दोस्त की मदद की उसकी बीवी को चोद कर

हाय फ्रेंड्स, मेरा नाम विनय है और मैं भोपाल का रहने वाला हूँ | मैं दिखने में ठीक ठाक ही हूँ उतना बुरा तो नहीं दिखता, मेरी हाईट मेरी शान और मेरा लंड मेरी जान है, क्यूंकि मेरी हाईट 6 फुट 3 इन्च है और मेरे लंड का साइज़ 9 इंच लम्बा और 4 इंच मोटा है बस यही वजह है जिस वजह से मैं अपने दोस्त की मदद कर पाया और मेरी ये मदद वो जीवन भर नहीं भूल सकता था | चलिए बताता हूँ कैसे हुआ ये सब और कैसी की मैंने अपने दोस्त की मदद |

ये घटना 3 साल पहले कि है जब मैं और मेरा एक फ्रेंड सतीश हम दोनों माइंस में काम करते थे | जब हम दोनों की मुलाकात हुई थी तब सतीश की शादी हो चुकी थी और उनकी शादी को 1 साल हो चूका था | सतीश एक बहुत अच्छा पारिवारिक लड़का है और बहुत ही खुशमिजाज भी, उसकी तारीफ में मैं कुछ भी कहू सब कम है क्यूंकि उस जैसा लड़का शायद ही किसी को मिले और उस इंसान को उसके बीवी जैसी बीवी मिलना भी बहुत मुश्किल है | ऐसा मैं इसलिए नहीं कह रहा कि वो मेरा दोस्त है बल्कि मैं एक सच्चाई बता रहा हूँ जैसा वो है | हम दोनों की दोस्ती बहुत गहरी थी और हम दोनों एक दुसरे के लिए मर मिटने को भी तैयार थे | मैंने सतीश को 3 महीने नोटिस किया कि आज कल वो खुश नहीं रह रहा था और हर किसी पे बहुत गुस्सा करता था बिना वजह सबसे चिढ़ा हुआ रहता था | ये बात मुझे तब पता चली जब मैं उसके केबिन गया और जैसे ही सतीश को आवाज़ लगाई तो उसने गुस्से से मुझसे कहा कि क्या है चैन से बैठ भी नहीं सकता क्या ? तो मुझे उसका ऐसा स्वभाव बिलकुल भी समझ में नहीं आया कि आखिर ऐसा क्यूँ कर रहा है वो ? तो मैंने सतीश को जवाब दिया कि अबे मैं विनय हूँ तू मुझसे ऐसे बात करेगा क्या ? तो उसने कहा सॉरी विनय भाई मुझे लगा कि वर्कर लोग है | तो फिर मैंने कहा अबे वर्कर भी हैं तो तू कब से उनसे ऐसी बात करने लगा तू तो ऐसा नहीं था | तो फिर सतीश ने मुझसे कहा कि क्या बताऊ यार विनय भाई मैं आज कल बहुत परेशान रहता हूँ तो मैंने उससे पुछा कि भाई मैं तो तेरा दोस्त हूँ तू मुझे अपनी समस्या नही बता सकता क्या ? एक बार बता के तो देख तेरी मदद न करू तो कहना | फिर उसने बताया कि विनय भाई मेरी शादी को इतना टाइम हो गया है सब कुछ अच्छा चल रहा था पर अचानक से यार पता नहीं क्या हुआ मेरा लंड खड़ा होना बंद हो गया यार और मेरी बीवी को एक लंड की जरुरत है मैं उसे खुश नहीं रख पा रहा हूँ और उसने मुझे ये भी बोल दिया है कि मैं तुम्हे छोड़ कर चली जाउंगी |

यह कहानी भी पड़े  दीपिका भाभी की मनचाही चूत की चुदाई

बाता यार विनय मैं क्या करू ? तो मैंने उसे कहा कि देख भाई अगर तू मुझे गलत न समझे तो एक बात कहू | तो उसने जवाब में कहा अरे विनय भाई तेरी बात को क्यों गलत समझूंगा तू तो मेरा जिगरी यार है | तो फिर मैंने कहा सुन तेरी बीवी को एक लंड की जरुरत है और उसे बच्चा चाहिए है तो मै तेरी इसमें मदद कर सकता हूँ | तो उसने पुछा कि कैसे ? तो फिर मैंने बताया कि तू उसको बोल दे कि मैं तुम्हारी भूख शांत करा दूंगा और मेरा एक दोस्त है विनय वो तुम्हारी भूख शांत कर दिया करेगा | और तुम दोनों को मैं एक बच्चा भी दे दूंगा पूरी बात सोल्व हो जाएगी और किसी को कानो कान खबर भी नहीं होगी | तो फिर ये सुनने के बाद उसके फेस पर स्माइल आ गयी और उसने मुझे थैंक्स कहा तो मैंने कहा अबे पागल दोस्त है फर्ज तो निभाऊंगा दोस्ती का | फिर मैं काम ख़त्म करके अपने घर गया और फिर नहा कर फ्रेश हुआ और रात में करीब 8 बजे उसके घर पंहुचा तो उसने मुझे अन्दर बुलाया और फिर अपनी बीवी से मिलवाया | फिर उसकी बीवी ने खाना लगाया और तब उसने अपनी बीवी से मेरे ही सामने पूरी बात की | तो उसकी बीवी मान गयी क्यूंकि औरत के अन्दर की आग वो ज्यादा अच्छे से समझ सकती थी इस वजह से उसने हाँ कर दी थी |

फिर हम लोगो ने खाना खाए फिर बाद में सतीश ने मुझे अन्दर भेज दिया उसके रूम में और मैं जब अन्दर पंहुचा तो अन्दर बहुत अँधेरा था जब मैने लाइट जलाया तो उसकी बीवी जिसका नाम सीमा है वो अन्दर सज धज के बैठी हुई थी जैसे मैं उसका पति हूँ और हमारी सुहागरात हो | फिर उसने मुझे एक गिलास दूध पिलाई और मैंने दूध पिया | फिर मैंने अपने पूरे कपडे उतार दिया और बस अंडरवियर में था | उसके बगल में बैठ गया और फिर उसका घूंघट उठाया तो वो शर्मा गयी | फिर मैंने उसके होंठ पर अपने होंठ रख दिए और उसको किस करने लगा | तो वो भी मुझे किस करते हुए मेरे होंठो को चूसने लगी और मैं भी उसके होंठो को चूसने लगा | सतीश बाहर ही बैठा था | फिर मैंने उसका पूरा घूंघट अलग किया और उसके गले को अपनी जीभ से चाटने लगा और वो अहहहाआआ अहहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह उऊंन्ह्ह अहहाआअ ऊमम्म्म अहहाआआ अहहाआआ हहहहाआ हहाआआआ आआअह्ह्हाअ उऊंन्ह्ह ऊउम्मम्म ऊउन्न्ह अहहहहहाआ अहहहाआ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म अह्हाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहाआअ करने लगी | 10 मिनट तक मैंने उसके चेहरे को खूब चाटा और उसे मजा आ रही थी | मेरे ऐसा करने पर उसे बहुत मज़ा आ रहा था फिर मैंने उसका ब्लाउज उतार दिया और उसके ब्रा के ऊपर से ही उसके दूध को चूसने लगा और वो अहहहाआआ अहहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह उऊंन्ह्ह अहहाआअ ऊमम्म्म अहहाआआ अहहाआआ हहहहाआ हहाआआआ आआअह्ह्हाअ उऊंन्ह्ह ऊउम्मम्म ऊउन्न्ह अहहहहहाआ अहहहाआ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म अह्हाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहाआअ कर रही थी | फिर मैंने उसकी ब्रा खोल दी और एक दूध को पकड़ के जोर जोर से चूसने लगा और दूसरे दूध को मसलने लगा | वो लगातार अहहहाआआ अहहहाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म्ह उऊंन्ह्ह अहहाआअ ऊमम्म्म अहहाआआ अहहाआआ हहहहाआ हहाआआआ आआअह्ह्हाअ उऊंन्ह्ह ऊउम्मम्म ऊउन्न्ह अहहहहहाआ अहहहाआ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्म अह्हाआअ उऊंन्ह्ह ऊउम्म्ह अहहहाआअ करते हुए सिस्कारियां भर रही थी |

यह कहानी भी पड़े  रेणुका भाभी को उनके घर में चोदा

Pages: 1 2

error: Content is protected !!