दोस्त की बहन को चुदाई करके रखैल बनाया

दोस्त की बहन को चुदाई करके रखैल बनाया

(Dost Ki Bahan Ki Chudai Karke Rakhail Banaya)

Dost Ki Bahan Ki Chudai Karke Rakhail Banaya

यह कहानी मेरी पहली सच्ची कहानी थी और आज मैं अपनी दूसरी सच्ची कहानी लिख रहा हूँ।
लड़कियां अपनी बुर में उंगली, लंड, डिल्डो डालने के लिए तैयार हो जाओ और लड़के अपने लंड को अपने हाथ से पकड़ लीजिए या अपने लंड को अपनी बीवी, भाभी, प्रेमिका, गर्लफ्रेंड, पड़ोसन आंटी या जिस की भी चूत आपके पास हो, चूत के छेद पे टिका लीजिए।

बात तब की है जब मैं अपनी बहन को रोज़ चोदता था, कई महीने हो गए थे, मेरी बहन मुझे पूरा संतुष्ट रखती थी और मैं भी अपनी बहन को संतुष्ट रखता था। इसीलिए मेरी बहन ने कभी भी कोई बॉयफ्रेंड नहीं बनाया, वो कहती है कि वो कभी शादी भी नहीं करेगी।

पर ख़ैर में आपको अपनी कहानी पर ले जाता हूँ।
उस समय में अपनी बहन से खुश था पर साथ ही मेरी नज़र मेरे दोस्त की बहन पर भी थी, वो काफी गोरी थी और उसकी चुची सनी लियोनी की चुची की तरह हैं, उसका फिगर है 30-26-32… कमाल का फिगर है।
मेरे दोस्त का नाम सन्नी और उसकी बहन का नाम भावना है।

उसे चोदने का मन तब से था जब मैं 10th में था, मतलब जब मैंने उसे पहली बार देखा था। वो हॉस्टल में पढ़ती थी इसीलिए वो कुछ ही दिन के लिए अपने घर आती थी।
वैसे वो मुझे लाइन भी देती थी जैसे मुझे देख कर स्माइल देना, मेरे से सट कर बैठना… जिससे में पूरा कामुक हो जाता था, उसकी परफ्यूम की खुशबू भी मुझे पागल कर देती थी।

वो दीवाली का समय था, उसकी छुट्टियां चल रही थी दीवाली में सिर्फ कुछ ही दिन थे
मुझ में और सन्नी में काफी अच्छी दोस्ती है तो मैं उसके घर बिना खटखटाए ही चला जाता हूँ।

यह कहानी भी पड़े  फ्रेंड की गर्लफ्रेंड को पिज़ा डिलीवर किया

उस दिन मैं उसके घर बिना खटखटाए ही चला गया। जब मैं उसके कमरे के बाहर पहुँच तो मैंने उसकी बहन की सिसकारियाँ सुनी, वो कह रही थी- जोर से चाटो आह.. ओह.. खा जाओ.. मेरी चूत को!

यह सुन कर मैं चौंक गया, मुझे लगा कि यह किसी बॉयफ्रेंड के साथ चुद रही है।
मैंने सोचा क्यों ना इनको डराया जाए।

और मैंने दरवाजा खोलना चाहा तो वो अंदर से लॉक था। तो मैंने नोक किया तो कुछ रिप्लाई नहीं आया।
फिर मैंने दोबारा नोक किया, तब भी कोई जवाब नहीं आया।

तो मैंने जानबूझ कर बोला- सन्नी… सन्नी… घर पर है क्या सन्नी?
तो अंदर से आवाज आई- हाँ बोल… मैं घर पर ही हूँ।
वो आवाज सन्नी की थी, मैं तो हैरान रह गया और मुझे मामला समझते देर ना लगी।

मैंने संयम से काम लिया, बोला- दरवाज़ा खोल, कुछ काम है।
तो उसने दरवाज़ा खोल दिया।

उसने बनियान और पजामा पहन रखा था और पूरा पसीने से लथपथ था। वो बोला- बोल, क्या काम है?
मैं बोला- अंदर नहीं बिठाएगा क्या?
तो वो बोला- चल आ जा, बैठ जा!

जब मैं अंदर गया तो अंदर कोई भी नहीं था।
मैंने दरवाजा बंद कर दिया और मैंने सन्नी से बोला- यार क्या कर रहा था घर पे बैठे बैठे?
मुझे पता था कि भावना अभी भी कमरे में ही है, बस कहीं छुपी होगी।

मैं सन्नी को जानबूझ कर बातों में फ़ंसा रहा था ताकि भावना को ढूंढ सकूँ।
मैंने उससे बोला- यार अकाउंट्स की कॉपी दिखाईओ अपनी?
वो बोला- रुक अभी!

यह कहानी भी पड़े  सेक्सी कनिका पराए मर्द से चुदी

और जैसे ही उसने अपने बैग से कॉपी निकाल कर मुझे दी तो मैंने जान बूझ कर उसे नीचे गिरा दी और उसे झुक कर उठाने लगा।
मैंने इतने में पलंग के नीचे देखा तो वहाँ पर भावना छिपी हुई थी, वो भी बिल्कुल नंगी!

मैं बोला- भावना… तू अंदर क्या कर रही है? वो भी नंगी?
वो घबरा गई और सन्नी भी!

मैंने भावना को हाथ देकर बाहर निकाला।
जब वो बाहर निकली तो मैंने उसकी गांड पे हाथ रखते हुए उसे ऊपर उठाया, फिर मैंने पूछा- भावना, यहाँ कर रही है वो भी नंगी?
तो वो रोने लगी, मुझसे कहने लगी- सॉरी शिव, ये बात किसी को मत बताइयो।
मैंने बोला- पागल है क्या? तुम दोनों इतनी गिरी हुई हरकत कर रहे थे और मैं किसी को ना बताऊँ?

तो सन्नी मुझसे कहने लगा- भाई प्लीज यार!
मैंने मना कर दिया और सबको बताने की धमकी देने लगा।
मैं जाने लगा।

जैसे ही मैं दरवाजे की तरफ जाने लगा तो भावना ने मुझे पकड़ लिया और मेरे होंटों को कस कर चूमने लगी और मेरे लंड पर पैंट के ऊपए से हाथ से सहलाने लगी।
और सन्नी मुझसे कहने लगा- अगर तू किसी को कुछ नहीं बताएगा तो तू भावना को रोज़ चोद सकता है।

मैंने कहा- ठीक है।
और फिर मैंने उससे पूछा- तूने अपनी बहन को कैसे मनाया सेक्स के लिए?

Pages: 1 2 3

Dont Post any No. in Comments Section

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!