इमेल से होटल रूम तक चुदाई का सफ़र

प्यारे दोस्तो, मैं आशिक राहुल पिछले 6 वर्ष से अन्तर्वासना पर कहानियाँ पढ़ रहा हूँ और सन 2015 से अब तक मेरी 13 कहानियाँ प्रकाशित हो चुकी है जिनके जवाब में मुझे बहुत सारे मेल प्राप्त हुए हैं, कई नए दोस्तों से मुलाकात हुई और कुछ से मिलने का मौका भी मिला.
मेरी खासियत यह है कि मेरा कॉमिक सेन्स बहुत अच्छा है और मैं अपने से पहले अपने साथी की परवाह करता हूँ, उनकी प्राइवेसी की परवाह करता हूँ. इसलिए अब तक जितने भी लोगों से दोस्ती की है और जिनसे रिलेशन बने, वो हमेशा मेरी रिस्पेक्ट करते है और मैं उनकी.

जिसमें मैंने मेरे और मेरी पहली मोहब्बत के बीच हुए एक सेक्स सम्बन्ध के बारे में बताया था. मेरी वो कहानी काफी लोकप्रिय हुई थी और बहुत सारे दोस्तों ने मुझसे मेल करके पूछा भी था कि ये शिकारा किश्ती कैसे और कहाँ कहाँ किराए पर ली जा सकती है?

एक रात करीब दस बजे मैं अन्तर्वासना पर एक रोमांचित कहानी पढ़कर अपने 8 इंच के शैतान लंड को सहला रहा था कि इतने में मेरी निगाह एक मेल पर पड़ी. मैंने वो मेल चेक किया तो एक लड़की का था. यह वही लड़की थी दोस्तो, जिनके बारे में मैंने पिछली कहानी में बताया था, निशा मल्होत्रा.
उन्होंने लिखा था कि उन्हें मेरी कहानी बहुत ज्यादा पसंद आई और शिकारा किश्ती में सेक्स का वो आईडिया तो उनके दिल को छू गया.

मैंने भी तुरंत रिप्लाई किया और उन्हें उनके मेल के लिए धन्यवाद दिया. वो भी उस वक़्त ऑनलाइन ही थी और उन्होंने मुझसे मेरे बारे में जानने की इच्छा ज़ाहिर कि अगर मुझे ऐतराज़ न हो तो. मैंने उन्हें अपनी लाइफ के बारे में काफी कुछ बताया किन्तु अपनी रियल लोकेशन शुरू में नहीं बताई जिसका उन्होंने भी सम्मान किया.
फिर उन्होंने अपने बारे में बताया कि उनकी शादी होने वाली है उनका रिश्ता तय हो चुका है.

यह कहानी भी पड़े  सुमित की शादी का सफर - 1

उस रात करीब 12:30 बजे तक हमने मेल पर ही बातें की.

अगल दिन उन्होंने फेसबुक पर बात करने की इच्छा ज़ाहिर की तो मैंने दो नये फेसबुक अकाउंट बनाकर एक उनको दे दिया और एक से मैंने लॉग इन किया. ऐसे धीरे धीरे एक दूसरे के बारे में जानते हुए हमारे बीच बहुत अच्छी दोस्ती कायम हो गई और बातें सेक्स तक भी पहुँच गई.

जल्दी ही उनकी शादी हो गई और उनसे काफी वक़्त तक बातचीत नहीं हुई.

फिर एक दिन अचानक मैंने देखा कि मुझे निशा का मेल आया हुआ था. अब उनकी शादी को दो साल हो चुके थे. उन्होंने अपनी शादीशुदा लाइफ के बारे में विस्तार में मुझे बताया. शुरू में सेक्स का भरपूर आनन्द लेने के बाद अब उनके पति काम में ज्यादा बिजी रहने लगे हैं और इसी बीच उनके और उनके कजिन के बीच भी सेक्स हो चुका था.

उस रात हम दोनों सेक्स की बाते करते हुए कुछ ज्यादा ही रोमांचित हो गये थे और पहली बार हमने फोन सेक्स किया. वो मुझसे मिलकर मेरे साथ सेक्स का आनन्द लेना चाहती थी.
पर हमने तय किया कि हम सिर्फ उसी दिन एक दूजे को देखेंगे जिस दिन हम सेक्स करेंगे उससे पहले कोई फोटो तक नहीं देखेंगे.

कुछ दिन ऐसे ही फोन सेक्स करने के बाद आखिर वो दिन आ ही गया जब उन्होंने मुझे मिलने के लिए कुरुक्षेत्र बुलाया. उस दिन उन्होंने नेट का एग्जाम देने का बहाना करके पूरे दिन का समय निकाल लिया था हमारे मिलन के लिए और मुझे भी बुला लिया था.

उन्होंने मेरे अकाउंट में रूपये भी डाल दिए थे ताकि मैं आराम से आ सकूँ और रहने के लिए होटल का इंतजाम भी कर लूँ अच्छे से.
मैंने उनके कहे मुताबिक एक अच्छे होटल में मेरे नाम से एक कमरा बुक किया और कहा कि कोई मुझे डिस्टर्ब न करे, मैं यहाँ एक स्पेशल मीटिंग के लिए आया हूँ और मेरी कम्पनी की एक सहकर्मी आयेंगी मीटिंग करने मुझसे.

यह कहानी भी पड़े  बेगानी शादी में साली की चुदाई

कुछ देर बाद निशा ने मेरे बताये हुए होटल में मेरे कमरे पर नॉक किया, मेरे दिल की धड़कनें बहुत तेज हो गई, ऐसा पहली बार होने जा रहा था कि मैं किसी लड़की से इस साईट के जरिये ऐसे मिलने वाला था.
मैंने जैसे ही दरवाजा खोला तो कुछ पल के लिए जैसे मेरी आँखें ठहर सी गई, सामने चांदी से चमकते बदन पर ब्लैक साड़ी में एक अल्हड़ जवानी को देख मैं मन्त्र मुग्ध सा हो गया.
कुछ पल बाद एक मधुर ध्वनि ने ये कहते हुए मुझे स्वप्न से जगाया- सर अब अन्दर चलें?

दोस्तो, जितनी हसीं वो खुद थी उससे भी मोहक उनकी मधुर वाणी.
पहले ही दीदार में जैसे दीवाने से हो गये हम.
अन्दर आकर उन्हें बेड पर बैठाया और उनके सामने बैठकर कुछ पल उन्हें ऐसे ही निहारता रहा.

फिर वो बोली- जनाब कब तक ऐसे ही दीदार करते रहेंगे आप?
तो मैंने कहा- कि अगर मेरे बस में हो तो कयामत तक.
वो बोली- जनाब बड़े आशिक मिजाज भी लगते हैं आप तो?
तो मैंने कहा- इसलिए तो नाम के साथ आशिक भी लिखते हैं मैडम.

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!