हसीना को चुदाई के दर्द की तलाश

मैं बस की इंतजार में था कि मुझे एक कार वाली ने लिफ्ट दी. वो मुझे अपने साथ ले गयी. उसने बताया कि वो मेरे साथ मस्ती करना चाहती है. उसने मेरे दिए दर्द में मजा कैसे लिया.

दोस्तो, आप सभी को मेरा नमस्कार. मेरा नाम विकास है, मेरी उम्र 23 साल है. मैं दिखने में एकदम सुन्दर हूँ. मैं गुड़गांव में एक अपार्टमेंट में किराये पर रहता हूँ. आज मैं आपको अपनी जिंदगी के कुछ हसीन पल आपके साथ शेयर करने जा रहा हूँ.

यह कहानी 6 महीने पहले की है, जब मेरे दोस्त ने मुझे अपनी जन्मदिन की पार्टी में मुझे आमंत्रित किया था.

उस रात को मैंने पार्टी में खूब एन्जॉय किया. मुझे इतना मजा आ रहा था कि समय का कोई पता ही नहीं चला. कब रात के 2:00 बज गए, मुझे याद ही न रहा.

उसके बाद मैं अपने अपार्टमेंट पर आने के लिए बस का इंतजार कर रहा था. काफ़ी समय तक मुझे कोई बस नहीं मिली. मैं परेशान होकर सड़क के किनारे एक रेलिंग पर बैठ गया.

तभी एक कार मेरे पास आकर रुकी और उस कार का शीशा नीचे हुआ. उसके अन्दर एक खूबसूरत हसीना ने उंगली के इशारे से मुझे अपनी तरफ़ बुलाया.

जैसे ही में उसके पास गया, तो उसने अन्दर बैठने का इशारा किया. मैं तो बस उसे ही देखे जा रहा था. क्या कयामत ढा रही थी. मेरी तो निगाहें उस से हट ही नहीं रही थीं. बड़ी ही खूबसूरत बला थी. उसका साईज़ यही कोई 34-28-36 का था. मुझे तो वो कोई जन्नत की हूर लग रही थी.

उसका हुस्न देख कर मैं उसे मना नहीं कर पाया और कार में बैठ गया.

मेरे बैठते ही उसने अपना नाम माही बताया और मुझसे मेरा नाम पूछा. मैंने अपना नाम बताया और उसकी तरफ देखने लगा.

यह कहानी भी पड़े  शादी में आई कजिन को चोद दिया

उसने बताया कि उसके माता-पिता शिमला घूमने गए हुए हैं. वह इन दिनों मेरे साथ मस्ती करना चाहती है.
मैंने कुछ नहीं कहा.
तो अचानक उसने मेरे लंड पर हाथ रख कर कहा- इसे दिखाओ … कितना बड़ा है?

मैं अकबका गया, मेरे लंड ने फुंफकारना शुरू कर दिया था. तभी उसने मेरे लंड को अंदाज से टटोल कर कहा- हम्म … बड़ा लगता है … मजा देगा.

इसके बाद उसने लंड से हाथ हटा लिया और मेरी तरफ सिगरेट की डिब्बी बढ़ा दी- एक जलाओ.

मैंने एक सिगरेट जलाई और एक कश खींच कर उसकी तरफ बढ़ा दी. उसने बड़ी अदा से सिगरेट का धुंआ खींचा और मेरी तरफ छोड़ दिया. फिर उसने मेरी तरफ सिगरेट बढ़ा दी. मैं चुपचाप सिगरेट पीने लगा.

उसने कार अपने घर की तरफ दौड़ा दी. कुछ ही पलों बाद हम दोनों उसके बंगले पर आ गए. माही ने हॉर्न बजाया, तो वहां पर तैनात एक गार्ड ने गेट को खोला. हम अन्दर आ गए.

उस समय लगभग रात के 3:00 बज चुके थे. माही ने मुझे अपने रूम में ले जाकर बेड पर बैठाया और उसके बाद वो नहाने चली गई. मैं रूम में बैठा माही के आने की प्रतीक्षा करने लगा. कुछ समय के बाद वो नहा कर आई.

ओए होए … मस्त कयामत लग रही थी. उसके बाल खुले हुए थे. वो केवल एक झीनी सी फ्रॉकनुमा नाइटी पहन कर वो मेरी तरफ़ देख रही थी.

मैंने उसे देखा, तो वो हौले से मुस्कान देते हुए मेरे करीब आई और मेरे होंठ पर एक किस कर दिया.

इसके बाद वो मेरी गोद में बैठ गयी, जिसकी वजह से मैं अपना काबू खोए जा रहा था.

यह कहानी भी पड़े  आंटी की चूत का चौराहा बनाया

मैंने धीरे धीरे उसकी गर्दन को चूमना शुरू किया, जिसकी वजह से वो भी गर्म हो गयी और मेरी तरफ़ चेहरा करके मुझे पागलों की तरह से चूमने लगी.

अब हम दोनों के जिस्मों में कामुकता की आग लग चुकी थी. दोनों बेकाबू हो रहे थे. एक दूसरे को पागलों की तरह चूम रहे थे. दस मिनट तक किस करने के बाद मैंने उसकी नाइटी को उतार दिया और उसके मम्मों को चूसने लगा.

Haseena Ki Chudai Me Dard Ka Maja
Haseena Ki Chudai Me Dard Ka Maja
सच में बड़े ही मस्त मम्मे थे … एकदम टाइट और रसीले … ऊम्म … मउम … क्या मस्त मजा आ रहा था. मैंने आज तक ऐसे दूध कभी नहीं देखे थे. उस समय मैं जन्नत की सैर कर रहा था. उसके बाद मैंने धीरे धीरे उसके पूरे शरीर को चूमना शुरू कर दिया.

अब माही बेकाबू हो रही थी और वो मेरे लंड को सहलाने लगी. मेरा लंड पहले से ही पूरे मूड में आ चुका था. उसने मेरे सारे कपड़े उतार दिए. अब मैं सिर्फ अन्डरवियर में रह गया था. वो पागलों की तरह मुझे किस किए जा रही थी और मुझसे लिपट लिपट कर अपनी वासना जाहिर कर रही थी. वो इस समय एकदम नंगी थी.

मैंने उसकी चुत में उंगली करना शुरू कर दिया, जिसकी वजह से वो ऐसे तड़फ़ने लगी थी मानो मुझसे कहना चाह रही थी कि अब जल्दी से मुझे चोद दो.

Pages: 1 2 3 4

error: Content is protected !!