मेरी दोस्त ने मेरी बीवी को रखैल बनाया

विकी शिवानी की बगलो को छत रहा था, शिवानी की बगल एक दम चिकनी है और एक भी बाल नही होता मे अक्सर चूमता था और वो बहक जाती थी. शिवानी से भी काबू ना हुआ और उसकी सारी तो पहले ही खीच टन मे नकल चुकी थी.

शिवानी के बूब्स को चूस्ते हुए विकी ने उसका पेटीकोत भी उतार दिया और अब शिवानी सिर्फ़ ब्लॅक पनटी में थी उसकी काली ब्रा विकी पहली ही खीच के नीचे उसके पेट तक कर चुका था. मेरी बीवी अपनी आँखे बंद रख कर मज़े से विकी के बाल पकड़ कर अपने बूब्स चुस्वा रही थी.

विकी कुत्ते के जैसे उसके 34″ बूब्स को मसल रहा था. उसका एक हाथ बूब्स से फिसल कर उसके पेट को सहलाता हुया उसकी पनटी पर टिक गया. अपने कॅबिन मे ये सब देखते हुए मेरा बुरा हाल हो गया था.

मे अपनी चेर पे बेत गया और अपनी बीवी को लूट ते हुए देख रहा था.

विकी ने एक हाथ से शिवानी के बालो को पकड़ के खीचा और दूसरा हाथ उसकी पनटी में दल कर मसालने लगा. शिवानी जो हर बात मुझसे मानवाती थी और बिस्तर मे ज़रा भी मेरी मर्ज़ी नही करने देती थी, उसके सामने रंडी की तरह मचल रही थी.

मे टूट गया पर उन दोनो की हवस देख मेरा भी लंड खड़ा हो रखा था जो मे सहलाने लगा.

विकी ने उसके बाल खीचते हुए उसके होतो को कटा और शिवानी ने मूह खोल दिया, शायद विकी की उंगलिओ ने उसको सिसकिया लेने पर मजबूर कार्डिया था. हिडन कॅमरा में लगे मिक से अब मुजको उनकी सिसकियो की आवाज़ आ रही थी.

शिवानी: उम्म्म ह मस्लो आचे से. उफ़फ्फ़ नही वाहा नही ओउचह..

शिवानी को तड़प्ता देख मे तो विकी दोनो गरम हो चुके थे शायद विकी ने शिवानी के पीछे भी उगली दल दी थी. शिवानी अब पूरी गरम हो चुकी थी और पूरा बदन हिला रही थी. उसने विकी की त शर्ट उतार दी और उसको चूमने लगी. शिवानी होश खो चुकी थी.

विकी ने उसका सिर पकड़ कर नीचे झुकाया और एक इशारे मे मेरी भोली बीवी एक रंडी की तरह फर्श पर घुटने पे बेत गयी और विकी का लोवर उतरने लगी. विकी ने अंडरवेर नही पहना था और लोवर उतरते ही उसका लंड बाहर आ गया जो की मेरे लंड की तरह पूरा ताना हुया था.

शिवानी घबरा के तोड़ा पीछे हुए पर अपने दोनो छोटे छोटे हाथो से उसको पकड़ कर मसल रही थी. वीडियो देख साँझ गया था की शिवानी समझ नही पा रही की वो अब क्या करे. क्यूकी उसने मेरे लक कहने पर भी मेरे लंड को चूसना तो डोर चूमा भी नही था.

विकी ने उसकी मनोदशा को इग्नोर करते हुए उसके मूह पे अपने मोटे लंड को रगड़ा. ये देख मुहसे रहा नही गया और मे मूठ मरने लगा. विकी उसके बाल पकड़ के पीछे कर दिए और उसके मूह मे पूरा लंड घुसने लगा.

शिवानी से बदस्त ना हुया और वो उलटने लगी. पर विकी ने अपना लंड बाहर खीच लिया. फिर वो सिर्फ़ अपने लंड का टोपा उसके मूह मे दल चुसवाने लगा. वो खड़ा हो गया और शिवानी उसके नीचे आगाई और उसकी थाइस को सहलते हुए उसका लंड चूस रही थी.

फिर शिवानी का मेने नया रूप देखा. उसने विकी का लंड उपर किया और उसके बिल्कुल नीचे जाकर उसकी गोटियो को चाटने और चूसने लगी. शयड ये फरमाइश वीकसी की ही होगी. उससे भी ये बर्दाश्त ना हुया और उसके पैर उखाड़ने लगे.

उसने शिवानी को खड़ा किया और उसकी पनटी जो पूरी गीली हो चुकी थी वो भी उतार दी. उंदोनो के बीच कुछ बात हुई और फिर उसने मेरी बीवी को बेड पे लिटा दिया और उसका सिर तोड़ा नीचे लटक रहा था.

फिर वो अपने मोटे लंड से शिवानी के मूह को छोड़ने लगा. शिवानी जो मेरे लंड को चूमती भी नही वो लेट के उसका पूरा लंड मूह मे ले रही थी. उसका लंड कम से कम 7″ का होगा और वो सारा उसके गले तक उतार रहा था. और शिवानी के हिलते हुए बूब्स को चुटकी काट रहा था. मेने तभी जब बूझ कर शिवानी को फोन मिलाया.

मोबाइल की घंटी बजती रही. मेने फिर फोन मिलया.

शिवानी ने दर कर चूसना छोड़ दिया पर विकी ने उसका फोन पहले ही चीन लिया जैसा की मैं कमेरे मे देख पा रहा था. शिवानी फोन उछाल कर लेने की कोशिश करही थी पर विकी लामा था उसने अपना हट उपर करलिया.

मेने तीसरी बार जब कॉल किया तो विकी ने फोन उठा लिया.

विकी: हेलो, मेरे भाई कैसा है?

मे: विकी? तू शिवानी का फोन लेके क्या कर रहा है.

(विकी ने शिवानी को शांत रहने का इशारा किया) और उसको नएचए बिता फिर चुसवाने लगा.

विकी: अरे शिवानी फोन चार्जिंग पे लगा नहाने गयी है भाई.

मे: तू क्या कर रहा है? (उसको टटोलने के लिए).

विकी: मई.. उम्म मई एक्सर्साइज़. (और दोनो मूह दबा के हासणे लगे.).

शिवानी उसने लंड से उपर उठकर उसके मसल्स वेल पेट को छत ते हुए उसकी छाती को चूम रही थी. और उसको हग कर लिया और विकी के कान मे फुसफुसाई “फक मे.”

विकी ने मौका ने उसको कमर से पकड़ा और उसको बचे की तरह उठा कर सोफे पर लिटा दिया. विकी ने अपने हाथ पे थूका और शिवानी की छूट को मसल दिया.

मे कमेरे पे साफ देख सकता था की शिवानी बुरी तरह मचल गयी.

विकी मेरी बीवी के उपर लेट गया और उसके दोनो हाथ सिर के उपर पद लिए अपने एक हाथ से. और दूसरे हाथ से अपना मोटा लंड उसकी छूट मे घुसा दिया. शिवानी ने अपनी टनागे चौड़ी करके उसको अपने और अंदर घुसने का रास्ता दिखा दिया. विकी कस कर उसको बूब्स को मसालते हुए शिवानी को छोड़ रहा था.

शिवानी: आह उम्म अहह तोड़ा ढेरे बोल रही थी.

विकी जैसे लड़कीबाज़ को इतनी प्यारी नखरे वाली लड़की मिल गयी वो कहा मान ने वाला था. वो शिवानी के हाथ दबा कर लंबे लंबे शॉट्स मार रहा था.

शिवानी हड्द से ज़्यादा गरम हो चुकी थी. मे जनता हू क्यूकी उसने विकी के बालो को खेचना शुरू कर दिया था. और फिर शिवानी ने वो किया जो उसने बिस्तर मे मेरे साथ कभी नही किया था. उसने अपनी दोनो टाँगे विकी की कमर के पीछे लॉक करली और अब उसको शॉट्स मरने मे सहारा दे रही थी.

शिवानी: आह, तेज़ कर, और ज़ोर से उम्म (अपने लिप्स काटते हुए) काज़ के करो आ..

विकी: बोल तू मेरी रखैल है, बोल तू मेरी रखैल है!

शिवानी: नो प्लीज़…

विकी ने अपना लंड छूट से बाहर निकल लिया और शिवानी के गुलाबी होतो को चूसने लगा. बोल तू मेरी रखैल है वरना लंड नही मिलेगा.

शिवानी: प्लीज़ डालो ना. मेरा हुया ही नही.

विकी: पहले मेरी रंडी हो.

शिवानी: ने उसके दोनो गाल पकड़े और होतो को किस करते हुए बोली “जो चाहे वो बना लो, पर मुझे अभी कस के छोड़ो ना.”

विकी के चेहरे पे जीत की मुस्कान आगाई और उसने फिर से शिवानी को छोड़ना शुरू कार्डिया. वो शिवानी की दोनो टाँगे उठा कर उसको छोड़ र्हा था. शिवानी के लेफ्ट पैर मे सोने की पाजेब चमक रही थी जो की मेने उसको उसके ब्दे पर गिफ्ट की थी. विकी अपनी हवस मे आकर शिवानी के पैरो को भी छत रहा था. उसको हर वो ट्रिक पता थी जो किसी लड़की को उसका दीवाना बना सकती है.

शिवानी: अहह..

एक लंबी चीख दी और कस्स के सोफे को पकड़ लिया. शायद वो झाड़ चुकी थी. पर विकी ना जाने कौन सी गोली खा कर आया था. उसका लंड 20 मीं की चुदाई के बाद भी कॅसा हुया था. शिवानी तक गयी थी.

पर विकी ने उसका हाथ पकड़ कर उसको अब हमारे कार्पेट पे घोड़ी बना लिया. शिवानी विकी से बिल्कुल नही हिचकिचाई और उसकी सारी बातें मान रह थी.

वो तुरंत घोड़ी बन गयी और विकी अब उसके पीछे आगेया. उसने पहले अपनी जिब सेउसकी छूट छाती और फिर शावनी की गोल गांद को खोल के अपनी जिब से तड़पने लगा.

शिवानी: ओउूउ डालो ना.

विकी: ने पीछे से अपना लंड उसकी छूट पे टीकाया और कस के धक्का मारा.

शिवानी: अहह

शिवानी का फेस अब मेरे हिडन कॅमरा के ठीक सामने था. मे देख सकता था वो कितने मज़्ज़े से पराए लंड का सुख ले रही है और पसीने से उसका पूरा माता भरा था.

विकी उसके चुतताड़ो को मसल रहा था और खीच कर अपने लंड पर उपर नीचे कर रहा था. शिवानी की छूट इस पोस्टीओं मे बहुत टाइट हो जाती है क्यूकी शायद एक ही बार हुँने ये स्टाइल ट्राइ किया था.

शिवानी साइड टेबल पकड़ कर आयेज पीछे हो हो कर विकी को छोड़ रही थी. विकी अब तक गया था और बस शिवानी मे अपना घुसा के अपना पानी निकलना चाहता था. शिवानी चुतताड रॅंड की तरह ढके मार के विकी को छोड़ रही थी.

विकी :: अहह मेरा निकालने वाला है.

शिवानी ने अपनी स्पीड बड़ा दी और विकी उसकी पीठ पाकड़ कर निढाल हो गया.

दोनो एक दूसरे को देख मुस्कुराए और बिना कपड़ो के ही लेट गये. शिवानी की गैर मर्द से चुदाई देख मेरा भी अब पानी छूट चुका था. और मेरे अपना लंड साफ किया और इन दोनो को ँज़ा चखने का इरादा बनाया.

इफ़ अन्य गर्ल और लेडी वाना टॉक तो मे और गेट नॉटी इन छत, हिट मे अट ई आम वेटिंग फॉर युवर मेसेजस आंड अप्रिसियेशन. मुझे सिर्फ़ लड़कीो के एमाइल्स का इंतेज़ार रहेगा.

यह कहानी भी पड़े  सेक्सी भाभी ने मेरी वर्जिनिटी ली

error: Content is protected !!