हज़्बेंड के सामने बीवी को चोदने की हॉट कहानी

हेलो दोस्तों, कैसे हो आप सब? ई आम किंजल(बॉय) फ्रॉम आमेडबॅड, गुजरात. मुझे मेरी इस स्टोरी के फर्स्ट पार्ट पे आप सब का इतना प्यार मिला, उसके लिए बहुत-बहुत शुक्रिया. मुझे मेच्यूर लॅडीस पसंद है, सो स्टोरी पढ़ के जिसको भी बात करने का दिल करे बिंदास मुझे मैल करे, ओक.

तो अब ज़्यादा टाइम ना वेस्ट करते हुए चलते है आयेज, की क्या-क्या हुआ हमारे बीच. सो जैसे की आप सब जानते है पिछली स्टोरी में आपने पढ़ा की मेरी दोस्ती एक फन लविंग कपल से हो गयी, और फिर हमने वीडियो सेक्स भी किया. अब आयेज की कहानी.

उस रात मैने वो भाभी को वीडियो कॉल में इतना मज़ा दिया, की उनसे अब रहा नही जेया रहा था. सो वो मिलने को बहुत बेताब हो चुकी थी. फिर मैने उनके हज़्बेंड से बात की, और हमने आमेडबॅड में मिलने का प्लान बनाया.

वो दोनो हमारे डिसाइडेड दे पर कार लेके आमेडबॅड आ गये करीब शाम के 7 बजे. और मैं उनको हमारी डिसाइडेड लोकेशन पर मिला. आंड मी गोद! भाभी ब्लू कलर की चमकती हुई सारी में आई थी, और ब्लॅक वेल्वेट का बॅकलेस ब्लाउस पहना था.

वो ऐसी लग रही थी, जैसे कोई अप्सरा हो स्वर्ग की. एक तो गोरी भी इतनी थी, की कोई हाथ लगा दे तो दाग हो जाए. वैसे तो हम फेस तो फेस फर्स्ट टाइम मिल रहे थे, तो मैं उनको देखता ही रह गया. और मुझे देख के भाभी का तोड़ा शरमाना लाज़मी था.

लेकिन मैं तो उनका पूरा नंगा जिस्म ऑलरेडी वीडियो कॉल में देख चुका था. सो मैने बातों-बातों में उनको तोड़ा कंफर्टबल फील करवाया. फिर हम लोग रिंग रोड पे एक ओपन रेस्टोरेंट में खाना खाने गये.

वाहा हमने एक कॉर्नर का टेबल चूज़ किया, ताकि मैं थोड़ी मस्ती कर साकु. उस टेबल पे हज़्बेंड सामने की तरफ बैठे थे, और मैं भाभी के पास में बैठ गया. फिर हम नॉर्मल बातें करने लगे, जब तक ऑर्डर दिया था.

मैने बातें करते-करते स्लोली-स्लोली भाभी की जाँघो पर हाथ रख दिया. उसने मेरी तरफ देखा तो मैने आँख मार दी, और उनके हज़्बेंड हमे देख रहे थे, और मज़े ले रहे थे. मैं बातों-बातों में उनके एक-दूं पास खिसक गया, और दोनो जाँघो को उपर से रब करने लगा.

मैं उनकी कमर और पेट पे हाथ घूमने लगा. उनको गुदगुदी हो रही थी, लेकिन आस-पास में सब होने की वजह से कंट्रोल किया था. उसका हज़्बेंड मुझसे बातें कर रहा था और मैं भाभी को देख के सारे डबल मीनिंग में जवाब दे रहा था.

फिर तो भाभी भी मूड में आ गयी, और चान्स मिलते ही मैं उसके बूब्स पे हाथ रख के सहलाने लगा. उसने सारी से मेरा हाथ कवर कर लिया, क्यूंकी वो भी अब गरम हो चुकी थी. उसने भी मेरे लंड पे हाथ रख दिया, और सहलाने लगी.

मेरा लंड पूरा टाइट हो चुका था. अब उससे रहा नही गया, तो उसने पेट से होते हुए पंत में से अंडरवेर में हाथ डाल दिया, और मेरा लंड पकड़ लिया. इट वाज़ आन आसम फीलिंग फॉर मे.

अब मैं भी कहा पीछे हटने वाला था. मैने भी ब्लाउस के उपर से होते हुए ब्रा में हाथ डाल दिया. मेरा लंड हाथ में लेके वो उसके हज़्बेंड से बोली-

भाभी: सुनो जी, इसका तो वीडियो कॉल में जो देखा था, उससे तो बहुत बड़ा है. अब क्या होगा मेरा?

हज़्बेंड: तुमको ही तो जल्दी थी ना इससे मिलने की. अब तुम संभलो, मैं तो तुम्हे देख के मज़े लूँगा.

मे: अर्रे ये तो अब आपके हाथ में है. इसलिए इसने असली रूप ले लिया है. बुत आप जैसी हॉट लेडी को तो ऐसा तगड़ा लंड ही खुश कर सकता है ना.

और हम हासणे लगे. इतने में वेटर हमारा ऑर्डर लाते हुए दिखा. तो हम नॉर्मल हो गये वापस. फिर हमने खाना खाया, और मैं उनको अपने मॅनेज किए हुए फ्लॅट पे ले गया.

फ्लॅट पर पहुँचते ही मैने डोर आचे से लॉक कर दिया और उन दोनो को फ्रेश होने को बोल दिया. 15 मिनिट में वो दोनो फ्रेश हो गये. फिर हम बेडरूम में गये तीनो, और बैठ के बात करने लगे. तो भाभी बोली-

भाभी: अछा तो बताओ तुम क्या सर्प्राइज़ देने वाले थे हमे? और क्या-क्या एग्ज़ाइटिंग होने वाला है आज?

मे: हा अब तो रात रंगीन होने वाली है जानेमन. अभी हम एक ग़मे खेलने वाले है, जिसके रूल्स मैने डिसाइड किए है.

हज़्बेंड: कैसा ग़मे भाई?

मे: हम तीनो लडो खेलेंगे. लेकिन रूल्स ऐसे है, की जो बंदा जिसके प्यादे को मारेगा, उसको जो वो बोले वो करना पड़ेगा.

भाभी और उसका हज़्बेंड अग्री हो गये.

मे: लेकिन सुनो-सुनो, भैया को सिर्फ़ मज़ा लेना है. अगर भैया हम दोनो में से किसी के प्यादे को मारेंगे, तो वो हम दोनो में से किसी को भी अपना डरे माँगने का चान्स दे सकते है.

वो दोनो बोले: ठीक है, चलो स्टार्ट करते है.

फिर हमने लडो खेलना स्टार्ट किया. करीब 5 मिनिट में हमारे 3-3 प्यादे बाहर आ गये थे सब के. तो लकिली मैने ही भाभी का पहला प्यादा उड़ाया.

अर्रे हा, मैं आपको हमारे बैठने का अरेंज्मेंट तो बताना ही भूल गया. बेड पे मैं और भाभी थे, और भैया चेर पे बेड के पास बैठे थे. और हम बेड पे तकिया और उसपे मोबाइल रख के खेल रहे थे.

भाभी झुकती थी, तो उसका पल्लू गिर जाता था, और उसकी सेक्सी डीप क्लीवेज मुझे नज़र आ रही थी. और ये देख के मेरा लंड तो बाहर आने को बेताब था. भाभी की भी बार-बार उसपे नज़र पद रही थी.

फिर मैने भाभी का प्यादा उड़ाया, और उनको डरे दिया की स्टॉपवाच चालू करके कंटिन्यूवस्ली 2 मिनिट तक मुझे लीप किस करे. और अगर 2 मिनिट में उन्होने मेरे लिप्स से लिप्स हटाए, तो फिरसे 2 मिनिट करना पड़ेगा.

वो इतना सुनते ही सीधा मेरी गोदी में आ गयी, और मेरा फेस पकड़ के सीधा मेरे होंठो को अपने होंठो से पकड़ लिया. फिर मेरे हेर में हाथ घूमते हुए क्या पॅशनेट किस किया उसने. यार एक-दूं फॅंटॅस्टिक उसके लिप्स बहुत सॉफ्ट लग रहे थे.

हम इतना खो गये थे किस्सिंग में, की 3 मिनिट हो गये थे. फिर उसके हज़्बेंड ने बोला-

हज़्बेंड: अब तो 3 मिनिट हो गये बीवी जी.

और वो हासणे लगा. भाभी ने तब मेरे होंठो को छ्चोढा, और हासणे लगी. हमने फिर आयेज खेलना स्टार्ट किया, तो भाभी ने उसके हज़्बेंड के प्यादे को उड़ाया, और उन्होने उसके हज़्बेंड को डरे दिया की अपने कपड़े निकाल के बैठो सिर्फ़ अंडरवेर में. उसके हज़्बेंड ने ऐसा ही किया.

फिर हम आयेज बढ़े खेल में, तो उसके हज़्बेंड ने वाइफ के प्यादे को उड़ाया. तो उन्होने मुझे दिया चान्स डरे माँगने का. फिर मैने भाभी से बोला-

मे: अपने ब्लाउस के हुक खोल दो, और ब्रा बाहर निकाल के रख दो.

उन्होने ऐसा ही किया. अब मुझे उसके मिल्की वाइट बूब्स सामने ब्लाउस में दिख रहे थे. मेरा लंड और टाइट हो गया था. अब आयेज बढ़े खेल में. भाभी ने मेरे प्यादे को उड़ाया, तो उन्होने डरे दिया की मैं भी कपड़े निकाल के अंडरवेर में आ जौ. मैने भी वैसा ही किया.

फिर हम आयेज बढ़े खेल में. मैने हज़्बेंड के प्यादे को मारा. मैने उनको डरे दिया, की वो एक मिनिट तक अपनी वाइफ की छूट छाते. मेरा डरे सुनते ही भाभी ने अपना पेटिकोट उपर करके पैरों को खोल दिया, और भैया उसकी पनटी को खिसका के उसकी छूट चाटने लगे.

मेरे सामने भाभी की एक-दूं क्लीन शेव्ड छूट थी फूली हुई, और मस्त वाइट, जैसे पॉर्न में दिखाते है. वरना ज़्यादातर लॅडीस की काली होती है. लेकिन इसकी वाइट और अंदर से पिंक थी.

भैया पूरी जीभ डाल के छूट चाट रहे थे, और भाभी आँखें बंद करके मोनिंग कर रही थी. मैने 1 मिनिट की जगह 2 मिनिट छूट चाटने दी, ताकि भाभी आचे से गरम हो जाए. भाभी की पूरी छूट गीली हो चुकी थी.

फिर आयेज बढ़े खेल में. मैने भाभी का प्यादा मारा, तो मैने उनको डरे दिया 3 मिनिट तक मेरा लंड चूसने का. भाभी बहुत खुश हो गयी थी, और उसने सामने से मेरा अंडरवेर निकाल के बेड के नीचे फेंक दिया और मुझे बेड पे लिटा के मेरे लंड के उपर टूट पड़ी.

वो क्या चूस रही थी यार, कसम से इतना ज़ोर-ज़ोर से हिला के चूस रही थी, की कमज़ोर लंड वाले तो हाफ मिनिट में ही निकाल दे. और वो पूरा गले तक ले रही थी, लेकिन नही जेया रहा था. उसने पूरा चिकना कर दिया था लंड उसकी थूक से, और उसके मूह की लार भी तपाक रही थी.

उसने पुर 3 मिनिट तक बहुत शिद्दत से लंड चूसा. मज़ा आ गया मुझे. अब वो भी खुश हो गयी थी. खेल में हम और आयेज बढ़े. इस बार भाभी ने मेरा प्यादा उड़ाया, तो उन्होने मुझे 5 मिनिट तक अपने बूब्स को पीने का डरे दिया.

दोनो बूब्स को बारी-बारी मसल-मसल के पीना था. अगर उनको फर्स्ट मिनिट में मज़ा नही आया, तो चान्स गया बूब्स पीने का, और फिर छ्चोढ़ देना था.

अब मैने उसको बेड पे लिटा दिया, और उसके बड़े मिल्की बूब्स पे टूट पड़ा, और इतना पॅशनेट्ली चूसने लगा. मैं अपनी जीभ को निपल पे गोल-गोल घूमने लगा, लोवे बीते करने लगा, और बारी-बारी इतना मसल रहा था, की वो आहह आ आउच कर रही थी.

एक मिनिट तो छ्चोढो, मैने उसके बूब्स पुर 10 मिनिट तक चूज़ मसल-मसल के. अब तो वो मुझसे और भी इंप्रेस हो गयी थी. फिर हम खेल में आयेज बढ़े, इस बार उसके हज़्बेंड ने उसकी वाइफ के प्यादे को उड़ाया. उसने अपनी वाइफ को डरे दिया की वो पूरी नंगी हो जाए, और उसने वैसा ही किया.

अब तो माहौल बन गया था. हम दोनो नंगे थे, और उसका हज़्बेंड अंडरवेर में था.

फिर और आयेज बढ़े ग़मे में. अब भाभी ने मेरे प्यादे को उड़ाया तो उन्होने डरे दिया की 15 मिनिट तक नों-स्टॉप वाइल्ड रोमॅन्स करना होगा.

मैं समझ गया की अब असली ग़मे खेलने का टाइम हो गया था. ये सुन के उसके हज़्बेंड ने मोबाइल ले लिया, और मैने भाभी को अपने उपर खींच लिया.

वो मेरी बाहों में आ गयी, और हम दोनो वाइल्ड्ली किस्सिंग करने लगे. मैं उसके ह्यूज बूब्स को मसालते हुए अपनी जीभ उसके मूह में डालने लगा. वो मेरी जीभ को बड़े प्यार से अपने मूह में चूस रही थी.

मैं उसके पुर जिस्म को सहला रहा था. वो और मदहोश होने लगी थी. मैं उसके बूब्स को पीने लगा मसल-मसल के. उसके निपल एक-दूं टाइट हो चुके थे. मैं अपने होंठो से उसपे बीते करने लगा, और एक हाथ छूट पे ले-जेया के छूट रब करने लगा.

वो कसमसा उठी, और बोलने लगी: अब आ जाओ मेरे जान. तोड़ दो मेरी छूट का द्वार.

और उसने मुझे अपने उपर लेके मेरा लंड अपने हाथो से पकड़ के अपनी छूट पे सेट किया. फिर वो अपने दोनो हाथो से मेरा फेस पकड़ के ज़ोरो से किस करने लगी. उसकी छूट से बहुत पानी बह रहा था. तभी मैने उसके हज़्बेंड को इशारा किया, तो उसके हज़्बेंड ने मेरे लंड पे कॉंडम पहना दिया.

फिर मैने एक ही झटके में लंड घुसा दिया अंदर. वो से गयी क्यूंकी वो भी एक्सपीरियेन्स्ड खिलाड़ी थी. फिर मैने घामाशाण चुदाई चालू कर दी उसके उपर चढ़ के. करीब 20 मिनिट उसी पोज़िशन में छोड़ा मैने उसको.

फिर मैने उसको खड़ा किया, और अपने पैरों के थंब पकड़वाए. इससे उसकी गांद मस्त दिख रही थी. मैने उसकी गांद पे तोड़ा आयिल डाला, और पीछे भी घुसा दिया. अब मैं बारी-बारी छूट और गांद मारने लगा.

उसके बूब्स लटकते हुए काफ़ी उछाल रहे थे. फिर मैं उसको बेड में सीधा लिटा के, उसके पैर अपने कंधे पे लेके, फुल स्पीड में छोड़ने लगा.

इससे उसको डीप पेनेट्रेशन मिल रहा था. वो बहुत एंजाय कर रही थी, और सेक्सी आवाज़े निकाल रही थी, जिसको सुन के और छोड़ने का दिल करने लगा. मैं उसकी गांद पे थप्पड़ मारते हुए छोड़ने लगा, और जोश-जोश में गांद पे इतना मारा, की उसकी गांद पूरी लाल हो चुकी थी.

वो पूरी मदहोश हो गयी थी. करीब 45 मिनिट की वाइल्ड चुदाई के बाद उसका 3 बार निकल चुका था, और मेरा निकालने वाला था. तो मैने बताया उसको, और वो बोली-

भाभी: मुझे मूह में लेना है, आ जाओ मेरे उपर.

फिर मैं उसके बूब्स पे बैठ गया, और वो कॉंडम निकाल के फुल स्पीड में चूसने लगी. और मैं उसका फेस पकड़ के मूह छोड़ने लगा. करीब 20-25 धक्के के बाद मेरा ढेर सारा गाढ़ा क्रीम उसके मूह में डाल दिया.

वो पूरा ले भी नही पाई, और खाँसने लगी. मैं तुरंत उसके उपर से हॅट गया, और उसने साइड होके लंड फिरसे मूह में ले लिया. वो लंड चाटने लगी, और धीरे-धीरे करके मूह में जो भी क्रीम थी निगल गयी. शी इस आसम. उस फुल नाइट हम साथ रहे, और मैने उसको 4 बार छोड़ा. सुबा अर्ली मॉर्निंग वो दोनो निकल गये. लेकिन जाते वक़्त उसने बोला-

भाभी: थॅंक योउ मेरी जान. ई गॉट थे बेस्ट एक्सपीरियेन्स वित योउ. अब तुम हमारे घर आना, वाहा तुम्हे दुल्हन मिलेगी, और हमारी सुहग्रात होगी.

फिर उसने मुझे लोंग किस की, और वो चले गये.

यह कहानी भी पड़े  नयी नवेली भाभी को चोदा लॉकडाउन मे

error: Content is protected !!