हज़्बेंड के सामने वाइफ के साथ चुदाई की कहानी

ही, ई आम विलद्वोलफ007. मेरी पुरानी स्टोरीस ज़रूर पढ़िए और एंजाय करिए. जैसा की मेरे रीडर्स जानते है मुझे भाभियाँ और औंतीयाँ ज़्यादा पसंद है. क्यूंकी उनमे बहुत एक्सपीरियेन्स और चुदाई की भूख होती है, और पिछले इन्सिडेंट्स के बाद मेरा कॉन्फिडेन्स भी बढ़ गया था.

सो एक दिन मैं फोन चला रहा था. तभी मुझे एक मैल पे मेसेज आया एक औरत का.

शी: ही, मुझे तुम्हारी कहानियाँ अची लगी बहुत.

मे: ओह थॅंक्स.

शी: सो तुम देल्ही से हो?

मे: एस.

शी: क्या तुम्हारी कहानियाँ सॅकी है?

मे: एस, बस नाम बदल दिया है सेफ्टी के लिए.

शी: ओह, काफ़ी हॉट है स्टोरीस तुम्हारी.

मे: थॅंक्स.

शी: ओक, मुझे जाना है बाद में करती हू बात.

अगले दिन उसने मेरा नंबर माँगा और बोली: क्या हम फोन पे बात करे?

मैने उसे नंबर दिया. फिर उसका कॉल आया और हमने नॉर्मल बात की. उसने बताया वो 35 आगे की थी, और उसका हब्बी बिज़्नेस करता था. उसने बताया उसका हब्बी क्यूक्कल्ड सेक्स में इंट्रेस्टेड था. लेकिन सोसाइटी के दर्र से उनको कोई ढंग का पार्ट्नर नही मिला था अभी तक. फिर मैने उसकी पिक माँगी.

उसने मुझे पिक व्हातसपप की. क्या माल लग रही थी यार वो रेड सिल्क सारी और स्लीव्ले ब्लाउस में. डेक्ते ही मेरा लंड खड़ा हो गया यार. सॅकी में एक-दूं मस्त टाइट चूचियाँ थी उसकी, जो ब्लाउस में से बाहर निकल रही थी. उसकी हाइट 5’6″ थी, और पूरी मस्त भाभी थी वो.

फिर हमने मिलने का प्लान किया नेक्स्ट सनडे. मैं 6:30 बजे उसके घर पहुँचा और एक विस्की की बॉटल भी ले गया अपने साथ. मैने नॉक किया, और उसने दरवाज़ा खोला. यार सच कह रहा हू, सामने से और ज़्यादा माल थी वो. उसने लेमन ग्रीन सारी पहनी थी, जो उसने नेवेल के नीचे बाँधी थी. उसके बूब्स की क्लीवेज काफ़ी ज़्यादा दिख रही थी.

मैं कुछ देर खड़ा रह कर उसको डेक्ता रहा. उसने स्माइल दी, और मुझा अंदर बुलाया. सच बोल रहा हू यार, उसको देखते ही कंट्रोल नही हो रहा था, ना ही खुद की की किस्मत पे यकीन. फिर मैं अंदर गया और उसके हज़्बेंड ने मुझे वेलकम किया. दिखने में वो 40 साल का लग रहा था. मैने उसे ही कहा, और विस्की देके बोला-

मैं: अंकल ये आपके लिए.

उसके बाद हम सब बैठे, और खाना खाया. उसका बेटा रिलेटिव के घर था शायद, और उन लोगों ने प्लान किया था ये. खाना खाने के बाद हमने ड्रिंक करनी शुरू की. मैने 1-2 पेग ही पिए. फिर अंकल ने मुझे बताया की उनकी सेक्स लाइफ काफ़ी बोरिंग हो चुकी थी, और वो जब मेरी स्टोरीस पढ़े, तो उनको ये आइडिया आया.

वो ये भी बोले की उनको एक एग्ज़ाइट्मेंट होती थी, जब कोई उनकी बीवी को गंदी नज़र से देखता था. फिर हम सारे बेडरूम में चले गये. मैं बेड पे बैठा था, और अंकल सामने रखे सोफे पे बैठ के ड्रिंक बनाने लगे अपने लिए. मुझे भी एग्ज़ाइट्मेंट होने लगी, की एक पति के सामने उसकी बीवी छोड़ूँगा.

कुछ देर बाद आंटी आई. वो आके अंकल के साथ सोफे पे बैठी, एक ड्रिंक पी, और अंकल को एक लीप किस दी. मैं बस देख रहा था उनको. क्या माल लग रही थी यार, मेरा लंड पूरा टाइट हो चुका था. उसके बाद आंटी मेरे पास आ कर मेरे बगल में बैठ गयी. मैने अंकल की तरफ देखा तो उन्होने मुझे शुरू करने का इशारा किया. बस अब मुझसे रहा नि गया.

मैने आंटी का फेस पकड़ा. वो मुझे देख के स्माइल करने लगी. मैने सबसे पहले उनका पल्लू हटाया, और उनकी मस्त चूचियों को ब्लाउस के उपर से दबाया. उन्होने अपने नीचे के होंठ काट लिए, और हल्के से से मोन किया “आअहह”.

मैने फिर उनको पास खींचा, और एक डीप किस की. मैं उसके होंठ चूस रहा था पहले. फिर उसके मूह में अपनी जीभ डाल दी. वो भी अपना मूह खोल के मेरी ज़ुबान चूसने लगी.

वो पूरा साथ दे रही थी मेरा. हम बहुत मस्त किस कर रहे थे. एक-दूसरे की ज़ुबान चूस रहे थे. एक-दूसरे की बॉडी से खेल रहे थे. फिर मैने उनको गले पे किस की, और फिर धीरे-धीरे उनके बूब्स की तरफ बढ़ा.

मैं उनके बूब्स को ब्लाउस के उपर से चूसने लगा और काटने लगा. क्या मस्त बूब्स थे यार. उसको मज़ा आ रहा था बहुत सॅकी, और वो मोन कर रही थी “ह उम्म आराम से बेटा आहह”

मैने फिर पूरा ब्लाउस निकाल दिया. उसने ब्रा नही पहनी थी, और क्या मस्त बूब्स थे यार. उसके निपल्स ब्राउन रंग के थे, और उसका मंगलसूत्रा उसकी नंगी छाती पर लटक रहा था. मस्त सेक्सी रंडी लग रही थी पूरी संस्कारी रांड़.

में भूखे कुत्ते की तरह उसके बूब्स पर टूट पड़ा, और उसके निपल्स मूह में लेके चूसने लगा. वो भी मस्त मोन करने लगी “अहह हा, बेटा ऐसे ही श ह्म”.

फिर मैने अंकल को देखा. वो अपना लंड हिला रहे थे, और हमे देख रहे थे. वॉट आ सीन इट वाज़. उनकी नंगी बीवी के बूब्स पी रहा था मैं, और वो देख रहे थे.

बहुत एग्ज़ाइटिंग था वो. आंटी मोन कर रही थी “अयाया उम्म ह”. 10 मिनिट्स तक उनके बूब्स चूसने के बाद मैने कपड़े उतारे, और नंगा होके बेड की साइड में खड़ा हो गया, और उनको पास आने का इशारा किया. मेरा 7 इंच का लंड पूरा खड़ा हो चुका था.

उनको पता था मुझे क्या चाहिए. वो पास आई, और मेरे लंड से खेलने लगी, और उसको हिलने लगी. मैने आँखें बंद की और मोन करने लगा. फिर मैने अंकल को देखा. वो अपनी बीवी की सारी लेके अपने लंड पे रॅप करके हिला रहे थे.

मैने उनको पास आने को कहा. वो आके आंटी की दूसरी साइड खड़े हो गये. मैने आंटी को इशारा किया, और वो पहले मेरा, और फिर अपने पति का लंड बारी-बारी चूसने लगी. क्या मस्त चूस्टी थी यार वो. उसकी जीभ मेरे लंड को रॅप कर रही थी, और मुझे पागल कर रही थी.

अंकल भी आँखें बंद करके मोन करने लगे. उनसे एग्ज़ाइट्मेंट कंट्रोल नही हुई, और उन्होने सारा पानी ज़मीन पे गिरा दिया, और सोफे पे जाके रेस्ट करने लगे. आंटी कुछ देर और मेरा लंड मस्त चूसी पूरा गले के अंदर तक लेकर. मेरी आँखें भी बंद थी, और मैं मज़े ले रहा था.

मेरा लंड पूरा टाइट था. अब मैने आंटी को लिटाया, और उनके उपर आ गया. मैने उनको अपनी बाहों में ले लिया, और अपना लंड उनकी छूट पे रगड़ने लगा. उनकी छूट काफ़ी गीली हो गयी थी.

मैने उनको कस्स के पकड़ा, और अपना लंड उनकी छूट में पेल दिया. उनके मूह से अयाया निकली. फिर मैं लंड सेट करके धक्के लगाने लगा, और आंटी के बूब्स चूसने लगा. क्या मस्त फीलिंग थी यार सॅकी. वो भी मूड में आ गयी.

अपने पैरों को मेरी कमर पे रॅप कर लिया उन्होने, और मस्त छुड़वाने लगी. मैं फुल स्पीड से धक्के मार रहा था, और वो आअहह आ उम अहह मोन कर रही थी.

उनकी छूट भी मस्त गीली हो गयी थी. अंकल हमारी चुदाई का मज़ा ले रहे थे. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. मैं उनके बूब्स चूस रहा था, और पूरी ताक़त से उन्हे छोड़ रहा था.

फिर लगभग 15 मिनिट छोड़ने के बाद मैने पोज़िशन चेंज की, और उनको डॉगी पोज़िशन में आने को कहा.

उनकी पोज़िशन ऐसी थी, की मैं पीछे से उनको छोड़ रहा था, और वो सामने से अंकल को देख रही थी. अंकल हम दोनो की चुदाई देख के अपना लंड मसल रहे थे. मैने उनको थोड़ी देर और वैसे ही छोड़ा. फिर उनकी बॉडी पूरी अकड़ने लगी. मेरा भी होने वाला था. हम दोनो एक साथ झाड़ गये और मैं उनके उपर लेट गया.

हम दोनो पसीने से भीग गये थे. अंकल हमे देख के ड्रिंक पी रहे थे, और मुस्कुरा रहे थे. फिर मैं उठा, कपड़े पहने, ड्रिंक पी, आंटी को किस किया, और जाने लगा. दोनो ने मुझे थॅंक्स कहा.

आंटी ने दो दिन बाद बताया की अंकल ने उनको फिरसे वाइल्ड तरीके से छोड़ा, और उनकी सेक्स लाइफ में फिरसे वो स्पार्क आ गया था, जो पहले मिस्सिंग था. मुझे सच में पहले क्यूक्कल्ड स्टोरीस फिक्षनल लगती थी. लेकिन इस इन्सिडेंट ने सब कुछ बदल दिया.

मैने उसके बाद काई बार आंटी को अंकल के सामने छोड़ा और काई बार ओयो में भी.

कोई भी आंटी या भाभी जो देल्ही से हो, और रियल एक्सपीरियेन्स चाहती हो, मुझे वोल्फ़विल्ड646@गमाल.कॉम पे मैल कर सकती है. ई आम अवेलबल फॉर कॉल सेक्स टू. इट’स टोटली सेफ. उमीद करता हू आप सब को पसंद आई होगी स्टोरी.

यह कहानी भी पड़े  औरत ने वर्जिन गांद की सील तुडवाई


error: Content is protected !!