कश्मीर में जाके सील तुडवाई

ही फ्रेंड्स, मानसी अगेन. कैसे हो आप? आप लोगों ने पढ़ा होगा की कैसे मैं लास्ट टाइम मसाज पार्लर गयी थी, और वही चुड गयी. फिर मुझे मेरे लवर कॉल बॉय रोहित की कॉल आई. आज वो मुझसे मिलने आने वाला था. लेट’स स्टार्ट थे स्टोरी.

रात करीब 9 बाज गये थे. रोहित की कॉल आई. वो घर के बाहर था. मैने कहा अंदर आ जाओ. फिर उसने बिके अंदर की.

रोहित: कैसी हो आप?

मे: गुड, तुम कैसे हो?

रोहित: ठीक हू, बुत मैं आपको पर्सनल बात कहता हू.

मे: हा कहो, कोई नही शरमाओ मत. मुझे अपना समझो.

रोहित: मेरे पापा नही है. आप मेरे से काफ़ी बड़ी है आगे में. मैने सिर्फ़ सेक्स आपके साथ किया है, और किसी के साथ नही. मेरे घर पर एक सिस्टर, एक छ्होटा भाई, और मों है. मैं अकेला हू कमाने वाला, या मों कुछ स्टिचिंग का करती है. आप मेरा कुछ सोचो.

मे: इट’स ओक, मैं तुमको जॉब दूँगी.

इतने में रोहित खुश हो गया.

मैने कहा: घर पर बोलना एक प्राइवेट कंपनी है, वाहा तुम्हे जॉब मिली है. दे-नाइट भी हो सकता है, और वही तुझे रहने को रूम मिल जाएगा. तू वीकेंड उनको मिलने आएगा, और तुम मेरे पास यही रहोगे. सॅलरी मैं 25000 दूँगी. डन?

वो खुश हो गया और बोला: मैं घर बता अओ, फिर कल मॉर्निंग से आ जौंगा?

मैने कहा: अपनी मों को कहना अब काम की ज़रूरत नही है. भाई बेहन को स्टडी करने दो.

फिर मैने उसको कुछ पैसे दिए, और बोला: घर कुछ ले जाना.

उसने मुझे किस किया, ज़ोर से हग किया, और गांद में अचानक उंगली डाल दी. मैं उछाल पड़ी और कहा-

मे: अफ, क्या करते हो! डेली करना ही है.

वो खुश हो कर घर चला गया.

1 अवर बाद उसका मसाज आया-

रोहित: थॅंक्स माँ.

मैने कहा: माँ नही पूजा कहो.

वो बोला: नही मैं माँ ही कहूँगा.

मैने कहा: चलो देखते है. कल पॅकिंग करके नेक्स्ट वीक मंडे 10 बजे तक आ जाना.

मैं रात भर यही सोचती रही की बहुत चुड़ूँगी उससे. मेरे हब्बी तो अभी 5 साल तक नही आने थे. उनका डेली बस फोन आता था. फिर मैं एक हॉस्पिटल गयी. मैने एक सर्जरी करवानी थी. मैने अपनी वेजाइना टाइट करवा ली, जैसे वर्जिन हो.

जो सील टूट जाती है, उसको दोबारा जोड़ दिया जाता है. 3 दिन बाद डिसचार्ज मिला. दो दिन घर रेस्ट की, और फिर नॉर्मल हो गयी. नेक्स्ट मंडे रोहित 10 बजे आ गया. मैने उसको बीतया क्यूंकी अभी मैड नही आई थी. मैड आई तो मैने कहा-

मे: ये हमारे रिलेटिव्स है यही रहेंगे.

उसने घर की सॉफ-सफाई की, और चली गयी. हम दोनो ने ब्रेकफास्ट किया, और मैने रोहित को बोला-

मे: कुछ शॉपिंग कर आते है. क्यूंकी कही बाहर जाना है.

वो बोला: ठीक है.

फिर मैने कार निकली, और हम मार्केट आ गये. मैने 3-4 लाइनाये के सेट लिए. 4 ड्रेसस ली. रोहित को कुछ शर्ट और जॅकेट और जीन्स लेके दी.

मेरा प्लान था कश्मीर जाने का. मैने एर टिकेट करवाई, और नेक्स्ट मॉर्निंग को बाग पॅक कर लिया.

फिर मैने रोहित को कहा: घर बोल दे 1 वीक के लिए कश्मीर जेया रहे है काम से.

वो घर बोलने चला गया. मैने भी पॅकिंग कर ली. फिर नाइट को एरपोर्ट निकल लिए हम. 2 अवर्स बाद हम एरपोर्ट पहुँचे. फ्लाइट 3 बजे मॉर्निंग की थी. हमने अपना समान चेक करवाया, और प्लेन में अपनी सीट पर बैठ गये. 3 अवर्स बाद हम श्री नगर में थे, और वाहा स्नोफॉल हो रही थी.

ठंड काफ़ी थी. हम होटेल में गये. वाहा हमने अलग-अलग 2 रूम लिए, ताकि कोई शक ना करे. मैं 30 यियर्ज़ की, और रोहित 19 का था. हम लोगों ने डिन्नर किया. रूम हीटर चल रहे थे. होटेल काफ़ी अछा था, नीट आंड क्लीन. हम लोग अपने-अपने रूम में आ गये. रूम्स साथ-साथ ही थे.

रात करीब 10 बजे रोहित मेरे रूम में आ गया. मैं विंडो के पास बैठी थी, और बाहर देख रही थी. काफ़ी अछा लग रहा था. मैने ट्रॅन्स्परेंट ब्रा पनटी पहनी थी, और ब्लंकेट ओधी थी. रोहित ने फुल स्लीव शर्ट और पाजामा पहना था. उसने डोर लॉक किया, और मुझे पीछे से पकड़ लिया. उसे नही पता था की मैने वेजाइना की सर्जरी करवाई थी. फिर उसने लाइट ऑफ की, और एक दीं लाइट जला दी.

मैने कहा: जल्दी क्या है?

रूम बिल्कुल गरम था. वो मुझे उठा कर बेड पर ले आया. फिर मेरी ब्लंकेट खोल कर साइड पर रखी. मेरी लाइनाये देख कर वो खुश हो गया.

वो बोला: वाउ, इट’स ब्यूटिफुल.

मैने कहा: स्पेशल तुम्हारे लिए ली है.

उसने भी अपने कपड़े उतार दिए, और मुझ पर टूट पड़ा. मैने भी उसे कस्स कर पकड़ लिया. मैने उसके कान में कहा-

मे: तुम्हारे लिए एक सर्प्राइज़ और भी है.

वो बोला: क्या?

मैने कहा: तुम खुद जान जाओगे.

उसने सिर्फ़ एक बार सेक्स किया था, वो भी मेरे साथ. हम दोनो एक-दूसरे को किस करने लग गये. उसने मेरे लिप्स को अपने लिप्स में लॉक कर दिया. मैं गरम हो रही थी. उसने पीछे हाथ डाल कर मेरी ब्रा खोल दी, और मेरे दोनो बूब्स आज़ाद हो गये. फिर मेरे लिप्स छोढ़ मेरे बूब्स पर आ गया, और मेरे निपल को चूसने लगा.

मेरे दोनो निपल्स टाइट हो गये थे. मेरे बूब्स भी हार्ड हो गये थे. 15 मिनिट बाद वो मेरी छूट पर आ गया. उसने मेरी पनटी उतार दी, और मेरी छूट को खोलने लगा. वो छूट में अपनी जीभ डालने लगा. मेरी छूट भी गरम हो गयी. मैने उसको खींच कर उपर किया, और उसका अंडरवेर निकाल दिया.

फिर मैने उसको लिटा दिया, और खुद उसके लंड के पास जेया कर बैठ गयी. पहले उसकी गोलियों को मूह में लिया. उसका लंड मेरे हेड पर लग रहा था. फिर मैने उसका लंड अपने मूह में लिया, और उसकी स्किन नीचे की. उसके बाद उसका सुपरा चूसने लगी. वो भी मेरा सर पकड़ कर उस पर दबा रहा था.

उसका पूरा लंड मेरे मूह में चला गया. उसका लंड अब पूरा टाइट था. उसने कॉंडम निकाला, तो मैने कहा-

मे: नही तुम ऐसे ही करो.

मेरी छूट आज तक रोहित या मेरे हब्बी ने मारी थी. मेरे हब्बी ने तो सिर्फ़ 7-8 बार किया था. फिर वो उस चले गये. मुझे भी बोल रहे थे, पर यहा इतनी प्रॉपर्टी है, उसकी केर कों करता? इसलिए मुझे यही रहना पड़ा.

उसने मुझे लिटाया, और मेरी कमर के नीचे 2 पिल्लो रख दिए, ताकि मेरी छूट उपर उठ जाए. फिर उसने लंड मेरी छूट पर रखा. उसने सोचा एक झटके में पूरा अंदर डाल देगा, क्यूंकी उसका लंड काफ़ी हार्ड था. फिर उसने ज़ोर लगाया, पर उसका लंड अंदर गया नही. उसने फिरसे ज़ोर लगाया, लेकिन नही गया.

मैने कहा: क्या हुआ?

वो बोला: इसे क्या किया?

मैने कहा: मैं आज फिरसे वर्जिन हू. (फिर मैने उसको सारी बात बता दी) ताकि तुम भी मज़ा लो, और मैं भी अपनी पहली चुदाई जैसा मज़ा ले साकु.

ये सुन कर उसने अपने लंड पर तोड़ा लोशन लगाया. फिर मेरी छूट में भी लगाया. उसके बाद उसने हल्का सा ज़ोर लगाया. मेरी जान निकल गयी-

मे: आ अफ, मॅर गयी.

इतनी पाईं थी, की मेरी आँखों से पानी निकल गया. उसने फिर ज़ोर लगाया, और उसका हाफ लंड अंदर था.

मैने कहा: बाहर निकालो.

वो नही माना. मानो कुछ टूटने की आवाज़ आई हो, और मेरी छूट से ब्लड आने लगा. रोहित का लंड खून से भर गया. मेरी सील टूट चुकी थी. रोहित खुश हुआ और बोला-

रोहित: आज पहली बार एक वर्जिन की सील तोड़ी है.

मेरी छूट टाइट थी, और उसका लंड रग़ाद खा कर अंदर जेया रहा था. 25 मिनिट तक ऐसे ही चुदाई चली. मेरी छूट से ब्लड बेड पर गिरा. उसने सारा माल मेरे अंदर ही छ्चोढ़ दिया. उसका लंड पूरा खून से साना था. आयेज तोड़ा स्पर्म लगा था, बाकी सारा ब्लड मेरी छूट के ब्लड और स्पर्म मिक्स हो निकल रहा था.

मैने एक पाईं किल्लर ली. मेरे कान में अभी भी फूच फूच उउउइ एयेए अफ की आवाज़े गूँज रही थी. मेरी उठने की हिम्मत नही थी. रोहित का भी ज़ोर लग गया था, और वो मेरे उपर ही लेता रहा.

बाकी नेक्स्ट पार्ट में. लोवे योउ गाइस.

यह कहानी भी पड़े  साली की चूत की गर्मी ठंडी की


error: Content is protected !!