चुड़क्कड़ मा के लिए बेटे की हवस की कहानी

हेलो रीडर्स, मैं निक आप सब के लिए एक न्यू सीरीस लाया हू.

उम्मीद है की जैसा आप लोगों ने मेरी बाकी स्टोरीस को प्यार दिया है, इसको भी उतना ही प्यार देंगे. तो शुरू करते है.

मेरे नाम निखिल है. सब लोग प्यार से और अपनी आसानी के लिए मुझे निक कहते है. मेरी आगे 18 है. मैं चंडीगार्ह में रहता हू. मेरी फॅमिली में 3 ही लोग है, मैं, मम्मी और पापा.

मेरी मम्मी का नाम पूजा है. मम्मी की आगे 45 है, लेकिन लगती 30 की है. वो बिल्कुल फिट, हॉट आंड सेक्सी है.

मम्मी के बूब्स 36″ के है, कमर 30″ की है, और आस 36″ की है. उनका रंग बिल्कुल गोरा है. मैने काई बार बहुत से लोगों को मम्मी को घूरते हुए देखा है.

मेरी मम्मी काफ़ी मॉडर्न है, तो वो हर तरह के कपड़े पहनती है. जैसे टाइट लेगैंग्स, शॉर्ट्स, स्कर्ट्स, टाइट त-शर्ट्स, डिज़ाइनर गोन्स वग़ैरा.

पापा का नाम अजय है. पापा की आगे 46 है, और पापा का बिज़्नेस है. बिज़्नेस काफ़ी अछा है. हम आचे ख़ासे पैसे वाले है. बिज़्नेस के काम से पापा बहुत बिज़ी रहते है, और घर से बाहर भी रहते है.

मैं अभी नया-नया कॉलेज ही आया था. मेरा कॉलेज काफ़ी अछा चल रहा था, लेकिन मेरी कोई गर्लफ्रेंड नही बनी थी. तो मुझे मेरे हाथ से ही काम चलना पड़ता था.

एक दिन की बात है, जिस दिन से मैं मम्मी को हवस भारी नज़रों से देखने लगा. मैं अपने रूम में था, और रात के करीब 12 बाज रहे थे.

मैं अपने फोन में सीरीस देख रहा था. तभी मुझे प्यास लगी, तो मैं किचन में गया और पानी पीने लगा.

जब मैं रूम में जेया रहा था, तो मुझे मम्मी पापा के रूम से आवाज़ आई. मैं गया और विंडो से देखा तो क्या सीन चल रहा था.

मम्मी और पापा बिल्कुल नंगे थे. वो पापा के लंड पे बैठी उछाल रही थी.

मम्मी: सस्सस्स अयाया आअहह म्‍म्म्मम ऊऊहह.

पापा: सस्स आराम से, निखिल सुन लेगा तो?

मम्मी: एयाया सस्सस्स निक तो फोन में लगा होगा. आप इधर ध्यान दो बस आआहह.

मेरा तो ये सीन देख के लंड फुल खड़ा हो गया था. मैने भी मम्मी के सेक्सी जिस्म को देखते हुए हिलना शुरू कर दिया.

मम्मी पापा के लंड पे 3-4 मिनिट उछली, फिर पापा ने मम्मी को खुद पे से हटा दिया.

मम्मी: इतनी जल्दी हो गया आपका?

पापा कुछ नही बोले, और साइड होके लेट गये.

मम्मी को बहुत गुस्सा आ रहा था.

मम्मी की छूट की आग अभी शांत नही हुई थी. तो मम्मी लेते हुए अपनी छूट में उंगली करने लगी. मम्मी बहुत मज़े से अपनी छूट में उंगली अंदर-बाहर कर रही थी.

मेरा भी सारा माल निकल गया था, लेकिन मैं अभी भी वही खड़ा मम्मी को देख रहा था. मम्मी उंगली करती क्या बाला की सेक्सी लग रही थी.

वो 5-7 मिनिट में झाड़ कर शांत हो गयी, और वैसे ही लेती रही. मैं भी अपने रूम में जाके लेट गया. पूरी रात मेरे दिमाग़ में मम्मी घूमती रही.

मम्मी लंड पे उछालती हुई कितनी सेक्सी लग रही थी. क्या बॉडी थी मम्मी की, मेरा मॅन कर रहा था की बस जेया के मम्मी को छोड़ डू. ऐसे ही मैं कब सो गया पता ही नही चला.

फिर मैं कॉलेज के लिए निकल गया, और 2 बजे घर आया, तो पापा घर पे ही थे.

मे: पापा आज ऑफीस नही गये?

पापा: अर्रे गया था, लेकिन एक डील के लिए कल मुंबई जाना है.

मे: अछा?

फिर मैने खाना खाया, और अपने रूम में चला गया.

अब मुझे बराबर मम्मी को देखने का दिल कर रहा था. तो मैं बार-बार कभी किचन में जेया रहा था, तो कभी बाहर सोफे के पास.

मम्मी ने ब्लॅक टाइट शॉर्ट्स और येल्लो त-शर्ट पहन रखी थी. मम्मी का पूरा फिगर मस्त दिख रहा था. बहुत हॉट लग रही थी मम्मी.

मम्मी: क्या हुआ तुझे, बार-बार इधर-उधर क्यूँ घूम रहा है?

मे: कुछ नही, मैं तो बस आपके पास आके बैठ रहा था.

मम्मी: अछा आजा, मेरे प्यारा बेटा.

मम्मी सोफे पे बैठी हुई अपना सीरियल देख रही थी, और मैं मम्मी की जांघों पे सिर रख के लेट गया.

अब मम्मी मेरे सिर में हाथ फेर रही थी, और अपना सीरियल देख रही थी, और मैं मज़े से लेता हुआ था. मेरे गाल मम्मी की सेक्सी नंगी जाँघ पे टच हो रहे थे. बहुत मज़ा आ रहा था.

फिर थोड़ी देर बाद मैने करवट ली, और अपना मूह मम्मी की तरफ कर लिया. अब मेरे आयेज मम्मी का पेट था.

मैं उसपे अपनी नाक टच करके सोने ना नाटक करने लगा. ऐसा करने से मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था. मैने हिम्मत करके अपना मूह तोड़ा नीचे की तरफ किया, बिल्कुल मम्मी की छूट के पास.

मम्मी तोड़ा हिली थी, लेकिन कुछ करा या बोला नही. मम्मी को लग रहा था की मैं सो रहा था. ऐसे ही 25 -30 मिनिट तक मैं मम्मी की छूट के पास मूह करके लेता रहा.

बीच-बीच में मैं मम्मी की छूट के और पास चला जाता, लेकिन मम्मी कुछ रिक्ट नही कर रही थी.

मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. मम्मी की छूट से क्या खुश्बू आ रही थी वाह. फिर जब पापा ने मम्मी को आवाज़ दी, तो मम्मी मेरा सिर हल्का उठा कर उठा गयी, और मुझे वैसे ही सोने दिया.

उस टाइम मुझे पापा पे बहुत गुस्सा आया. खैर मैने काफ़ी एंजाय भी कर लिया था. मैं वैसे ही लेता रहा, और फिर खड़ा होके मम्मी को ढूँढने लगा. मम्मी रूम में पापा के साथ पॅकिंग करा रही थी.

पापा: मुझे सुबा जल्दी निकलना है, 6 बजे की फ्लाइट है.

मम्मी: ठीक है, और आप आओगे कब?

ये कहते हुए मम्मी पापा के करीब आ गयी थी.

पापा: मुंबई के बाद मुझे 1-2 जगह और जाना है. और एक जगह माल का ऑर्डर भी देना है, तो करीब 10-12 दिन तो लग जाएँगे.

मम्मी: इतने दिन! मेरा क्या होगा?

(ये सब बातें मैं बाहर से ही सुन और देख रहा था.)

मम्मी पापा के लिप्स पे किस करने लगी, लेकिन पापा ने मम्मी को हटा दिया.

पापा: क्या कर रही हो पूजा? तुम्हारा तो ये सब कभी ख़तम ही नि होता.

मम्मी: प्लीज़ एक बार कर लो ना, इतने दिन के बाद आओगे.

पापा: अर्रे यार, अब ये सब अछा नही लगता. ये कोई उमर है. तुम हो की समझती नही.

मम्मी इस बात पर गुस्सा हो गयी और बोली-

मम्मी: आपका तो कभी मूड नही करता और जब कुछ करते भी हो, तो 2-3 मिनिट में ही हो जाता है आपका.

पापा भी गुस्से में बोले: बंद करो अपनी बकवास.

मम्मी: अब लगा ना बुरा? जब आपका भी 2 मिनिट में निकल जाता है, तो मुझे भी ऐसा ही लगता है. कुछ बस का तो है नही आपके.

पापा ने इस बात पे मम्मी को एक थप्पड़ मार दिया.

ये देखते ही मैं तो सीधा जेया कर सोफे पे वापस सोने का नाटक करने लगा.

फिर मम्मी रोते हुए रूम से बाहर आ गयी, और किचन में चली गयी. मैं वैसे ही लेता रहा, तो पता ही नही चला कब नींद आ गयी.

फिर मैं शाम के 7 बजे उठा. मम्मी किचन में खाना बना रही थी, और पापा अपने रूम में थे. मैं मम्मी के पास गया, और मम्मी को पीछे से हग करके खड़ा हो गया.

मे: मम्मी क्या कर रही हो?

मम्मी: हॅट जा बेटा, मुझे परेशन मत कर.

मैं मम्मी के कंधे पे अपना सिर रख के मम्मी की गांद से अपनी गांद टच करने लगा.

मम्मी: बेटा क्या कर रहा है?

मे: मैं तो आपको प्यार कर रहा हू.

मम्मी: अछा.

फिर मम्मी मेरी तरफ मूडी, और मेरे गाल पे किस करके बोली-

मम्मी: चल डिन्निंग टेबल पे बैठ जेया, और अपने पापा को भी बुला ले, खाना रेडी है.

फिर मैं किचन से चला गया.

मम्मी और पापा की लड़ाई हुई थी, लेकिन फिर भी मम्मी इतना गुस्सा नही थी. हमने खाना खाया, और मैं अपने रूम में चला गया.

मुझे बहुत एग्ज़ाइट्मेंट सी हो रही थी, की मम्मी लड़ाई के बाद पापा के साथ सोएंगी या क्या. तो मैं देखने के लिए मम्मी पापा के रूम की विंडो पे चला गया.

मम्मी तब जस्ट अपना काम निपटा के रूम में ही गयी थी. रूम में जाते ही मम्मी ने पहले तो अपनी त-शर्ट उतरी, फिर ब्रा. लेकिन पापा ने कुछ ख़ास रिक्षन नही दिया.

फिर मम्मी ने अपनी शॉर्ट्स और पनटी भी उतार दी. मेरा तो लंड फुल खड़ा हो गया था मम्मी को नंगा देख के.

लेकिन पापा ने कोई इंटेरेस्ट नही दिखाया मम्मी को. फिर मम्मी अलमारी खोल के कपड़े निकालने लगी. मम्मी जब झुकी थी, तो मम्मी की गांद बिल्कुल मेरी साइड हो गयी थी. क्या मस्त गांद थी यार. मॅन कर रहा था अभी बजा डू.

फिर मम्मी ने एक ब्लॅक कलर का नाइट गाउन निकाला, और बेड पे रख दिया. मम्मी बेड पे एक टाँग उपर टीका के नंगी खड़ी क्रीम लगाने लगी.

पापा ने एक दो बार मम्मी की तरफ देखा. मम्मी को भी अब गुस्सा आ रहा था. फिर मम्मी ने अपना गाउन पहन लिया.

क्या मस्त लग रही थी मम्मी गाउन में. मम्मी ने वो गाउन नीचे से पहनना शुरू किया था, और अपने बूब्स के नीचे तक कर लिया था.

और फिर गाउन बूब्स के उपर तक कर लिया था. वो गाउन स्लीव्ले था. उसमे वाइट सी स्ट्रिप्स थी, जो मम्मी ने अपने कंधो पे कर ली थी.

क्या पताका लग रही थी मम्मी गाउन में. वो सिल्की गाउन था, तो तोड़ा शीने था. मम्मी का फिगर क्या मस्त लग रहा था उसमे.

मम्मी बेड पे लेट गयी, और पापा के करीब जाने लगी. तभी अचानक से पापा ने मम्मी को धक्का देके साइड कर दिया.

पापा: देखो पूजा, मेरा दिमाग़ मत खराब करो. मैने कहा ना मुझे नही करना, और अब ये सब की उमर भी नही है.

मम्मी: प्लीज़ एक बार कर लो, मेरा बहुत मॅन है.

पापा: नही.

मम्मी पापा को ज़बरदस्ती किस करने लगी. तो पापा ने मम्मी को साइड करके एक थप्पड़ मार दिया.

पापा: तुझे समझ क्यूँ नही आ रहा? पता नही कितनी आग है तेरी छूट में. रंडी साली.

मम्मी रोने लग गयी और बोली: तो क्या करू मेरी छूट में आग है तो? तुम्हारे बस का तो है नही मेरी छूट शांत करना.

पापा ने मम्मी को एक और थप्पड़ मार दिया, और मम्मी रोटी ही रही. फिर पापा साइड हो कर सोने लगे. मम्मी थोड़ी देर रोटी रही, और फिर बेड पे साइड हो कर लेट गयी.

मैं भी फिर अपने रूम में चला गया. मुझे पापा पे गुस्सा तो बहुत आ रहा था, लेकिन मैं कुछ कर नही पाया.

अगले पार्ट में देखना क्या होता है. और प्लीज़ फीडबॅक करके मुझे ज़रूर बताना स्टोरी कैसी लगी. तो मैं जल्दी ही 2न्ड पार्ट लौंगा.

और कोई भाभी या लड़की सेक्स या सेक्स छत करना चाहती हो, तो बिंडसस मैल कर दे

यह कहानी भी पड़े  बरसात की रात में मा को रगड़ रगड़ के चोदा

error: Content is protected !!