एक दिन हम जुदा हो जायेंगे

“यह एक काल्पनिक कहानी है, इस कहानी के सभी पात्र काल्पनिक हैं और किसी भी जीवित या मृत व्यक्ति से इस कहानी का कोई लेना देना नहीं है, जगह का नाम, या कोई पदवी अत: सब काल्पनिक हैं | किसी के साथ यह दुर्घटना असली जिन्दगी में हुई है तो हमें खेद है ”

मेरे प्यारे दोस्तो, मैं आपकी ” उमा शर्मा “आपकी सेवा में अपनी नयी सेक्स कहानी पेश कर रही हूँ. इस कहानी में हो सकता है कि कई जगह ग़लतियां हों, जो हिन्दी में लिखते हुए ना चाहते हुए भी हो जाती हैं. इसलिए पहले ही निवेदन है कि गलतियों को नजरअंदाज करते हुए कहानी का आनन्द लीजिएगा और इस कहानी को लेकर अपने विचार ज़रूर मेल कीजिएगा. यह कहानी मेरे द्वारा ही लिखी गई है.

अगर किसी पाठक को ये कहानी पसंद ना आए तो प्लीज़ वो इसे बीच में ही पढ़ना छोड़ दें, क्योंकि अगर अच्छी नहीं है तो फिर इसको आगे पढ़ने में अपना समय किस लिए बेकार में लगाना.
मैं उन पाठकों के सुझावों का दिल से स्वागत करूँगी, जो मुझे अपनी कहानी के लिखने में सुधार का कोई भी सुझाव दें. उन पाठकों से जो मुझे कोई कॉलगर्ल, रंडी या दलाल समझते है, वो कृपया मुझे कोई मेल भेजने का कष्ट ना करें क्योंकि मैं उन सभी मेल्स को बिना पूरा पढ़े डिलीट कर देती हूँ और आगे भी यही करूँगी.
यह कहानी बिल्कुल सच्ची है और जिसके साथ घटित हुआ है, उसे मैं जानती हूँ… और क्योंकि उसकी पहचान को पूरी तरह से छुपाना था, इसलिए पूनम को इस कहानी की नायिका बनाना ही उचित समझा .एक लड़की के साथ किस तरह से लोग उसकी दुर्दशा करते हैं… इस बात को समझा जाए, यहाँ तक कि उसके अपने सगे भी उसे मुसीबत के समय डूबने के लिए छोड़ जाते हैं.
दोस्तो, लड़की को यहाँ इस दुनिया में लगभग सभी देशों में एक वस्तु माना जाता है. जिसका काम अपनी चूत से लंडों की सेवा करना है. यही सोच रख कर आम तौर पर लोग अपना जीवन गुजारते हैं. मुझे याद है, जब मैंने हाईस्कूल पास किया था, तो सभी लोग बहुत खुश हुए थे. क्योंकि मेरे अच्छे नंबर आए थे, इसलिए बिना किसी मुसीबत के मुझे कॉलेज में दाखिला भी मिल गया. चूंकि हमारे गाँव में कोई कॉलेज नहीं था, इसलिए मुझे सिटी में जाकर पढ़ना पड़ा. शहर हमारे गाँव से काफ़ी दूर था और रोज़ आना जाना बहुत मुश्किल था. मेरे एक चाचा वहीं सिटी में रहते थे, इसलिए मैं उनके घर पर जाकर रहने लग गई. उनके पड़ोस में एक परिवार हमारी ही बिरादरी का रहता था, जिनका एक लड़का भी था. वो आते जाते मुझ पर कुछ ना कुछ उल्टा सीधा बोलता था.
एक दिन मैंने उसको एक कस के थप्पड़ दे मारा… क्योंकि उस दिन उसने कुछ ज़्यादा ही बोल दिया था. वो जाते हुए बोला कि इस थप्पड़ की मुझे बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी.
मैंने यह बात अपने घर में किसी से भी नहीं कही. कुछ दिनों बाद उस लड़के ने मुझसे अपनी शादी के लिए अपने माँ बाप को मना लिया. क्योंकि वो हमारी ही बिरादरी का था, इसलिए किसी को भी कोई ऐतराज़ नहीं हुआ. मैं इस शादी से खुश नहीं थी. मगर मुझसे कुछ भी ना पूछा गया, क्योंकि मैं उन सबकी नज़रों में एक वस्तु जैसी थी, जो उन पर भार बनी हुई थी. इसलिए उनका सोच था कि इससे छुटकारा पाना ही अच्छा है. फिर उनको मेरे लिए कोई लड़का ढूँढना की मेहनत भी नहीं करनी पड़ी और इस तरह से मेरी शादी हो गई.
शादी के बाद हर लड़की कुछ सपने संजोए होती है कि उसके साथ उसका पति किस तरह से उससे अपने प्यार का इज़हार करेगा. उससे किस तरह से अपने संबंध बनाएगा.
खैर… आधी रात को वो मेरे कमरे में आया और बोला कि आज बदले का दिन आ गया है… तुम तैयार हो जाओ, जो थप्पड़ मारा था… उसका बदला आज चुकाना होगा.
मैंने कहा- अब मैं आपकी पत्नी हूँ ना कि कोई अंजान लड़की. मेरी इज़्ज़त का ख़याल रखना, अब आप का काम है.
उसने कहा- उसी काम की ही तो तैयारी करने लगा हूँ.
उसने मुझे नंगी करके पहले तो मेरे मम्मों पर थप्पड़ मार मार कर दबाना शुरू किया. जब मेरे मम्मे थप्पड़ों की मार से से लाल हो गए तो वो ज़ोर जोर से दबा दबा कर चूसने लगा और दांतों से काटने भी लगा. मैं चिल्ला रही थी. घर के बाहर भी आवाज जा रही थी और घर वाले समझ रहे थे कि लड़की को लड़का चोद रहा होगा और लड़की की चूत में मुश्किल से लंड जा रहा होगा, इसलिए चिल्ला रही है.
उसके बाद उसने अपना मूसल लंड मेरी चूत में डाल कर मुझे बुरी तरह से चोदा. सुबह जब मैं कमरे से बाहर निकली तो मेरी छाती बुरी तरह से दर्द से भरी थी. उसके घर में रिश्ते की आई हुई जवान लड़कियां और बहुएं कहने लगीं- लल्ली, यह सब तो होता ही है. लल्ला ने तेरे मम्मों को तो दबाना ही था और अपना लंड भी तेरी चूत में डालना था. इसलिए यह सब तो अब रोज़ रोज़ होगा.
मैं किसी से कुछ भी ना कह पाई क्योंकि मैं सच बोलने लायक नहीं थी.
अगले दिन घर पर यह बोल कर वो मुझे ले गया कि हम लोग हनीमून मनाने जा रहे हैं और कुछ दिनों बाद आएंगे.
शाम को मुझे ले जाकर वो एक होटल में ले आया. जब खाना खा लिया तो मुझे कमरे में लेकर आ गया. वहाँ उसके तीन दोस्त पहले से ही बैठे थे. मैं उन्हें देख कर पहले तो घबरा गई मगर फिर सोचा जब पति साथ है, तो फिर किस बात का डर.
रूम में उन्होंने शराब पीनी शुरू कर दी. जब उन्होंने दो दो तीन तीन पैग पी लिए तो एक दोस्त बोला- यार भाबी को क्यों भूल गए… उसभी तो यह अमृत पिलाओ.
फिर क्या था, मेरा पति ने पूरी बोतल ले कर मेरे मुँह में लगा कर बोला- लो पियो इसे.
मैंने कहा- नहीं… मैं नहीं पी सकती.
इसके बाद जो कुछ हुआ, मैं यहाँ नहीं लिख सकती क्योंकि वो नियम विरूद्ध होगा.
अगले दिन सुबह ही वो मुझे घर पर वापिस ले आया और बोला- संभालो अपनी इस लाड़ली बहू को, मुझे नहीं रहना इस रंडी के साथ. अगर आपको यकीन ना हो तो यह सीडी देख लो, जो इसने रात को किया है. मैं इससे बोल कर गया था कि 2-3 घंटों में वापिस आता हूँ… मगर इसने अपने यार बुला रखे थे वहाँ पर. उन्होंने ही मुझसे धमकी देकर कहा था कि अगर जान सलामत चाहते हो तो सुबह आकर बीवी को ले जाना. सुबह उन्होंने मुझे यह सीडी देकर कहा कि अगर इसे रखना हो तो रख लो, वरना हम इसे संभाल लेंगे. मैं तो इसके साथ रह नहीं सकता, आप जो चाहो करो.
मेरी सास सबसे ज़्यादा उछल उछल कर मेरे लिए जो ना कहना था, वो भी कह रही थी.
इसके बाद मेरे सारे कपड़े और जेवर मेरे साथ रख कर मुझे वापिस माँ बाप के घर भेज दिया और साथ में कहा कि देख लो अपनी बेटी की करतूत.
मैंने सब को सच सच बताया मगर किसी ने भी मेरी बात नहीं सुनी. मुझे घर से बाहर कर दिया. मैंने तब कहा कि ठीक है, मैं इस रात को कहीं नहीं जा सकती मगर कल सुबह ज़रूर चली जाऊंगी.
मैंने रात को अपने पति को फोन किया कि जो तुम ने करना था, सो कर लिया. अब मैं तुम्हें नहीं छोड़ूँगी. मुझे तुमने एक रंडी बना दिया है, अब देखना मैं तुम्हारे घर की सभी औरतों को कैसे रंडी बनाती हूँ.
इस पर उसका जवाब था कि तुम अपने को संभालो… मेरी छोड़ो.
मैंने यह कहते हुए फोन बंद कर दिया कि ठीक है… मगर याद रखना जो मैंने कहा है.
अब मुझे सोचना था कि आगे क्या करूँगी. फिलहाल मुझे कोई रास्ता नहीं नज़र आ रहा था. मैं रात को सोचती रही कि अब क्या करूँ.
फिर मैंने अपने साथ कॉलेज में पढ़ने वाली एक लड़की को फोन किया, जो बहुत बदनाम थी. उसके बारे में ये चर्चा सुनती थी कि यह रात रात भर अपने यारों के साथ होटलों में जाती है.
फोन पर उसने मुझसे कहा- मैं तुम को पहचान नहीं पाई. खैर तुम कल मेरे ऑफिस में आ जाना, वहीं पर बात करते हैं.
उसका नाम तबस्सुम था.
मैं ऑफिस के टाइम से पहले वहाँ पहुँच कर उसका इंतज़ार करने लगी.
मुझे देखते ही वो बोली- तुम पूनम ही हो ना?
मैंने कहा- हाँ अच्छा हुआ जल्दी ही पहचान लिया. कल फोन पर तो तुम पहचान ही नहीं पाई.
वो बोली- आओ बैठ कर बातें करते हैं. वो मुझे अपने केबिन में ले गई और बोली- बैठो… मैं अभी आती हूँ.
वो दस मिनट बाद आई, उस समय उसकी लिपस्टिक होंठों से ऐसे हो चुकी थी कि किसी ने उसको बुरी तरह से चूमा चाटा है. वो शीशा के सामने जा कर उसको ठीक करने के बाद मुझ से बोली- हां अब बताओ… साथ ही बोली- यार प्राइवेट ऑफिस है ना… यहाँ बॉस को खुश रखना पड़ता है.
मैंने उससे अपनी प्रॉब्लम बता कर कहा- मुझे तुमसे दो तरह की सहायता चाहिए. एक तो मुझे कोई रूम किराए पर ढूँढने के लिए सहायता और दूसरी नौकरी ढूँढने की.
वो बोली- पहेली तो समझो हो गई… तुम मेरे घर पर रहो क्योंकि मैं अकेली ही रहती हूँ… और दूसरी के बारे में रात तो घर पर बात करते हैं.
इसके बाद उसने किसी को बुलाया और बोला कि मेमसाहब को मेरे घर पर छोड़ कर आओ और साथ ही घर की चाबियां उसे दे दीं.
घर जाकर मुझे नींद आ गई क्योंकि चिंता के मारे मुझे पूरी रात नींद ही नहीं आई थी. कोई एक बजे मेरी नींद उखड़ी, तब उसका फोन बज रहा था. मैंने जब उठाया तो वो बोल रही थी- क्या हुआ… मैं बहुत देर से तुमसे बात करना चाह रही थी, तुम फोन को उठा ही नहीं रही हो… क्या हुआ?
मैंने उसे सब बताया.
उसने कहा- चिंता ना करो और देखो मैं रात को दस बजे के बाद ही घर वापिस आऊंगी, तब तक तुमको भूख लगे तो फ़्रिज़ से कुछ निकाल कर खा लेना, खाने के लिए मेरा इंतज़ार ना करना क्योंकि मैं खा कर ही आऊंगी. और हाँ देखो… अगर बोर होने लगो तो मेरे पीसी के टेबल की लेफ्ट ड्रॉवर से फिल्म निकाल कर देख लेना.
मैंने वही किया मगर फिल्म में कोई मज़ा नहीं आया.
फिर मैंने दाएँ तरफ वाली ड्रॉज खोली तो उसमें भी बहुत सी सीडी पड़ी थीं. मैंने उनमें से एक निकाल कर लगा दी. जैसे ही वो शुरू हुई तो कंप्यूटर पर लंड और चूत के खेल शुरू हो गए. मैं मज़े से देखने लग गई. फिर क्या एक के बाद एक देखने लगी, वहाँ सभी चुदाई की पिक्चर्स थीं.
रात तो दस बजे तक मैं यही देखती रही और खाना भी भूल गई. तब मुझे याद आया कि वो वापिस आने वाली होगी. क्योंकि उसने मुझे इन पिक्चर्स के बारे में नहीं बताया था, तो मुझे यही दिखलाना था कि मुझे कुछ नहीं पता.
वो साढ़े दस बजे आई. उसके मुँह से शराब की गंध आ रही थी, मगर वो पूरे ही होश में थी. उसे देख कर कोई कह नहीं सकता कि वो शराब पी कर आई है. खैर उसने आते ही पूछा कि खाना खा लिया?
मैंने कहा- नहीं मैं तुम्हारा इंतज़ार कर रही थी.
उसने कहा कि उसने तो बता दिया था कि वो खा कर आएगी.
खैर उसने डबलरोटी और अंडे निकाल कर ऑमलेट बना कर मुझे दिया और बोली- अभी तो यह खाओ… सुबह कुछ और व्यवस्था करती हूँ.
फिर वो चेंज करके आई तो मैंने उसे देखा कि वो एक नाइटी में थी, जो ऑलमोस्ट ट्रांसपेरेंट थी और उसमें से उसका सब कुछ नज़र आ रहा था.
वो मुझसे बोली- यार तुम भी चेंज कर लो.
मेरे पास मोटे कपड़े थे, जब मैंने उनको डालना शुरू किया तो बोली- क्या यार, तुम भी कहाँ की दकियानूसी हो. मेरे जैसे कपड़े डाला करो और अब तुम पूरी मॉडर्न बन जाओ.
फिर उसने अपनी तरह की एक नाइटी मुझे दी और मैंने उसे डाल लिया, मगर डालते ही मुझे उसके सामने जाने में भी शरम आ रही थी.
उसने देखा और बोली- अब शरम नाम की चिड़िया को जहाँ से आई हो.. वहीं छोड़ दो. मेरे साथ मेरी तरह से रहा करो. जिन कपड़ों को मैंने डाला था, उसमें से मेरे मम्मों की घुंडियां और चूत के बाल भी नज़र आ रहे थे.
वो मुझे देख कर बोली- कल ये चुत की झांटें साफ कर लेना और हाँ कोई ब्लेड ना इस्तेमाल करना, इस काम के लिए गुसलखाने में क्रीम रखी हुई है, उसी को इस्तेमाल करना. उसे लगा कर दस मिनट रखना और फिर सब साफ हो जायेंगे. यह बाल चूत पर घूँघट बन कर उन्हें अपनी शकल देखने से रोकते हैं.
मैं चुप रही.
फिर वो बोली- देखो यार, नौकरी तो मिल जाएगी मगर तुम्हें अपना जलवा भी दिखाना पड़ेगा.
मैंने कहा- मैं मतलब नहीं समझी?
उसने कहा- तुमने देखा नहीं था सुबह मेरे होंठों का क्या हुआ था. वो सब मेरे बॉस ने किया था मगर क्योंकि नौकरी करनी है तो सब कुछ सहना पड़ता है. एक बात समझ लो, जो काम हमें दिया जाता है, उसके लिए तो वो लोग किसी से पांच हजार देकर भी करवा सकते हैं. जबकि इसी काम के लिए हमें 25000 से 30000 तक देते हैं, तो इनको वसूलेंगे भी ना.. और यह सब वसूला जाता है हमारे मम्मों से और चूत से.
उसने फिर मुझे समझाया कि देख यह दो मम्मे हमारे खजाने की चाबियाँ हैं और खजाना चूत है. चाबियों से दबा दबा कर खजाने का रास्ता निकलता है और जितनी जल्दी यह समझ जाओगी, तेरे लिए उतना ही अच्छा रहेगा.. और एक बात याद रखो कि लड़की सिर्फ़ एक चूत होती है, उसका काम हैं लंड को अपनी चूत में ले कर स्वागत करना. तुम खुद ही देख लो, तुम्हारे साथ लंडों ने क्या किया. सिवाए अपने अपने लंड को तुम्हारी चूत में डाल कर रगड़ा और चलते बने.
मैं उसकी बातों का मर्म समझ रही थी.
उसके बाद वो बोली- अभी पूनम तुमने चूत की असली जिंदगी नहीं देखी. उसके साथ क्या क्या किया जाता है. मैं तुम्हें बताती हूँ. यह लड़के 5-6 लड़कियाँ ले कर आते हैं और किसी ग्राहक, जो उन्हें चोदना चाहते हैं, उसके पास ले जाते हैं. फिर उन लड़कियो को नंगी करके उनकी नुमायश कराई जाती है. वो ग्राहक लड़कियों के मम्मों को बुरी तरह से दबा दबा कर देखता है कि यह कितने ढीले हुए हैं.. या अभी सख्त हैं. फिर उनकी नोकों को खींच खींच कर मींजता है. इस पर भी जब उसका दिल नहीं भरता, तब चूत को अपने हाथों से पूरी तरह से खोल कर देखता है. तब जा कर किसी को पसंद करके चोदने के लिए लेकर जाता है. मैं यह सब खुद देख सुन और भुगत चुकी हूँ.
मैं बस उसकी तरफ मूक दर्शक सी सुनती रही.
वो बोले जा रही थी- मगर जब यह चूत अपनी पर आ जाती है तो बड़े बड़े लंडों को पानी पिला देती है. परंतु इसके लिए बहुत कुछ करना पड़ता है.
उसने मुझे यह सब समझा कर कहा- अब तुम मेरे साथ रहती हो.. न कि अपने उन लोगों के साथ, जिन्होंने बिना सोचे तुम्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया. अब तुम कुछ ऐसा काम करो कि उन सबको पानी पिला दो.
मैंने पूछा- क्या यह हो सकता है?
वो बोली- क्यों नहीं हो सकता, अगर कोई चूत अपनी पर आ जाए तो क्या नहीं कर सकती.
मैंने उससे कहा- मैं वो सब कुछ करूँगी, जिससे मेरे पति की बहन और माँ को चुदवा कर उनकी फिल्म बना लूँ.
वो बोली- उसके लिए बहुत कुछ करना पड़ेगा.. मगर हो जाएगा. उनसे बदला लेने के लिए मैं तुम्हारा साथ दूँगी.
मैं खुश हो गई थी.
उसने कहा- ठीक है, मैं तुम्हें कल शाम को अपने साथ ले कर चलूंगी और तुम को कुछ ऐसे लोगों से मिलवा दूँगी, जो यह सब कर पाएंगे.
अगले दिन उसने मुझे शाम के 4 बजे कहा कि ठीक 5.30 पर होटल मेट्रो के बाहर मिलना.. और हां ज़रा सेक्सी ड्रेस डाल कर आना. अगर ऐसी ड्रेस ना हो, तो मेरे अलमारी से निकाल कर डाल लेना.
शाम को मैं पूरी तरह से बन ठन कर ठीक समय पर होटल मेट्रो के बाहर खड़ी थी. तबस्सुम किसी के साथ आई और उसने मुझे इशारा किया कि मेरे पीछे आ जाओ.
मैं उसके पीछे पीछे चल पड़ी और जब वो दोनों होटल के किसी कमरे में जाने लगे तो मुझसे बोले कि तुम भी आ जाओ.
वहाँ पहले से ही 4-5 लड़के बैठे थे और हरेक किसी ना किसी लड़की के साथ था. बस मैं ही थी, जो किसी लड़के के साथ नहीं थी.
अब मैं वहाँ ताश के पत्तों का पपलू थी. सब लड़के मुझे देख कर अपने अपने लंड मसलने लग गए.
तबस्सुम ने उनको देख कर कहा- नहीं, यह आज हमारी मेहमान है और सिर्फ़ हम सबको देखेगी और फिर यह किसी खास आदमी की अमानत है. जब तक वो इसका भोग ना लगा ले, तब तक इसे कोई छू भी नहीं सकता.
उसके बाद सब लड़कों और लड़कियों ने अपने अपने कपड़े निकाल कर ऐसे फैंक दिए, जैसे वो सब फालतू हों.
अब कमरे में चुदाई का पूरा नंगा नाच होने लग गया. कभी कोई किसी को चूमता और मम्मे दबाता, कभी कोई किसी की चूत में उंगली करता. जो चाहे जिसकी चुत में चाहे जो करे, कोई किसी को कुछ नहीं बोल रहा था. सब पूरे मज़े ले रहे थे.
मेरे लिए यह सब एक नई दुनिया थी. रात को दस बजे वो सब एक दूसरे की चूत और लंड से खेल कर बाहर जाने लगे. मगर तबस्सुम वहीं पर रुकी रही और उसने मुझको भी रोक कर रखा.
उसने मुझसे बोला- अभी तक तो तुमने हम लोगों की चुदाई देखी है. अब तुम भी तैयार हो जाओ. तुम्हारा लौड़ा भी आने वाला है. उससे मस्त हो कर चुदवाना. वो तुम्हारा काम पूरे अंज़ाम तक पहुँचाएगा. मतलब कि तुम्हारे पति की माँ और बहन की बजवाएगा. मगर अभी उससे कुछ ना कहना, बस उसे खुश करना. उसको खुश कैसे करना है, वो तुम देख चुकी हो.
यह कह कर वो मेरा जवाब सुनना चाहती थी.
मैंने कहा- अपने अंजाम तक पहुँचने के लिए अगर कोई मुझे बाज़ार में भी नंगी हो कर नचवाएगा, तो भी मैं तैयार हूँ.
इतने में एक आदमी जो 40-45 साल का था, कमरे में आया और मुझको देखने लगा.
तबस्सुम ने कहा- बॉस, इसी के बारे में मैंने कहा था. यह आज आपकी गोद में बैठ कर आपकी पूरी रात रंगीन करेगी.
उसने तबस्सुम के मम्मों को दबा कर कहा- ठीक है.. इसे सब कुछ पता है ना.
तबस्सुम ने कहा- जी हजूर.
“ओके फिर तुम जाओ.”
वो मुझे आँख मार कर बाहर चली गई. अब कमरे में मैं और वो ही थे. उसने कहा- अपने कपड़े उतारो.
मैंने झट से उतार दिए.
अब मेरी पूरी साफ चुत और गोल गोल मम्मे और उनके ऊपर लगी गुलाबी घुंडियां उसको चिढ़ा और ललचा रही थीं.
उसने कहा- मुझे भी नंगा करो.
मैं उसके एक एक करके कपड़े उतारने में लग गई. जो ब्लू फ़िल्म मैंने तबस्सुम के घर पर कल देखी थी, उनसे ज्ञान ले कर सब कुछ कर रही थी.
जैसे ही मैंने उसकी चड्डी उतारी, उसका लंड आसमान को छूने लगा.
मैंने लंड देखते ही उसके कहने से पहले ही उसका लंड अपने मुँह में ले लिया. वो मेरे मुँह को चूत की तरह से चोदने लगा.. और तब तक चोदता रहा, जब तक उसका पानी मेरे मुँह में नहीं निकल गया.
वो लंड चुसाई से बहुत खुश हुआ और बोला कि तुम तो बहुत कमाल की चीज़ निकली.. मैं नहीं समझता था कि तबस्सुम कोई ऐसा माल भी अपने साथ रखती है.
अब उसकी बारी थी मेरी चूत को चाटने की, तो इस काम में वो बहुत ही माहिर था. उसने चूत को बड़े प्यार से चाटा, पहले तो बाहर से.. फिर चुत को खोला और अपनी उंगली की, मगर ध्यान उसका मेरी चूत के मटर पर था. उसको मुँह में ले कर बाहर की तरह खींचने लगा.
जब उसने मेरी चुत को पूरा लाल कर दिया, तब उसने अपनी ज़ुबान मेरी चूत में हिलानी शुरू कर दी. उस समय मेरी चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया, जो उसने चाट कर पी लिया.
फिर वो मुझसे बोला- आज तुम मेरी चुदाई करो.
मैं समझ गई कि वो मुझे अपने लंड पर बैठाना चाहता है.
यह सब मैं कल ही तबस्सुम के घर पर किसी फिल्म में देख चुकी थी कि किस तरह से लंड पर बैठा जाता है.
बस मैंने पूरी उसकी कॉपी करनी शुरू कर दी. अब तो वो पूरे सातवें आसमान पर था और उसने झट से तबस्सुम को फोन किया कि वो आज उसका पूरा कर्ज़दार हो गया. क्योंकि उसने आज बहुत दिनों बाद कोई असली चूत दिलवाई है.
मुझे नहीं पता कि तबस्सुम ने उससे क्या कहा, मगर उसका उत्तर था- हां हां बिल्कुल जितना हो सकेगा, पक्का करूँगा.
फिर उसने मुझसे कहा- क्या तुम किसी से बदला लेना चाहती हो?
मैंने कहा- साहब आज चुदाई में इन बातों को करना ठीक नहीं… वरना मज़ा भी गायब हो जाएगा. मैं फ़ुरसत में आपको सब बताऊंगी.
यह सुन कर वो और भी खुश हो गया. वो बोला- तुम सच में चुदाई की क्वीन (रानी) हो या कहूँ कि बेगम हो.. मैं तुम्हारा गुलाम बन चुका हूँ.
इस तरह से पूरी रात उससे अपनी चूत को चुदवाती रही और उसे पूरा खुश करती रही.
अगले दिन जब मैं घर वापिस आई तो तबस्सुम ऑफिस जाने को तैयार थी. वो बोली- आराम करो और नाइट शिफ्ट की तैयारी करके रखना. वो आज भी तुम्हें अपनी गोद में लेकर सोएगा.
मैंने कहा- मुझे लग रहा था कि यही होगा.
वो- ओह ओह बहुत जल्दी समझदार बन गई हो. आज कम से कम आधा घंटा अपने मम्मों की मालिश करना और हाथों को नीचे से ऊपर ले जाना और कभी भूल कर बिना ऊपर से नीचे ना लाना. इससे मम्मे हमेशा खड़े रहेंगे और लटकेंगे नहीं. अगर लटक गए तो समझ लेना कि सत्यानाश हो गया.
मैंने कहा- ठीक है.
उसके जाने के बाद मैंने पूरा एक घंटा मम्मों की मालिश की और मम्मों की नसों को नीचे से ऊपर ले जाती थी ताकि वो उठे रहें.
फिर चुत पर भी ध्यान देना शुरू किया. मैं लेट कर साँस लेती थी और हर सांस के साथ चूत को अन्दर की तरह करती थी, जिससे कि वो सिकुड़ जाए.
यह सब करने के बाद मैं नहाने चली गई और साबुन से अच्छी तरह से चूत की सफाई की, जिससे जब यह चुदाई करने वाले के सामने आए तो वो भी दिल भर करके इसे देख कर प्यार करे.
शाम को तबस्सुम का फोन आया कि तुम आज सेक्टर 7 में चली जाना और मैं बस स्टॉप पर तुम्हें लेने के लिए गाड़ी नम्बर 7819 आएगी. वो तुम्हें अपनी मंज़िल तक ले जाएगी.
मैं निश्चित टाइम पर पहुँच गई और जैसे ही गाड़ी आई तो उसमें वो ही आदमी बैठा था, जिसने कल मेरी चुदाई की थी.
मैं गाड़ी में बैठ गई और बैठते ही उसने मेरा मुँह अपने लंड पर रखवा दिया, जो पहले से ही पैन्ट से बाहर निकला हुआ था और पूरी तरह से खड़ा हुआ था. मैंने उसके लंड को मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया और बड़ी मस्ती से चूसा, जिससे वो कुछ देर बाद ही झड़ गया. मैंने उसके लंड का सारा माल अपने गले के नीचे कर लिया.
अब वो मुझे अपनी गोदी में बिठा कर मेरे मम्मों को ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा. मैंने उससे कहा- ज़रा आराम से कीजिएगा, मैं कहीं भागी नहीं जा रही हूँ. अब आई हूँ तो पूरी तसल्ली करवा के ही जाऊंगी.
लेकिन वो कहाँ मानने वाला था, उसे तो मेरे मम्मे इस तरह से लग रहे थे जैसे किसी बच्चे को उसका मनपसंद खिलौना मिल गया हो और वो उसे छोड़ना ही ना चाह रहा हो.

यह कहानी भी पड़े  पति पत्नी और औलाद का सुख

कुछ देर बाद वो मुझे किसी गेस्ट हाउस में ले आया और बोला- अब मुझे तुम बताओ कि तुम्हें किस भैन के लौड़े[/url] से बदला लेना है?
मैंने अपने पति का नाम और पता बता कर कहा कि इसकी माँ और बहन को इसी से ही चुदवाना है.
वो बोला- यह तो काम बहुत मुश्किल है.. खैर देखता हूँ. अच्छा यह बताओ इस कि इसकी बहन क्या करती है?
मैंने कहा- नौकरी की तलाश कर रही है.
वो बोला- ठीक है.. मैं अब पूरी कोशिश करूँगा.
उसने किसी से फ़ोन करके पूछा- देखो जो नौकरी कुछ दिन पहले निकाली थी, उसमें कोई इस नाम की लड़की की एप्लिकेशन आई थी क्या?
कुछ देर बाद उसका फोन आया और बोला- जी हां सर, आई हुई है.
तब उसने कहा- तुम कल ही उसे इंटरव्यू के लिए बुला लो.
उसने कहा- जी सर.
उसके बाद उसने अपनी चुदाई का काम शुरू कर दिया और मुझे कुतिया बना कर चोदा. जैसे ही वो पीछे से मेरी चूत पर धक्का मारता था, तो मैं अपने चूतड़ से पीछे की तरफ को धक्का मारती थी.
इस तरह से चुदाई होने के बाद में वो बोला- अब तो पहले डिनर करेंगे, फिर बाद में दूसरा राउंड शुरू होगा.
डिनर में उसने चिकन और राइस का ऑर्डर दिया और उसके बाद आइसक्रीम का कहा. फिर खा पी कर हम लोग वापिस बेड पर आ गए.
बिस्तर पर आते ही उसने मुझे पहले तो पूरी नंगी किया और फिर पॉकेट से एक शहद की शीशी निकाल कर मेरी चूत के आस पास लगा दी और जो बाकी बची थी, उसको चूत के अन्दर डाल दिया. फिर वो मेरी चूत से शहद को चाटने लगा. इस तरह से उसने मेरी चूत को चाट चाट कर पूरा हिला दिया. चूत अभी पानी निकालने वाली ही थी कि उसने उसमें अपना लंड घुसेड़ दिया.
अब चूत का पानी चूत में.. और फ़च पच की आवाजों से पूरा कमरा गूंजने लगा. थोड़ी देर तक वो अपना लंड चूत में हिलाता रहा, फिर लंड को निकाल कर अपना मुँह मेरी चूत पर लगा कर उसका सारा रस पीने लगा.
जब वो मेरी चुत का रस पी चुका तो फिर से अपना लंड डाल कर मेरी चुदाई करने लगा. इस तरह से वो ना खुद सोया और ना मुझे सोने दिया. बस पूरी रात चूत और लंड को एक दूसरे के साथ भिड़ाता रहा.
अगर लंड पूरी तरह से ढीला होता था, तो मम्मों के ऊपर ध्यान देकर उनको मसलने लगता.
फिर सुबह 5 बजे अपने ड्राइवर से बोला- इनको इनके घर पर छोड़ कर जल्दी से आओ.. मुझे दो घंटे बाद प्लेन से जाना है.
इसका मतलब था कि आज रात की चुदाई नहीं होगी. जब मैं घर पहुँची तो तबस्सुम सो रही थी.
घंटी की आवाज़ सुन कर उसने दरवाजा खोला तो मुझे देख कर बोली- आज जल्दी छोड़ दिया.. क्या बात है?
मैंने उसको बताया कि उसको अभी प्लेन से कहीं जाना था इसलिए छोड़ दिया.
जब मैं अन्दर आई तो उसने कहा- तुम इसी कमरे में सो जाओ.
मैंने कहा- ठीक है.. अन्दर कोई खास बात?
उसने कहा- एक मेहमान है अन्दर. अगर उसने तुम्हें देख लिया तो तुम्हें भी चोद देगा.
अब मुझे पता लग गया था कि तबस्सुम लड़कों को घर पर भी बुला कर अपनी चूत को चुदवाती है. खैर मुझे इस से क्या.
सुबह सुबह वो लड़का उसको चोद चाद कर चला गया और तब तबस्सुम मेरे पास आ कर अपने बॉस के लिए बोली- वो तुम्हारी पूरी मदद करेगा, जिनसे तुमको बदला लेना है.. उनकी खबर लेने की जिम्मेदारी अब बॉस की है.
एक दिन उसके साथ दो लड़के रात को आए.. तो वो मुझसे बोली- यार एक को तुम इस कमरे में ठंडा करो.. मैं दूसरे को ठंडा करके आती हूँ.
मगर उससे उस लौंडे का लंड ठंडा क्या होना था, वो तो खुद ही बहुत कामुक हो रही थी, जैसी उसकी आवाजें आ रही थीं.. उससे साफ़ मालूम चल रहा था.
वो बोल रही थी- साले चोद दबा कर कर.. आज पूरी रात तेरे को नहीं छोड़ूँगी. जो बाहर बैठा है, वो उससे कर लेगा जो बाहर बैठी है. मैं तो तेरे लंड का आज पूरा पानी निकाल दूँगी ताकि पूरे हफ्ता तेरा चुन्नू ठंडा रहे.
उसकी आवाज सुन कर वो लड़का जो मेरे पास बैठा था.. बोला- क्यों क्या विचार है.. सुन लिया ना.. वो मेरे को आज तुम्हारे लिए ही ले कर आई है. तबस्सुम बोल रही थी कि वो बेचारी चुदाई देख देख कर गरम होती है, उसका भी कोई इलाज तो करना है ना. आख़िर वो मेरी दोस्त है, उसका अगर मैं ख्याल नहीं रखूँगी, तो कौन रखेगा.
मेरी चूत वास्तव में पूरी गरम हो गई थी और उसका लौड़ा छत को देख रहा था. मेरे कपड़े ट्रांसपेरेंट थे, उनमें से मेरा सब कुछ नज़र आ रहा था.
मैंने उसकी बात का कोई उत्तर नहीं दिया, जिसे उसने मेरी मौन स्वीकृति मान ली.
बस फिर वो मुझ पर टूट पड़ा. वो मेरे मम्मों को दबा दबा कर चूसने लगा. मैं भी उसके लंड को दबाने में लग गई. एक कमरे में तबस्सुम चुद रही थी और दूसरे कमरे में मैं लंड लेने को तैयार थी.
थोड़ी देर बाद तबस्सुम चुद कर मेरे कमरे में आई और बोली- अब हम अपना पार्ट्नर बदल लेंगे.. तुम मेरे साथ आओ मिस्टर.
जिस लंड से वो चुद रही थी, उसने उसको मेरे पास भेज दिया.
अब क्योंकि वो अपना पानी निकाल चुका था, इसलिए उसे गरम होने में कुछ टाइम लग रहा था. वो मेरे मम्मों को दबाने लगा और चूसने लगा. वो मेरे बूब ऐसे चूस रहा था, जैसे कि कोई आम चूसता है.
वो बोला- मेरे लंड मुँह में लो और इसे खड़ा करो.
मैंने उसे जैसे ही मुँह पर लगाया वो तो उछलने लग गया. एक मिनट में हो पूरा लोहे का लंड बन गया.
वो बोला- तबस्सुम को तो मेरे लंड से जल्दी छुटकारा मिल गया, मगर तुम्हें नहीं मिलेगा. अब यह जल्दी से नहीं अपना पानी निकालेगा.
इस तरह से बोल कर उसने एक ही झटके में अपना 7 इंच लंबा लौड़ा मेरी चुत में घुसेड़ दिया और बोला- अब लगा धक्का और दिखाओ दम अपनी चुत का.
मैं जितना हो सकता था, धक्का मारने में लग गई.
वो बोला- साली, तेरी चुत क्या इस तरह से धक्के मारना जानती है. सीख ज़रा तबस्सुम से.. धक्के कैसे मारे जाते हैं.
अब वो धक्के मारना शुरू हुआ तो उसने मेरी चुत की धज्जियां उड़ानी शुरू कर दीं.
मैं बोलती रही- आह.. ज़रा धीरे करो मारोगे क्या?
मगर वो सुन ही नहीं रहा था, जैसे कि बहरा हो. उसने कोई बीस मिनट तक धक्के मार मार के मेरी चुत पूरी लाल कर दी.. जो कि पहले ही पूरी तरह से चुदी हुई थी.
वो जब अपना पानी निकालने लगा तो मेरी टांगों को जितना अधिक फैला सकता था, फैला कर लंड पूरे का पूरा चुत में घुसा कर झड़ना चालू हो गया. अब मेरी चुत को पता लग रहा था कि उसके अन्दर एक झरना चलना शुरू हो गया है, जिसका उदगम लंड का सुपारा है.
पानी निकालने के बाद भी वो मुझ पर जब तक चढ़ रहा.. जब तक उसका लंड अपने आप ढीला हो कर बाहर नहीं निकला.
अब यह काम आम हो गया.
एक दिन बॉस ने जिसने मुझे कहा था कि मैं तुम्हारी सहायता करूँगा, उसी बदले के लिए तो उसने मुझे रात को बुलाया. रात को बुलाने का मतलब था कि उसके लंड की सेवा करना और मैं इसके लिए तैयार ही थी.
जब उसकी पूरी सेवा कर चुकी तो वो बोला- कल मेरे ऑफिस में आना और तुम्हें किसी लड़की का इंटरव्यू लेना है.
मैंने कहा- क्या बात कर रहे हैं सर आप?
वो बोला- जिससे तुमको बदला लेना है, उसी का इंटरव्यू है.
मैं तो ये सुन कर उछल पड़ी. पर मैंने जो कपड़े डालने शुरू किए थे, बॉस की बात सुनकर मैंने फिर से उतार कर उसके लंड को अपने मुँह में ले कर फिर से खड़ा कर दिया और उस पर चूत टिका कर चढ़ गई.
मैं बोली- सर यह मेरी तरफ से आज सुबह का आपको गिफ्ट है.
वो बोला- फिर तो ऐसे गिफ्ट तेरे को कई बार देने पड़ेंगे.
मैं लंड पर ठोकर लगाते हुए बोली- मैं कहाँ पीछे हटने वाली हूँ.
अगले दिन में पूरी सेक्सी ड्रेस डाल कर इंटरव्यू लेने के लिए पहुँच गई और जब मेरे पति की बहन को बुलाया गया. तो वो मुझे नहीं पहचान पाई. वो मेरी तरफ देख कर अपनी आँखें झुका कर बोली- जी मैडम.
मैंने कहा- बैठ जाओ और नज़रें नीचे नहीं, उँची करके बात करो. नौकरी चाहिए या यूँ ही आई हो.
वो बोली- नहीं मैडम, मुझे नौकरी की सख्त ज़रूरत है.
मैंने पूछा- कौन कौन है तुम्हारी फैमिली में?
वो बोली- मेरे पापा कुछ दिन पहले ही गुजर गए हैं.. और मेरे भाई की, जो वो नौकरी करता था, वो भी छूट गई है. मुझे नौकरी की बहुत ज़रूरत है.
मैंने कुछ हमदर्दी दिखलाते हुए पूछा- क्यों क्या हुआ था तुम्हारे पापा को?
वो बोली- उन्हें पता लगा था कि भाई ने किसी लड़की के साथ ग़लत किया था जिसका सदमा जब उन्हें पता लगा, तो वो उसे बर्दाश्त नहीं कर सके.
मैंने कुछ हमदर्दी दिखा कर बोला कि भगवान उनकी आत्मा को शांति दे. मगर तुम्हारे भाई ने ऐसा क्या किया था, जो बात यहाँ तक पहुँच गई?
उसने रोना शुरू कर दिया तो मैंने कहा- चलो छोड़ो.. तुम्हारे परिवार का मामला है.
वो चुप हो गई.
फिर मैंने उससे पूछा कि यहाँ नौकरी तो मैं दिलवा दूँगी मगर देर तक बैठना पड़ता है.. क्या तुम बैठ पाओगी?
उसने जवाब दिया- मैडम मजबूरी क्या नहीं करवा लेती.
मैंने कहा- ठीक है फिर तुम कल से आ जाना और तुम्हें सेलरी अभी 15000 दे जाएगी अगर काम ठीक तरह से किया तो मैं इसको बढ़ा कर पहले 20000 और बाद में 25000 भी करवा दूँगी. मगर काम जो करोगी वो किसी को पता नहीं लगना चाहिए. सीक्रेसी हमारे बिजनेस का सब से बड़ा उद्देश्य है.
उसको उम्मीद नहीं थी कि उसको आठ हजार की नौकरी भी मिल सकेगी. वो यह सब सुन कर मेरे हाथ जोड़ कर बोली- मैं भगवान से प्रार्थना करूँगी कि आपको भगवान, जितनी भी वो आप को उँचाइयों तक ले जा सकता है, ले जाए.
मैं मुस्कुरा दी.
जब वो बाहर जाने लगी तो मैंने उससे पूछा कि अभी कैसे जाओगी?
तो वो बोली कि उसकी माँ बाहर खड़ी हैं उसके साथ जाएगी.
मैं बाहर नहीं निकली क्योंकि उसकी माँ मुझे पहचान सकती थी. जब वो बाहर जाने लगी तो मैंने उसे फिर से बुलाया और बोली- देखो कल से यहाँ कुछ तड़क भड़क वाले कपड़े डाल कर आना क्योंकि यहाँ हमारा बिज़नेस ऊँचे लोगों से होता है और वो नहीं चाहते कि कोई रोती हुई सूरत उन्हें नज़र आए. अगर तुम्हारे पास नहीं हैं, तो मैं तुम्हें कल दे दूँगी, जो तुम यहाँ बदल लेना.
“जी बहुत अच्छा…” बोल कर वो चली गई.
मुझे अब उसकी मासूमियत पर रहम आ रहा था कि मैं बदला लेने के लिए किस को मोहरा बना रही हूँ. यही सब सोचते हुए मैं घर वापिस आई. वहाँ पर पहले से ही रात की चुदाई का प्रोग्राम सैट था इसलिए कोई बात ना किसी से कह पाई और ना ही सोच पाई. रात की चुदाई में सब कुछ भूल गई और जब सुबह तबस्सुम जाने को निकली तो मैंने उससे अपने दिल की बात कही.
मैंने उसको कहा कि मेरा दिल उसको खराब करने का नहीं मान रहा.
उसने जवाब दिया- देखो अगर भावुक हो कर कुछ भी करोगी तो जिंदगी में सफल नहीं हो पाओगी. उससे कोई ज़बरदस्ती ना करो, उसे इस रंग में डाल दो कि वो खुद ही लंड की चाहत करे.
अगले दिन वो बोल कर आई थी कि आज ओवर टाइम करना है. मगर मेरा दिन नहीं मान रहा था कि इसको किसी कसाई के आगे बकरी की तरह कटने के लिए दे दूं.
मैंने उससे कहा- आज नहीं फिर कभी सही.. मगर तुम्हें मैं कुछ पैसे दे देती हूँ.
सारी रात मुझे नींद नहीं आई कि मैं क्या कर रही हूँ. मुझे अपना टाइम नज़र आने लगा, जब मेरे पति ने मुझे नंगी कर के भेड़ियों के आगे फैंक कर मेरी पिक्चर बना कर सब को दिखा कर मुझे घर से निकलवा दिया. मैं सोच रही थी कि इस बेचारी का क्या कसूर है. बस यही कि यह उस दरिंदे की बहन है. इसको तो मेरी शकल तक याद नहीं. यह मुझे अपनी हमदर्द समझती है.

यह कहानी भी पड़े  वासना की तृप्ति

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published.


error: Content is protected !!