बुरा न मानो होली है

ये घटना बस इस होली की है. 6 साल के बाद मै होली मे अपने घर पर था. मेरी उम्र 19 साल की है. मै अपने शहर से बहुत दूर एक कौलेज मे तकनीकि की पढाइ कर रहा हु. हडताल होने के कारण कौलेज एक महीने के लीये बन्द हो गया था.
सारे त्योहारो मे मुझे ये होली का उत्सव बिलकुल पसन्द नहीं है. मै ने पहले कभी भी होली नही खेला. पिछले 6 साल मै ने होस्तेल मे ही बिताया. मेरे अलाबा घर मे मेरे बाबुजी और मां है. मेरी छोती बहन का विवाह पिछले साल हो गया था. कुछ कारण् बस मेरी बहन रेनु होली मे घर नही आ पायी. लेकिन उसके जगह पर हमांरे दादाजी होली से कुछ दिन पहले हमांरे पास हुमसे मिलने आ गये थे.

दादा कि उम्र करीब 61-62 साल है, लेकिन इस उम्र मे भी वे खुब हट्टे कटःठे दिखते थे. उनके बाल सफेद होने लगे थे लेकिन सर पर पुरे घने बाल थे. दादा चश्मा भी नही पहनते थे. मेरे बाबुजी की उम्र करीब 40-41 साल की होगी और मां कि उम्र 34-35 साल की. मां कहती है कि उसकी शादी 14 वे साल मे ही हो गयी थी और साल बितते बितते मै पैदा हो गया था. मेरे जनम के 2 साल बाद रेनु पैदा हुयी .
अब जरा मां के बारे मे बताउ. वो गाव मे पैदा हुयी और पली बढी. पांच भाइ बहन मे वो सब्से छोटी थी. खुब गोरा दमकता हुआ रंग. 5’5” लम्बी, चौडे कन्धे , खुब उभरी हुयी छाती, उथा हुआ स्तन और मस्त, गोल गोल भरे हुये नितम्ब. जब मै 14 साल क हूआ और मर्द और औरत के रिस्ते के बारे मे समझने लगा तो जिसके बारे मे सोचते ही लौडा खडा हो जाता था वो मेरी मां मांलती ही है. मैने कई बार मांलती के बारे मे सोच सोच कर हत्तु मांरा होगा. लेकिन ना तो कभी मांलती का चुची दबाने का मौका मिला ना ही कभी उसको अपना लौडा ही दिखा पाया. इस डर से क़ि अगर घर मे रहा तो जरुर एक दिन मुझसे पाप हो जायेगा , 8 वी क्लास के बाद मै जिद्द कर होस्तेल मे चला गया. मां को पता नहीं चल पाया कि इकलौते बेटे क लौडा मां कि बुर के लीये तरपता है. छुट्टियो मे आता था तो चोरी छिपे मांलती की जवानी का मज़ा लेता था और करीब करीब रोज रात को हत्तू मांरता था. मै हमेशा ये ध्यान रखता था कि मां को कभी भी मेरे उपर शक ना हो. और मां को शक नही हुआ. वो कभी कभी प्यार से गालो पर थपकी लगाती थी तो बहुत अछा लगता था. मुझे याद नही कि पिछले 4-5 सालो मे उसने कभीलड़की मुझे गले लगाया हो.

अब इस होली कि बात करे. मां सुबह से नास्ता , खाना बनाने मे व्यस्त थी. करीब 9 बजे हुम सब यानी, मै , बाबुजी और ददाजी ने नास्त किया और फिर मां ने भी हुम लोगों के साथ चाय पिया. 10-10.30 बजे बाबुजी के दोस्तो का ग्रूप आया . मै छत के उपर चला गया. मैने देखा कि कुछ लोगों ने मां को भी रंग लगाया. दो लोगों ने तो मां की चुत्तरो को दबाया, कुछ देर तो मां ने मजा लिया और फिर मां छटक कर वहा से हट गयी. सब लोग बाबुजी को लेकर बाहर चले गये . दादाजी अपने कमरे मे जाकर बैठ गये.
फिर आधे घंटे के बाद औरतो का हुजुम आया. करीब 30 औरते थी. हर उम्र की. सभी एक दुसरे के साथ खुब जमकर होली खेलने लगे. मुझे बहुत अछा लगा जब मैने देखा कि औरते एक दुसरे का चुची मसल मसल कर मजा ले रही है..कुछ औरते तो साया उठा उठा कर रंग लगा रही थी. एक ने त0 हद्द ही कर दी. उसने ने अपना हाथ दूसरी औरत के साया के अन्दर डाल कर बूर को मसला. कुछ औरतो ने मेरी मां मांलती को भी खुब मसला और उनकी चुची दबाइ. फिर सब कुछ खा पीकर बाहर चली गयी. उन औरतो ने मां को भी अपने साथ बाहर ले जाना चाहा लेकिन मां उनके साथ नही गई. उनके जाने के बाद मां ने दरवाजा बन्द किया . वो पुरी तरह से भींन्ग गई थी. मां ने बाहर खडे खडे ही अपना साडी उतार दिया. गीला होने के कारण साया और ब्लौज दोनो मां के बदन से चिपक गया था. कसी कसी जांघे , खुब उभरी हुई छाती और गोरे रंग पर लाल और हरा रंग मां को बहुत ही मस्त बना रहा था. ऐसी मस्तानी हालत मे मां को देख कर मेरा लौडा टाइट हो गया. मैने सोचा , आज अछा मौका है. होली के बहाने आज मां को बाहों मे लेकर मसलने का. मैने सोचा कि रंग लगाते लगाते आज चुची भी मसल दुंगा. यही सोचते सोचते मै नीचे आने लगा. जब मै आधी सीढी तक आया तो मुझे आवाज सुनाइ पडी,
ददाजी मां से पुछ रहे थे, “ विनोद कहाँ गया…” ”मांलुम नही, लगता है, अपने बाप के साथ बाहर चला गया है.” मां ने जबाब दिया.
मां को नही मांलुम था कि मै छत पर हूं और अब उनकी बाते सुन भी रहा हूं और देख भी रहा हूं. मैने देखा मांलती अपने ससुर के सामने गरदन झुकाये खडी है. दादाजी, मां के बदन को घूर रहे थे. तभी दादाजी ने मां के गालो को सहलाते हुये कहा,

“मेरे साथ होली नही खेलोगी?”

मै तो ये सुन कर दंग रह गया. एक ससुर अपनी बहु से होली खेलने को बेताब था. मैने सोचा, मां ददाजी को धक्का देकर वहा से हट् जायेगी लेकिन साली ने अपना चेहरा उपर उठाया और मुस्कुरा कर कहा,

“ मैने कब मना किया है ? “

कहकर मां वहां से हट गई . दादाजी भी कमरे के अन्दर गये और फिर दोनो अपने अपने हाथों में रंग लेकर वापस वही पर आ गये . दादाजी ने पहले दोनो हाथों से मां की दोनो गालों पर खुब मसल मसल कर रंग लगाया और उसी समय मां भी उनके गालो और छती पर रंग रगडने लगी. दादाजी ने दुबारा हाथ मे रंग लिया और इस बार मां की गोल गोल बडी बडी चुचीओ पर रंग लगाते हुये चुचीओ को दबाने लगे. मां भी सिसकारती मांरती हूई दादा के शरीर पर रंग लगा रही थी. कुछ देर तक चुचीओ को मसलने के बाद दादाजी ने मां को अपनी बाहों मे कस लीया और चुमने लगे. मुझे लगा मां गुस्सा करेगी और दादा को डांटेगी लेकिन मैंने देखा क़ि मां भी दादा के पाव पर पाव चढा कर चुमने मे मदद कर रही है. चुम्मा लेते लेते दादा का हाथ मां की पीठ को सहला रहा था और हाथ धीरे धीरे मां कि सुडौल नितम्बो की ओर बढ रहा था . वे दोनो एक दुसरे को जम कर चुम रहे थे जैसे पति , पत्नि हो. अब दादा मां कि चुत्तरो को दोनो हाथो से खुब कस कस कर मसल रहे थे और यह देख कर मेर लौडा पैंट से बाहर आने को तडप रहा था. क़हां तो मै यह सोच कर नीचे आ रहा था कि मै मां की मस्त गुदाज बौडी का मजा लुंगा और कहां मुझसे पहले इस हरामी दादा ने रंडी का मजा लेना शुरु कर दिया. मुझे बहुत गुस्सा आ रहा था. मन तो कर रहा था कि मै दोनो के सामने जाकर् खडा हो जाऊँ. लेकीन तभी मुझे दादा कि आवाज सुनाई पडी.

“ रानी, पिचकारी से रंग डालुं ?”

दादा ने मां को अपने से चिपका लिया था. मां का पिछबारा दादा से सटा था और मुझे मां का सामने का मांल दीख रहा था. दादा का एक हाथ चुची को मसल रहा था और दुसरा हाथ मां के पेरु को सहला रहा था.

“अब भी कुछ पुछने की जरुरत है क्या..”

मां का इतना कहना था कि दादा ने एक झट्के मे साया के नाडे को खोल डाला और हाथ से धकेल कर साया को नीचे जांघो से नीचे गिरा दिया. मै अवाक था मां के बूर को देखकर . मां ने पैरो से ठेल कर साया को अलग कर दिया और दादा का हाथ लेकर अपनी बूर पर सहलाने लगी. बूर पर बाल थे जो बूर को ढक रखा था. दादाजी की अंगुली बूर को कुरेद रही थी और मां अपनी हाथो से ब्लाउज का बटन खोल रही थी. दादा ने मां के हाथ को अलग हट्या और फटा फट सारे बटन को खोल दिया और ब्लाउज को बाहर नीकाल दिया. अब मां पूरी तरह से नंगी थी. मैने जैसा सोचा था चूची उससे भी बडी बडी और सुडौल थी. दादा आराम से नंगी जबानी का मजा ले रहे थे. मां ने 2-3 मिनट दादा को चुची और चूत मसलने दिया फिर वो अलग हुई और वही फ्ल्लोर पर मेरी तरफ पाव रखकर लेट् गई. मेरा मन कर रहा था और जाकर चूत मे लौडा पेल दू. तभी दादा ने अपना धोती और कुर्ता उतारा और मां के चेहरे के पास बैठ गये. मां ने लन्ड को हाथ मे लेकर मसला और कहा,

“पिचकारी तो दिखता अछ्छा है लेकिन देखे इसमे रंग कितना है…” लन्ड को दबाते हुये कहा,

“देर मत करो, वे आ जायेंगे तो फिर रंग नही डाल पाओगे.”

और फिर, दादा पाव के बीच बैठ कर लन्ड को चूत पर दबाया और तीसरे धक्के मे पुरा लौडा बूर के अन्दर चला गया. क़रीब 10 मिनट् तक मां को खुब जोर जोर से धक्का लगा कद चोदा. उस रन्डी को भी चुदाई का खुब मजा आ रहा था तभी तो साली जोर जोर से सिसकारी मांर मांर कर और चुत्तर उछाल उछाल कर दादा के लंड के धक्के का बराबर जबाब दे रही थी. उन दोनो की चुदाई देखकर मुझे विशवास हो गया था कि मां और दादाजी पहले भी कई बार चुदाई कर चुके है…
”क्या राजा, इस बहु का बूर कैसा है, मजा आया कि नही ?” मां ने कमर उछालते हुये पूछा.

“मेरी प्यारी बहू , बहुत प्यारी चूत है और चूची तो बस, इतनी मस्त चुची पहले कभी नही दबाई.”

दादाजी ने चुची को मसलते हुये पेलना जारी रख्हा और कहा,

“रानी, तुम नही जानती, तुम जबसे घर मे दुल्हन बन कर आई, मै हजारो बार तुम्हारे चूत और चुची का सोच सोच कर लंड को हिला हिला कर तुम्हारा नाम ले ले कर पानी गिराता हूं. “

दादा ने चोदना रोक कर मां कि चुची को मसला और रस से भरे ओंठों को कुछ देर तक चूसा. फिर चुदाई सुरू की और कहा,

“ मुझे नही मांलुम था कि एक बार बोलने पर ही तुम अपना चूत दे दोगी.., नही तो मै तुम्हे पहले ही सैकडो बार चोद चुका होता.”
मुझे बिस्वास नही हुआ कि मां दादा से पहली बार चूद रही है. दादा ने एक बार कहा और हरामजादी बिना कोई नखरा किये चुदाने के लिये नंगी हो गयी और दादा कह रहे है कि आज पहली बार ही मां को चोद रहे हैं. लेकिन तब मां ने जो कहा वो सुनकर मुझे बिसवास हो गया कि मां पहली बार ही दादा से मरवा रही है.

यह कहानी भी पड़े  ओये बाप रे बाप क्या चुदाई करता है

मां ने कहा, “ राजा, मै कोई रंडी नहीं हूं. आज होली है, तुमने मुझे रंग लगाना चाहा, मैने लगाने दिया, तुमने चुची और चूत मसला, मैने मना नहीं किया, तुम्ने मुझे चूमां और मैने भी तुमको चुमां और तुम चोदना चाह्ते थे, पिचकारी दालना चाहते थे तो मेरी चूत ने पिचकारी अन्दर ले लीया. तुम्हारी जगह कोइ और भी ये चाहता तो मै उस से भी चूदवाती. चाहे वो राजा हो या नौकर . होली के दिन मेरा मांल , मेरी चूत, मेरी जवानी सब के लिये खुली है……..”

मां ने दादा को अपनी बांहो और जांघो मे कस कर बांधा और फिर कहा,

मां ने दादा को अपनी बांहो और जांघो मे कस कर बांधा और फिर कहा,
“आज जितना चोदना है , चोद लो, फिर अगली होली का इंतजार करना पडेगा मेरी नंगी जवानी का दर्शन करने के लिये.”

मां की बात सुनकर मै आशचर्य था कि होली के दिन कोई भी उसे चोद सकता था..लेकिन यह जान कद मै भी खुश हो गया. कोई भी मे तो मै भी आता हूं. आज जैसे भी हो , मां को चोदुंगा ही. ये सोच कर मै खुश था और उधर दादाजी ने मां की चूत मे पिचकारी मांर दी. बुर से मलाई जैसा गाढा दादाजी का रस बाहर नीकल रहा था और दादाजी खुब प्यार से मां को चुम रहे थे.

क़ुछ देर बाद दोनो उठ गये .

“कैसी रही होली…” मां ने पुछा. “ आप पहले होली पर हमांरे साथ क्यो नही रहे. मैने 12 साल पहले होली के दिन सबके लिये अपना खजाना खोल दिया था. “

मां ने दादा के लौडा को सहलाया और कहा, “ अभी भी लौडे मे बहुत दम है, किसी कुमांरी छोकडी का भी चूत एक धक्के मे फाड सकता है.”

मां ने झुक कर लौडे को चुमां और फिर कहा, “अब आप बाहर जाईये और एक घंटे के बाद आईयेगा. मै नही चाहती कि विनोद या उसके बाप को पता चले कि मै आप से चुद्वाई हूं. “

मां वहीं नंगी खडी रही और दादाजी को कपडे पहनते देखती रही. धोती और कुर्ता पहनने के बाद दादा ने फिर मां को बांहो मे कसकर दबाया और गालो और होंठो को चुमां. कुछ चुम्मा चाटी के बाद मां ने दादा को अलग किया और कहा ,
“अभी बाहर जाओ, बाद मे मौका मिलेगा तो फिर से चोद लेना लेकिन आज ही, कल से मै आप्की वही पुरानी बहु रहुंगी.”
दादा ने चुची दबाते हुये मां को दुबारा चुमां और बाहर चले गये. मै सोचने लगा कि क्य करु.? मै छत पर चला गया और वहा से देखा दादा घर से दूर जा रहे थे और आस पास मेरे पिताजी का कोई नामो निशान नही था. मैने लौडा को पैंट के अन्दर किया और धीरे धीरे नीचे आया. मां बरामदे मे नही थी. मै बिना कोइ आवाज किये अपने कमरे मे चला गया और वहा से झांका. इधर उधर देखने के बाद मुझे लगा की मां किचन मे हैं. मैने हाथ मे रंग लिया और चुपके से किचन मे घुसा. मां को देखकर दिल बाग बाग हो गया. वो अभी भी नंग धरंग खडी थी. वो मेरी तरफ पीठ करके पुआ बेल रही थी. मां की सुदौल और भरी भरी मांसल चुत्तर को देख कर मेरा लौदा पैंट फाड कर बाहर निकलना चाहता था.
कोई मौका दिये बिना मैने दोनो हाथो को मां कि बांहो से नीचे आगे बढा कर उनकी गालो पर खुब जोर जोर से रंग लगाते हुये कहा,
“मां , होली है.” और फिर दोनो हाथो को एक साथ नीचे लाकर मां कि गुदाज और बडे बडे चुचिओ को मसलने लगा.

“ओह्ह….तु कब आया….दरवाजा तो बन्द है….छोड ना बेटा…क्या कर रहा है… मां के साथ ऐसे होली नही खेलते……ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह…
इतना जोर जोर से मत मसल….अह्ह्ह्ह्ह…छोड दे …..अब हो गया…”
लेकिन मै ऐसा मौका कहां छोडने बाला था. मै मां की चुत्तडों को अपने पेरु से खुब दबा कर रख्हा और चूची को मसलता रहा…मां बार बार मुझे हटने के लिये बोल रही थी और बीच बीच मे सिसकारी भी मांर रही थी..खास कर जुब मै घूंडी को जोरो से मसलता था. मेरा लंड बहुत टाइट हो गया था. मै लंड को पैंट से बाहर नीकालना चाहता था. मै कस कर एक हाथ से चुची को दबाये रख्हा और दूसरा हाथ पीछे लाकर पैंट का बटन खोला और नीचे गीरा दिया. मेरा लौडा पूरा टन टना गया था. मैने एक हाथ से लंड को मां के चुत्तर के बीच दबाया और दूसरा हाथ बढा कर चूत को मसलने लगा.

“नही बेटा, बूर को मत छुओ…ये पाप है….”

लौडा को चुत्तर के बीच मे दबाये रख्खा और आगे से बूर मे बीच बाली अंगुली घुशेर दी. करीब 15-20 मिनट पहले दादा चोद कर गये थे और चूत गीली थी. मेरा मन गन –गना गया था, मां की नंगी जवानी को छु कर. मुझे लगा कि इसी तरह अगर मै मां को रगडता रहा तो बिना चोदे ही झड जाउंगा और फिर मां मुझे कभी चोदने नही देगी. यही सोच कर मैने चूत से अंगुली बाहर निकाली और पीछे से ही कमर से पकर कर मां को उथा लिया.

“ओह्ह…क्या मस्त मांल है….चल रंडी , अब तुझे जम कर चोदुंगा …बहुत मजा आयेगा मेरी रानी तुझे चोदने मे. “

ये कहते हुये मै मां को दोनो हाथो से उठा कर बेड पर पटक दिया और उसकी दोनो पैरो को फैला कर मैने लौडा बूर के छेद पर रख्खा और खुब जोर से धक्का मांरा.
“आउच..जरा धीरे …..” मां ने हौले से कहा.
मैने जोर का धक्का लगाया और कहा ,
“ओह्ह्ह्ह….मां , तु नही जानती , आज मै कितना खुश हुं. ..” मै धक्का लगाता रहा और खुब प्यार से मां की रस से भरी ऑंठो को चूमां.
“मां, जब से मेरा लौडा खडा होना शुरु हुआ चार साल पहले तो तबसे बस सिर्फ तुम्हे ही चोदने का मन करता है. हजारों बार तेरी चूत और चुची का ध्यान कर मैने लौडा हिलाया है और पानी गिराया है..हर रात सपने मे तुम्हे चोदता हुं. ..ले रानी आज पूरा मजा मांरने दे…”

मैने मां की चुचीओ को दोनो हाथो मे कस कर दबा कर रख्खा और दना दन चुदाई करने लगा. मां आंख़ बन्द कर चुदाई का मजा ले रही थी. वो कमर और चुत्तर हिला हिला कर लंड को चुदाई मे मदद दे रही थी.
“साली , आंख खोल और देख , तेरा बेटा कैसा चुदाई कर रहा है. …रंडी, खोलना आंख….”

मां ने आंखे खोली. उसकी आंखो मे कोई ‘भाव’ नही था. ऐसा भी नही लग रहा था की वो मुझसे नाराज है…ना ही ये पता चल रहा था कि वो बेटे के लंड का मजा ले रही है..लेकिन मै पुरा मजा लेकर चोद रहा था…
“ साली, तु नही जानती….तेरे बूर के चक्कर मे मै रन्डीओ के पास जाने लगा और ऐसी ऐसी रंडी की तलाश करता था जो तुम्हारी जैसी लगती हो…लेकिन अब तक जितनी भी बुर चोदी सब की सब ढीली ढाली थी…लेकिन आज मस्त, कसी हुई बूर चोदने को मिली है…ले रंडी तु भी मजा ले…”
और उसके बाद बिना कोइ बात कीये मै मां को चोदता रहा और वो भी कमर उछाल उछाल कर चुदवाती रही. कुछ देर के बाद मां ने सिसकारी मांरनी शुरु की और मुझे उसकी सिस्कारी सुनकर और भी मजा आने लगा. मैने धक्के क स्पीड् और दम बढा दिया और खुब दम लगा कर चोदने लगा..

मां जोर जोर से सिसकारी मांरने लगी.

“रंडी, कुतिया जैसा क्यो चिल्ला रही है, कोई सुन लेगा तो….”
“तो सुनने दो….लोगो को पता तो चले कि एक कुतिया कैसे अपने बेटे से मरवाती है….मांर दे , फाड् दे इस बूर को….मांदरचोद , मां कि बूर इतनी ही प्यारी है तो हरामी पहले क्यो नही पटक कर चोद डाला…अगर तु हर पिछली होली मे यहा रहता और मुझे चोदने के लिये बोलता तो मै ऐसे ही बूर चीयार कर तेरा लौडा अन्दर ले लेती….चोद बेटा ..चोद ले….लेकीन देख तेरा बाप और दादा कभी भी आ सकते है… जल्दी से बूर मे पानी भर दे.”
“ ले मां, तु भी क्या याद रखेगी कि किसी रन्डी बाज ने तुझे चोदा था…ले कुतिया, बन्द कर ले मेरा लौडा अपनी बूर मे.” मै अब चुची को मसल मसल कर , कभी मां कि मस्त जांघो को सहला सहला कर धक्के पर धक्का लगाये जा रहा था..

“आह्ह्ह्ह्ह…बेटा, ओह्ह्ह्ह्ह..बेटा…अह्ह्ह्ह्ह….मांर राजा….चोद…चोद….”
और मां ने दोनो पाव उपर उठाया और मुझे जोर से अपनी ओर दबाया और मां पस्त हो गयी और हांफने लगी.

“बस बेटा, हो गया….निकाल ले….तुने खुश कर दिया…..”

“मां बोलती रही और मै कुछ देर और धक्का लगाता रहा और फिर मै भी झर गया. मैने दोनो हाथो से चुची को मसलते हुये बहुत देर तक मां की गालो और ओंठो को चुमता रहा. मां भी मेरे बदन को सहलाती रही और मेरी चुम्मा का पुरा जबाब दिया. फिर उसने मुझे अपने बदन से उतरा और कहा,
“बेटा, कपडे पहन ले…सब आने बाले होंगे.”
“फिर कब चोदने दोगी?” मैने चूत को मसलते हुये पुछा.. ”अगले साल, अगर होली पर घर मे मेरे साथ रहोगे !” मां ने हंस कर जवाब दिया. मैने चूत को जोर से मसलते हुये कहा, “ चुप रंडी, नखडा मत कर, मै तो रोज तुझे चोदुंगा.”

“ये रंडी चालू मांल नही है…. तु कालेज जा कर उन चालु रंडीओ को चोदना…” मां कहते कहते नंगी ही किचन मे चली गयी .

मैने पीछे से पकर कर चुत्तर को मसला और कहा,

“मां, तु बहुत मस्त मांल है…तुझे लोग बहुत रुपया देंगे , चल तुझे भी कोठे पर बैठा कर धंधा करवाउंगा. “ मैने मां की गांड में अंगुलि पेली और वो चिहुंक गयी .. मैने कहा, “रंडी बाद मे बनना, चल साली अभी तो कपडा पहन ले…”
“रूम से ला दे …जो तेरा मन करे.” वो बोली और पुआ तलने लगी.

मै तुरत कमरे से एक साया और ब्लाउज लाकर मां को पहनाया .
“साडी नही पहनाओगे? “ मां ने मेरी गालो को चुमते हुये कहा…

“मां, तु बहुत मस्त मांल है…तुझे लोग बहुत रुपया देंगे , चल तुझे भी कोठे पर बैठा कर धंधा करवाउंगा. “ मैने मां की गांड में अंगुलि पेली और वो चिहुंक गयी .. मैने कहा, “रंडी बाद मे बनना, चल साली अभी तो कपडा पहन ले…”
“रूम से ला दे …जो तेरा मन करे.” वो बोली और पुआ तलने लगी.

यह कहानी भी पड़े  मामा ने खूब चुदाई की

मै तुरत कमरे से एक साया और ब्लाउज लाकर मां को पहनाया .
“साडी नही पहनाओगे? “ मां ने मेरी गालो को चुमते हुये कहा…
“नही रानी, आज से घर मे तुम ऐसी ही रहोगी , बिना साडी के…” ”तेरे दादा के सामने भी …!” उसने पुछा. “ ठीक है सिर्फ आज भर..कल से फिर साडी भी पहनुंगी.

मां खाना बनाती रही और मै उसके साथ मस्ती करता रहा. .

करीब आधे घंटे के बाद दरवाजे पर दस्तक हुई और मैने दरवाजा खोला. मेरे बाबुजी अकेले थे. मैने दरवाजा बंद किया.
“मां कहाँ है?” बाबुजी ने पुछा… ”पुआ तल रही है…” मैने जवाब दिया.
हम दोनो किचन में आये और मां ने हमें मुस्कुरा कर देखा और हमें 2-2 पुआ खाने को दिया. बाबुजी ने मां को बिना साडी के देखा . मां ने साडी और भी नीचे बांध लिया था. पीछे से चूत्तरों की उठान भी दिखने लगी थी. मां की चिकनी चिकनी कमर और उसके नीचे चूत्तरों की उठान मुझे दुबारा मादक बना रही थी. और मन कर रहा था कि बाबुजी के सामने ही मां को चोद डालूं. मै थोडा आगे बढा और फिर ठिठक गया. साली ने साया इतना नीचे बांध रख्खा था कि साया के उपर से काले –काले झांट की झलक भी दिखने लगी थी. मालती बहुत ही मदमस्त और चूदासी लग रही थी. साया के उपर से झांट देख कर मेरा लौडा टन –टनाने लगा था. मेरा मन मां के साथ और मस्ती मारने का करने लगा था.
मै मां के पीछे खडा होकर उनकी बांहो को छूते हुये बाबुजी से पूछा,
“बाबुजी आप मां के साथ होली नही खेलेंगें?”

“खेलेंगे , लेकिन रात को….” बाबुजी ने मुस्की मारते हुये कहा और वापस मुझसे पुछा,
“लेकिन तु अपनी मां के साथ होली खेला कि नही…?” उन्होने मां की ओर देखते हुये कहा , ”तेरी इस मस्तानी मां के साथ होली खेलने के लिये सभी साल भर इन्तंजार करते है. “
मां ने हमारी ओर गुस्से से देखते हुये कहा “ क्या फालतू बात कर रहे हो, बच्चे को बिगाड रहे हो…कोई मां से भी होली खेलता है क्या…”

“साली, रंडी , बेटे का पूरा लौडा खा गयी और अब सती- सावित्री बन रही है. मैने सोचा कि मां को इस हालत में देखकर बाबुजी भी गरमा गये है…और चुंकि मेरे सामने अपनी बीबी के साथ मस्ती मारने मे शरमा रहे है, इस लिये मुझे भडका रहे है कि मै मां को और मस्त करुं.

“देखिये ना बाबुजी , मै इतने सालो के बाद होली में घर पर हूं तो भी मां मुझे रंग नही लगाने दे रही है.., मैने कितना खुशामद किया फिर भी मुझे रंग नही लगाने दिया…” मैने मां की गोरी –चिकनी बांहो को सहलाते हुये कहा…
“और इसी गुस्से मे तुमने मेरा साडी खोल कर फेक दिया….” मां ने मेरी बात काटते हुये कहा, “चलो कोई बात नही, आज मै तुम लोगों के सामने ऐसी ही रहुंगी…”

“लेकिन मां रंग लगाने दो ना….” मैने मां की गालो को सहलाते हुये कहा.. ”चल, हट् जा..” मां ने मुझे कोहनी से धक्का मारते हुये कहा..”बाहर जा , बहुत लडकी मिल जायेगी , उनको ही रंग लगाना….मां के साथ बच्चे रंग नही खेलते…जा मुझे काम करने दे..”

“ अरे रानी, जिद्द क्यो करती हो ? इतने सालो बाद तो बेटा होली पर घर मे है….पहले कैसे हर साल होली पर रोती रहती थी कि ‘बेटा होली में घर क्यों नही आता है..और इस बार जब वो है तो नखडा मार रही हो….लगाने दो रंग , खेलो होली बेटे के साथ…” बाबुजी ने मां क़ॉ बडा सा लेक्चर दे दिया.

“मैने गालों और बाहों पर तो रंग लगाने दिया था. “ मां ने सफाई दी.

“लेकिन मुझे तो तुम्हारे साथ ऐसे रंग खेलना था जैसे एक जवान लडका और लडकी होली खेलते है..” मैने मां को अपनी ओर घुमाते हुये कहा.

मां ने गैस बंद कर दिया और आंखे नीची किये हुये कहा, “बेटा, मै तुम्हरी मां हूं, दोस्त नही..बस गाल मे लगा दिया वही बहुत है…” मां ने अपना दोनो हाथ मेरे कंधो पर रख्खा और कहा ,
“ठीक है, चलो एक बार मै तुम्हे चुमने देती हूं… जहां मन है चुम लो…”
वो सीधी खडी हो गयी और अपना आंख बंद कर लीया. मैने बाबुजी कि ओर देखा. बाबुजी मेरा असमंजस समझ गये… ”बेटा, इतना अछ्छा मौका कहां मिलेगा!. ळे लो , चुम लो ..जल्दी करो नही तो वो फिर कुछ नहीं करने देगी. “ बाबुजी ने भी इजाजत दे दी.

फिर क्या था. मैने एक हाथ मां की पीठ पर रख कर उनको अपनी ओर खींचा और दोनो हाथों मे कस कर बांध लिया. मै ने खुब जोर से दबाया और मां कसमसाने लगी. एक हाथ आगे लाकर उनकी गुलाबी चिकनी गालो को सहलाया और कुछ देर सहलाने के बाद गाल को सहलाते सहलाते मैने मां के चेहरे को उपर उठाया और अपने ओंठों को मां की रसीली ओंठों के उपर रख्खा और धीरे धीरे चूमने लगा. थोडी देर पहले मैने मां को जम कर चोदा था लेकिन अभी बाबुजी के सामने मां को चुमने मे जो मजा आ रहा था वो कुछ और ही था. पहले धीरे धीरे फिर खुब जोर से ओंठों को चूसा और चुम्मा लेते लेते मै एक हाथ् मां चुची पर रख कर हौले हौले चुची को सहलाने लगा..मां फिर कसमसाने लगी लेकिन मैने उसे अलग होने नही दिया और जोर जोर से चुची को मसला… मै मा को चुमता रहा और चुची को इतना और इस तरह से मसला कि ब्लाउज के सारे बटन खुल गये और मेरे हाथों में मां की नंगी चुची थी. चुमना जारी रखते हुये मैं ने बाबुजी कि ओर देखा तो उनके चेहरे पे कोई गुस्सा नही था. थोडी देर तक चुची को और मसला और हाथ को मां के पेट को सहलाते हुये कमर पर हाथ लाया. मस्त , चीकनी कमर को सहलाना बहुत अछ्छा लग रहा था और तभी मुझे लगा कि मां अपनी हांथो से मेरे पीठ को सहलाते सहलाते मेरे चुत्तरो को दबाने लगी है और मुझे अपनी ओर दबा रही है. मैने मां की ओंठों को चूमना छोड उनकी गालो को चुमा, चूसा और काटा भी. मां ने अपनी आंखे खोल दी थी. मैने उनकी आंखो में मुस्कुरा कर देखा और एक चुची की घुंडी को अंगुली से रगडते – रगडते दुसरी चुची को चुसने लगा. अब मै आराम से मां की चुची का पुरा मजा ले ले कर दबा रहा था, चूस रहा और साथ में घून्डीओ का भी स्वाद ले रहा था जैसे बचपन मे मां का दुध पीता था. अब मां भी आराम से बेटे को अपना दुध पिला रही थी.
“देखा आपने, साले को थोडी सी छूट दी तो आपके लाडले ने ब्लाउज ही उताड दिया…” मां ने बाबुजी से शिकायत की लेकिन मुझे अपनी चुची से अलग नहीं किया. मै मां की चुचीओं का मजा ले रहा था साथ ही उनकी मख्खन जैसी चिकनी और लचकिली कमर को भी सहला रहा था. मां को अन्दाजा था कि मेरा अगला कदम क्या होगा..तभी उन्होने फिर बाबुजी से कहा,

“अब अपने बेटे को हट्ने के लिये कहो , पता नहीं , इसका क्या ईरादा है?

“घबराती क्यो हो? बेटा ही दूध पी रहा है ना..वो भी अपने बाप के सामने …पीने दो , कब से उसने अपनी मां का दूध नही पिया है…” बाबुजी का जबाब सुनकर मै बहुत खुश हो गया और मां भी.
“ले बेटा, पी ले जितना पीना है… मै अब कुछ नही बोलुंगी….” मां ने मेरा माथा सहलाते हुये कहा,
“जानते हो जी, तुम्हारा बेटा एक नंम्बर का रंडी बाज है… मुझे बता रहा था कि वो सिर्फ बडी उम्र की औरतों के पास ही जाता है…”

“क्यों बेटा? एक तो रंडी के पास जाना ही नही चाहिये और अगर कभी कभी मन भी करें तो कमसिन लडकी के पास ही जाना चाहिये…ज्यादा चली हुई औरतो के साथ क्या मजा आता होगा!. “ बाबुजी ने मुझे सलाह देते हुये पूछा…
मेरा हाथ अब मां के साया के उपर फिसल रहा था और मुझे चूत की गरमाहट् महसूस हो रही थी. मैने एक हाथ से चुची को मसला और दुसरे हाथ से मां की बूर को साया के उपर से दबाते हुये कहा,
“ मुझे मां जैसी उम्र कि औरतो के साथ मस्ती मारना अछ्छा लगता है…” कहते हुये मै बूर को साया के उपर से मसला…

“ओह्ह विनोद, क्या कर रहे हो बेटा ….अब छोडो , बहुत दबा लिया..” मां ने कहा और साथ ही मुझे जोर से चिपका लीया..

“मां जैसी दीखने बाली औरते क्यो अछ्छी लगती है..” बाबुजी ने पूछा..
“क्यूं कि मुझे मां सबसे अछ्छी लगती है…” और मैने साया का नाडा झटके से खींच दिया. मां अब बिलकुल नंगी थी और एक हाथ से चूत को मसल रहा था और दुसरे हाथ से एक चुची को दबा रहा था .
मैने बाबुजी की ओर देखते हुये कहा कि , जब से मैने औरत के बारे मे जाना है तुब से सिर्फ मुझे मां ही अछ्छी लगती है…मैने इमानदारी से कहा कि, चूंकि मै मां के साथ मस्ती नही मार सकता था इस लिये मैने होस्टेल जाने की जिद्द की थी.
मैने मां को अपनी बांहो मे लेकर खुब चुमा चाटा , चुची को मसला और चूत को रगडा.
मां को प्यार करते हुये मैने बाबुजी से कहा कि उनकी माल दुनिया कि सबसे अछ्छी माल है..और आज मै बहुत खुश हू कि वो मस्त माल मेरी बांहो मे नंगी खडी है और मै उसकी मदहोश करने बाली जवानी को प्यार कर रहा हूं.

मै मां को लेकर बाहर आया और गोदी मे बैठा लिया. मेर लंड पैंट के नीचे पुरा टाइट हो गया था इस लिये ही मैने मां को लंड के उपर बिठा लिया. बाबुजी भी हमारे सामने बैठ गये और देखते रहे कि किस तरह एक बेटा अपनी मां की नंगी जवानी से खेल रहा है.

“बस बेट, अब छोडो, तुम्हारे दादाजी आने बाले होंगे।” कहते हुये मां खडी हो गयी. मैने झांट सहलाते हुये पुछा कि झांट क्यो नह्वी साफ करती हो तो मां ने जबाब दिया कि उसे झांट सहलाना अछ्छा लगता है. मैने मां से खुशामद की कि एक बार झांत साफ कर अपना चिकना चूत दिखा दे… बाबुजी ने भी कहा कि उन्होने भी कई बार मां से साफ करने को कहा है लेकिन मानती ही नही है…


error: Content is protected !!