गरम हुई औरतों में हुआ लेज़्बीयन सेक्स

फिर हम दोनो बातरोब पहन कर पूल के पास बेंच था वाहा जेया कर रेस्ट करने लगे. विजय हम दोनो को देख कर पूल में उसकी मस्क्युलर बॉडी के पोज़ दिखा रहा था. मैने और शालिनी ने अपना बातरोब उतरा, तो दोनो की हालत खराब हो गयी. विजय और मोहित हम दोनो को देखते ही रह गये.

मैने और शालिनी ने बिकिनी पहनी थी. मैने रेड कलर की बिकिनी पहनी थी, और शालिनी ने येल्लो कलर की. शालिनी का चब्बी 38-32-40 का फिगर बहुत अमेज़िंग दिख रहा था. मुझे तो उसका फिगर देख कर कुछ-कुछ होने लगा.

मेरा 34-28-36 का सेक्सी फिगर रेड बिकिनी में कमाल का लग रहा था. दोनो के बूब्स आधे से ज़्यादा बाहर दिख रहे थे. हम दोनो की बॉडी शाइन कर रही थी. मुझे देख कर मोहित का तो मूह खुल्ला रह गया. मैने शालिनी को दिखाया तो वो हासणे लगी.

फिर हम दोनो ने पूल के 2-3 चक्कर लगाए. वो दोनो हम दोनो को ही देखे जेया रहे थे. हम दोनो हमारी सेक्सी अदाओं से उन्हे सिड्यूस कर रहे थे. फिर हम भी पूल में उतार गये. हमने पूल में बहुत एंजाय किया. मैं अब शालिनी से चिपक कर खड़ी हो गयी, और उसको पूरा भिगो दिया.

पानी में भीगने से हमारे दोनो के हेर वेट हो गये. हम दोनो बहुत ही सेडक्टिव मिलफ लग रही थी. हमारे सेक्सी बदन को छूने का मोहित और विजय ने आचे से फ़ायदा उठाया. वो दोनो हम दोनो को बहुत जगह चू रहे थे. मैने एक बार तो विजय का लंड सहला दिया.

शालिनी तो विजय की मस्क्युलर बॉडी छूने का एक भी चान्स मिस नही कर रही थी. और मोहित के आयेज खड़ी हो कर मैने कितनी बार अपनी गांद पर दबाव महसूस किया. वो भी मौका देख कर मेरे जिस्म के मज़े लूट रहा था. शालिनी भी विजय से चिपक कर नहा रही थी.

पानी में भीगने से हम दोनो के निपल टाइट हो गये थे, जो बिकिनी में सॉफ दिख रहे थे. पानी में भीगे हम दोनो और हमारी क्लीवेज आधी से ज़्यादा दिख रही थी. वो बहुत सेक्सी लग रही थी. मैने नोटीस किया की दोनो के लंड टाइट हो गये थे, जो उनके बॉक्सर के उपर फील हो रहे थे.

मैने मौका देख कर शालिनी की निक्कर में हाथ डाल कर उंगली घुसा दी. उसकी तो आ निकल गयी. मैं उसकी आँखों में हवस देख पा रही थी. ऐसे ही पूल में हमने एक अवर मस्ती की. फिर हम दोनो पूल से बाहर आ गये, और शवर लेने चले गये.

वो वॉल के पीछे थी, जिससे मोहित और विजय हमे देख नही सकते थे. मैने शालिनी की बॉडी पर शवर गेल लगाना शुरू किया, और खुद की बॉडी पर भी लगाया. शालिनी के पीछे से उसके पेट पर मैने हाथ घुमाया, और उसकी नेक पर किस किया. शालिनी मेरी इस हरकत से मचल गयी.

पेट से होते हुए मैने उसकी निक्कर में हाथ डाल दिया, और छूट सहलाने लगी. और पीछे से उसकी बॅक पर किस करने लगी. मेरे ऐसे करते ही शालिनी झाड़ गयी, और फिर उसने मुझे वॉल से सत्ता दिया और मेरी आँखों में देखने लगी.

धीरे-धीरे हम दोनो के लिप्स करीब आ गये और मैने उसको स्मूच करना स्टार्ट कर दिया. साथ में एक-दूसरे के बूब्स को सहला रहे थे. 2-3 मिनिट के किस के बाद जब हमारी किस टूटी, तब हम एक-दूसरे की और देख कर मुस्कुरा दिए.

फिर मैं शालिनी की बिकिनी से एक बूब बाहर निकाल कर निपल चूसने लगी. शालिनी ने मुझे रोका और मेरा हाथ पकड़ लिया. विजय और मोहित अब भी पूल में बैठ कर म्यूज़िक सुन रहे थे. हमने उनको रेडी होने को कहा, और शालिनी मेरा हाथ पकड़ कर 1स्ट्रीट फ्लोर के बेडरूम में ले गयी.

जैसे ही मैने लॉक किया, उसने मुझे दबोच लिया, और बातरूम में ले गयी. मैने भी शवर ओं किया, और पूरी नंगी हो गयी. फिर उसको भी नंगा कर दिया. मैने उसकी पूरी बॉडी पर चाटना स्टार्ट कर दिया, और उसके लिप्स पर किस करने लगी. शालिनी भी मुझे आचे से सपोर्ट कर रही थी.

मैने उसका एक पैर टाय्लेट सीट पर रखा, और नीचे बैठ कर उसकी छूट चाटने लगी. मुझे ऐसा करते देख शालिनी पागल हो गयी. उसने मेरे बाल पकड़ लिए, और उसकी छूट पर फोर्स करने लगी. मैं भी अपनी पूरी जीभ उसकी छूट में डाल कर आचे से चाटने लगी. वो मेरे मूह में झाड़ गयी और मैने सारा रस्स चाट लिया.

अब शालिनी ने मुझे खड़ा किया, और मेरे लिप्स पर से उसका कम चाटने लगी. वो मेरे मूह में उसकी जीभ डाल कर मज़ा दे रही थी. हम बातरूम से टवल लपेट कर बेडरूम में आ गये. यार शालिनी ने मुझे बेड पर सुला दिया, और मेरी टांगे खोल कर मेरी छूट चाटने लगी.

वो भी मुझे बहुत मज़ा दे रही थी. मेरे बूब्स भी आचे से चूज़. हमने एक-दूसरे की छूट में उंगली की, और कम स्वाप किया. हम बुरी तरह तक गये.

शीला: शालिनी तीस इस सो क्रेज़ी डियर.

शालिनी: एस बेबी, मुझे तो पता ही नही था तुम लेज़्बीयन हो. मैने तो पहली बार ऐसा एक्सपीरियेन्स किया है. पर मज़ा बहुत आया है.

शीला: अर्रे डियर, मैं लेज़्बीयन नही हू. तेरा सेक्सी फिगर देख कर कंट्रोल नही हुआ ( मैं हेस्ट हुए). वैसे मेरा ये हाल हो रहा है. तो हम दोनो को देख कर वो दोनो की क्या हालत हो रही होगी.

शालिनी: तू बहुत बिगड़ गयी है. कुछ भी बोल रही है. ऐसा कोई सोचता है क्या?

शीला: चल अब भोली मत बन. मैने देखा है तुझे विजय के साथ चिपकते हुए. विजय तो सेक्सी बन गया है. मैं उसकी सग़ी बेहन हो कर सोच सकती हू, तो तू भी सोच ही सकती है.

शालिनी: बात तो सही है. वैसे भी उन दोनो के बोनेर पूल में फील किए है. वो भी यही सोच रहे होंगे. तो चल ना मज़ा करते है. वैसे भी अब तुमने मेरी आग को जला डाला है. अब उंगली से काम नही होगा.

फिर मैने और शालिनी ने तोड़ा रेस्ट किया, और रेडी हो कर हॉल में बैठ गये. हम दोनो ने वन पीस पहना था जो की घुटनो के बहुत उपर था. वो दोनो हमे देख कर हमारी खूबसूरती की तारीफे करने लगे. फिर हम गार्डेन घूमने गये.

गार्डेन में गये तब हमारा दो कपल का ग्रूप बन गया. मोहित और मैं अलग घूम रहे थे, और शालिनी और विजय तोड़ा डोर बैठ कर बातें कर रहे थे. मोहित मुझे बहुत आचे से ट्रीट कर रहा था, जैसे हम यंग ब्फ-गफ़ हो. मुझे भी ये एहसास अछा लग रहा था.

रात को हम सब ने साथ में डिन्नर किया और वापस विला पर पहुँच गये. हुँने मोविए देखी. ऐसे ही रात के 12 बाज गये. शालिनी और विजय बहुत बातें कर रहे थे. तो मैने मौका देख कर कहा-

शीला: मोहित तुम एक कम करो, मेरे रूम में सोने चले आओ. इन दोनो की बातें पूरी रात ख़तम नही होने वाली. मुझे तो नींद आ रही है, मैं सोने जेया रही हू.

मेरी बात सुन कर वो तीनो खुश हो गये. मैने विजय की और देखा और उसको आँख मार दी. वो समझ गया की मैने उसको और शालिनी को प्राइवसी दी थी. शालिनी भी मेरे इस डिसिशन से खुश हो गयी.

मोहित ने कहा: हा दीदी, मैं भी आ रहा हू. मुझे भी नींद आ रही है.

मैं और मोहित जैसे रूम में गये. मैने अपना वन पीस उतार दिया और ब्रा पनटी में आ गयी. मुझे ऐसा देख कर मोहित बोखला गया.

आयेज की स्टोरी नेक्स्ट पार्ट में. आपको स्टोरी कैसी लगी आप कॉमेंट कीजिए और मूडछंगेरबोय@गमाल.कॉम पर आपका फीडबॅक मैल करे.

यह कहानी भी पड़े  रूमेट के साथ चूत की गर्मी निकली


error: Content is protected !!