कमसिन चूत की चीखें

kamseen chuto ki cheekhey आप सबकी चहेती प्यारी और पसंदीदा राइटर आरज़ू आप सबकी खिदमत मे फिर से हाज़िर है मेरी बहुत सारी कहानियाँ आप सबने पढ़ी और सब की सब 1 से बढ़ कर एक चुदाई भरी दास्तान से लबरेज़ है और इस बार की कहानी मुझे मेरे 1 अंकल जो कि मेरी कहानियाँ पढ़ कर मेरे फॅन हो गये है उन्होने मुझे भेजी है तो प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ यहाँ मैं फिर से क्लिएर कर दूँ कि ये मेरी आपबीती नही है बल्कि 1 चोदु अंकल ने मुझे भेजी है कि प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ आरज़ू तुम ये कहानी अपनी वर्डिंग मे हिन्दी सेक्सी कहानियाँ पर सब्मित करना और इस कहानी मे वो किस तराह से अपनी वाइफ को पटा कर पहले अपनी नाज़ुक कमसिन नौकरानी की कुँवारी चूत फाड़ते है उसके बाद उस नौकरानी की मा को भी वो चोद्ते है.

तो मेरे प्यारे भाइयों और चूत्मरानि लंड की प्यासी बहनों आप लोग 1 बार फिर से जान ले कि ये मेरी कहानी नही ये अंकल की ज़बानी होगी जिसको मैं सिर्फ़ अपने अल्फ़ाज़ दे रही हूँ ऊऊऊऊऊक.

मेरा नाम कपिल है मैं 44साल का शादीशुदा हूँ मुझे 1बेटा जिसकी एज 20 साल और 1 लड़की जिसकी 17 साल एज है दोनो कॉलेज जाते है मेरी वाइफ सुनीता बहुत अच्छी है और सेक्स क मामले मे भी मेरा बहुत ख्याल रखती है जबकि मैं उससे बहुत ही जानवर की तराह बर्ताव करता हूँ बेड पर क्योंकि मुझे अपने सेक्स पार्ट्नर को तकलीफ़ देना सुरू से ही बहुत अच्छा लगता है और अब तो सुनीता को इसकी आदत पड़ गयी है और वो भी समझ गई है कि मैं बहुत ही कामुक तबीयत का आदमी हूँ मेरे बच्चे अपने अपने रूम मे सोते है उस दिन रात को बहुत ही बारिश हो रही थी खाना खाने क बाद जब हम लोग सोने गये तो मैने सुनीता से कहा.

कपिल– याआआआआर आज तुम्हारी गांद मारने का बहुत मन कर रहा है क्या ख्याल है…?

सुनीता— आप को भी पता नही मेरी गांद मे कितना मज़ा आता है अजी जब बुर है तो गांद मारने की भला क्या तुक…? आपको पता भी है कितना दर्द होता है गांद मरवाने मे कोई आपकी गांद मारे तो आपको पता भी चले और अब तो बच्चे भी जवान हो गये है अब तो आप ये सब बंद कर दीजिए.

कपिल– अररी चुप कर बहन की लॉडी बड़ी आई भासन देने चल कपड़े उतार कर घोड़ी बन जा वरना अभी गांद पर 20 चपत लगाउन्गा और जब चोट खा कर गांद लाल हो जाएगी तो अपना लॉडा तेरी गांद मे घुसाउन्गा बेचारी सुनीता की तो हालत ही खराब हो गयी थी वो चुपकाप कपड़े उतार कर पूरी तराह से नंगी हो कर घोड़ी बन गयी और तब कपिल ने भी अपने कपड़े उतार कर पहले अपना लॉडा सुनीता के मूह मे डाल कर चूस कर खड़ा करवाया अब भी उसके लंड मे बहुत दम था जब खड़ा होता था तो 9″ का लंबा और अच्छा ख़ासा मोटा हो जाता था जिससे कि सुनीता को भी बुर चुदवाने मे बहुत मज़ा आता था पर गांद मरवाने मे उसकी सही मे फट जाती थी पर झेलना तो पड़ता था.

कपिल== चल अब खड़ा हो गया है झुक जा अंदर करूँ अपना लंड.

सुनीता– प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ आराम से कीजिएगा बच्चे बगल वाले रूम मे ही सो रहे है आप ज़ोर से करेंगे तो मेरी चीख से कहीं उठ ना जाए.

कपिल– बहन्चोद वो तेरी प्रोबलम है मुझे क्या मैने कभी आराम से किया है जो आज करूँगा.

और कपिल ने अपना पूरा लंड 1 बार मे ही उसकी गांद मे डाल दिया सुनीता उसकी आदत जानती थी इसलिए उसने अपने होठ कस कर भीच लिए और उसके मूह से चीख तो नही निकली हां आँख से आँसू ज़रूर निकल आए थे पर कपिल को कोई फ़र्क़ नही पड़ना था वो बस हचहच धक्के मारे जा रहा था और कुछ देर बाद सुनीता थोड़ी नॉर्मल हो गयी और गांद मरवाने का लुत्फ़ उठवाने लगी.

सुनीता— आआआआआहह और ज़ोर से आआआआआहह और डालिए पूरा अंदर कर दीजिए प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ और मारिए धक्के आपको मेरी कसम आआआआआययययययययीीईईईईई.

कपिल– बुर्मरानी पूरा तो डाला हुआ है अब क्या बाँस खोस दूं तेरी गांद मे बहन की लॉडी यहाँ गांद फटी जा रही है इतनी मेहनत करने मे और तू कह रही है और अंदर डालिए ले तेरी चूत मे मैं अपनी 3 उंगली डाल कर थोड़ी मस्ती हल्की करता हूँ तू भी पहले तो इतना नखरा करती है और जब मस्ता जाती है तो चाहे 3…3 लंड 1 साथ डलवा ले.

यह कहानी भी पड़े  थ्रीसम का आनंद लिया

सुनीता— क्या करूँ अब इतने साल मे तो आदत ही पड़ गयी है आआआआआअहह और करिए लग रहा है अब आप झड़ने वाले है डाल दीजिए अपना सारा माल अंदर और कुछ ही देर मे कपिल झरझारा कर उसकी गांद मे झाड़ गया और 1 तरफ लेट गया दोनो ऐसे ही पड़े रहे.

कुछ दीनो से कपिल को सुनीता क साथ सेक्स करने मे मज़ा नही आ रहा था क्यों की उसकी बुर अब ढीली हो चुकी थी तब ही वो करीब साल भर से उसकी गांद ही ज़्यादा मारता था पर अभी 2 महीने पहले उसके यहाँ उसकी नौकरानी की लड़की जिसकी एज करीब 17 साल रही होगी अपने साथ काम करने लाती थी तो जब से कपिल ने उसकी नन्ही चूचियों को फटी हुई फ्रॉक मे देखा है उसका मन उसकी चूचियोंको पकड़ कर मसल्ने का कर रहा है और अक्सर पोछा लगाते वक़्त वो उस लड़की की जांघों के अंदर उसकी फटी हुई चड्डी से उसकी नाज़ुक सी बुर भी निहार चुका है पर उसकी हिम्मत नही पड़ पा रही थी उस लड़की के साथ कुछ करने की क्यों कि आज तक उसने ऐसा कभी किया नही शादी के बाद रणडीबाजी तो अक्सर कर लेता था पर घर मे उसने कभी भी ऐसी हरकत नही की हालाकी उसकी नौकरानी चंपा भी अभी जवान ही थी 32 साल; की मांसल गुदाज़ भरे बदन वाली सावली रंगत की औरत थी और कपिल अक्सर ही उसकी चूची देखा करता था पर वो बहुत कड़क किस्म की औरत थी मगर उसकी लड़की को जब से उसने देखा है उसका लॉडा मचल मचल जाता है और आज वो हिम्मत करके सुनीता से इस बारे मे बात करने जा रहा था और सुनीता को मस्का लगाने क लिए वो आज सोने का हार पहले ही ला चुका था उससे पता था कि सोना सुनीता की कमज़ोरी है.

कपिल—- मेरी जान मज़ा आया …?

सुनीता— हन मज़ा तो आया पर आप अब मेरी बुर नही मारते है कभी कभी इस बेचारी का भी हाल पूछ लिया कीजिए ना आपको पता है कितनी खुजली होती है मुझे बैगन और उंगली से काम चलाना पड़ता है.

कपिल— मेरी ज़ाआआआं अब तुम्हारी चूत मे उतना मज़ा नही आता बहुत ढीली हो गयी है पर मैं अब हफ्ते मे 2 बार तुम्हारी बुर भी चोदा करूँगा अब तो खुश….?

सुनीता— हां .

कपिल– मैं तुम्हारे लिए हार लाया था ये देखो हार देख कर सुनीता बहुत खुश हो गयी और नंगी नंगी ही कपिल से चिपेट गयी कपिल भी उसकी चूचियों को सहलाते हुए उसके होंठो पे किस कर रहा था और सुनीता का मूड अच्छा देख कर वो बोला.

कपिल— यार सुनीता ये जो पारूल आती इसको देख कर इसको चोदने का मन करता है जब भी उसकी चूचियाँ नज़र आ जाती है मेरा फन्ना कर खड़ा हो जाता है प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ इसको मेरे लंड के नीचे लाओ तुम्हे मेरी कसम मेरा ये काम करा दो.

सुनीता——- हाए राम आपको शरम नही आती पारूल आपकी बेटी की उमर की है आप उस पर ऐसी नज़र रखते हो चीईईई कितनी गंदी बात है.

कपिल —- याआआआआर अभी बाहर जा कर अगर मैं रणडिबाज़ी कर आउ तो तुम्हे पता भी नही चलेगा और अब मैं सीधी बात कर रहा हूँ तो तुम भाव खा रही ज़ाआआआं प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ कोई जुगाड़ करा दो ना प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़.

सुनीता— पर ऐसे कैसे भला अभी वो बच्ची है और आपका लंड भी तो कितना बड़ा है बेचारी की नाज़ुक सी चूत होगी खून फेक देगी कहीं कुछ हो गया तो लेने के देने पद जाएँगे और उसकी मा को तो आप जानते ही है कितनी कड़क है अगर उसको ज़रा सी भी भनक लग गयी तो वो खुद तो काम छोड़ेगी ही और पारूल को भी ले जाएगी.

कपिल— ये ज़िम्मेदारी तेरी है और तू कैसे भी उसको पटा मैं नही जानता और हां अगर तूने मेरा ये काम कर दिया तो मैं तुझे और खुश कर दूँगा.

सुनीता— ठीक है मैं कोसिस करूँगी.

यह कहानी भी पड़े  विधवा औरत के साथ कामुकता

2सरे दिन से सुनीता ने अपना जाल फेकना सुरू कर दिया पारूल पर बच्चों के कॉलेज जाने के बाद उसने पारूल को आवाज़ दी और कहा सारा काम छोड़ कर पहले मेरी मालिश कर दे अब तेरी मा तो बिल्कुल भी नही आती चल सारा काम बाद मे करना बहुत दर्द हो रहा है कल तेरे मालिक ने कमर का कचूमर निकाल दिया इस उमर मे भी पता नही उनको कितना जोश है कि मुझे बुद्धि को भी जवान समझ कर ही निचोड़ डालते है और कहीं कोई जवान औरत या लड़की मिल जाए तो उसकी तो खैर ही नही ये सब बाते सुन कर पारूल को शरम सी आ गयी अब बच्ची तो वो भी नही थी 17 साल की एज आजकल सब कुछ सीखा देती है.

पारूल— मालकिन मैने तो आज तक कभी किसी की मालिश नही की

सुनीता– चल तू तेल की कटोरी ला मैं सब बता दूँगी

और सुनीता अपने कपड़े उतार कर पूरी नंगी हो कर बेड पर लेट गयी जब पारूल रूम मे आई और उसको इस हाल मे देख कर शरमा कर वापस जाने लगी तो सुनीता ने आवाज़ दे कर रूम मे बुलाया

सुनीता– अररी आ ना मुझसे कैसी शरम तेरे पास भी वही सब है जो मेरे पास मैं कोई लड़का थोड़ी हूँ जो शरमा रही है चल पहले जांघों मे मालिश कर

पारूल तेल लगा कर उसकी जाँघो मे मालिश करने लगी उसके बाद सुनीता ने अपने सीने पर भी तेल लगवा कर मालिश कराई और फिर पेट के बल लेट कर अपने गुदाज़ चुतड़ों पर मालिश करवाई पारूल के नाज़ुक हाथों से मालिश करवाना उसको बहुत अच्छा लग रहा था तब ही महॉल को कुछ और रंगीन बनाने क लिए वो बोली

सुनीता–पारूल मेरा बदन कैसा है…?

पारूल– जी मालकिन बहुत ही खूबसूरत है

सुनीता– अच्छा क्या अच्छा लगता है खुल कर बता शरमा बिल्कुल मत

पारूल– मालकिन मुझे शरम आती है आपकी मालिश हो गयी है अब मैं दूसरा काम करती हूँ

सुनीता—- अररी रुक ना जब मैं कह रही हूँ तू बस वही कर जो मैं कहती हूँ ओके बता मेरी चूचियाँ कैसी है …?

पारूल— जी बहुत अच्छी और आपके चूतड़ भी बहुत अच्छे है

सुनीता— तू अपने कपड़े उतार मैं तेरी चूची देखूँगी

पारूल— नही मालकिन मुझे शरम आ रही है

सुनीता— फिर शरम चल मैं कह रही हूँ तो उतार और सुनीता ने पारूल को खीच कर उसकी फ्रॉक उसके बदन से अलग कर दी नीचे वो सिर्फ़ नीली चड्डी पहने थी उसकी छोटी…छोटी चूची बहुत टाइट थी पारूल ने अपनी चूचियों पर झत्त से हाथ रख कर छुपा लिया पर सुनीता ने उसका हाथ हटा दिया और उसकी चूची पर अपने हाथ फिराने लगी

सुनीता— तेरी चुचि तो कमाल की है कभी दब्वायि है किसी से…?

पारूल– नही मालकिन

सुनीता— देख अभी कितनी छोटी छोटी है तेरी चूचियाँ मेरी देख कितनी बड़ी है छोटी चूचियाँ मर्दों को अच्छी नही लगती इनको दब्वाया कर तो ये बड़ी होंगी नही तो तेरी शादी के बाद तेरा मर्द तुझे बुरा भला कहेगा

पारूल— पर मालकिन मैं भला किससे दब्वाया करूँ मैं खुद भी चाहती हूँ कि ये बड़ी हो जाए अम्मा की कितनी बड़ी चूचियाँ है आपकी भी कितनी अच्छी है पर मेरे देखिए ना कितनी छोटी छोटी है

वो भला मासूम सी नादान बच्ची उसको क्या पता कि मर्दों को असली मज़ा इन कच्ची कलियों मे ही आता है छोटी चूची को खचकचा कर दबाने मे बहुत मज़ा आता है सुनीता उसको बहकाने लगी

देख मैं दबाउन्गी तो तुझे बहुत मज़ा आएगा और सुनीता उसकी चूचियाँ दबाने लगी कुछ देर मे ही पारूल की सिसकारी निकलने लगी.

पारूल— आआआआअय्य्यीईइ मालकिन आआआआहह बहुत गुदगुदी लग रही छोड़िईईई आआआआआहह.

सुनीता– अररी ये तो कुछ भी नही जब कोई मर्द अपना हाथ लगाएगा तो तुझे और मज़ा आएगा अभी मैं तुझे 1चीज़ और दिखाती हूँ उसके बाद सुनीता ने अपनी दोनो जांगे फैला कर पारूल को अपनी झांतों से भरी चूत दिखाई जिसे पारूल बहुत सरमाते हुए देख रही थी.

सुनीता– अररी सर्मा क्यों रही है ले मैं ये बॉल हटा रही हूँ काय्दे से देख ले इसी को चूत बुर या भोसड़ी कहते है मर्द इसी मे अपना लॉडा डाल कर लड़कियों को चोद्ते है.

समाप्त


error: Content is protected !!