एक मा के अलग-अलग मर्दों को मज़े देने की कहानी

अगले दिन मम्मी झाड़ू लगते हुए मेरे रूम में आई. मेरी एक-दूं से नींद खुल गयी, और मैने देखा मम्मी की गांद बहुत मस्त दिख रही थी. फिर मेरा मम्मी को छोड़ने का मूड बन गया, और मैने मम्मी को पीछे से पकड़ लिया.

मम्मी: क्या कर रहा है? तेरे पापा आ गये है. वो सो रहे है.

मैं: मुझे आपको अभी छोड़ना है.

फिर मैने मम्मी को अपने बेड की तरफ धक्का दे दिया, और मम्मी की सारी ऊँची करी. मैने मम्मी की एक टाँग बेड पे रख दी, और मम्मी की ब्लॅक पनटी के उपर से उनकी गांद चाटनी चालू कर दी.

अब मम्मी की ब्लॅक पनटी पूरी गीली हो गयी थी. फिर मैने मम्मी की पनटी नीचे करी, और पहली बार मम्मी की छूट मेरे सामने थी. मैने देखा मम्मी के ज़्यादा नही थोड़े से झाँत के बाल थे. लगता है उन्होने बाल खुद से शेव करके सेक्सी लुक दिया था, और मम्मी के छूट पूरी गुलाबी थी, जैसे अमेरिकन छूट हो.

वो बुद्धा इतनी मस्त छूट को छोड़ रहा था. फिर मैं मम्मी की छूट मैं अपना लंड डाल के छोड़ने लगा, लेकिन मैं 1 मिनिट में ही झाड़ गया. इस्पे मम्मी बोली-

मम्मी: बस इतना जल्दी झाड़ गये?

मैं: शायद मैने पहली बार चुदाई करी है, इस कारण.

मम्मी खुश नही थी क्यूंकी वो गरम हो गयी थी, और सही से चूड़ी भी नही थी. फिर वो चली गयी और खाना बनाने लगी. फिर हम सब ने ब्रेकफास्ट किया, और पापा काम पे चले गये. मैं भी बाहर चला गया. अब मम्मी घर पे अकेली थी, और बहुत उदास थी. फिर वो नहाने चली गयी.

तभी च्चत पे से मेरा पड़ोसी पापु घर में आ गया. मम्मी अंदर नहा रही थी. लेकिन घर मैं कोई ना होने के कारण उन्होने दरवाज़े की कुण्डी नही लगाई थी. पापु सीधा बातरूम में घुस गया, और मम्मी वाहा पूरी नंगी खड़ी थी.

मम्मी: पापु तू यहा?

पापु: हा मेरी रंडी. तेरे बेटे को सब पता चल गया है, और वो अब से तुझे छोड़ने के लिए मुझसे 5000 रुपय माँग रहा है.

मम्मी: हा पता है, और सुबा उसने मेरी चुदाई भी सही से नही की.

पापु: मैं हू ना मेरी रानी.

फिर पापु ने अपने सारे कपड़े उतार दिए, और सीधा मम्मी की छूट चाटने लगा. वो मम्मी की एक टाँग नाल के उपर रख के छूट चाट रहा त. अब वो मम्मी की छूट में उंगली डाल-डाल के छूट के लिप्स चूस रहा था.

छूट चाटने में वो इतना माहिर था, की मम्मी जल्दी झाड़ जाती है, और मम्मी का पानी पूरा वो पी जाता है. फिर वो बोलता है-

पापु: भाभी जी, आपकी छूट के जैसा पानी कही नही मिल सकता. मज़ा आ जाता है आपकी छूट का पानी पी कर.

मम्मी: लगता है तू मेरी छूट का दीवाना हू गया है. चल मैं तुझसे च्छूप-च्छूप के चुड लिया करूँगी.

पापु: अर्रे वाह भाभी जी, आपने तो मेरी लाइफ बना दी.

ये बोल कर उसने मम्मी को किस करना चालू कर दिया, और मम्मी भी बड़े मज़े लेकर उसके गंदे से होंठो को चूस रही थी. वो उसकी जीभ को ब्लोवजोब दे रही थी. फिर पापु मम्मी की गर्दन पे किस करता-करता मम्मी के निपल्स चाटना चालू हो गया.

वो मम्मी का एक निपल चाट रहा था, और दूसरा हाथ में लेकर दबा रहा था. मम्मी भी उसके लंड को अपने हाथ में लेकर हिला रही थी. फिर मम्मी पापु के नीचे आ कर उसको ब्लोवजोब देने लगी.

पापु भी मम्मी के बाल पकड़ कर उनका सर आयेज-पीछे करने लगा. जब वो झड़ने वाला था, तो वो रुक गया.

मम्मी: क्या हुआ?

पापु: अब मुझे छोड़ना है.

फिर मम्मी उल्टी खड़ी होके झुक गयी. पापु ने अपने लोड पे थूक लगा के मम्मी की छूट में लोड्‍ा घुसा दिया, और चुदाई चालू कर दी

मम्मी: आ एम्म हा यही चाहिए था ह्म ऊऊ एसस्स.

पापु मम्मी के हाथ पीछे करके उन्हे छोड़ रहा था. फिर उसने मम्मी को पलटा दिया, और दीवार से चिपका के सामने से छूट में लोड्‍ा डाल दिया. वो किस करते हुए मम्मी को छोड़ने लगा. मम्मी उसका लोड्‍ा लेके मानो पागल सी हो गयी. फिर वो दोनो 1 घंटे की चुदाई के बाद झाड़ गये, और मम्मी ने पापु से बोला-

मम्मी: हमे बहुत देर हो गयी है. अब तुम्हे जाना चाहिए.

फिर पापु मम्मी को किस करता हुआ कपड़े पहन के चला गया. अब मैं घर आ गया था. मैने देखा मम्मी बर्तन धो रही थी. तभी पापा का फोन आता है, और वो हमे गाओं मैं एक शादी थी, वाहा जाने को बोल देते है, और टिकेट बुक कर देते है.

मैं: मम्मी आचे से सेक्सी वाली सारी पहनना, जिसमे आपका गोरा बदन दिखे. और ब्रा-पनटी रेड कलर में पहनना.

मम्मी: अछा ठीक है.

फिर मम्मी बॅकलेस ब्लाउस और येल्लो कलर के ट्रांसपेरांत सारी पहन लेती है, जिसमे से मम्मी का पेट और गोरी-गोरी नाभि दिखती है.

फिर हम शाम वाली ट्रेन में जेया कर बैठ गये. मैने मम्मी को भी जेंट्स वाले कोच में बिता लिया, ताकि मैं मम्मी को किसी भी आदमी से पैसे लेके छुड़वा साकु. हम जिस सीट पे बैठे थे, वाहा पर 2 आदमी थे. तो मैने कहा-

मैं: मैं विंडो सीट पर बैठ जाता हू, आप अंकल्स के बीच में बैठ जाओ.

ये बात सुन कर वो अंकल तुरंत तैयार हो गये. अब मम्मी दो आदमियों के बीच मैं बैठी थी. उनमे से एक मोटा सा था लगभग 50 साल का होगा, और एक काला सा था जो 45 के करीब होगा. फिर थोड़ी देर बाद रात हो गयी.

मैने सोने का नाटक किया, और देखा दोनो आदमियों ने मम्मी की एक-एक जाँघ पे हाथ रखा था, और वो बातें कर रहे थी. एक अंकल जो मोटा था, उसका नाम संजय था, और जो काला सा था, उसका नाम था मनोज.

संजय: कहा जेया रही हो बेटा?

मम्मी: गाओं में एक शादी है, वाहा पे.

मनोज: तुम बहुत सुंदर हो बेटा.

मम्मी: थॅंक योउ अंकल जी.

संजय अंकल ने फिर अपना हाथ मम्मी के बूब्स से टच करना चालू कर दिया, और मनोज अंकल ने मम्मी की कमर पकड़ ली. फिर थोड़ी देर बाद मनोज अंकल बोले-

मनोज: बेटा मैं तेरी गोद में सर रख के सो जौ?

मम्मी ने हा बोल दिया, और मनोज अंकल मम्मी की गोद में सर रख के सो गये.

तब तक संजय अंकल ने मम्मी के बूब्स पे हाथ रख दिया था. फिर संजय अंकल भी बोले-

संजय: बेटा मैं भी तेरे कंधे पे सर रख के सो जौ?

मम्मी ने उन्हे भी हा बोल दी. अब मनोज अंकल ने मम्मी का पल्लू साइड करके मम्मी की नाभि चूसना चालू कर दिया, और नाभि में अपनी जीभ डाल-डाल के चाटने लगे. और संजय अंकल मम्मी के गले पे किस करने लगे. लेकिन तभी मैं नींद से उठने का नाटक करने लगा, और वो दोनो रुक गये.

फिर मम्मी थोड़ी देर बाद बातरूम में चली गयी, और उनके पीछे संजय अंकल भी चले गये. मैने तोड़ा सा झाँक के देखा तो संजय अंकल मम्मी को बातरूम में धक्का देके खुद भी बातरूम में चले गये, और दरवाज़ा लगा लिया.

अंदर मम्मी अंजान बन के बोली: क्या कर रहे हो अंकल जी?

संजय: साली इतनी सेक्सी सारी पहन के आई है. कब से तुझे देख के छोड़ने का मॅन कर रहा है तुझे.

ये बोल कर वो मम्मी के लिप्स चूसने लगा, और मम्मी भी अंकल की जीभ से जीभ मिला के चूसने लगी. अंकल मम्मी को कस्स के पकड़ के किस कर रहा था, और अपना हाथ मम्मी की मुलायम गांद पे रख के दबा रहा था.

फिर उसने मम्मी के बॅकलेस ब्लाउस के रीबों खोल दिए. उसके बाद उन्होने मम्मी के ब्लाउस को पेट पे सरका दिया, और फिर मम्मी की सेक्सी रेड ब्रा पे किस करते हुए वो भी पेट पे सरका दी. अब मम्मी के बूब्स अंकल के सामने थे.

अंकल ने मम्मी के बूब्स पे किस करना चालू कर दिया, और फिर अपने मूह में मम्मी के बूब्स के निपल्स लेके चाटना चालू कर दिया. मम्मी भी अंकल का सर पकड़ के दबाने लगी.

अंकल मम्मी के बूब्स भी चाट रहे थे, और मम्मी की छूट पे हाथ भी फेर रहे थे. उन्होने मम्मी के बूब्स चाट-चाट के पुर गीले कर दिए थे. अब अंकल नीचे बैठ गये, और मम्मी की सारी उपर करके मम्मी के हाथ में पकड़ा दी. फिर अंकल ने मम्मी की रेड पनटी देख के बोला-

संजय: जानेमन लगता है रेड कलर से बहुत प्यार है तुझे.

फिर उन्होने मम्मी की रेड पनटी पे किस करके रेड पनटी उतार दी. अब वो मम्मी की पनटी मूह में लेके चूसने लगे, और पूरी गीली कर दी. फिर पनटी मूह से निकाल के अपनी जेब में डाल ली.

जैसे ही अंकल ने मम्मी की छूट को देखा, वो पागल से हो गये. मैने पहले भी बताया था, की मेरी मम्मी की छूट पर थोड़े से झाँत के बाल और पूरी गोरी छूट है. और उनकी छूट के लिप्स पुर गुलाबी है. उनकी छूट इंडियन नही अमेरिकन जैसी दिखती है पूरी गोरी.

अंकल जैसे ही मम्मी की छूट को चाटने वाले थे, वाहा पे टीटी आ गया, और बोला-

टीटी: कों है अंदर?

फिर अंकल बोला: मैं और मेरी बीवी है.

और फिर उन्होने मम्मी की गोरी छूट को बिना छाते उनकी पनटी उनको दे दी. मम्मी ने भी पनटी पहनी, और ब्रा और ब्लाउस उपर चढ़ा के बाहर आ गयी, और अपनी सीट पे बैठ गयी.

मनोज: कहा गये थे तुम दोनो?

संजय: कही नही यार, बस दरवाज़े पे खड़े रह के बात कर रहे थे.

फिर हमारा स्टेशन आ गया और हम उतार गये. संजय अंकल का मूड खराब हो गया. मम्मी की गोरी छूट पे वो अपनी ज़ुबान भी फेर नही पाए, और मम्मी को छोड़ भी नही पाए.

फिर हम शादी वाले घर में पहुच गये. अब आयेज देखते है, की मम्मी शादी में किसी से चुड पाएँगी, या फिर गरम होके घर जाएँगी.

यह कहानी भी पड़े  कॉलेज गर्ल और उसको दोस्त को चोदा


error: Content is protected !!