फेसबुक की अनजान लड़की से प्यार

हैलो, मैं राजेश (राज) अहमदाबाद गुजरात से हूँ. मैं 31 साल का एक शादीशुदा युवक हूँ. मेरी हाइट 6 फुट है, दिखने में हैंडसम हूँ औऱ पर्सनालिटी भी अच्छी है. बात करने का स्टायल भी मनभावन है. इसमें विशेषकर ये बताने लायक है कि मैं लोगों से बात करते वक्त उनसे उसकी बात को सुनता हूं, खासकर लेडीज़ की. आप तो जानते ही हैं कि फीमेल में भी यही बात पसंद की जाती है कि कोई उनकी बात को सुने, समझे. पर उसके लिए बहुत टाइम चाहिए, जो सबके लिए बहुत मुश्किल होता है.

मैं एक बड़ी कंपनी में अच्छी पोस्ट पर हूँ, इस वजह से काम बहुत रहता है. फिर भी अब तक मेरा 2 गलफ्रेंड के साथ अफेयर रहा है.

ये एक बिल्कुल सच्ची कहानी है.. उसका मजा लीजिएगा. सन 2010 में फ़ेसबुक का शुरूआत का समय था, तब ज्यादातर फेसबुक आईडी ओरिजिनल ही रहती थीं. उन्हीं दिनों मेरी एक लड़की से बात हुई. उसका नाम संध्या (बदला हुआ) था. शुरू शुरू में हाय हैलो से बात हुई, फिर पता चला कि वो अहमदाबाद की ही है. उससे कुछ बात हुई औऱ बातों बातों में उसने बताया कि वो पीजी कर रही है. उसको कुछ सब्जेक्ट में कंफफ्यूज़न था. चूंकि मैंने फार्मसी किया है, तो मैं ये सब काफी अच्छे से जानता था.

मैंने उसकी मदद की और उसके सारे सवाल सॉल्व कर दिए. फिर दूसरे दिन उसने दूसरा सवाल पूछा तो मैंने उसका भी जवाब दिया. ऐसा 5 दिन तक चला.

दअरसल वो पढ़ने में बहुत होशियार थी और मैंने उसको काफी हेल्प की, इसके चलते वो मुझसे काफी इम्प्रेस हो गई थी. फिर एक दिन मैंने मोबाइल नंबर मांगा, उसने दे दिया. फिर हमारी रोज बातें होने लगीं.

मैं जल्दी से किसी से दोस्ती नहीं करता और अगर करता हूँ तो दिल से निभाता हूँ.

यह कहानी भी पड़े  Shuruat Hui Meri Sex Life Ki

इस तरह बातें कर करके मैंने उसको जाना तो पता चला कि वो शादीशुदा है. वो शादी के बाद भी पढ़ाई कर रही थी. उसकी ससुराल में सब ठीक था, मगर उसकी सेक्स लाइफ अच्छी नहीं थी. उसका हस्बैंड बिस्तर का खेल बहुत जल्दी खत्म कर देता था.

अपनी 24 साल की बाली उम्र में शादीशुदा लाइफ, वो भी कॉलेज करते हुए ये सब हो रहा था. जबकि वो अपने कॉलेज के कई कपल देखती रहती देखती थी कि हर किसी का अफेयर चल रहा है और सब ख़ुश भी हैं, बस वो ही नहीं है. इससे उसको काफी वेदना सी थी.

दूसरी तरफ मैं भी शादीशुदा था, मगर मैं अपनी सेक्स लाइफ से काफी संतुष्ट था. फिर भी मेरी उससे दोस्ती हो ही गई और सिर्फ दोस्ती ही नहीं, उससे भी ज्यादा हम आगे बढ़ गए थे.

अब हम कभी कभी मिलने लगे, वो अपने बारे में बताती, अपनी पढ़ाई के बारे में कहती. कभी वो अपनी शादी शुदा लाइफ के बारे में वो कुछ बोलती, मैं भी कुछ बताता. फिर हम कभी कॉफ़ी शॉप में, कभी मॉल में मिलते रहे.

एक बार हम दोनों मूवी देखने गए, तब मैंने उसे पहली बार किस किया. क्या गुलाबी होंठ थे उसके.. आह.. एकदम मखमली गाल थे. थियेटर में मैं उसके गाल पे किस कर रहा था और बोल रहा था- तुम बहुत खूबसूरत हो.. बहुत ही खूबसूरत.
यह कहते हुए मैं उसके बदन को सहला रहा था. उसकी भी साँसें गरम हो रही थीं.

मैंने कहा- मैं तुमसे अकेले में मिलना चाहता हूँ, जहां तुम ओर सिर्फ में ही रहूँ.
मैं कहना ये चाहता था कि मैं तुमको चोदना चाहता हूँ.. लेकिन मुझे गंदी भाषा लड़की के सामने बोलना पसन्द नहीं है और अच्छी लड़कियां भी गंदे शब्दों को सुनना पसंद नहीं करती हैं. ये भाषा जब तक दोनों एक हद से आगे ना बढ़ें, तब तक नहीं बोलना चाहिए.. फिर सब कुछ जायज हो जाता है.

यह कहानी भी पड़े  गर्लफ्रेंड की बुर की पहली चुदाई करके सील तोड़ी

दूसरे दिन सुबह को मैंने उसे पिक किया और कार में बैठाते ही मैंने उसे किस किया. फिर पूरे रास्ते में उसका हाथ मेरे हाथ के ऊपर था. मेरा हाथ कार के गियर के ऊपर था. वो धीरे धीरे मेरे हाथों को सहला रही थी. तय शुदा प्रोग्राम के अनुसार हम दोनों ने एक होटल में पहुंच गए. रूम में जाते ही मैंने उसे किस किया. उसकी कमर को पकड़ते हुए मैंने उसे बांहों में भर लिया. वो भी बहुत प्यासी लग रही थी.

उसके बारे में तो बताना भूल ही गया वो 5.9 इंच की थी. उसकी 34-28-36 की फिगर, गोरा रंग, गुलाबी होंठ और उसके कोमल गाल.. वाह.. कमाल की सुंदर थी वो. इधर मैं भी 6 फुट लंबा हूँ, दिखने में एक डॉक्टर जैसा दिखता हूँ.

मैंने उसको उठाकर अपनी बांहों में भर लिया. अब मेरा एक हाथ उसके गले के नीचे था और एक हाथ उसके घुटनों के नीचे था. उसके दोनों हाथ मेरे गले में थे और वो मुझे किस कर रही थी. फिर मैं उसे बेड पे ले गया और उसे वहां लिटा दिया. मैं उसको किस करने लगा. इसके बाद मैंने उसके टॉप में हाथ डाला और उसकी चूचियों को सहलाने लगा.

Pages: 1 2 3 4 5

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!