कज़िन सिस्टर के साथ लेज़्बीयन चुदाई शुरू हुई

हेलो दोस्तों, मेरा नाम रीना है, और मेरी उमर 20 है, और मैं आमेडबॅड से हू. अगर कोई आमेडबॅड से है, और अगर लेज़्बीयन सेक्स में इंट्रेस्टेड हो, तो मैल या फीडबॅक ज़रूर देना. और पिछली स्टोरी पर कोई फीडबॅक ही नही मिला है, तो इस कहानी पर फीडबॅक ज़रूर देना.

इस कहानी में पढ़िए की कैसे मैने मेरे मामा की लड़की को फिंगरिंग करते पकड़ा, और फिर उसके साथ सेक्स किया. मेरा नाम रीना है, और मेरा फिगर 34-30-32 है. मेरे मामा की लड़की का नाम पूजा है, और उसकी उमर 20 साल है. उसका फिगर बहुत ही सेक्सी है. साइज़ उसका 36-32-34 है. बड़ी गांद है उसकी, और बहुत सेक्सी लगती है वो.

कुछ महीनो पहले की बात है, जब गर्मी की छुट्टियाँ चल रही थी. और मुझे मामा के घर जाना था, ताकि थोड़े दिन वाहा रह साकु. मैं मेरे मम्मी को बोली की मुझे मामा के घर जाना था, और मम्मी भी मान गयी.

फिर मैने ट्रेन की टिकेट करवाई और अब वो दिन आ गया था, जब मुझे निकलना था वाहा के लिए. पूरी रात सफ़र करने के बाद मैं मेरे मामा के घर पहुँची. मेरे मामा गाओं में रहते है. वाहा उनका खेती-बाड़ी का बिज़्नेस है.

वो पूरा दिन खेतों में काम करते है, और पूजा पूरा दिन यहा-वाहा घूमती रहती है. फिर जब मैं वाहा पहुँची, सब मुझे देख कर खुश हो गये, और गले से लगा लिया. मैं फ्रेश हुई और खाना खाया. उसके बाद मैं और पूजा यहा-वाहा घूमे और ऐसे ही रात हो गयी.

रात को खाने के बाद मैं फ्रेश हुई. फिर जब मैं बातरूम में गयी, तब मुझे वाहा कुछ बाल दिखे. मुझे लगा हेर-फॉल होगा. पर बालों का साइज़ देख लग रागा था की ये सर के नही झाँत के बाल होंगे.

फिर मैं कपड़े बदल कर बाहर आ गयी. उसके बाद मैं और पूजा कमरे में सोने चले गये, और हम सो गये. लेकिन जब मेरी रात को आँख खुली, तो मैने देखा की पूजा अपने बिस्तर पर नही थी. इधर-उधर देखा, तो बातरूम की लाइट ओं थी.

मुझे लगा की पूजा बातरूम गयी होगी. फिर मैं ऐसे ही सो गयी. जब कुछ मिंटो तक वो आई नही, तो मुझे लगा की जाके चेक करना चाहिए की क्या हुआ था, और वो बाहर क्यूँ नही निकल रही थी.

लेकिन मैने आवाज़ नही की. दरवाज़े में एक छ्होटा सा होल था, वो मुझे सुबह जब नहाने गयी थी, तब पता चला. मैं देखना चाहती थी की वो अंदर इतनी देर से कर क्या रही थी. फिर जैसे ही मैने उस होल से देखा, तो मैं डांग रह गयी. वो अपने मोबाइल में लेज़्बीयन पॉर्न देख रही थी. क्यूंकी मुझे 2 गर्ल्स की आवाज़े आ रही थी.

मैं तो शॉक ही हो गयी, और मैने सोचा की चलो यहा से चली जाते हू. पर जैसा की मैने पहले ही बताया था की मेरे मामा की लड़की कितनी सेक्सी है, और उसके बूब्स भी इतने बड़े है की क्या बतौ.

मॅन तो कर रहा था की काट के खा जौ. मैने फिरसे होल से देखना स्टार्ट किया. मुझे भी मज़ा आ रहा था, और धीरे-धीरे मुझे भी हॉर्नी फील होने लगा. मैने महसूस किया की मेरे छूट गीली हो रही थी. फिर मैने भी फिंगरिंग करना स्टार्ट किया. धीरे-धीरे मैने अपनी छूट को मसलना स्टार्ट किया.

हाए रे मेरी छूट. पता नही क्यूँ मुझे भी अब लेज़्बीयन सेक्स का भूत और छूट में खुजली चढ़ि थी की कोई आके उंगली करे मेरी इस छूट में. आहह मेरी छूट का पानी निकलना स्टार्ट हो गया था. ऐसे की छूट मसल रही थी, की एक-दूं से मेरे मूह से ज़ोर से सिसकारी निकल गयी.

जैसे ही उसने मेरी आवाज़ सुनी वो दर्र गयी, और अपने कपड़े वापस पहन कर बाहर आने लगी. और मैं भी दर्र के मारे अपने कपड़े ठीक करने लगी. फिर एक-दूं से उसने दरवाज़ा खोला, और मुझे देख कर बोली-

पूजा: यहा क्या कर रही हो?

मे: मैं यहा तुम्हे देखने आई थी की इतनी देर से तुम बाहर क्यूँ नही निकल रही हो.

पूजा: तो तुमने क्या देखा?

मे: सब देख लिया ( मैने सब कुछ देख लिया की कैसे वो रंडी की तरह छूट मसल रही थी, और सिसकारियाँ ले रही थी).

पूजा: तो तुमने सब देख ही लिया है तो.

मे: तो क्या?

फिर पूजा एक-दूं से मुझ पर झपट पड़ी और मुझे किस करने लगी. मैं उसको रोकने की कोशिश कर रही थी.

मे: पूजा ये ग़लत है, रुक जाओ.

पूजा: कुछ ग़लत नही है. तुझे भी तो सेक्स चाहिए होगा.

मे: हा चाहिए पर.

पूजा: पर-वार कुछ नही. आज तेरी छूट का सारा पानी निकाल दूँगी. और मेरा पानी भी पिलौंगी तुझे.

मे: पूजा पर तू मेरी बेहन जैसी है.

पूजा: हा तो आज तेरी ये बेहन तेरी छूट फाड़ कर भोंसड़ा कर देगी (पूजा के सर पर मानो सेक्स सवार हो गया था). देख साली तेरे छूट भी गीली है. मुझे देख कर छूट मसल रही थी, और अब नाटक कर रही है छिनाल.

मैं भी अब गरम हो रही थी. मैने भी धीरे-धीरे पूजा का साथ देना स्टार्ट किया. मैं भी उसको किस करने लगी, और उसके बालों में हाथ फेरने लगी.

मे: आह पूजा, और करो. चूस लो, बहुत सूख गये है मेरे होंठ.

(और अभी तक जिसकी छूट गीली हो चुकी है, और लंड खड़ा हो चुका है. वो मुझे फीडबॅक ज़रूर देना)

पूजा: आह हा रीना तेरे होंठ को आज काट-काट के लाल करूँगी. चूस लूँगी सारा रस्स मेरी रंडी बेहन.

फिर पूजा ने किस करते-करते मेरे होंठ पर काट दिया.

मे: पूजा, आह मा ये क्या किया बहनचोड़?

पूजा: बोला था ना रंडी, की आज तेरे होंठो को लाल कर दूँगी. बस वही किया मेरी जानेमन.

अभी के लिए इतना ही. आयेज की स्टोरी नेक्स्ट पार्ट में. इस स्टोरी की फीडबॅक आप क्राज़्ीबल्ल893@गमाल.कॉम पर दे सकते है, और कोई लेज़्बीयन है आमेडबॅड में से, और सेक्स छत करना चाहती हो, तो ये ईद पर मैल कर सकती है. दोस्तों अगली कहानी के लिए फीडबॅक ज़रूर देना. बाइ, गुड नाइट. जल्दी मिलते है अगली कहानी के साथ. कहानी पढ़ने के लिए आप सब का बहुत धन्यवाद.

यह कहानी भी पड़े  मा बेटे की प्यार भारी आखरी चुदाई की कहानी


error: Content is protected !!