बॉस के एहसान और सेक्रेटरी की चुदाई की कहानी

हेलो दोस्तों, मैं एक कंपनी में मॅनेजर की पोस्ट पर हू. आज मैं आपको बतौँगा की कैसे मैने अपनी सेक्रेटरी को उसकी शादी के एक दिन पहले छोड़ा. मेरी सेक्रेटरी मधु 22 साल की मस्त फिगर वाली सेक्सी लड़की है, जिसको देख के किसी का भी लंड खड़ा हो जाए.

मधु और मेरी अची अंडरस्टॅंडिंग थी. ऑफीस में वो मेरा सारे दिन का शेड्यूल बहुत ही आचे से मॅनेज करती थी. मेरे दिल में उसे छोड़ने का ख़याल बहुत बार आता, बुत अपनी रेप्युटेशन की वजह से मॅन मार के रह जाता, और मधु के बारे में सोच-सोच के लंड हिला के शांत करता.

मधु का अफेर जिस लड़के के साथ था, उसका नाम रोहन था. वो कभी-कभी नशा कर लेता था, और ये बात मधु ने अपने घर वालो को नही बताई थी. रोहन अकेला ही रहता था. मधु की शादी फिक्स हो गयी थी, और वो शादी की शॉपिंग में लग गयी.

एक दिन उसका ऑफीस में एक पार्सल आया, तो मैने पूछा की क्या मँगवाया था उसने. उसने कहा शादी के दिन के लिए रेड ड्रेस. बहुत प्यारी ड्रेस थी वो. शादी से एक हफ्ते पहले मधु ने ऑफीस से एक मंत की छुट्टी ले ली. बुत जाने से पहले उसने मेरा एक मंत का पूरा शेड्यूल बना दिया, ताकि मुझे कोई परेशानी ना हो.

शादी के एक दिन पहले दोपहर को मधु का फोन आया, की वो मुजसे मिलना चाहती थी, और वो रोने लगी. वो बोली की वो पोलीस स्टेशन में थी. मैं जल्दी से पोलीस स्टेशन पहुँचा. वाहा मधु और रोहन दोनो थे. मधु ने ब्टाया की रोहन ड्रिंक करके कार चला रहा था, तो पोलीस ने पकड़ लिया. और अगर ये बात घर में पता चली तो वो उनका रिश्ता तोड़ देंगे.

मैने मधु को कहा: पहले तुम रोना बंद करो.

फिर मैने इनस्पेक्टर से बात की, और जो भी फॉरमॅलिटी थी वो पूरी की. इनस्पेक्टर ने रोहन को वॉर्निंग दे कर छ्चोड़ दिया. फिर मैं मधु और रोहन दोनो को अपनी कार में रोहन के घर छ्चोड़ने गया. रोहन नशे में होने की वजह से खुद को संभाल नही पा रहा था. तो रोहन को घर में पहुँचने में मैने मधु की हेल्प की.

हम रोहन को घर के अंदर ले गये, और रोहन को बेड पर लिटा कर मैं बाहर आ गया. मधु फिर उसके शूस खोल के उसको ब्लंकेट ओढ़ने लगी. बाहर आ कर मेरी नज़र साथ वाले रूम पर पड़ी. वो पूरा रूम डेकरेटेड था. बेड पर वाइट कलर की बेडशीट, और उस पर रेड रोज़स सजाए हुए थे.

मतलब सॉफ था रोहन ने सुहग्रात की तैयारी कर रखी थी. वो सब देख के मेरा लंड तड़प उठा, और फिरसे मधु को छोड़ने का ख़याल मेरे मॅन में आना स्टार्ट हो गया. मधु रोहन के रूम से बाहर आई, और मेरे सीने से लग के रोने लगी.

वो कहने लगी: मैं आपका एहसान कभी नही भूल सकती. आपका किस मूह से थॅंक्स काहु.

मैने मधु को चुप करवाया और कहा: क्या तुम सच में मुझे थॅंक्स कहना चाहती हो? तो मैं तुमसे कुछ माँगना चाहता हू.

मधु बोली: सिर मांगिए.

मैने कहा: मैं तुम्हे शादी के लाल जोड़े में देखते हुए तुम्हारा मधुर रस्स पीना चाहता हू.

मधु कुछ नही बोली तो मैं वापस जाने के लिए मुड़ा. तभी वो बोली-

मधु: 5 मिनिट रुकिये.

और वो डेकरेटेड रूम के अंदर चली गयी. मैं भी सोफे पर बैठ के मधु की वेट करने लगा. थोड़ी देर बाद मधु की आवाज़ आई-

मधु: अंदर आ जाइए सिर.

मैं उठ के रूम के डोर के पास पहुँचा. फिर मैने डोर ओपन किया. मधु बेड पर घूँघट निकाल के बैठी थी. मैं उसके पास जेया कर बैठ गया. फिर मैने मधु के हाथ को अपने हाथो में लेकर उसके हाथ को चूम लिया. मधु शरम से सिकुड गयी. मैने मधु के घूँघट को उपर उठाया, और उसके फेस को उपर किया.

मधु ने आइज़ बंद कर ली. मैने मधु के माथे पर प्यार से चुंबन ले लिया, और कहा-

मैं: मधु इस एक पल के लिए बहुत तडपा हू मैं. ई लोवे योउ मधु.

फिर मैने मधु की चुनरी उतार के साइड पर रख दी, और एक-एक करके उसकी ज्यूयेल्री उतारते हुए किस करने लगा. पहले उसके एक कान का झुमका उतारते हुए कहा-

मैं: मधु ई लोवे योउ.

फिर उसके कान पर किस कर दी. उसके बाद दूसरे कान का झुमका उतारते हुए कहा-

मैं: मधु ई लोवे योउ.

और कान पर किस कर दी. फिर मैने उसकी नाथ उतार दी, और धीरे से उसके होंठो का चुंबन ले लिया. मधु सिहार उठी. उसके होंठो की लिपस्टिक मेरे होंठो पर लग गयी. फिर मैने उसकी नेक पर किस करते हुए उसके गले का हार उतार दिया.

बार-बार किस करने की वजह से मधु की साँसे तेज़ हो रही थी. उसकी धड़कन सॉफ-सॉफ सुनाई दे रही थी. फिर मधु की पीठ पर किस करते हुए अपने होंठो से उसकी चोली की डोरी खोल दी, और चोली उतार के फेंक दी. उसकी मखमली सफेद पीठ संगमरमर की तरह लग रही थी, और उस पर लाल रंग की ब्रा की पट्टी किसी को भी पागल कर दे.

मैं जैसे ही मधु की ब्रा की हुक खोलने लगा, मधु ने चुनरी से अपने बूब्स को धक लिया, और बाहर को भागने लगी. फिर मैने झट से दरवाज़ा बंद कर दिया, और मधु को पीछे से पकड़ लिया. मेरा लंड पूरी तरह खड़ा हो गया. वो पंत को फाड़ के आज़ाद होने के लिए बेताब था.

मैं मधु की नेक पर किस करते हुए अपने लंड से उसकी गांद पर दबाव बनाने लगा, और उसकी नेक पर किस करते हुए उसके बूब्स से चुनरी हटाने लगा. बुत मधु ने चुनरी आचे से पकड़ ली, तो मैने उसकी कमर पर हाथ फेरते हुए उसके लहँगे का नाडा खोल दिया. उसका लहंगा नीचे गिर गया.

मधु ने लहँगे को उठाने के लिए जैसे ही चुनरी से हाथ हटाए, मैने उसकी चुनरी भी उतार दी. फिर लहँगे पर पावं रख दिया. अब मधु सिर्फ़ लाल रंग की ब्रा और पनटी में थी. मैने मधु को अपनी तरफ घुमा लिया. मधु ऐसे दिख रही थी, जैसे सफेद संगमरमर हो. मैने उसको अपनी बाहों में उठा लिया, और बेड पर लिटा दिया.

फिर अपनी पंत-शर्ट भी उतार दी. अब मैं सिर्फ़ अंडरवेर में था. मैं मधु के उपर लेट गया. फिर मैं मधु के फेस पर अपने होंठ फेरने लगा, और फिर मैने उसके होंठो पर अपने होंठ रख दिए, और उसको डीप स्मूच करने लगा. क्या ग़ज़ब के रसीले लाल-लाल होंठ थे.

मैने उसके मूह में अपनी जीभ डाल दी, जिससे मधु होश खोने लगी. करीब डूस मिनिट तक मधु के होंठो को चूसने के बाद मैने अपने होंठो को नीचे सरकाना स्टार्ट कर दिया. मेरे होंठ उसकी गर्दन को चूमने लगे, और मैं उसकी ब्रा के उपर से उसके बूब्स दबाने लगा. मैने उसकी पीठ के नीचे हाथ करके उसकी ब्रा का हुक खोल दिया, और ब्रा को उतार के फेंक दिया.

दोस्तों क्या बतौ मधु के बूब्स ऐसे नरम और सफेद थे, जैसे रयी के फाहे हो. उपर पिंक निपल्स अफ क्या ग़ज़ब थे. मैं मधु के गोल-गोल बूब्स को देखता रहा तो मधु ने अपने हाथो से अपने बूब्स च्छूपा लिए. मैने मधु के हाथ हटा दिए. मधु का एक हाथ पीछे ले जेया कर तकिये के नीचे कर दिया, और मधु का दूसरा हाथ अपने नीचे अंडरवेर में कर दिया.

उफ़फ्फ़ मेरा गरम लोड्‍ा उसके हाथ के टच से और हार्ड हो गया. अब मधु के नरम-नरम माममे मेरे सामने थे. मैं उन पर टूट पड़ा. उसके एक माममे को मूह में लेकर चूसने लगा, और दूसरे को हाथ से मसालने लगा. कभी मैं उसके निपल्स को खींचता, कभी हल्के से काट लेता. मैं उसके माममे आधे घंटे तक चूस्टा रहा. सच में इतने मीठे थे दोस्तों, की मज़ा आ गया.

इसके आयेज क्या हुआ, वो आपको कहानी के अगले पार्ट में पता चलेगा. कहानी का मज़ा आया हो, तो इसको लीके और कॉमेंट ज़रूर करे. फीडबॅक के लिए मैल करे मृडुल्मस्त555@गमाल.कॉम

पर.

यह कहानी भी पड़े  कहानी जिसमे भाई ने बहन का पानी निकाला


error: Content is protected !!