खेतों में लड़के के अपनी मामी को चोदने की कहानी

हेलो दोस्तों, मैं सोनू शर्मा हाज़िर हू “सग़ी मामी को खेत में छोड़ा पार्ट 2” लेकर.

अगर अपने पिछली कहानी “सग़ी मामी को खेत में छोड़ा” नही पढ़ी है, तो उसको पहले पढ़ ले.

तो चलिए स्टोरी पे आते है.

मामी: अछा, वैसे आपका वो (लंड) कितना बड़ा है?

मैं रुका, और अपनी पंत को नीचे करके मामी को अपना लंड दिखाया. मेरा लंड देख कर मामी की आँखों में एक अलग ही चमक नज़र आई.

कुछ सेकेंड ऐसे ही मेरे लंड को देखने के बाद, मामी ने लंड को अपने हाथो में लिया, और आयेज-पीछे करने लगी. लंड पूरा टाइट हो गया था. मैं भी मामी की गांद और छूट पर अपना हाथ फेर रहा था उपर-उपर से.

2-3 मिनिट तक ऐसे ही करने के बाद, अब मामी और मैं काफ़ी गरम हो गये थे.

मामी: सोनू पहले हम कुए से पानी लेकर आते है, और छ्होटी मामी को मैं देकर आती हू. आप यही रुकना, मैं कोई ना कोई बहाना बना कर 5-10 मिनिट में आती हू.

मे: ठीक है मामी, जैसा आपको ठीक लगे.

फिर हम कुए पे गये. वाहा से पानी भरा मटके में. मैं कुट्टिया के पास ही रुक गया, और मामी मटका लेकर नीचे वाले खेत में चली गयी. अब मैं मॅन ही मॅन खुश हो रहा था, की अब मामी की छूट आचे से मारूँगा.

15-20 मिनिट बाद मामी मुझे डोर से आती हुई दिखाई दी. उनको देख कर मैं काफ़ी एग्ज़ाइटेड हो गया था.

मामी: माफ़ करना सोनू, तोड़ा सा लाते हो गया आने में.

मे: कोई बात नही मामी. अब क्या करना है?

मामी (नॉटी सी स्माइल देते हुए बोली): करना तो बहुत कुछ है, इसलिए तो आई हू.

मामी कुट्टिया के अंदर गयी. वाहा से प्लास्टिक का सिला हुआ बोरा निकाल कर बाहर आई.

फिर वो बोली-

मामी: सोनू मेरे पीछे-पीछे आओ आप.

मे: ठीक है मामी.

मैं मामी के पीछे-पीछे जाने लगा. हम लोग खेतों के बीच में पहुँच गये. वही पे मामी ने बोरी बिछाई, और थोड़ी जगह बनाई. फिर मामी अपनी सारी उतारने लगी.

मे: अर्रे मामी, ऐसे नही. आप डाइरेक्ट सारी मत उतरो.

मैने मामी की कमर पकड़ी, और अपनी तरफ खींचा, और मामी को किस करने लगा.

मामी: सोनू नीचे बैठ जाते है.

फिर मैने मामी को बोर पे लिटाया, और उनके उपर चढ़ कर उन्हे किस करने लगा. मामी भी मेरा पूरा साथ दे रही थी. कभी उनकी जीभ मेरे मूह में, कभी मेरी जीभ मामी के मूह में, और साथ ही साथ सलाइवा भी एक्सचेंज हो रहा था.

मैने भी मस्ती-मस्ती में प्यार से मामी की जीभ को काटा. कुछ देर तक लीप-किस करने बाद मामी ने मुझे लिटाया, और मेरे उपर आ कर जानवरो की तरह मुझे किस करने लगी. हम दोनो काफ़ी ज़्यादा एंजाय कर रहे थे किस को.

ऐसे ही किस करते-करते मैने मामी की सारी और ब्लाउस भी उतार दिए.

फिर मैं उठा और मामी को उल्टा लिटाया. उनकी कमर पे किस करते-करते उपर गर्दन तक जेया रहा था, और बीच-बीच में अपने दांतो से मामी की बॉडी पे हल्का सा काटा भी.

मैं पीछे से मामी की गर्दन पे किस करता, और कान में हल्की सी फूक मारता. उससे मामी को थोड़ी से गुदगुदी होती. मामी के मूह से हल्की सी सिसकिया बे निकलती अया अया ह्म की.

कुछ मिनिट ऐसे ही करने के बाद मैने मामी को सीधा किया. फिर मैने मामी के पेटिकोट का नाडा खोला, और पेटिकोट निकाल दिया. मामी की नरम-नरम थाइस देख कर मैने थाइस पर किस करना चालू किया.

मेरे ऐसा करने से मामी को काफ़ी अछा लग रहा था. मामी की ब्लॅक कलर की पनटी पूरी गीली हो गयी थी. मैने भी अब अपनी जीन्स और त-शर्ट निकली, और अंडरवेर में आ गया.

मामी लेते-लेते मुझे और मेरे खड़े हुए लंड को घूर रही थी. कपड़े उतारने के बाद मैं भी नीचे बैठ गया. फिर मैने मामी की ब्लॅक कलर की ब्रा निकली, और पैर खोले. उसके बाद मैने मामी के बूब्स चूसना चालू किया.

मेरा खड़ा लंड मामी की छूट में घुसने की कोशिश कर रहा था. लेकिन अंडरवेर मैने अभी तक निकाला नही था. काफ़ी देर तक बस यही चल रहा था. मैं मामी के बूब्स चूस्टा, और छूट के उपर-उपर से अपना हाथ फिरा रहा था. तो कभी अपना अंडरवेर में खड़ा लंड उनकी छूट में घिस रहा था.

मामी की छूट से पानी भी निकल गया था.

मामी: सोनू आप ये सब कर रहे हो ना, तो मुझे काफ़ी मज़ा आ रहा है. अब अंदर भी डाल दो ना.

मे: मामी अभी तोड़ा सा और सबर रखो, अंदर भी डालूँगा.

अब मैने मामी की पनटी भी निकाल दी. मामी की छूट को मैने आचे से देखा. वो पूरी ब्राउन कलर की छूट थी, और छूट पे एक भी बाल नही था.

मे: मामी आपने कब शेव की थी.

मामी: रात में निकाले थे बाल. 3 वीक्स से नही काटे थे बाल, तो कल रात में काट लिए.

मे: ओह अछा, अब मैं आपकी छूट को आचे से चाटूंगा.

मामी: ची! ऐसा मत करना, अछा नही लगेगा. मेरी छूट पहले कभी किसी नही छाती है.

मे: मामी बहुत मज़ा आएगा आपको, देखो तो मेरा जलवा.

फिर मैने मामी के पैर खोले और उनकी ही अंडरवेर से छूट को आचे से सॉफ किया और साइड में धूप में रख दी सूखने के लिए. मैं छूट के पास गया. मामी की छूट से मदहोश करने वाली खुश्बू आ रही थी.

मामी: रात में निकाले थे बाल. 3 वीक्स से नही काटे थे बाल, तो कल रात में काट लिए.

मे: ओह अछा, अब मैं आपकी छूट को आचे से चाटूंगा.

मामी: ची! ऐसा मत करना, अछा नही लगेगा. मेरी छूट पहले कभी किसी नही छाती है.

मे: मामी बहुत मज़ा आएगा आपको, देखो तो मेरा जलवा.

फिर मैने मामी के पैर खोले और उनकी ही अंडरवेर से छूट को आचे से सॉफ किया और साइड में धूप में रख दी सूखने के लिए. मैं छूट के पास गया. मामी की छूट से मदहोश करने वाली खुश्बू आ रही थी.

फिर जीभ से छूट की साइड-साइड में चाटने लगा. मामी भी हिलने-डुलने लगी, और मेरे बालों को पकड़ लिया, और सिसकिया लेना लगी

मामी: अया अयाया ह्म ह्म ऐसे ही करो सोनू.

मे: मामी चलो 69 पोज़िशन में करते है, और एंजाय करते है.

मामी: मतलब? 69 क्या होता है?

फिर मैने मामी को बताया की 69 पोज़िशन कैसे होती है.

मामी: अछा, ऐसा भी होता है क्या? चलो ट्राइ करते है.

फिर मैं नीचे लेता. मामी ने मेरे मूह पे अपनी छूट रख दी, और लंड अंडरवेर से निकाल कर लंड चूसने लगी. इधर मैं मामी की छूट के अंदर तक जीभ डाल कर चाट रहा था. वाहा पर वो ज़ोर-ज़ोर से मेरे लंड और बॉल्स को चूस रही थी.

मामी एक बार फिरसे डिसचार्ज हो गयी थी मेरे मूह पे, और मैने मामी का नमकीन पानी पूरा पी गया. लेकिन मेरा चाटना रुका नही. काफ़ी टाइम ऐसी पोज़िशन में एंजाय करने के बाद, मामी एक-दूं से खड़ी हुई और मुझे बोली-

मामी: अब सबर नही हो रहा है.

मामी ने मेरा लंड पकड़ा, और छूट पे तोड़ा सा मसला, और उसपे बैठ गयी. मेरे लंड पर बैठने के बाद मामी के चेहरे पे एक अलग ही सुख नज़र आ रहा था. मामी ने अपने हाथ मेरी चेस्ट पे रख दिए, और ज़ोर-ज़ोर से उपर-नीचे कूदने लगी.

पच पच पच की आवाज़ निकल रही थी. इतना सब करने के बाद मामी भी तक गयी थी. अब वो आयेज-पीछे हो रही थी. फिर मैने उनको लिटाया मिशनरी पोज़िशन में, और स्पीड से छोड़ना चालू किया. मामी अब ज़ोर-ज़ोर से सिसकियाँ भर रही थी.

कुछ टाइम बाद मैने अपनी स्पीड कम कर दी, और मामी की गांद में उंगली डालना चालू किया. साथ ही साथ उसकी छूट भी मार रहा था.

मे: मामी मुझे पीछे भी डालना है?

मामी: डाल लो! लेकिन अब जल्दी करो, मुझे जाना भी है. पता नही कितना टाइम हो गया?

मे: ठीक है मामी. आपने पहले भी करवा रखा है क्या पीछे?

मामी: हा आपके छ्होटे वाले मामा ने मेरे पीछे बहुत डाला है.

मे: ठीक है. (मैं शॉक नही हुआ था ये सुन कर, की बड़ी मामी छ्होटे मामा से भी चूड़ी हुई थी. क्यूंकी मुझे पहले से ही डाउट तो था, की कुछ तो था दोनो के बीच)

उसके बाद मैने मामी को उठाया, और लंड चूसने को कहा. उन्होने आचे से थूक लगा के कुछ मिनिट तक लंड चूसा. फिर मैने डॉगी-स्टाइल में किया मामी को, और गांद मे लंड डालने लगा, जो की आराम से अंदर चला गया था.

उसके बाद मैने स्पीड बढ़ा दी, और ज़ोर-ज़ोर से मामी की गांद मारने लगा. मामी अया अया चिल्ला रही थी-

मामी: सोनू प्लीज़ आराम से करो, प्लीज़ दर्द हो रहा है.

फिर मैने गांद से लंड निकाल कर छूट में डाला, और छोड़ने लगा. छोड़ते-छोड़ते एक-दूं से छूट से लंड गांद में घुसा दिया.

मामी की जब मैं ज़ोर-ज़ोर से गांद मार रहा था, ताप ताप ताप ताप की आवाज़ निकल रही थी. अब मेरा बे होने ही वाला था, तो मैने अपनी पूरी ताक़त लगाई, और ज़ोर-ज़ोर से छोड़ने लगा मामी को.

मैने जल्दी से गांद से लंड निकाला, और मामी को सीधा किया. फिर डाइरेक्ट मैने अपना लंड मामी के मूह में घुसा दिया, और अंदर ही सारा पानी निकाल दिया. मामी को मैने थूकने भी नही दिया. जब तक मामी ने मेरा सारा पानी पी नही लिया, तब तक लंड निकाला नही मैने.

मामी (फूली सांसो के साथ बोली): क्या किया ये आपने? ऐसा कोई करता है भला? आपने कुछ सोचने का मौका तक नही दिया, और मूह के अंदर ही पानी निकाल दिया आपने.

मे: सॉरी मामी, वो तोड़ा सा एग्ज़ाइटेड हो गया था मैं.

मामी: ठीक है, लेकिन नेक्स्ट से ऐसा मत करना.

उसके बाद मामी ने सारी पहनी, और वाहा से थोड़े गुस्से में चली गयी. मैं कुट्टिया के पास आया और खटिया पे आ कर सो गया. मेरी शाम को आँख खुली, जब मामी ने मुझे उठाया.

मामी: सोनू उठ जाओ घर जाने का टाइम हो गया है.

मे: छ्होटी मामी कहा पे है?

मामी: वो आ रही है.

मे: एक रौंद और हो जाए मामी. देखो मेरा लंड खड़ा हो चुका है.

पहले मामी ने तोड़ा सा नाटक किया, लेकिन थोड़ी देर बाद राज़ी हो गयी. मामी की फिरसे चुदाई कर डाली मैने. घर जाने से पहले एक बार और मामी को छोड़ दिया.

और आज भी मैं मामी की चुदाई करता हू जब मैं मामा के घर जाता हू तब.

तो यही थी दोस्तों सॅकी कहानी, जो मेरे और मेरी बड़ी मामी के बीच हुई. बाकी आप अपनी फीडबॅक ज़रूर दे, क्यूंकी काफ़ी मेहनत लगती है स्टोरी लिखने में. आपकी फीडबॅक से मोटिवेशन मिलता है, और कोई ग़लती हो तो वो भी पता लगती है. तो नेक्स्ट टाइम मैं उसका ध्यान ज़रूर रखुगा.

और हा, अगर देल्ही मे किसी गर्ल, आंटी, भाभी को सॅटिस्फॅक्षन चाहिए, तो मुझे मैल कर सकती है. मैं कोई चार्जस (पैसा) नही लेता हू. मुझे बस मज़े करने और सामने वाले को मज़े देने से ही मतलब होता है.100% प्राइवसी रहेगी.

यह कहानी भी पड़े  सगे भाई के साथ मेरे नाजायज सम्बन्ध की कहानी

error: Content is protected !!