दिल्ली के पार्क में माशूका से प्यार

हाय दोस्तो.. मेरा नाम रोहित है। मैं दिल्ली में रहता हूँ और मैं दिखने में काफ़ी अच्छा हूँ.. बहुत गोरा हूँ और 5’8″ लंबा हूँ।
मेरा फेसकट भी आकर्षक है।

मैं इस साइट को दो साल से पढ़ रहा हूँ मैंने बहुत सारी कहानियां पढ़ी हैं और पढ़ कर बहुत ‘मजा’ भी किया है।
अब मेरा भी मन अपनी सेक्स लाइफ के बारे में लिखने का करता है.. तो लिख रहा हूँ।

यह मेरी पहली स्टोरी है, पढ़ने के बाद मेल ज़रूर कीजिए प्लीज़.. इससे मुझे उत्साह मिलेगा और मैं अपनी लाइफ की आगे और कहानियां भी लिख पाऊँगा।

एक मासूम सी लड़की

दो साल पहले की बात है, मैं एक कंप्यूटर सीखने एक इन्स्टिट्यूट में जाया करता था। वहाँ काफ़ी लड़के-लड़कियां थे.. पर उनमें से एक लड़की मुझे अच्छी लगी।
उसका चेहरा एकदम मासूम सा था.. और आँखें बहुत प्यारी थीं।

उसकी सीधी बात कहूँ.. तो मेरा दिल उस पर आ गया था। उसका फिगर 32-28-34 का था.. जो किसी का भी दिल बेकाबू कर दे।

कई दिन ऐसे ही चलता रहा.. धीरे-धीरे वहाँ सबके ग्रुप बन गए।

मेरे ग्रुप में निशा भी आ गई.. क्योंकि एक लड़की उसकी फ्रेंड बन गई थी.. जो मेरे घर के पास रहती थी।

इसी कारण हमारी दोस्ती भी हो गई। धीरे-धीरे मुझे उससे प्यार हो गया और मैं उसके और नज़दीक जाने लगा।

आई लव यू

फिर एक दिन मौका पाकर मैंने उसे ‘आई लव यू’ बोल दिया लेकिन उसने तब मना कर दिया।

खैर.. कुछ दिन ऐसे ही उसकी ना-नुकर चलती रही और लेकिन मेरी फ्रेंड्स ने उसे समझाया.. तो फिर मान गई।

यह कहानी भी पड़े  पति ने मुझे चुदवाया बेटे के लिए कईयों से

उस वक़्त मेरी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा था.. क्योंकि यार वो मुझे बहुत अच्छी भी लगती थी।
फिर धीरे-धीरे हम फोन पर बात करने लगे और उसके बाद हम घूमने गए।

मैंने उसे एक गार्डन में बुलाया जहाँ कपल जाया करते थे। मैंने कुछ खाने के लिए ले लिया था।

हम दोनों गार्डन में एक अच्छी सी जगह देख कर बैठ गए.. जहाँ से हमें कोई नहीं देख पा रहा था।
मैं उसकी गोद में लेट गया और वो मेरे बाल सहला रही थी, मुझे बहुत मज़ा आ रहा था।

उसके बाद मैंने उसका सिर पकड़ कर अपनी तरफ खींच लिया और उसकी चुम्मी ली। मुझे ऐसा लगा कि वो खुद भी यही चाहती थी। क्योंकि मेरे हल्का सा करने पर ही वो भी नीचे की ओर हो गई थी।

हम दोनों ने करीब 5 मिनट तक लगातार चुम्बन किया।
वो और मैं दोनों बहुत गर्म हो गए थे, उसका हाथ मेरी छाती पर चलने लगा था और मेरा हाथ भी उसके मुलायम मम्मों पर चला गया। मैं उसके मम्मों को दबाने लगा।

दोस्तो क्या बताऊँ.. कितना मज़ा आ रहा था। लेकिन मेरा मन उसके मम्मों को नंगे करके दबाने का होने लगा।

मैंने उससे कहा- मुझे तुम्हारे बूब्स फील करने है।
तो वो बोली- मैं तुम्हारी हूँ.. अब जो चाहे करो.. मैं मना नहीं करूँगी।

इतना सुनते ही मैंने उसके टॉप में हाथ डाला और उसके मम्मों को दबाने लगा।
क्या मस्त अनुभव था उसकी चूची को दबाने का.. उसके एकदम कड़क मम्मे और भी सख्त हो गए थे।
मेरा तो मन था कि इसको अभी चोद दूँ।

यह कहानी भी पड़े  जवान लौंडिया की हॉट चुदाई

फिर मैं उसके एक दूध को मुँह में ले कर चूसने लगा और दूसरे को हाथ से दबाने लगा। इसमें मुझे बड़ा मजा आ रहा था। काश.. सच में दूध निकलता तो और मज़ा आता।

Pages: 1 2

error: Content is protected !!