चुड़क्कड़ सहेली के साथ चूत का खेल

सीमा ने मुझे अपनी और खींचा और वापस अपने गुलाबी रसीले होंठो को मेरे कोमल से होंठो पे जड़ दिया. और फिरसे वो मेरे लिप्स को चूसने लगी. कुछ देर बाद उसने अचानक से अपने होंठ हटाए, और मेरी आँखों में आँखें डाल कर देखा, और बोली-

सीमा: डार्लिंग, ताली एक हाथ से नही बजती. अगर तुम्हे अपनी फर्स्ट किस्सिंग का पूरा मज़ा चाहिए, तो तुम भी मुझे साथ दो.

और मैने एस में सिर हिलाया. फिर उसने वापस मेरे को किस्सिंग चालू की. इस बार मैं भी उसको सपोर्ट करते हुए उसके लिप्स को चूसने लगी. मज़ा आने लगा. हम बारी-बारी एक-दूसरे के लिप्स को सक करने लगे. इसी दौरान सीमा ने मेरा हाथ अपने बूब्स पे रखे और उसे मसलवाने लगी. वो मेरे हाथो से अपने बूब्स को प्रेस करवाते हुए किस्सिंग कर रही थी.

मैं भी उसके बूब्स को दबाने का मज़ा लेने लगी. कब सीमा ने अपना हाथ मेरे हाथो के उपर से हटा लिया, मुझे पता ही नही चला. और अब मैं इनडिपेंडेंट्ली उसके बूब्स को दबा रही थी. जब सीमा को ये तसल्ली हुई तो उसने धीरे से अपनी ब्रा के हुक खोल दिए, और अपनी ब्रा को नीचे खिसका दिया.

मैं इतनी मशगूल थी किस्सिंग और प्रेस्सिंग में, की मुझे कुछ देर बाद ख़याल आया की मैं सीमा के न्यूड बूब्स को मसल रही थी. जब मेरे हाथ में सीमा के बूब का निपल आया, तब मैं किस्सिंग छ्चोढ़ कर उसके बूब्स को देखने लगी. वाउ, क्या मस्त बूब्स थे. मैने पहली बार ऐसे बूब्स नंगे देखे थे. वाइट, सॉफ्ट, आंड डार्क पिंक निपल्स.

मेरे से डबल से भी ज़्यादा साइज़ के थे सीमा के बूब्स. उसने मुझे यू घूरते हुए देख कहा-

सीमा: आचे है ना?

मे: ह्म.

सीमा: टेन्षन मत ले, कुछ ही टाइम मैं तेरे भी ऐसे करवा दूँगी. तू बस जो मैं बोलू वैसे करते जाना.

सीमा: इसे टेस्ट करना है?

(मैं तोड़ा कन्फ्यूज़ हुई)

सीमा: आओ, शरमाओ मत. इसके पुर मज़े लो.

और सीमा मेरे दोनो हाथो को अपने दोनो बूब्स पे रख कर प्रेस करवाने लगी. फिर जब मैने खुद उन्हे दबाना शुरू किया, तब वापस से सीमा ने स्मूछिंग शुरू की. और इस बार उसने और पॅशन से सकिंग चालू की. किस्सिंग करते हुए वो अपना एक हाथ मेरी ब्रा के अंदर डाल कर सीधा मेरे बूब को वो मसालने लगी. मेरे मूह से आ निकल गयी.

पर सीमा ने दबाना जारी रखा, और दबाते-दबाते मेरी ब्रा को भी निकाल दिया. ये देख कर मैं थोड़ी शर्मा गयी. सीमा फ़ौरन अपने होंठो को मेरे होंठो से हटा कर मेरे निपल पे ले गयी, और उन्हे चूसने लगी. मैं मोन करने लगी. मुझे अजीब सा फील हो रहा था, पर साथ में मज़ा भी आ रहा था.

वो बारी-बारी मेरे बूब्स को दबाने और चूसने लगी. कुछ देर बाद अलग होते हुए उसने अपने बूब्स की और इशारा किया, और मेरे सिर को पकड़ कर अपने बूब्स पे रखा, और बोली-

सीमा: इसे चूसो डार्लिंग. लड़को ने तो बहुत चूसा है, पर आज पहली बार अपनी डार्लिंग लड़की से इनको चुस्वा रही हू.

मेरे सिर पे भी उस वक़्त नशा छाया हुआ था, तो मैने भी उन्हे चूसना शुरू किया. उसका साइज़ इतना बड़ा था की मेरे मूह में भी नही आ रहे थे. मैं उसके निपल को चूसने लगी, और वो मेरे बूब्स को दबा रही थी.

ऐसे ही करीब हाफ अवर तक हमने एंजाय किया, और फिर उसकी मैड आने पर हम अलग हुए. मैं शरम से नज़रे उपर नही उठा पा रही थी. और फिर अपने घर चली आई. रात को सीमा का मेसेज आया-

सीमा: ही, डार्लिंग कैसा रहा आज?

मे: मेरे लिए न्यू था, पर सच काहु तो मज़ा आया.

सीमा: यार, अगर मेरी मैड नही आती तो तुझे पूरा मज़ा देना था.

मे: ह्म.

सीमा: कोई बात नही, नेक्स्ट टाइम.

मे: ओक, पर शायद मैं इसके लिए अभी रेडी नही हू.

सीमा: कोई बात नही, तू आज के लिए भी कहा रेडी थी. मैं तुझे रेडी कर दूँगी इसके लिए भी.

मे: ह्म, चलो देखते है.

सीमा: तो इस वीकेंड प्लान बनाते है, इस सॅटर्डे को मेरे घर पे, फुल नाइट. तू रेडी रहना.

मे: ये कुछ जल्दी नही हो रहा, ये सब?

सीमा: अर्रे जानेमन, जितना लाते करेगी, तू उतना ही पछताएगी. बिलीव मे, मुझे पता है. तो इस वीकेंड पक्का ना?

मे: कुछ बोल नही सकती, घर से पर्मिशन लेनी पड़ेगी.

सीमा: तू उसकी टेन्षन मुझपे छोड़ दे. तू आ रही है ना?

मे: एस, मैं अवँगी.

सीमा: ओक, तो फिर मिलते है कल. गुड नाइट.

मे: गुड नाइट.

अगले दिन सीमा मेरे घर आई. और मों से छिपड़ि-चुपड़ी बातें करके इस सॅटर्डे सनडे उसके घर पे ग्रूप स्टडी का प्लान बनाया. उसने मों को बताया की एक इंपॉर्टेंट स्टडी प्रॉजेक्ट था, और सबमिशन की डेट्स नज़दीक थी, तो वो सॅटर्डे सनडे पूरा टाइम लेकर उस प्रॉजेक्ट को कंप्लीट करने वाले थे. और मों ने ओक बोल दिया.

मैं मॅन ही मॅन खुश थी, कही मेरे मॅन में भी लड्डू फूट रहे थे. कल रात सीमा के साथ किए हुए एक्सपीरियेन्स से मैं बहुत ही एग्ज़ाइटेड हो चुकी थी, और मुझे भी अगले स्टेप का इंतेज़ार था.

सीमा ने मुझे व्हातसपप पे पॉर्न क्लिप्स भेजनी शुरू कर दी. स्टार्टिंग में तो सिंगल गर्ल वाली जिसमे वो कपड़े निकालती दिखाई हो, वैसी क्लिप्स भेजती. उसने नीचे लिखा भी था-

सीमा: देख ले इन वीडियोस को अची तरहा, ऐसे पूरा क्लीन शेव हो कर आना.

मैं उसका इशारा समझ गयी. उसके बाद उसने मुझे लेज़्बीयन सेक्स जहा टू गर्ल्स आपस में सेक्स करती हो, वैसी क्लिप्स भेजी और नीचे लिखा-

सीमा: इस तरह एंजाय करने का प्लान है, बे रेडी. ई’म वेटिंग तो फक योउ डार्लिंग.

और लास्ट मैं उसने नॉर्मल सेक्स (माले तो फीमेल) वाली वीडियो भेजी, जिसके नीचे लिखा था उसने-

सीमा: और अल्टिमेट्ली जो मज़ा इसमे है, वो किसी में नही.

सीमा ने मुझे ये वीडियोस इसलिए भेजी थी, ताकि मैं पहले से ही मेंटली प्रिपेर कर लू अपने आप को इन सब के लिए. और हुआ भी कुछ ऐसा. अब मुझमे भी सेक्स की आग भड़क चुकी थी. मैं भी सीमा की तरहा सेक्सी बनना चाहती थी, और सॅटर्डे का वेट करने लगी.

आंड फाइनली, सॅटर्डे का दिन आ गया. सॅटर्डे ईव्निंग को ही सीमा ने मुझे मेरे घर से पिक किया. उसने अपनी मैड को 2 दिन की छुट्टी दे दी थी, जिससे कोई डिस्टर्बेन्स ना हो. हमने बहुत सारी बातें की. सीमा ने अपनी फोटोस दिखाई. हमने हल्का सा खाना खाया, जूस पिया, और फिर वो घड़ी आ ही गयी, जिसका मुझे इंतेज़ार था.

सीमा के कहे मुताबिक माने त-शर्ट और ट्राउज़र पहना था, उसने भी ऐसा ही पहना था. वो मुझे हाथ पकड़ कर अपने कमरे में ले गयी, और हमने किस्सिंग करना शुरू किया. उसने अपने लॅपटॉप पर लेज़्बीयन वाली पॉर्न लगाई थी हल्की आवाज़ में.

सीमा: अनु, दररो मत. मैं तुम्हारे साथ हू. तुम बस वैसे ही करती जाओ, जैसा स्क्रीन पे चलता है. तुम कर पावगी?

मैने हा में सिर हिलाया, और सीमा ने मुझे वापस किस्सिंग शुरू कर दी. उसने किस्सिंग करते-करते अपने हाथ को अंदर ट्राउज़र में डाला, और छूट पे रखा. उसके हाथ रखते ही हम दोनो शॉक्ड हो गये. मुझे भी ख़याल आया की मैं अपनी छूट के बालों को शेव करना भूल गयी थी. मैने शरम से नज़रे नीचे झुका दी, और सीमा को सॉरी बोला.

सीमा: इसमे सॉरी की कोई बात नही. फर्स्ट टाइम में ऐसा होता है, और इतना भी बड़ा कोई इश्यू नही है. तुम चलो मेरे साथ.

उसने स्क्रीन पे वीडियो स्टॉप कर दी, और मेरा हाथ पकड़ कर अपने घर के वॉशरूम में ले गयी. वो बहुत बड़ा था. उसमे बात्ट्च्ब भी था.

अंदर पहुँचते ही उसने मुझे खड़ा किया, और शवर शुरू कर दिया. अब हम दोनो कपड़ो के साथ शवर के नीचे भीग रहे थे. पता नही पर मुझमे क्यूँ आज सेक्स का नशा चढ़ रहा था. सीमा ने बरसते पानी में मेरे होंठो को चूसना शुरू किया, और बूब्स भी दबाने लगी. वाउ, क्या एक्सपीरियेन्स था.

कुछ देर बाद हमने एक-दूसरे के उपर के कपड़े निकाल दिए, और एक-दूसरे के बूब्स को चूसने लगे. सीमा जैसे मुझे निचोढ़ रही थी, तो मैं भी उसके बूब्स को खाने लगी. ये देख कर वो भी खुश हो गयी, और उसने फाटाक से अपने ट्राउज़र को निकाल दिया, और फिर अपनी चड्डी भी.

उसकी छूट थोड़ी फूली हुई थी, और एक-दूं क्लीन शेव थी. उसने मेरी उंगलियों को अपनी छूट पे रखा और कहा-

सीमा: डार्लिंग, ये वो रिमोट है हमारे पास, जिससे हम किसी भी मर्द को कंट्रोल कर सकते है.

और वो अपने घुटनो पे बैठ गयी, और मेरा ट्राउज़र निकाल दिया. मैं तो जैसे उसकी गुलाम हो चुकी थी. वो जो भी करती, मैं उसे रोक नही पाती. फिर उसने मेरी पनटी भी निकाल दी, और मेरी बालों वाली छूट को सहलाने लगी. उसने मुझे देख कर स्माइल दी, और बगल में पड़ा हुआ रेज़र और क्रीम उठा ली.

फिर उसने क्रीम को बालों पे लगाया, और जब झाग हुआ तो रेज़र से धीरे-धीरे मेरी छूट के बालों को सॉफ कर दिया, और मेरी छूट को भी अपनी छूट की तरह क्लीन शेव कर दिया. मैं भी अपनी छूट को ऐसे देख कर अपने आप पर इतरा रही थी.

फिर सीमा ने खड़े हो कर वापस मुझे कुछ देर किस्सिंग और प्रेस्सिंग किया. फिर हम टवल लपेट कर वापस अपने कमरे में आ गये, और सीमा ने वापस वीडियो को ओं कर दिया.

वीडियो में अब एक लड़की दूसरी की छूट को एंजाय कर रही थी. ये देख कर मैने नज़रे झुका दी. फिर सीमा ने मेरा टोलिया खींच कर मुझे बेड पे धक्का दे कर लिटा दिया, और खुद भी वापस नंगी हो गयी.

वो मेरे उपर लेट कर मुझे किस करने लगी.

पर इस बार उसका हाथ मेरे बूब्स को बाइ-पास करते हुए मेरी छूट पे चला गया, और वो मेरे छूट के दाने को सहलाने लगी. वो मेरी छूट के अंदर हल्की सी उंगली को डाल कर मुझे फिंगरिंग करने लगी.

आज पहली बार मेरी छूट में कुछ दाखिल हुआ था. मैं हल्का सा मोन करने लगी.

फिर वो अपना मूह नीचे ले गयी. मेरी नज़र वीडियो पर पड़ी तो वाहा पे लड़की दूसरे की छूट में अपनी टंग डाल कर उसे सक कर रही थी.

मेरे मूह से ‘ओह मी गोद’ निकला, और मुझे छूट के अंदर गीला सा महसूस हुआ. मैं दोनो हाथो से चादर को पकड़ कर मोन कर रही थी, और सीमा मेरी छूट को चूस और चाट रही थी.

कभी मेरी छूट में, तो कभी मेरे दाने को वो मूह में भर कर सक कर रही थी. मेरी छूट में से हल्का-हल्का पानी निकालने लगा, जिसे भी वो चाट लेती. मैं तो जैसे सातवे आसमान पर थी. फिर कुछ देर बाद वो खड़ी हो गयी.

मे: क्या हुआ?

सीमा: पार्टी चेंज (और उसने मुझे वीडियो की और इशारा किया, जिसमे जो लड़की छूट को चाट रही थी वो लेती हुई थी, और अब वो अपनी छूट को चटवाने वाली थी दूसरी लड़की से).

मैं सीमा का इशारा समझ गयी. और मैने सीमा को लिटा कर उसकी छूट पे अपने होंठ रख दिए. मुझे पता नही कहा से इतना सेक्स का नशा हो गया था, की सीमा का पूरा साथ देने लगी. फिर जिस तरह वीडियो में होता, उसी तरह मैं सीमा की छूट को चाटने लगी. सीमा भी मेरे सिर को नीचे दबा रही थी अपनी छूट में.

जैसे कोई न्यू हाउस वाइफ वीडियो में रेसिपी को देख कर अपने किचन में सब्ज़ियाँ कट करती है, और खाना बनती है, उसी तरह मैं वीडियो में देख कर कभी उसकी छूट में उंगली करती, तो कभी उसकी छूट के दाने को मूह में लेती, और कभी अपनी टंग को अंदर तक डाल कर उसे सक करती. कुछ देर बाद जब वो झड़ने को थी.

सीमा: और तेज़, और तेज़.

मैने भी अपनी टंग को उसी स्पीड से अंदर-बाहर करने लगी. सीमा ने मेरे सिर पे हाथ रखे हुए था, जिससे वो मेरे सिर को रिदम के साथ अंदर-बाहर करती थी. पर मैं कुछ समझू उससे पहले सीमा ने अपने दोनो हाथो से पकड़ कर मेरे सिर को अपनी छूट पर दबा दिया, और वो झड़ने लगी. फिर उसका पूरा रस्स मेरे मूह में चला गया. मैने सीमा को इशारा किया, मेरे सिर को छ्चोढने के लिए, पर वो बोली-

सीमा: डार्लिंग, प्लीज़ इसे पूरा पी लो आज, मेरे लिए. मैं कब से इस पल का इंतेज़ार कर रही थी. तुम्हारे पूरा पीने के बाद ही मैं तुम्हे छ्चोधूंगी जानेमन.

ये सुन कर मैं समझ गयी, और फिर मुझे सब पानी पीना पड़ा, जो तोड़ा गरम और नमकीन सा था. स्टार्टिंग में तोड़ा अजीब लगा, पर एंड में कंफर्टबल हो गया. और फिर कुछ देर बाद सीमा ने मुझे आज़ाद किया, और अपने कानो को पकड़ कर मुझे सॉरी बोलने लगी.

मे: सॉरी नही डार्लिंग, अब तुम्हारी बारी है मुझे सॅटिस्फाइ करने की.

और मैं बेड पे लेट गयी, और अपने पैर फैला कर अपने हाथो के इशारे से सीमा को अपनी छूट चाटने का इन्विटेशन देने लगी.

स्टोरी विल कंटिन्यू इन थे नेक्स्ट पार्ट. आप अपने कॉमेंट्स ज़रूर पोस्ट कीजिए इस स्टोरी के रिगार्डिंग. और अगर आप कुछ शेर करना चाहते है या कुछ हेल्प चाहिए तो लज़्यलीहास@गमाल.कॉम पे मैल कर सकते है.

यह कहानी भी पड़े  कज़िन सिस्टर के साथ लेज़्बीयन चुदाई शुरू हुई


error: Content is protected !!