दोस्त की सिस्टर की चुदाई मदद करने के बाद

मैं फार्मा कम्पनी में काम करता हूँ. एक बार मुझे मेरे एक दोस्त की सिस्टर का फोन आया कि उसे गर्भ गिराने वाली दवा चाहिए. मैंने उसकी मदद की और बदले में सिस्टर की चुदाई की.

मैं फार्मा कम्पनी में काम करता हूँ. एक बार मुझे मेरे एक दोस्त की सिस्टर का फोन आया कि उसे गर्भ गिराने वाली दवा चाहिए. मैंने उसकी मदद की और बदले में उसकी चुदाई की.

मेरे प्यारे दोस्तों को मेरे यानि मुन्ना की तरफ से मेरे खड़े लंड का सलाम. मुझे उम्मीद है कि आप सब एकदम मस्त और ठीक होंगे. आपका लंड हर रोज चुत की गहराइयों को नापता ही होगा.

साथ ही मेरी सभी प्यारी फीमेल फ्रेंड्स भी अपनी चुत को खूब टांगें उठवा कर चुदवा रही होंगी. मैं भगवान से ये ही दुआ करता हूँ कि हर लंड को इतना दम दे कि वो जिस चूत में भी जाए, उसकी इच्छा पूरी करके ही बाहर आए.

अन्तर्वासना सेक्स स्टोरी के माध्यम से आप सभी को अपनी गर्म स्टोरी सुना रहा हूँ. मुझे यकीन है कि मेरी सेक्सी और कामुक स्टोरी पढ़कर सभी लड़कों के लंड खड़े हो जाएंगे और सभी चूतवालियों की गुलाबी चूत अपना रस जरूर ही छोड़ देगी.

मैं मुन्ना राज हूँ. मैं मोतिहारी, पटना, बिहार से हूँ. मैं आप लोगों को अपनी एक सच्ची घटना बताने जा रहा हूँ. शायद आप लोगों को अच्छी लगे. ये मेरी पहली सेक्स स्टोरी है, तो थोड़ी बहुत ग़लती हो सकती है. कहानी आपको कैसी लगी, ये आप सभी अपनी प्रतिक्रिया ज़रूर देना.

मैं मोतिहारी में एक रिप्यूटेड फ़ार्मा कंपनी में काम करता हूँ. मेरे एक फ्रेंड की 19 वर्षीया सिस्टर है, उसने अभी 12 वीं का एग्जाम दिया है.

यह कहानी भी पड़े  किरायेदार लड़की के साथ सेक्स

उसने मुझे कॉल किया कि उसे मुझे कुछ काम है. उस समय मैं बिज़ी था, तो उससे ठीक से बात नहीं कर पाया. कुछ देर बाद काम से फ्री होकर मैंने उसे वापस कॉल किया.

उसने बोला- प्लीज़ किसी को कुछ बताना नहीं, तो मैं अपनी बात कहूँ.
मैंने उसे आश्वस्त किया, तो उसने बोला कि मुझे कुछ मेडीसिन चाहिए थी. ये दवाएं कुछ ऐसे हैं, जिन्हें मैं खुद किसी फार्मेसी स्टोर में जाकर नहीं माँग नहीं सकती हूँ. मुझे अच्छा नहीं लग रहा है.

मैंने फिर भी उससे कहा- ठीक है तुम बताओ, कौन सी दवा लेनी है?
दोस्त की सिस्टर ने मुझसे बहुत रिक्वेस्ट करके बोला- मुझे बच्चा गिराने वाली मेडीसिन चाहिए.
उसकी इस मांग से मुझे सारी बात समझ आ गई.

मैंने सीधे पूछा- जिसके साथ किया है … उससे माँग लो न.
उसने बोला- वो अब बात ही नहीं कर रहा है … उसने फोन भी ऑफ कर दिया है.
मैंने डाइरेक्टली कहा- मुझे क्या मिलेगा?
उसने भी बेहिचक बोल दिया- जो आप चाहो … लेकिन किसी को कुछ बोलना मत.
मैंने ओके बोल दिया.

दूसरे दिन मैंने उसे मेडिसिन दे दी, लेकिन उससे कुछ माँगा नहीं. रात में उसने पूछा- मेडिसिन लेनी कैसे है?
मैंने बोला- पहले अपनी पिक सेंड करो … तो बताऊंगा.

दोस्त की सिस्टर ने अपनी एक पिक सेंड कर दी.
मैंने बोला- ये नहीं न्यूड पिक.

उसने पहले कुछ आना-कानी की, लेकिन बाद में दे दी.

फिर मैंने बोला- मैं जो बोलूँगा, वो करना पड़ेगा.
उसने पूछा- क्या … बताओ तो?
तो मैंने बोला- बाद में बता दूँगा … और उसे मेडिसिन कैसे लेनी है, वो बता दिया.

अब मैंने सोच लिया था कि मुझे इसके साथ अपनी फंतासी पूरी करनी है, जिसके लिए जल्दी जीएफ़ भी रेडी नहीं होती है. कुछ इस तरह का सेक्स करना था जिसमें आम लड़कियों को घिन आती थी. जैसे लंड से मुँह चोदना, उसके ऊपर पेशाब करना और गांड मारना.

यह कहानी भी पड़े  Pahla Sex Tumse Chahti hun

फिर कुछ दिनों तक उसने मुझे कोई कॉल या मैसेज नहीं किया. मैं भी बिज़ी था. कोई 15 दिनों बाद दोस्त की सिस्टर का कॉल आया. उसने मुझे हेल्प के लिए बहुत थैंक्स बोला. फिर बताया कि 2 दिन पहले ही पीरियड्स बंद हुए. पहले दिन तो बहुत पेन हुआ और उसके बाद 10-12 दिनों तक रुक रुक के ब्लीडिंग हो रही थी. अब तो नॉर्मल हो गया.

फिर मैंने पूछा- अब मुझे क्या मिलेगा?
उसने बोला- जो आप बोलो … मैंने तो पहले भी बोला था. आप बताओ आपको क्या चाहिए?
मैंने बोला- सोच लो … बाद में मना मत कर देना.
उसने बोला- आप बोलो तो सही आपको चाहिए क्या है.
तब मैंने पहले बोला- ठीक है कल 2-3 घंटे के लिए मुझसे मिलो. हम दोनों किसी होटल में चलेंगे.

दोस्त की सिस्टर मान गई और 2 दिन बाद का मिलना तय हुआ. दो दिन बाद मैं उसे लेकर एक होटल में गया. इस होटल में मैंने एक कमरा बुक कर लिया था. उसे मैं कमरे में ले गया और उसे अपनी बांहों में लेकर अच्छे से किस करने लगा. उसने भी कोई विरोध नहीं किया. शायद उसे समझ आ गया था कि मैं उसके जिस्म को भोगना चाहता हूँ. उसे इससे कोई ऐतराज भी नहीं था.

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!