल्तमाश ने मुझे बोला: जितना चीख सकती हो चीख कर दिल को हल्का करो। इस पूरी बिल्डिंग में कोई नहीं है।

अब वह दोनों हाथों से मेरी गांड को अलग करने लगा। फिर उसने ध्रुव को बुलाया, और मेरी गांड फैलाने को बोला। ध्रुव मेरी गांड को फैलाए हुए था, और अल्तमाश मेरे ऊपर आ चुका था।‌ फिर पूरे जोर से उसने एक जोर के झटके में आधा लंड अंदर उतार दिया। मैं तड़पने लगी। वह कुछ सेकंड रुका और जोर से मेरी गांड में अंदर-बाहर करने लगा।

मिनट भी नहीं हुए, उसने बिना लंड निकाले मुझे सोफे से उठाया,

और थोड़ा पीछे चलने लगा। अब वह खड़े-खड़े मेरी गांड मार रहा था। मेरे दोनों हाथ ज़मीन पर थे। मैं चीख रही थी। ध्रुव भी कैमरा लेकर मेरे आगे-पीछे से शूट कर रहा था। किसी ट्रेन की तरह अल्तमाश ने खड़े-खड़े मेरी गांड मारी। फिर बिना लंड

निकाले उसने मुझे खिड़की के सहारे झुका दिया । उसने पर्दे को साइड किया, और मेरी गांड मारना शुरू किया। अल्तमाश का लंड इतना मोटा था कि वह मेरी गांड के अंदर कुरेद रहा था। इतनी तेज़ चुदाई से मुझे लगने लगा मेरी गांड के अंदर के पार्ट्स बाहर निकल आएंगे। मैं मज़े से गांड मरवा रही‌ थी।

अब उसने मुझे टीवी के टेबल पे झुका दिया। मेरी गले के हार मेरे चेहरे पे टकरा रहे थे। मेरी चूड़ियां और पायल खन-खन किये जा रही थी। साथ में मेरी आह उह मदहोशी की आवाज़ें पूरे फ्लोर पे गूंज रही थी। अल्तमाश ने ध्रुव को सोफे पर आने को इशारा किया। ध्रुव को सोफे पर आके लेट गया। तभी अल्तमाश ने अपना लंड निकाला।

मेरी गांड में अभी भी अंदर-बाहर घुसा लंड महसस हो रहा था। अल्तमाश ने मुझे ध्रुव के लंड को अपनी चूत में लेने को बोला। मैं जाके ध्रुव के ऊपर लंड सेट करके बैठने लगी। ध्रुव ने मुझे चोदना शुरू कर दिया। पानी पीकर अल्तमाश हमारी तरफ आने लगा।

ध्रुव ने मुझे अपने सीने से चिपका लिया। उसने अपने बाजुओं में मुझे कैद कर लिया। पीछे से अल्तमाश हमारे ऊपर था। वो अपना लंड मेरी गांड के छेद पर सेट करके धकेलने लगा। मैं चीखने लगी। अल्तमाश ने दोनों हाथों से मेरी गांड पर चांटे बरसाने शुरू कर दिये। फिर मेरी गांड को अलग करके दोबारा से लंड घुसाने लगा। जैसे ही उसका आधा लंड अंदर गया, मुझे दोनों के लंड आपस में टकराते हुए महसूस हुए।‌ बस एक चमड़ी की दूरी थी।

दोनों ने अपना लंड पेलना शुरू किया। ध्रुव की रफ्तार धीमी थी, पर अल्तमाश मुझे चोदे जा रहा था। वो मेरी गांड में चांटे बरसाता, कभी बाल खींचता। आगे से ध्रुव मेरे स्तनों को दबाता और थप्पड़ मारता। मैं घमासान चुदाई से पागल होने लगी थी। करीब 10-12 मिनट के बाद दोनों ने पोजीशन बदली। अब अल्तमाश मेरी चूत में था और ध्रुव मेरी गांड में।

अब ध्रुव ने मेरे दोनों हाथों के पीछे खींच के मुझे सीधा कर दिया। पीछे से मुझे ज़ोर से गले लगा कर चोदने लगा। अल्तमाश मेरी कमर पकड़ के चोद रहा था। दोनों सिसकियां निकाल के चोद रहे थे। कमरे में हमारे शरीर की टकराने की थप-थप चट-चट की आवाज़ें एक साथ आ रही थी। दोनों मुझे तेज़ी से चोदे जा रहे थे।

फिर दोनों ने अचानक से लंड निकाल लिया और जल्दी से कैमरे को बेड के पास सेट कर दिया। अब मैं ध्रुव के ऊपर बेड पर बैठ गई, और अल्तमाश मेरे ऊपर मेरी गांड मारने लगा। फिर से दोनों ने एक साथ मेरी चुदाई शुरू कर दी। अल्तमाश मेरी कमर-बंध को पकड़ के चोद रहा था। मैं मज़े से गांड ढकेल-ढकेल के चुद रही थी।

तब ध्रुव ने बोला: ये यहां मस्त चुद रही है, और इसका बॉयफ्रेंड चैन से सो रहा है।

मैं और भी जोश में आ गई, और साथ देने लगी। मेरी गांड का छेद काफी बड़ा हो गया था। ध्रुव ने अल्तमाश को इशारा किया कि वो अब झड़ने वाला था।‌ फिर बिना पूछे वो तेज़ी से मेरी चूत बजाने लगा। मेरे स्तन और गहनें उसके चेहरे पर टकराये जा रहे थे। लगातार वो 3 मिनट तक मेरी चूत में ठुकाई करके मेरे अंदर ही झड़ गया।

मैं उसके ऊपर से उड़ने लगी। लेकिन अल्तमाश ने मुझे उठने नहीं दिया, और मेरी गांड में लंड घुसेड़ के चोदने लगा। वो मेरे स्तनों को दबा कर गांड मार रहा था। स्तनों को छोड़ता तो मेरे बालों को जकड़ लेता। करीब 4-5 मिनट के बाद वो मेरी कमर-बंध को ज़ोर से पकड़ के चोदने लगा। फिर थोड़ी ही देर में मेरी पूरी गांड को भर दिया।

दोनों ने फिर अपना लंड निकाल लिया और कैमरे से मेरी गांड या चूत की हालत को रिकॉर्ड करने लगे। मेरी दोनों छेद से दोनों का वीर्य बाहर आने लगा, और दोनों मुस्कुराने लगे। ध्रुव पानी-पीने लगा। अल्तमाश सोफा पर बैठ के आराम करने लगा। मैं अपने हार को उतारने लगी। जैसे ही मैं चूड़ियां उतारने लगी, अल्तमाश ने मुझे मना कर दिया। ध्रुव अब बिस्तर पर सोने चला गया। अल्तमाश आया और मुझे बाथरूम ले गया। उसने मुझे शॉवर के नीचे अच्छे से किस किया।

फिर उसने मुझसे पूछा: कभी डीपथ्रोट ब्लोजॉब दिया है?

मैंने ना कहीं। तो उसने मुझे बोला कि वो करना चाहता था। मैंने कुछ नहीं बोली। उसने मेरी ना को हां समझ के मुझे नीचे बिठा दिया। मैं उसके लंड को मुंह में लेके चूसने लगी चाटने लगी। मैंने देखा वो अपने फोन को कोने में स्लैब पर सेट कर रहा था। फोन रखते ही उसने मेरे हाथों को अपनी जांघों से हटा दिया, और दोबारा पकड़ने को मना कर दिया।

उसका लंड पूरी तरह से टना नहीं था। उसने मेरे सर को ज़ोर से पकड़ लिया, और पूरा लंड मेरे मुंह में घुसा दिया। मै गॉक-गॉक की आवाज़ निकालने लगी। उसका लंड मेरे कंठ को छूते हुए अंदर तक जा रहा था।‌ मुझे उल्टी आने लगी। फिर उसने मेरा सर छोड़ा, और मैं हांफने खांसने लगी, और अपनी तेज़ सांसे ली। फिर उसने मुझसे पूछा कि अगर ज्यादा दर्द हो रहा था तो वो नहीं करेगा। मुझे दर्द भी हो रहा था, लेकिन मैंने उसको करने को कहा।

मैंने हां बोला और हां बोलते ही उसने दोबारा लंड अंदर तक घुसेड़ कर मुझे करीब 20 सेकंड तक पकड़ कर रखा। फिर उसने अंदर डालने की कोशिश की। मैं अपने हाथों को ज़मीन पर पटकने लगी, जिससे मेरी चूड़ियां टूटने लगी। फिर उसने मुझे मेरे मुंह में लार दिया या उसके लंड का पानी टपकने लगा। मैं खांसी और तेज़ सांसें ली।

फिरसे उसने वही किया। ऐसा करीब 15 मिनट तक चलता रहा। तब ध्रुव हमें देखने आ गया। उसने हमें बोला कि वो बगल वाले कमरे में जा रहा था सोने। वो चला गया। उसके जाते ही अल्तमाश ने और देर तक मेरे गले में लंड डाले रखा। मेरी आंखों से आंसू बह रहे थे। मैं ये पसंद कर रही थी। देखते-देखते उसने मेरे गले के अंदर पूरा माल छोड़ दिया।

उसका लंड निकलते ही मैंने देखा उसका लंड पूरी तरह से उसके वीर्य से लिपट गया था। मैं खांस रही थी, और वो मुझे किस करने लगा। हम दोनों काफी देर तक बाथरूम में किस करते रहे। हम बाहर आ गए, और बैठ के बातें करने लगे। वो बिस्तर पर बैठ गया।

उसने मुझे अपने आगे बिठा लिया, मैं अभी भी पूरी भीगी थी। हाथों में अभी भी चूड़ियां थी। मैं किसी चुदी हुई दुल्हन के समान लग रही थी, और मुझे आज की रात मेरी सुहागरात लग रही थी। उसने मुझे अपने आगे बिठा कर मेरे बूब्स दोबारा से दबाने शुरू कर दिये। दोनों बूब्स को दोनों हाथों से मसलने लगा। मैं सिसकियां लेने लगी। मेरे शरीर पर लाल दाग हो गये थे।

अब उसने एक हाथ से मेरे एक स्तन को खींचा, और दूसरे से मेरी चूत में उंगली करना शुरू कर दिया। मेरे पैरों की उंगलियां सिकुड़ने लगी थी। मैं आंखें बंद करके आवाजें निकाल रही थी। अल्तमाश ने उंगली करनी बंद कर दी।

अब उसने मुझे बेड पे बाई तरफ से लिटा दिया, और मेरी एक टांग उठा के अपना लौड़ा डाल के दोबारा से चोदने लगा। मेरी एक टांग उसके कंधे पर थी, और वो मुझे ज़ोर-ज़ोर के झटके मारने लगा। तुरन्त ही उसने मुझे मिशनरी पोजीशन में सेट किया, और मेरे ऊपर आकर मेरी चूत मारने लगा। वो मुझे देख के मेरी चुदाई करने लगी। मैं आह आह कर रही थी। वो मुझे किस करते हुए ज़ोर के झटके मारने लगा। कुछ देर में उसने मेरे बिस्तर से उतर के खिड़की की तरफ खड़े होके पीछे से मेरी गांड में लंड डाल कर गांड मारने लगा।

करीब 2-3 मिनट के बाद वो मेरी कमर को ज़ोर से पकड़ के मेरी ज़ोर से चुदाई करने लगा। फिर मुझे बिस्तर पर कोने पे पटक दिया, और दोबारा से मेरी चूत में लंड पेल दिया। थोड़ी देर वैसे ही चोदने के बाद उसने मेरी चूत को दोबारा से पूरा भर दिया। मैंने चाट-चाट कर उसके लंड को साफ किया। सुबह के 5 बज गये थे।

अल्तमाश ने एक सिगरेट जलाई और पीने लगा। मैं बिस्तर पर सोने लगी। धुंए से मेरी नींद खुल गयी। तो मैंने अपना फोन चेक किया। मैंने करीब 8 बजे के बाद से फोन का इस्तेमाल नहीं किया था। मेरे फोन पर 12 मिस्ड कॉल्स और बहुत सारे मैसेज पड़े थे, जिनमें मेरे बॉयफ्रेंड का भी नाम था।

अल्तमाश मेरे फ़ोन को देखने लगा।‌ उसने मेरे बॉयफ्रेंड की तस्वीर दिखाने बोला। मैंने उनको बताया कि हम पिछले 8 महीनों से नहीं मिले थे, और पिछले महीने से मैं ध्रुव से चुद रही थी। ठीक 6 बजे ध्रुव हमारे कमरे में आया। ध्रुव ने बोला कि वो अब निकल रहा था, उसे काम था। उसने मुझे चलने को बोला। मैं चलने के लिए उठी। तभी अल्तमाश ने उसे मना कर दिया कि वो मुझे वापस छोड़ देगा।

ध्रुव जाने लगा तो मैं उसे गले लगाने को उठी। उधर अल्तमाश अपने घर पे बात करने लगा। उसने बहाना बनाया कि वो यहां से सारे काम करके लौटेगा। मैं सोने चली गयी। कुछ देर मेरी आंख लगी होगी तभी अल्तमाश ने मुझे जगा दिया और मुझे बिस्तर के कोने पर ले आया। इस बार हम दोनों 69 पोजीशन में आए। फिर वो मुझे घोड़ी बना के मेरे बालों को खींच के मेरी गांड चोदने लगा।

उसने मुझे 4 बजे तक कई बार चोदा। मैं एक चुदासी लड़की बन गयी थी। अल्तमाश की चुदाई ध्रुव से भी ज्यादा रफ थी। फिर हम 4:30 के करीब निकल गये। 7 बजे के करीब मैं अपने घर पहुंची और अगले दिन तक सोई।

दुबई वापस जाने से पहले ध्रुव और अल्तमाश ने कई बार मिल कर मेरी घंटों तक चुदाई की। मुझे भी एक साथ 2 लंड लेने की आदत हो गई। हमने कई बार वीडियो भी बनाई, और बाद में उसे देखा।

अल्तमाश के जाने के बाद मैं ध्रुव के लंड से चुदती हूं। ये कहानी यहां ही ख़त्म कर रही हूं। अगर पसंद आई तो कमेंट करके बताएं तांकि यह सीरीज आगे बढ़ सके। धन्यवाद मेरी कहानी पढ़ने के लिए।

यह कहानी भी पड़े  रंडी बहन को ससुर ने गुलाम बनाया


error: Content is protected !!