कज़िन को ब्लॅकमेल करके चुदाई करी

हेलो फ्रेंड्स, मेरा नाम आकाश है और मैं हरयाणा का रहने वाला हू, ये हिन्दी सेक्स स्टोरी मेरी और मेरी एक कज़िन (बुआ की लड़की) की हैं जिसका नाम श्रुति (नेम चेंज्ड) है, वो मुझसे 1 साल बड़ी है और उसकी गॅंड बहुत अछी है जिसपे मैं फिदा हू.
उसके बूब्स ज़्यादा बड़े नही है, मैं हमेशा से उसे चोदना चाहता था पर उसने कभी मुझे ऐसा नही करने दिया, पर आख़िर कार मैने उसे चोद ही डाला. ज़्यादा टाइम वेस्ट ना करते हुए मैं स्टोरी पे आता हू.
तो दोस्तो ये बात गर्मियो की छुट्टियों की है, मेरी कज़िन हमारे घर रहने आई हुई थी, हम आपस मे बहोत फ्रॅंक थे और कभी कभी नॉटी बाते भी किया करते थे इसलिए वो कभी भी कोई भी बात किसी को नही बताती थी.
मुझे उसे चोदने का मन हमेशा से था पर कभी मौका नही मिल पाता था और वो भी मुझे कुछ करने नही देती थी, पर इस बार मैने सोच रखा था की चाहे कुछ भी हो जाए मुझे इसे चोदना ही है, मैने पहले भी काफ़ी बार उसे किस करने की कोशिश की है पर नही कर पाया, मैने उसके बूब्स ज़बरदस्ती काफ़ी बार दबाए है.
उसके बूब्स ज़्यादा बड़े तो नही है पर बहोत सॉफ्ट है, एक बार मैने उसके टॉप भी उपर कर दिया था और मुझे उसके बूब्स के दर्शन हो गये थे, याद करते ही लंड खड़ा हो जाता है, गोरे गोरे बूब्स बड़े बड़े पिंक निप्पल्स, मन करता है की खा जाउ पर देखने से आगे मैं कुछ नही कर पाया.
जब वो हमारे घर आई थी तो मैं बहोत एग्ज़ाइटेड था और उसे चोदने का प्लॅन बना रहा था, मुझे पता था की वो मुझे कभी भी नही चोदने देगी इसलिए मैने उसे ज़बरदस्ती चोदने का सोचा.
इसलिए मैने उसकी कुछ फोटोस फोटोशॉप कर दी और उन्हे न्यूड फोटोस बना दिया, मैने अपने प्लॅन को अंजाम देने के लिए वो दिन चूज़ किया जब सभी बड़े बाहर मार्केट मे शॉपिंग करने गये हुए थे, घर मे सिर्फ़ बच्चे ही थे.
तो मैने सबको कहा की चलो हाइड एंड सीक खेलते है, सभी मान गये और मैने श्रुति को भी खेलने को कहा, पहले तो उसने मना कर दिया पर सबके बोलने पे वो मान गयी.
मैं डाइनर बन गया और सभी को छुपने के लिए बोल दिया, और एक और रूल भी बनाया की एक जगह पे सिर्फ़ एक ही बच्चा छुप सकता है ताकि कोई और मेरे प्लान के बीच ना आए, मैने काउंटिंग करते वक़्त चुपके से देख लिया की श्रुति कहाँ जा रही है और मैने पहले सभी बच्चो को ढून्डा और उन्हे क्यारम खेलने को कहा.
जब वो उसमे बिज़ी हो गये तो मैं उस को ढूनदने गया, वो सबसे उपर की मंज़िल के कमरे मे छुपी थी जो काफ़ी टाइम से बंद था और वहाँ कोई आता जाता भी नही था.
मैं बहोत खुश हो गया और सोचा की यही सही मौका है, मैं कमरे मे गया और अंदर से कमरे की कुण्डी लगा दी, वो ये देख रही थी, वो बाहर निकली और बोली ये सब क्या है तो मैने उसे पकड़ लिया और ज़बरदस्ती किस करने लगा.
उसने थोड़ा विरोध किया और मुझे धक्का दे दिया, मैने अब उसे वो फोटोशॉप की हुई तस्वीरे दिखाई और बोला की अगर जैसा मैं कहता हू वैसा नही किया तो ये सब मैं नेट पे अपलोड कर दूँगा.
वो रोने लगी और गिडगिदाने लगी ‘ प्लीज़ मुझे जाने दो, तुम ऐसा क्यूँ कर रहे हो ‘ पर मैने उसकी एक ना सुनी और उसे अपना लंड मूह मे लेने को कहा, उसने मना कर दिया तो मैने उसकी पोनीटेल पकड़ के खीच दी.
उसने चिल्लाने के लिए जैसे ही अपना मूह खोला, मैने उसके मूह मे लंड डाल दिया और उसके मूह को ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा, उसकी आखो से आसू निकल रहे थे, पर मैं तो बस उसे चोदने मे बिज़ी था, मैने अपना लंड उसके डीप थ्रोट तक घुसा दिया.
10 मीं उसका मूह चोदने के बाद मैं उसके मूह मे झड़ गया, और उसे मेरा लंड मूह मे होने की वजह से सारा कम पीना पड़ा, मैने उठके उसके सारे कपड़े ज़बरदस्ती उतार कर फेक दिए, अब वो मेरे सामने सिर्फ़ ब्रा और पैंटी मे खड़ी थी, जिसे देखकर मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और फड़फड़ाने लगा, मैने उसकी ब्रा उतार फेकि और उसके बूब्स को मूह मे लेकर चूसने लगा.
वो कुछ नही कर सकती थी क्योंकि उसे पता था की अगर उसने कुछ किया तो वो सारी दुनिया मे बदनाम हो जाएगी, वो बस रोए जा रही थी, थोड़ी देर बूब्स चूसने से वो भी गरम हो गयी और सिसकियाँ लेने लगी.
‘आहाअह आआह्ह्ह ह्ह आआआप्लेअसे और ज़ोर से चूसो, हान आ मज़ा आ रहा है आआहाा आ फक मी, फक मी प्लीज़ आ आआआ आह्ह्ह्ह्ह्ह ह्ह्ह आआससस्स फक ‘, उसने अब रोना बंद कर दिया और बोलने लगी की मुझे चोद डालो.
मैं उसे और भी ज़्यादा तड़पाना चाहता था इसलिए मैं उसकी चुत चाटने लगा और अपना लंड रगड़ने लगा, उससे अब रहा नही जा रहा था और वो ज़ोर ज़ोर से सिसकियाँ ले रही थी और बार बार चोदने के लिए कह रही थी और उसने फिर अपना सारा पानी छोड़ दिया और मैने वो सारा चाट कर सॉफ कर दिया, उसका पानी बहोत ही टेस्टी था.
अब मैने अपना लंड उसकी चुत पर सेट किया और धक्का मारने लगा पर लंड अंदर नही जा पा रहा था क्योंकि कम के कारण वो बहोत स्लिपरी हो गया था, मैं एक कपड़ा लिया और सारा कम सॉफ किया, मैने फिर से लंड घुसाने की कोशिश की और एक ज़ोर का झटका मारने के बाद सूपड़ा अंदर घुस गया और वो रोने लगी और चिल्लाने लगी.
क्यूंकी ये उसका फर्स्ट टाइम था और उसकी चुत बहोत छोटी थी, मैने उसका चिल्लाना बंद करने के लिए उसके मूह पर अपना मूह रख दिया और उसको किस करने लगा, जब वो थोड़ी शांत हुई तो मैने फिर से झटका मारा, इस बार आधा लंड अंदर था और उसकी सील टूट चुकी थी खून बह रहा था..
वो अब कंट्रोल नही कर पाई और चिल्लाने लगी ” जाने दे मुझे मदरचोद, साले, निकाल बाहर अपना, आआआआआ, ,,कामीने ” पर मैने उसे शांत किया और एक और झटका मारा अब पूरा लंड अंदर था और उसका बुरा हाल था.
मैने धीरे धीरे लन्ड़ आगे पीछे करना शुरू किया और अब उसे भी मज़ा आ रहा था और वो सिसकियाँ ले रही थी ” आ अया एयाया फक, और ज़ोर से, आ फाड़ दे मेरे भाई ,,, आअहनहाह, मदरचोद आहा ओह फुक्कक ऊऊऊ हहा आ आ आ.”..
मैने ज़ोर से झटके मारने शुरू कर दिए और वो झड़ कर शांत हो गयी, मैं भी थोड़ी देर मे उसकी चुत मे ही झड़ गया और थोड़ी देर उसके उपर ही पड़ा रहा, फिर मैने उसे उठाया, वो चल भी नही पा रही थी.
मैने उसे जल्दी से कपड़े पहनाकर नीचे आने को कहा, मैने उसे एक मिसोप्रोस्टॉल पिल (अबॉर्षन पिल ) दी और चला गया.
फिर मैने उसे काफ़ी बार चोदा कैसे मैने उसकी गॅंड मारी, यह मैं आपको अगली हिन्दी सेक्स स्टोरी मे बताउन्गा, स्टोरी कैसी लगी ज़रूर बताइयेन्गा मेरी मैल आईडी है

यह कहानी भी पड़े  इमेल से होटल रूम तक चुदाई का सफ़र

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ: